Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

04 Feb 2018 03:29:17 AM IST
Last Updated : 04 Feb 2018 03:35:22 AM IST

नजरिया : देखते हैं इस प्रयोग को भी

उपेन्द्र राय
तहलका के सीईओ एवं एडिटर-इन-चीफ
नजरिया : देखते हैं इस प्रयोग को भी
नजरिया : देखते हैं इस प्रयोग को भी

देखते हैं इस प्रयोग को भी, उपेन्द्र राय, मोदी सरकार, बजट, किसानों के लिए बजट, मिडिल क्लास के लिए बजट, बजट लोक-लुभावन, लोकसभा चुनाव 2019, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, बजटपैथी, आम बजट 2018-19, मोदी-जेटली का आम बजट, नीति आयोग

बजट की बिसात पर मोदी सरकार की सीधी चाल ने सियासी अटकलों को एक बार फिर मात दे दी है. इस चाल से एक तरफ देश का सबसे बड़ा ‘मिडिल क्लास’ खाली हाथ ताकता रह गया, तो दूसरी तरफ गांवों और किसानों के लिए सरकार का खजाना खुल गया है. प्रधानमंत्री ने पहले ही स्पष्ट कर दिया था कि बजट लोक-लुभावन नहीं होगा. इशारा साफ था कि बजट में देश की आर्थिक दिशा का ध्यान रखा जाएगा, चुनावी नफे-नुकसान का नहीं. फिर भी, 2019 के लोक सभा चुनाव से पहले माना जा रहा था कि तमाम अगर-मगर के बावजूद इसमें आम लोगों के लिए कुछ लॉलीपॉप जरूर होंगे. लेकिन ऐसा हुआ नहीं बल्कि चार साल पहले सत्ता संभालते ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अर्थव्यवस्था में जिस सुधार का संकल्प जताया था, उस इलाज के लिए मोदी की इस ‘बजटपैथी’ में मीठी गोलियां कम, कड़वी गोलियां ज्यादा हैं.
 बजट में फर्क ये आया है कि अब खुद प्रधानमंत्री आम बजट पर देश से संवाद करते हैं. बजट से पहले अर्थशास्त्रियों के साथ और नीति आयोग के साथ बैठकें करते हैं. इसलिए अब वित्तमंत्री का नाम लेकर बजट बोलने की परम्परा छोड़ने का वक्त आ गया है. बजट 2018-19 को अगर मोदी-जेटली का आम बजट बोला जाए, तो यह ज्यादा उपयुक्त होगा. इस बार मोदी का प्रभाव और असर ज्यादा है, जेटली का कम. आम बजट पर अगर अरु ण जेटली का प्रभाव ज्यादा होता, तो देश का सेंसेक्स हरा रंग दिखा रहा होता. मगर, यह लाल रंग दिखा रहा है. आम बजट को लेकर बाजार इस बार जितना निराश दिखा है, मोदी सरकार में पहले कभी नहीं दिखा था. तो क्या इसका मतलब यह है कि मोदी-जेटली के बजट ने बाजार का बेड़ा गर्क कर निवेशकों से उनकी उम्मीदें छीन लीं?

