Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

11 Oct 2017 05:53:47 PM IST
Last Updated : 11 Oct 2017 05:58:43 PM IST

एचआईवी संक्रमित व्यक्ति ने इस तरह बदली अपनी किस्मत

--आईएएनएस
एचआईवी संक्रमित व्यक्ति ने इस तरह बदली अपनी किस्मत
एचआईवी संक्रमित व्यक्ति ने इस तरह बदली अपनी किस्मत

उन्होंने अपने आप को घर में कैद कर लिया. लगभग तीन साल तक दिन के उजाले को देखने में असमर्थ रहे और दुर्गम बाधाओं से लड़ते रहे. के. प्रदीपकुमार सिंह ने सामाजिक कलंक और भेदभाव पर विजय प्राप्त कर दुनिया को यह दिखा दिया है कि "एक एचआईवी संक्रमित व्यक्ति जीवन में क्या कुछ कर सकता है."

अपनी जवानी के दिनों में वह मणिपुर के अपने हमउम्र युवाओं की तरह नशे और ड्रग्स की चपेट में थे. साल 2000 में प्रदीपकुमार को पता चला कि वह इस वायरस से संक्रमित हैं.

राजधानी इंफाल से तीन किलोमीटर दूर एक गांव में पैदा हुए प्रदीपकुमार राज्य में एचआईवी और एड्स से संक्रमित अकेले व्यक्ति नहीं है. मणिपुर राज्य एड्स नियंत्रण सोसाइटी के मुताबिक एचआईवी और एड्स राज्य में सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर चुनौती है. एक समय में मणिपुर में देश के करीब आठ फीसदी एचआईवी पीड़ित थे, जबकि यहां देश की आबादी का केवल 0.2 फीसदी हिस्सा रहता है.

इसे धीमा जहर कहा जाता है और यह मरीज को अत्यंत दुर्बल बना देता है और इससे होनेवाली दर्दनाक मौत के लिए पीड़ित की ही निंदा की जा सकती है. लेकिन उन्होंने अपने भाग्य को स्वीकारने के बदले साहस जुटाया और सामाजिक मानदंडों को चुनौती देते हुए अपनी कमजोरी को 'सकारात्मक' जीवन में बदल दिया.

निर्णायक दृढ़संकल्प के साथ उन्होंने बॉडी बिल्डिंग में करियर बनाया और मिस्टर मणिपुर, मिस्टर इंडिया और मिस्टर दक्षिण एशिया खिताब जीतने के अलावा मिस्टर वर्ल्ड प्रतियोगिता में कांस्य पदक हासिल किया है.

दो दशकों तक एचआईवी के साथ जीने के बाद प्रदीपकुमार अब 46 साल के हैं और सक्रिय रूप से एचआईवी एड्स संबंधित जागरूकता अभियान चलाते हैं. हालांकि अब वह पेशेवर प्रतियोगिताओं में भाग नहीं लेते, बल्कि मणिपुर सरकार के खेल और युवा मामलों विभाग में फिजिकल ट्रेनर के रूप में काम करते हैं और उनकी योजना बॉडी बिल्डिंग अकादमी खोलने की है.

उन्होंने कहा, "पूर्वोत्तर में इतनी प्रतिभा है और बॉडी बिल्डिंग का इतना क्रेज है, लेकिन सब बेकार हो जाता है. न तो राज्य सरकार और न ही खेल अकादमी इसे बढ़ावा देने में कोई रुचि लेती है."

जब एचआईवी संक्रमण का पता चला, तो वह याद करते हुए कहते हैं, "मैं शारीरिक रूप से काफी कमजोर हो गया था. यह मुझ पर एक मनोवैज्ञानिक हमले से कहीं अधिक था. सबसे बुरा मेरे सबसे करीबी दोस्तों का मुझसे दूर जाना था. लोग मेरा मजाक उड़ाते थे कि मैं एचआईवी पीड़ित व्यक्ति हूं."

न सिर्फ समाज ने, बल्कि अस्पताल के कर्मियों और डॉक्टरों ने भी उनसे दुर्व्यवहार किया. वह बताते हैं, "वे मुझे अस्पृश्य महसूस कराते थे. मणिपुर राज्य सरकारी अस्पताल में मुझे कोने में ऐसा बेड दिया गया, जिस पर कोई मैट्रेस या बेडशीट तक नहीं थी. पूरे दिन मुझे कोई चिकित्सक या सहायक चिकित्सक देखने नहीं आता था."

