Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

25 Aug 2019 06:48:07 AM IST
Last Updated : 25 Aug 2019 07:01:32 AM IST

वैदेशिक : कश्मीर क्यों, हांगकांग क्यों नहीं

रहीस सिंह
वैदेशिक : कश्मीर क्यों, हांगकांग क्यों नहीं
वैदेशिक : कश्मीर क्यों, हांगकांग क्यों नहीं

आजकल हांगकांग अपने मूल्यों की सुरक्षा के लिए लड़ रहा है, और बीजिंग इस युक्ति में है कि वह उसे खत्म कर दे। हांगकांग सही अथरे में ताइवान बनना चाहता है, और चीन उसे तिब्बत की तरह रखना चाहता है।

यही वजह है कि शंकाएं पैदा होने लगी हैं कि हांगकांग कहीं थियानमेन स्क्वायर जैसे इतिहास को न दोहरा बैठे जहां चीनी सेना द्वारा की गई कार्रवाई क्रूरतम थी। अमेरिकी कांग्रेस ने अवश्य ही हांगकांग को लेकर थोड़ी बहुत प्रतिक्रिया दी है, लेकिन दुनिया अभी तक इसे चुपचाप देख रही है। सवाल है कि क्यों? क्या यह ऐसा विषय नहीं है जिस पर संयुक्त राष्ट्र महासभा या सुरक्षा परिषद के समक्ष रखा जाए? अगर इस लायक नहीं है तो फिर कश्मीर को क्यों सुरक्षा परिषद के सामने रखा गया?
वैसे हमें हांगकांग से पहले थोड़ी निगाह ताइवान पर डालनी चाहिए, जिसे शी जिनपिंग सैन्य कार्रवाई की धमकी दे चुके हैं। ताइवान कहता है कि उसका चीन के साथ सहयोग करते हुए अपना विशिष्ट चरित्र और पहचान बनाए रखना संभव नहीं है। ताइवान लोकतांत्रिक देश है, अपना संसदीय लोकतंत्र बनाए रखना चाहता है। इसे लेकर ताइवान में सनफ्लावर मूवमेंट भी हुआ था। सफल भी रहा था। शायद यही हांगकांग के लोग चाहते हैं, लेकिन दोनों की स्थिति में बहुत अंतर है। ताइवान उस समय आजाद था इसलिए ताइवान में विरोध प्रदर्शन में जो लोग सक्रिय थे उनमें से अधिकांश या तो ताइवान की संसद में हैं, या विश्व प्रसिद्ध यूनिर्वसटिीज में अध्ययन कर रहे हैं। लेकिन हांगकांग के सामने थियानमेन स्क्वायर एक सशक्त उदाहरण की तरह है। हांगकांग के आंदोलन को जो लोग सिर्फ एक बिल के विरुद्ध आंदोलन के रूप में देखते हैं, वे शायद गलत हैं।

उनका यह नजरिया हांगकांग के आंदोलन की तीव्रता एवं प्रकृति को कमजोर करता है। हांगकांग अपने उन मूल्यों को लेकर आगे बढ़ना चाहता है, जिनमें स्वतंत्रता है, शासन की एक अलग व्यवस्था है, मूल्य हैं और लोकतंत्र है। हांगकांग के लोग लोकतंत्र का वह मॉडल चाहते हैं जो पश्चिम में कायम है यानी जो ताइवान में है, जर्मनी में, ब्रिटेन में है या फिर अमेरिका में है। उन्हें चीन के मॉडल में उस मॉडल में कोई रुचि नहीं है, जहां सिर्फ एक पार्टी शासन करती हो और एक व्यक्ति को ताउम्र राष्ट्रपति बने रहने के लिए अधिकृत कर दिया गया हो। यह बात पूरी दुनिया जानती है और राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी इससे भलीभांति परिचित हैं। फिर भी हांगकांग के लोगों की यह मांग पीपल्स रिपब्लिक ऑफ चाइना के सोशलिज्म विद् चाइनीज कैरेक्टिरिस्टिक्स के विपरीत तो है ही। इसलिए शी जिपिंग इसे चीन की संप्रभुता से जोड़कर देखते हैं। जाहिर है, बीजिंग इस पर तभी तक चुप रहेगा या दिखेगा जब तक उसे लगता है कि हांगकांग का आंदोलन उसकी संप्रभुता के लिए खतरा नहीं बन रहा। इसके बाद वह किसी भी हद तक जाने वाला निर्णय भी ले सकता है।
ध्यान रहे कि बीजिंग और शी जिनपिंग हांगकांग के लोकतांत्रिक आंदोलन को लोकतांत्रिक आंदोलन के रूप में कदापि स्वीकार नहीं करेंगे जिससे कि हांगकांग के आंदोलन को वैश्विक समर्थन हासिल हो सके बल्कि इस बात की अधिक संभावनाएं हैं कि वे इसे चीन के कम्युनिस्ट शासन के विरुद्ध सुनियोजित संघर्ष या विद्रोह ही करार देंगे। ध्यान रहे कि हांगकांग में जिन युवा आंदोलनकारियों की गिरफ्तारियां हुई हैं, उनके खिलाफ जिस अदालती कार्रवाई की तैयारी हो रही है, उसमें बहुत से छुपे हुए संदेश आंदोलन एवं आंदोलनकारियों के लिए निहित हैं। बीजिंग के सरकारी अधिकारी आंदोलनकारियों के कृत्यों को ‘आतंकवाद’ के रूप में पेश करना चाह रहे हैं, ना कि राजनीतिक या अधिकारों की मांग वाले जनआंदोलन के रूप में। चूंकि चीनी अर्थव्यवस्था निर्यात पर निर्भर है, और अमेरिका तथा चीन के बीच चल रहा ट्रेड वार आर्थिक शीतयुद्ध की शुरुआत करता दिख रहा है, ऐसी स्थिति में चीन हांगकांग में सैन्य कार्रवाई के विकल्प को तत्काल चुनना नहीं चाहता। 
जो भी हो हांगकांग इस समय थियानमेन स्क्वायर इतिहास की परिधि पर खड़ा दिख रहा है, परिणाम कुछ भी हो सकते हैं। लेकिन अमेरिका सहित दुनिया के उन देशों के पास इतना साहस नहीं है कि हांगकांग आंदोलन को खुला समर्थन दे सकें, भले ही वे रेस्टोरेशन ऑफ डेमोक्रेसी के नाम पर इराक सहित दुनिया के तमाम देशों और व्यवस्थाओं का ध्वंस कर चुके हों।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
प्रियंका ने क्यों लिया निक को डेट करने का फैसला!