पिछले साल और इस साल के दोनों बजटों के बीच का फर्क शेयर बाजार बता रहा है. तब सेंसेक्स का ग्रीन लाइट इसकी समीक्षा कर रहा था. वह भी तब जबकि नोटबंदी की वजह से देश की अर्थव्यवस्था कराह रही थी. विपरीत परिस्थितियों में तब भी जेटली के बजट में मोदी का हस्तक्षेप था. मगर वह निवेशक और बाजार के अनुकूल था. मोदी-जेटली उस बजट में एकाकार हो गए थे.
जेटली मास लीडर नहीं हैं, जबकि नरेन्द्र मोदी मास लीडर हैं. 2019 का आम चुनाव जेटली को दिखे या नहीं दिखे, पीएम मोदी को दिखता है. उससे पहले होने जा रहे विधा नसभा चुनाव भी अब तक हुए विधान सभा चुनावों में सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण हैं क्योंकि अब तक विपक्ष परीक्षा दे रहा था, इस बार बीजेपी और एनडीए परीक्षा देगी क्योंकि ज्यादातर राज्यों में इनकी ही सरकारें हैं. लिहाजा, लोक कल्याण का नजरिया इस आम बजट में हावी है. कल्याणकारी अर्थशास्त्र को सरकारें तभी अपनाती हैं, जब चुनाव नजदीक होता है.
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सदन में और सदन से बाहर भी यह बात कही है कि उनकी प्राथमिकता चुनाव नहीं होते. उनकी प्राथमिकता में होता है देश. वे देश को देखकर और तात्कालिक नफा-नुकसान से ऊपर उठकर दीर्घकालिक नजरिये से देश की नीतियां बनाते हैं. इसका मतलब ये है कि आगे भी मोदी सरकार कल्याणकारी अर्थशास्त्र को साथ लेकर चलने वाली है. यानी मोदी की नीतियों में किसान बने रहेंगे और गरीबों को भी प्राथमिकता दी जाती रहेगी.
2018 का बजट अगर किसी एक बात के लिए याद किया जाएगा, तो वह है देश की 50 करोड़ आबादी को ‘आयुष्मान भारत’ योजना के जरिये बीमा के दायरे में लाने की पहल. ये योजना मोदी सरकार का एक अभूतपूर्व कदम है. इसके तहत सरकार ने दस करोड़ परिवारों को पांच लाख सालाना की सुरक्षा बीमा योजना देने का प्रावधान रखा है. सरकार का दावा है कि गरीबों के लिए दुनिया की यह सबसे बड़ी योजना है. विश्व भर में स्वास्थ्य का बुनियादी अधिकार देने वाले देशों में भी इतनी बड़ी योजना नहीं है. यह बात अलग है कि इसके लिए अब तक सरकार ने 2 हजार करोड़ रु पये ही आवंटित किए हैं, जबकि नीति आयोग के सूत्रों के मुताबिक इस पर सालाना करीब 11 हजार करोड़ रु पये की जरूरत पड़ेगी. इस योजना को 2022 तक पूरी तरह लागू करने का दावा किया जा रहा है. यानी इसके क्रियान्वयन की सीमा अगले लोक सभा चुनाव के बाद पूरी होगी. सियासी तौर पर इसी योजना को चुनावी गेम चेंजर माना जा रहा है.
सरकार ने किसानों को उनकी लागत का डेढ़ गुना फसल का दाम मिलना सुनिश्चित करके भी अनाज उत्पादकों को बड़ी सुरक्षा दी है. जरूरत की घड़ी में सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य पर अनाज की खरीद करेगी. यानी किसानों की फसल हर हाल में बिकेगी और न्यूनतम समर्थन मूल्य से कम पर नहीं बिकेगी, यह तय कर दिया गया है. इससे किसानों को फसल का डेढ़ गुणा दाम मिलना भी तय हो गया है.
मोदी-जेटली बजट को इस रूप में भी देखा जाना चाहिए कि चुनाव से पहले मध्यम वर्ग को मायूस करने की हिम्मत दिखाना सबके वश की बात नहीं. टैक्स देने वाले इस वर्ग पर शिक्षा और स्वास्थ्य का सेस 1 प्रतिशत बढ़ा दिया गया है. इसी रकम से देश की 50 करोड़ आबादी का बीमा कराया जाएगा. मुफ्त गैस कनेक्शन पाने वाले परिवारों की तादाद भी अब 8 करोड़ होगी. देश की विशाल आबादी जिसमें किसान शामिल हैं और गरीबी रेखा से नीचे के लोग भी, उनके हित में मोदी सरकार ने आगे बढ़कर कदम बढ़ाया है. यह निर्णय अर्थशास्त्रीय नजरिये से नहीं, राजनीतिक नजरिये से ही हो सकता है. जाहिर है मोदी जैसे मास लीडर ही ऐसा कदम उठा सकते हैं. आर्थिक उदारीकरण के दौर से पहले यानी नरसिम्हाराव से पहले की सरकारें लोककल्याण के लिए मध्यमवर्ग पर कोई सेस नहीं थोपा करती थी, बल्कि यह रकम सिगरेट, शराब जैसी चीजों को महंगी करके जुटाई जाती थी.
 नेहरू-गांधी के जमाने की सरकारें पूंजीपतियों को 20 सूत्री कार्यक्रम से जोड़ती थीं. कल्याणकारी कार्यों को पूरा करने की जिम्मेदारी उन पर थोपती थीं. अब भी बची-खुची उन नीतियों में इस सोच के अवशेष देखे जा सकते हैं. मगर, अब उदारीकरण के बाद से सरकारों के रु ख में ये बदलाव आया है कि वे पूंजीपतियों, जिन्हें अब इस नाम से नहीं बुलाया जाता बल्कि निवेशक कहा जाता है, पर लोक कल्याण की आर्थिक जिम्मेदारी नहीं थोपते. उनकी जगह मध्यमवर्ग ने ले ली है. यही मध्यम वर्ग की पीड़ा है. अमीर भी उन्हीं पर बोझ डाल रहे हैं, गरीब भी उन्हीं पर.
मोदी सरकार ने वैसे 250 करोड़ रु पये तक के कारोबार करने वाली कंपनियों के टैक्स को घटाकर 25 प्रतिशत पर ला दिया है. लेकिन शेयर बाजार के चेहरे से कॉरपोरेट जगत में जो गुस्से की लाली दिख रही है, उससे पता चलता है कि वह मोदी सरकार से रूठा हुआ है. मोदीजी सही कहते हैं, अभी उन्हें समझने में वक्त लगेगा. गरीब जनता और किसान मध्यम वर्ग पर बोझ बनकर भी अपना हितैषी किसी और को समझ रहे हैं जबकि कॉरपोरेट जगत अपने हितैषी को ही अपनी लाल आंखें दिखा रहा है. दरअसल, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आम बजट में अपनी नई सोच को आजमाया है, एक नया नजरिया पेश किया है. यही आम बजट की खासियत है और इसीलिए कहा जा सकता है कि लीक से हटकर है यह बजट.
 


