Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

10 Jan 2019 05:56:01 AM IST
Last Updated : 10 Jan 2019 05:58:41 AM IST

आरक्षण : रेवड़ियां बांटने की कवायद

रागिनी शर्मा
आरक्षण : रेवड़ियां बांटने की कवायद
आरक्षण : रेवड़ियां बांटने की कवायद

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आरक्षण मसले को एक बार फिर उछाल दिया है।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आर्थिक आधार पर समान्य वर्ग के कमजोर तबकों के लिए सरकारी नौकरियों और शिक्षण संस्थाओं में दस प्रतिशत आरक्षण देने का निर्णय लिया है। लाजिम है  कि इसके लिए संविधान में संशोधन की आवश्यकता होगी क्योंकि सरकार मंडल आयोग की सिफारिशों के अतिरिक्त यह प्रावधान करने जा रही है। समुचित प्रावधानों के अभाव में नरसिंह राव सरकार के कार्यकाल के दौरान केंद्र सरकार की ऐसी सिफारिश को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था।
शायद इसीलिए केंद्र में आरूढ़ मोदी सरकार ने संसद में एक बिल लाने का निर्णय लिया है, जिसे कंस्टीटय़ूशन अमेंडमेंट बिल टू प्रोवाइड रिजर्वेशन टू इकनोमिक वीकर सेक्शन-2018 कहा जाएगा। यकीनन मोदी सरकार की मंशा संविधान की धारा 15 और 16 में बदलाव लाने  की है। भारतीय संविधान की इन धाराओं में सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े तबकों की एक सूची बना कर उन्हें विशेष अवसर देने की सिफारिश की गई है। गौरतलब है कि इसी आधार पर अछूतों को अनुसूचित जातियों के रूप में रेखांकित कर उन्हें एक वर्ग का रूप दिया गया था। इसी प्रकार आदिवासी समूहों के लिए  भी अनुसूचित जनजाति वर्ग बना कर उन्हें आरक्षण दिया गया था। इसी के आधार पर 1953 में सर्वोदयी नेता एवं लेखक काका साहेब कालेलकर और 1978 में बिंध्येरी प्रसाद मंडल के नेतृत्व में पिछड़ा वर्ग आयोग गठित किया गया था। बीपी मंडल की अध्यक्षता वाले आयोग की सरकारी नौकरियों वाली  सिफारिशों को 7 अगस्त, 1990 को तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने लागू किया था, और जिस पर 1992 में सुप्रीम कोर्ट ने मुहर लगाई।