प्रदीपकुमार कहते हैं, "एक ऐसा समय भी था, जब मैं अपना जीवन खत्म करने की सोच रहा था, लेकिन आज मैं यहां हूं, यह सिर्फ और सिर्फ मेरे परिवार और उसके प्यार के कारण हूं."

उनकी भाभी भानु देवी का उनके जीवन में बहुत योगदान है. भानु देवी ने आईएएनएस को बताया, "उस वक्त एचआईवी के बारे में ज्यादा लोग जागरूक नहीं थे. यह देखना वाकई दुखद था कि कुछ रिश्तेदार भी उनसे दूरी बना रहे थे. लेकिन हमारा लक्ष्य किसी भी कीमत पर प्रदीप को बचाना था. हमने उनका ध्यान ऐसी चीज की तरफ लगाने की कोशिश की, जो उन्हें खुशी दे सके या जो उनके चेहरे पर मुस्कान ला सके."

उस दौरान प्रदीपकुमार ने बॉडी बिल्डिंग को अपना करियर बनाने का फैसला किया. लेकिन कोई सिखाने वाला नहीं था. तो उन्होंने किताबें पढ़कर इसे सीखने की शुरुआत की.

प्रदीपकुमार कहते हैं, "एचआईवी की दवाएं काफी शक्तिशाली होती हैं, जिसने मुझे बहुत कमजोर कर दिया था. लेकिन धीरे-धीरे मैं अपने स्वास्थ्य की देखभाल करने लगा. मैंने उचित आहार का पालन शुरू किया, पौष्टिक भोजन लिया और हर तरह का नशा छोड़ दिया. मैं दुनिया को यह दिखाना चाहता था कि एक एचआईवी संक्रमित व्यक्ति अपने जीवन में क्या कर सकता है."
 __SHOW_MID_AD_
वह अभी भी अपने शरीर पर ध्यान देते हैं और कइयों के लिए प्रेरणा स्त्रोत हैं.

हालांकि उन्होंने इतनी सफलता प्राप्त की है, लेकिन उन्हें मलाल है कि राष्ट्रीय एड्स नियंत्रण संगठन (नाको) से कोई मान्यता नहीं मिली. वह कहते हैं, "नाको ने मुझे कभी भी मान्यता नहीं दी. मुझे उनसे कोई मदद नहीं मिली. एचआईवी का इलाज बहुत महंगा है. अगर मैं मणिपुर जैसी किसी छोटी जगह के बजाए किसी महानगर में रहता तो लोग निश्चित रूप से मुझे याद करते."

संयुक्त राष्ट्र की एड्स रिपोर्ट 2017 के आंकड़ों से पता चलता है कि 2016 के अंत तक भारत में 21 लाख लोग एचआईवी से संक्रमित हैं, जो कि दक्षिण अफ्रीका और नाइजीरिया के बाद दुनिया में तीसरी सबसे ऊंची संख्या है. देश में 2015 में एचआईवी के नए संक्रमण की संख्या 1,50,000 थी, जो 2016 में घटकर 80,000 हो चुकी है.

(यह लेख आईएएनएस और फ्रैंक इस्लाम फाउंडेशन के सहयोग से शुरू की गई एक विशेष श्रृंखला का हिस्सा है)

 


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS: गुजरात-हिमाचल में जीत से गदगद BJP कार्यकर्ता, बजे ढोल-नगाड़े

PICS: गुजरात-हिमाचल में जीत से गदगद BJP कार्यकर्ता, बजे ढोल-नगाड़े

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से 'दिलीप कुमार'

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

B

B'day Spl: 42 की हुई पूर्व मिस यूनीवर्स सुष्मिता सेन, आज भी बरकरार है ग्लैमरस अवतार

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

B

B'day- आराध्या की मौजूदगी घर में खुशी लाती है: अमिताभ

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

हैप्पी बर्थडे:

हैप्पी बर्थडे: 'खूबसूरती की मिसाल' ऐश्वर्या राय बच्चन 44 की हुईं

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह


 

172.31.20.145