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS: कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने परिवार सहित स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका, रोटियां बनायी

PICS: कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने परिवार सहित स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका, रोटियां बनायी

जानिए बुधवार, 21 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए बुधवार, 21 फरवरी 2018 का राशिफल

फिल्मों में काम करने वाली पहली मिस इंडिया थी नूतन

फिल्मों में काम करने वाली पहली मिस इंडिया थी नूतन

जानिए मंगलवार, 20 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए मंगलवार, 20 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए सोमवार, 19 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए सोमवार, 19 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए 18 से 24 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 18 से 24 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

आशा भोंसले ने किया खुलासा, यश चोपड़ा ने उनसे साझा किया था एक राज़

आशा भोंसले ने किया खुलासा, यश चोपड़ा ने उनसे साझा किया था एक राज़

PICS: 36 साल की उम्र में रोजर फेडरर बने दुनिया के नंबर वन टेनिस खिलाड़ी

PICS: 36 साल की उम्र में रोजर फेडरर बने दुनिया के नंबर वन टेनिस खिलाड़ी

PICS: भारत ने 5-1 से जीती वनडे सीरीज, कप्तान विराट ने अनुष्का को दिया जीत का क्रेडिट

PICS: भारत ने 5-1 से जीती वनडे सीरीज, कप्तान विराट ने अनुष्का को दिया जीत का क्रेडिट

जानिए 17 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 17 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 16 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 16 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

चाहकर भी कभी चीन नहीं गए राज कपूर, ये थी वजह

चाहकर भी कभी चीन नहीं गए राज कपूर, ये थी वजह

PICS: आमिर खान ने खोला राज- 10 साल की उम्र में हुआ था

PICS: आमिर खान ने खोला राज- 10 साल की उम्र में हुआ था 'एकतरफा' पहला प्यार

जानिए 15 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 15 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 14 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 14 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 13 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 13 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

PICS: मोदी ने मस्कट में शिवमंदिर में किये दर्शन, ग्रांड मस्जिद भी देखी

PICS: मोदी ने मस्कट में शिवमंदिर में किये दर्शन, ग्रांड मस्जिद भी देखी

PICS: मीन-मेख करके खानेवाले नहीं हैं पीएम मोदी: शेफ संजीव कपूर

PICS: मीन-मेख करके खानेवाले नहीं हैं पीएम मोदी: शेफ संजीव कपूर

जानिए 12 फरवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 12 फरवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 11 से 17 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 11 से 17 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

गर्व है कि

गर्व है कि 'पैडमैन' की कमान पुरुषों ने संभाली: गौरी शिंदे

जानिए 10 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 10 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

PICS: माधुरी के साथ 23 साल बाद काम करेगी रेणुका

PICS: माधुरी के साथ 23 साल बाद काम करेगी रेणुका

जानिए 9 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 9 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

...इसलिए

...इसलिए 'पैडमैन' के प्रचार में समय नहीं दे पा रही हैं राधिका आप्टे

PICS: ऑटो एक्सपो में आज लॉन्च हुई नई गाड़ियां, जानें क्या-क्या है फीचर्स

PICS: ऑटो एक्सपो में आज लॉन्च हुई नई गाड़ियां, जानें क्या-क्या है फीचर्स

PICS: पीएम मोदी ने शेयर की अपनी दिनचर्या, करते हैं इतने घंटे काम और सिर्फ इतने घंटे आराम

PICS: पीएम मोदी ने शेयर की अपनी दिनचर्या, करते हैं इतने घंटे काम और सिर्फ इतने घंटे आराम

जानिए 8 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 8 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

PICS: एक साल के हुए करण जौहर के जुडवां बच्चे

PICS: एक साल के हुए करण जौहर के जुडवां बच्चे

जानिए 7 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 7 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 6 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 6 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

सही फिल्म मिलने का इंतजार कर रही हैं सैयामी खेर

सही फिल्म मिलने का इंतजार कर रही हैं सैयामी खेर


 

172.31.20.145