अब कोई अट्ठाइस साल बाद इस 7 जनवरी को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अगड़े अथवा सामान्य तबके के गरीबों की याद आई है। उन्होंने इनके लिए आरक्षण की व्यवस्था करने का लॉलीपॉप दिखाया है। पिछले महीने तीन प्रांतों-राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़-में जब भाजपा के किले ध्वस्त हो गए और लोक सभा चुनाव के कुछ ही महीने शेष रह गए हैं, तो उन्हें इन सब की याद आई है। इसे आरक्षण मसले का राजनीतिक इस्तेमाल ही तो कहा जाएगा क्योंकि प्रधानमंत्री मोदी को यदि इन तबकों की सुधि पहले से होती तो वे पहले ही संविधान में संशोधन करवाते, आयोग बनवाते और उसकी सिफारिशें लेकर कोई काम या सार्थक पहल करते। लेकिन मोदी जानते हैं कि इसमें से कुछ भी एक्शन में नहीं आ पाएगा। केवल हंगामा खड़ा करना ही मकसद हो, तब  किया ही क्या जा सकता है।
दरअसल, ये सारी समस्याएं हमारे युवा वर्ग की हैं। उन्हें ही रोजगार की दरकार है। शिक्षा ग्रहण कर चुकने के पश्चात उन्हें रोजगार पाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ती है। कहना न होगा कि सरकार में बैठे लोगों की सोच रही है कि युवाओं को जाति-धर्म के भुलावे में डाल कर इनका भरपूर भावनात्मक शोषण किया जाए।  वास्तविक मुद्दों से ध्यान बंटाने का तरीका कोई आज का तरीका नहीं है, बहुत पुराना तरीका है। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने चुनावी वायदे में दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी। चुनाव की पूर्व संध्या पर पूछा जा सकता है कि उनके इस वायदे का क्या हुआ? यदि वह वायदा पूरा कर दिया गया होता तो शायद इन दिनों आरक्षण के पिटारे को इस तरह से खोलने की जरूरत ही नहीं पड़ती। यदि आरक्षण के माध्यम से ही सरकार को कुछ करना था, तो इसे समय से किया जाना चाहिए था। क्या प्रधानमंत्री मोदी समझते हैं कि सामान्य तबके के दरिद्र मानसिक स्तर पर भी इतने दरिद्र हैं कि सरकार की  इस कुटिलता को नहीं समझ पाएंगे? इसे मोदी सरकार की गलतफहमी ही तो कहा जाएगा। 
  आरक्षण के उद्देश्यों को संकीर्ण अथरे और राजनीतिक लाभ में इस्तेमाल किए जाने से पहले भी देश-समाज को बहुत नुकसान हो चुका है। दरअसल, आरक्षण का मूल उद्देश्य ही पिछड़े सामाजिक समूहों को राष्ट्र और समाज की मुख्यधारा में लाना था यानी आरक्षण का मुद्दा आर्थिक से अधिक सामाजिक मुद्दा था। गरीबी उन्मूलन का उपाय तो यह कतई नहीं था। लेकिन दुर्भाग्य ही कहा जाएगा कि ऊंचे पदों और संसद-विधानसभाओं में बैठे लोगों ने इस मुद्दे को बेरोजगारी और गरीबी दूर करने का औजार समझ लिया। वीपी सिंह ने भी यही किया और अब नरेन्द्र मोदी भी यही कर रहे हैं।
 पूछना चाहेंगे कि क्या प्रधानमंत्री मोदी ने  अपने फैसले के पूर्व  इस बात की समीक्षा की कि मंडल आयोग के संदर्भ में जो सिफारिशें लागू की गई, उनका नतीजा क्या हुआ? क्या उनसे पिछड़े तबकों की सामाजिक और आर्थिक स्थितियां पिछले अट्ठाइस साल में बदल गई? यदि नहीं तो फिर सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन के लिए कुछ इतर इंतजाम क्यों नहीं किए जाने चाहिए। एक समान स्कूल और एक समान चिकित्सा सुविधा की बात बहुत समय से उठाई जाती रही है। यह कटु सत्य है कि आज देश में अमीरों और गरीबों के स्कूल और अस्पताल अलग-अलग हो गए हैं। लंबे समय तक और कभी-कभी तो आजीवन युवाओं को रोजगार उपलब्ध नहीं हो पाते। कितनी निराशाजनक स्थिति है यह! आप रोजगार के अवसर विकसित करने की कोशिश नहीं करते। इसकी बजाय आप सरकारी नौकरियों में आरक्षण की रेवड़ी बांट रहे हैं। तथ्य यह है कि  सरकारी नौकरियां लगातार सिमट रही हैं। इन्हीं में आप बंदर-बिल्ली का खेल कर  रहे हैं। यह सब नौजवानों के जले पर नमक छिड़कने जैसा है। प्रधानमंत्री मोदी राष्ट्रवादी और समत्ववादी हैं, तो फिर एक पंक्ति का  फैसला क्यों नहीं करते कि बिना किसी जातिगत या धार्मिक भेदभाव के तमाम युवकों को रोजगार मुहैया करने की जिम्मेदारी सरकार की होगी यानी उन्हें वोट की तरह ही रोजगार का अधिकार होगा। इसके लिए शायद आपको संविधान संशोधन की भी जरूरत न पड़े। लेकिन इसके लिए तो वाकई छप्पन इंच की छाती होनी चाहिए प्रधानमंत्री जी!


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

दीपिका एक

दीपिका एक 'अच्छी सिंधी बहू' है : रणवीर

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर 'बॉस लुक' में नजर आईं सोनम

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में दीपिका के

PICS: Cannes में दीपिका के 'लाइम ग्रीन' लुक के मुरीद हुए रणवीर सिंह

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS:

PICS: 'वीरू' के अंदाज में बोले धर्मेंद्र, हेमा को नहीं जिताया तो पानी की टंकी पर चढ़ जाऊंगा

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

बृहस्पतिवार, 28 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

बृहस्पतिवार, 28 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

PICS: रेड कार्पेट पर लाल साड़ी में दिखीं आलिया भट्ट

PICS: रेड कार्पेट पर लाल साड़ी में दिखीं आलिया भट्ट


 

172.31.21.212