Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

21 Jan 2019 12:21:21 AM IST
Last Updated : 21 Jan 2019 12:23:18 AM IST

परेड ग्राउंड : खिलाड़ी तय, खेल बाकी

अवधेश कुमार
परेड ग्राउंड : खिलाड़ी तय, खेल बाकी
परेड ग्राउंड : खिलाड़ी तय, खेल बाकी

ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की सर्वाधिक लोकप्रिय नेता हैं। कोलकाता के ऐतिहासिक परेड ग्रांउड में यदि वह 23 दलों के नेताओं को एक मंच पर लाने में सफल हुई तो इसे उनकी तात्कालिक उपलब्धि अवश्य मानी जाएगी।

ममता को यह श्रेय तो जाएगा कि लंबे समय से नरेन्द्र मोदी और भाजपा विरोधी विपक्षी एकता की कोशिशों को उन्होंने ऐसा मंच प्रदान किया जिसका संदेश देश भर में गया है। उतने नेता एक साथ इकट्ठे हों और उनको सुनने के लिए सामने कई लाख जनता तो यह राष्ट्रव्यापी आकषर्ण और महत्त्व का कार्यकम बनता है। इसलिए इलेक्ट्रोनिक मीडिया को उसे लाइव दिखाना ही था। जो नेता मंच पर आए उनमें से ज्यादातर का अपने-अपने प्रदेशों में जनाधार है और वे सब कम या ज्यादा मात्रा में चुनाव परिणामों को प्रभावित करने की क्षमता रखते हैं। इसलिए उस एकत्रीकरण को भारतीय राजनीति के लिए महत्त्वहीन कहकर खारिज करने वाले दुराग्रहपूर्ण एकपक्षीय आकलन कर रहे हैं। इतने नेता एक मंच से केंद्र सरकार के विरुद्ध आग उगलें तो इसका कोई संदेश जाएगा ही।