प्रियंका ने क्यों लिया निक को डेट करने का फैसला!

PICS: कंगना रनौत ने मुंबई में खरीदा शानदार स्टूडियो

PICS: कंगना रनौत ने मुंबई में खरीदा शानदार स्टूडियो

मकर संक्रांति: उड़ी-उड़ी रे पतंग...

मकर संक्रांति: उड़ी-उड़ी रे पतंग...

PICS: सर्दियों मे अमृत है आंवला, होते हैं कई फायदे

PICS: सर्दियों मे अमृत है आंवला, होते हैं कई फायदे

PICS: संगम की रेती पर संयम, श्रद्धा और कायाशोधन का ‘कल्पवास’

PICS: संगम की रेती पर संयम, श्रद्धा और कायाशोधन का ‘कल्पवास’

बॉलीवुड की बोल्ड गर्ल बिपाशा बसु आज हुई 41 वर्ष की

बॉलीवुड की बोल्ड गर्ल बिपाशा बसु आज हुई 41 वर्ष की

PICS: दीपिका ने एसिड अटैक पीड़िताओं संग लखनऊ में मनाया बर्थडे

PICS: दीपिका ने एसिड अटैक पीड़िताओं संग लखनऊ में मनाया बर्थडे

PICS: मनाली में हल्की बर्फबारी, पर्यटकों के चेहरे पर छाई खुशी

PICS: मनाली में हल्की बर्फबारी, पर्यटकों के चेहरे पर छाई खुशी

'छपाक' के प्रमोशन में बिजी दीपिका पादुकोण

PICS: सारा अली खान भाई इब्राहिम के साथ बिता रही छुट्टियां

PICS: सारा अली खान भाई इब्राहिम के साथ बिता रही छुट्टियां

PICS: मल्टीस्टारर फिल्में 2020 में मचायेगी धूम

PICS: मल्टीस्टारर फिल्में 2020 में मचायेगी धूम

PICS: कोहली ने अनुष्का संग ग्लेशियर में किया 2020 का वेलकम, देखें तस्वीरें

PICS: कोहली ने अनुष्का संग ग्लेशियर में किया 2020 का वेलकम, देखें तस्वीरें

PICS:  सितारो की जिंदगी में खुशियों की सौगात लेकर आया साल 2019

PICS: सितारो की जिंदगी में खुशियों की सौगात लेकर आया साल 2019

PICS: Year 2019: जानें, डेब्यू करने वाले स्टार्स के लिए कैसा रहा साल 2019

PICS: Year 2019: जानें, डेब्यू करने वाले स्टार्स के लिए कैसा रहा साल 2019

PICS: प्रधानमंत्री मोदी ने लखनऊ में किया अटलजी की 25 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण

PICS: प्रधानमंत्री मोदी ने लखनऊ में किया अटलजी की 25 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण

PICS:

PICS: 'पंगा' के प्रमोशन के लिए कंगना रनौत बनीं ट्रेन टिकट विक्रेता

PICS: हिमाचल में बिछी बर्फ की चादरें, तस्वीरों में देखें खूबसूरत नजारा

PICS: हिमाचल में बिछी बर्फ की चादरें, तस्वीरों में देखें खूबसूरत नजारा

PICS: दक्षिण अफ्रीका की जोजिबिनी टुन्जी के सिर सजा मिस यूनिवर्स 2019 का ताज

PICS: दक्षिण अफ्रीका की जोजिबिनी टुन्जी के सिर सजा मिस यूनिवर्स 2019 का ताज

PICS: प्रियंका चोपड़ा को मिला यूनिसेफ का डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार

PICS: प्रियंका चोपड़ा को मिला यूनिसेफ का डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार

PICS: रितिक रोशन बने सबसे सेक्सी एशियाई पुरुष

PICS: रितिक रोशन बने सबसे सेक्सी एशियाई पुरुष

शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

'दबंग 3' में प्रीति जिंटा की एंट्री? सलमान संग पुलिस वर्दी में आईं नज़र

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का 'बॉस' लुक

PICS:

PICS: 'बाला' के लिए यामी ने रीक्रिएट किया नीतू सिंह का 70 के दशक का लुक

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने 'टूरिस्ट गाइड', जिनपिंग को कराई सैर

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने


 

172.31.21.212