यह बात सही है कि इसका आकलन करते समय हम केवल जो नेता वहां गए उन्हीं तक सीमित नहीं रह सकते, जो नहीं गए वह भी बड़े कारक हैं और उनका विचार किए बिना हम इसके संभावित राजनीतिक परिणामों का आकलन नहीं कर सकते। उसमें दो नाम सबसे बड़े हैं, राहुल गांधी और मायावती। छह महीना पहले रैली की तिथि निश्चित हुई। इसलिए यह तो नहीं माना जा सकता कि उनके पास दूसरी व्यस्ताएं थीं। इसका सीधा अर्थ यही निकाला जा रहा है कि ममता के समानांतर प्रधानमंत्री के संभावित दावेदार नहीं आए। प्रश्न यह भी उठेगा कि वामपंथी दल मोदी विरोधी विपक्ष के अभियान के भागीदार हैं या नहीं? ममता सरकार को लोकतंत्र का गला घोंटने वाली नेता केवल भाजपा या संघ परिवार के घटक ही नहीं कह रहे, वामपंथी दलों की भी यही भाषा है। तो एक मुख्यमंत्री, जिसके राज्य में विपक्षी दलों के लिए स्वतंत्र रूप से राजनीतिक गतिविधियां चलाने की स्थिति तक नहीं हो उसे बदलाव के अभियान का प्रमुख नेता मान लेना सबके गले नहीं उतर सकता। परेड ग्राउंड के मंच से वह अपने भाषण में कह रही थीं कि मैं सांप्रदायिकता फैलाने वाले कार्यक्रम की अनुमति नहीं दूंगी। एक पार्टी, जो केन्द्र की सरकार चला रही है, जिसकी अकेले सबसे ज्यादा राज्यों में सरकारें हैं, उसको आप सांप्रदायिक कहकर राजनीतिक अभियान चलाने से रोकें, इसका समर्थन केवल दुराग्रह और घृणा से भरे हुए लोग और नेता ही कर सकते हैं। मंच पर उपस्थित नेताओं में से भी सभी ममता के इस रवैये से सहमत नहीं होंगे। लेकिन मोदी विरोध की राजनीति करनी है, इसलिए स्वीकार्य हो तो समर्थन करो और अस्वीकार्य हो तो चुप रहो।
इतने बड़े राजनीतिक आयोजन की सबसे बड़ी कमजोरी यह रही कि वहां से देश के लिए कोई वैकल्पिक विचार सामने नहीं आया। ऐसा लगा नहीं कि उतने बड़े आयोजन के लिए बोलने की तैयारी करके नेतागण पहुंचे थे। वही लोकतंत्र का दमन, वही संस्थाओं की मौत, राफेल, सांप्रदायिकता, ईवीएम, सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय..। जब आप मोदी और अमित शाह को लोकतंत्र का हत्यारा कहते हैं तो पश्चिम बंगाल में कुछ लोग तो होंगे जिनके मन में प्रश्न उठेगा कि क्या इन नेताओं को ममता का आचरण नहीं दिखाई देता? अरविन्द केजरीवाल मोदी और शाह को हिटलर बता रहे थे तो उनके साथ कम कर चुके उन पूर्व साथियों की क्या प्रतिक्रिया हो रही होगी जिनका उपयोग करके उन्होंने बेरहमी से बाहर जाने को मजबूर किया? फारूक अब्दुल्ला जब भारतीयता, लोकतांत्रिकता की बात कर रहे थे, ईवीएम को चोर मशीन कह रहे थे तो जिनको जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक इतिहास की ज्ञान है, वह अपना सिर पीटने के अलावा कुछ नहीं कर सकते थे। उसी ईवीएम में केवल सात प्रतिशत मतदान में बहुमत से निर्वाचित नेता मशीन को चोर कहे तो इसे वर्तमान राजनीति की विडम्बना नहीं तो और क्या कहेंगे? हम भारतीयों की याददाश्त कई बार कमजोर दिखती है। अटलबिहारी वाजपेयी की उसी मंच से गुणगान करने वाले भाजपा के असंतुष्ट भूल गए कि ममता ने क्या-क्या आरोप लगाकर उनकी सरकार से बाहर गई थीं। भाजपा और खुद यशवंत सिन्हा के खिलाफ उन्होंने क्या नहीं कहा। वाजपेयी सरकार पर 1999 के करगिल युद्ध के दौरान सैनिकों के शवों के लिए खरीदे गए ताबूत और कफन में घोटाले के आरोप लगाए गए, रक्षा मंत्री जार्ज फर्नाडीस का लंबा बहिष्कार हुआ और वाजपेयी को मजबूर होकर उनका त्यागपत्र लेना पड़ा। विरोधियों का जो रवैया आज मोदी सरकार के प्रति है, लगभग वही वाजपेयी व उनकी सरकार के प्रति भी था।
इन परिप्रेक्ष्यों में विचार करें तो परेड ग्राउंड में देश के बड़े नेताओं का जमावड़ा अनेक प्रश्न खड़ा करता है। वास्तव में भारतीय राजनीति की त्रासदी है कि यहां विरोध के लिए तो विरोध होता है, सत्ता के लिए विरोध होता है, लेकिन वैकल्पिक शासन व राजनीति की रूपरेखा रखने की सामथ्र्य विपक्ष नहीं दिखा पाता। सत्ता बदलाव के संदर्भ में हमारे सामने राष्ट्रीय स्तर पर या तो 1977 में वैकल्पिक राजनीति और शासन का कोई खाका आया था या फिर उसके बाद भाजपा ने ही देश के सामने अपना एजेंडा रखा। हम उनसे असहमत, सहमत हो सकते हैं। किंतु उसके अलावा, शासन बदलाव का वैकल्पिक एजेंडा तो हमारे सामने आया भी नहीं। जो नेता मंच पर आए उनमें से कोई ऐसा था भी नहीं, जिनसे हम ऐसी उम्मीद करें। यह दुर्भाग्य है कि मतदाता के नाते हमारी दृष्टि पार्टयिों और नेताओं के विरोध और समर्थन तक सीमित हो गई है। किंतु इसका यह अर्थ नहीं कि आगामी आम चुनाव के लिए परेड ग्राउंड सभा का कोई महत्त्व नहीं है। इसका सबसे बड़ा संदेश ममता बनर्जी ने बिना घोषित किए बंगाल के मतदाताओं को दिया कि विपक्षी नेताओं के बीच उनका बड़ा कद है। आम चुनाव में इसका लाभ उनको मिल सकता है। दूसरे, चुनाव पूर्व बड़ा गठबधन तो नहीं होगा लेकिन इस जमावड़े का परिणाम चुनाव बाद की परिस्थितियों में दिख सकता है। चुनाव बाद इनके साथ आने में कोई बाधा नहीं है। यदि राजग को बहुमत नहीं आया तो वे एक साथ आकर संयुक्त मोर्चा जैसी सरकार बना सकते हैं। यदि राजग को बहुमत आया तो भी ये संगठित विपक्ष के रूप में सरकार की नाक में दम करते रहेंगे।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया 'योगा एस940' लैपटॉप, कीमत 23,990 रुपये

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

B

B'day special: फिल्में छोड़ तिब्बतन योगा क्लासेस चलाती हैं मंदाकिनी

60 साल के हुए संजय दत्त

60 साल के हुए संजय दत्त

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर

'वॉर' के लिए ऋतिक और टाइगर ने फिनलैंड में बर्फ पर किया जोखिम भरा स्टंट

PICS: चैंपियन बनने से चूकी न्यूजीलैंड, विलियमसन बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट

PICS: चैंपियन बनने से चूकी न्यूजीलैंड, विलियमसन बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट

PICS: राम कपूर ने अपने बढ़े वजन को दी मात, शेयर की चौंका देने वाली तस्वीरें..

PICS: राम कपूर ने अपने बढ़े वजन को दी मात, शेयर की चौंका देने वाली तस्वीरें..

फेस क्लींजिंग त्वचा की देखभाल के लिए जरूरी

फेस क्लींजिंग त्वचा की देखभाल के लिए जरूरी

मलाइका और अर्जुन ने बिताए न्यूयॉर्क में यादगार पल, देखे तस्वीरें

मलाइका और अर्जुन ने बिताए न्यूयॉर्क में यादगार पल, देखे तस्वीरें

PICS: बेटी नितारा के लिये मिशन मंगल में काम कर रहे हैं अक्षय कुमार

PICS: बेटी नितारा के लिये मिशन मंगल में काम कर रहे हैं अक्षय कुमार

PICS: अमूल इंडिया

PICS: अमूल इंडिया 'फैन ऑफ द मैच' चारूलता पटेल पर हुआ फिदा, दिया ट्रिब्यूट

हॉलीवुड की फैशन मैगजीन्स पर छांईं प्रियंका चोपड़ा, दिखीं कुछ इस अंदाज़ में

हॉलीवुड की फैशन मैगजीन्स पर छांईं प्रियंका चोपड़ा, दिखीं कुछ इस अंदाज़ में

तस्वीरों में देखें, अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

तस्वीरों में देखें, अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

स्पाइडर-मैन का भारत में

स्पाइडर-मैन का भारत में 'देसी' स्वागत

Photos: मुंबई को बारिश से थोड़ी राहत, धीमे-धीमे पटरी पर लौट रही है जिन्दगी

Photos: मुंबई को बारिश से थोड़ी राहत, धीमे-धीमे पटरी पर लौट रही है जिन्दगी

सारा अली खान हुई इमोशनल, लिख डाली कार्तिक आर्यन के लिए यह पोस्ट

सारा अली खान हुई इमोशनल, लिख डाली कार्तिक आर्यन के लिए यह पोस्ट


 

172.31.21.212