Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

17 Jan 2022 12:48:21 AM IST
Last Updated : 17 Jan 2022 12:53:25 AM IST

सामयिक : योगी क्यों हुए अलोकप्रिय?

सामयिक : योगी क्यों हुए अलोकप्रिय?
सामयिक : योगी क्यों हुए अलोकप्रिय?

जिस तरह से उत्तर प्रदेश के नेता भाजपा छोड़ समाजवादी पार्टी की तरफ दौड़ रहे हैं, उसे साधारण भगदड़ नहीं कहा जा सकता।

इसका नुकसान देश की सबसे शक्तिशाली पार्टी को हो रहा है, जो केंद्र और राज्य में सरकार चला रही है। उत्तर प्रदेश में इस ‘डबल इंजन’ की सरकार का चेहरा बने योगी आदित्यनाथ की अलोकप्रियता ही इस पतन का कारण है।
भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को भी यह समझ नहीं आ रहा कि उत्तर प्रदेश के चुनावों से ठीक पहले ऐसा क्यों हो रहा है? क्या योगी जी की कुछ कठोर नीतियां इसका कारण हैं? क्या उत्तर प्रदेश में दिल्ली हाई कमान के जासूस इस भगदड़ का अनुमान लगाने में नाकामयाब रहे? भाजपा और संघ का विशाल नेटवर्क भी इस सबका अनुमान नहीं लगा सका? क्या कारण है कि भाजपा के पास इतना बड़ा संगठन और तमाम संसाधन भी इन नेताओं का पलायन नहीं रोक पाए? क्या भाजपा ने इस बात का विश्वास कर लिया था कि जो नेता पिछड़ी जातियों से आए हैं, वो उनके साथ लंबे समय तक रहेंगे और पिछले पांच सालों में योगी जी के कठोर रवैये से आहत नहीं होंगे? दरअसल, शुरू से योगी का रवैया उनकी ‘ठोको’ नीति के अनुरूप दंभी और अति आत्मविश्वास से भरा हुआ रहा है जिसमें उनके चुनिंदा कुछ नौकरशाहों की भूमिका भी बहुत बड़ा कारण रही है। इस बात को इसी कॉलम में शुरू से मैंने कई बार रेखांकित किया। बार-बार योगी जी को सलाह भी दी कि कान और आंख खोल कर रखें और सही और गलत का निर्णय लेने के लिए अपने विवेक और अपने स्वतंत्र सूचना तंत्र का सहारा लें। सत्ता के मद में योगी कहां सुनने वाले थे। उनके चाटुकार अफसर उनसे बड़े-बड़े आयोजनों में फीते कटवाते रहे और खुद चांदी काटते रहे।
जिस तरह से योगी सरकार ने पिछले पांच सालों में उत्तर प्रदेश में अहम मुद्दों की परवाह किए बिना केवल हिंदुत्व के एजेंडे को ही सबसे ऊपर रखा, शायद वह भी एक कारण रहा। मिसाल के तौर पर अयोध्या में पांच लाख दीये जलाने के अगले ही दिन जिस तरह की तस्वीरें  सामने आई जहां लोग दीयों के तेल को समेट रहे थे, उससे यह बात तो साफ है कि लोग बढ़ती हुई महंगाई और युवा बेरोजगारी से परेशान थे। लंबे समय तक चले किसान आंदोलन ने सरकार की नीतियों उत्तर प्रदेश के किसानों के सामने बेनकाब कर दिया और किसानों ने भी सरकार का विरोध करना शुरू कर दिया।

जिस तरह से उत्तर प्रदेश के कई छोटे दलों के नेताओं, जो 2017 में भाजपा से जुड़े थे, को जब योगी सरकार में मंत्री या अन्य पद मिले तो उन्हें लगा कि सरकार में उनकी सुनवाई भी होगी। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्हें केवल शो-पीस बना कर रखा गया। जब पानी सर से ऊपर  चला गया और उनकी कहीं सुनवाई न हुई तो उन्होंने भाजपा का साथ छोड़ना ही बेहतर समझा। भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को इसका आभास शायद इसलिए नहीं हुआ क्योंकि उन्होंने सोचा कि किसी भी नेता के लिए सरकार में रुतबा और पद छोड़ना इतना आसान नहीं होता। इसलिए शीर्ष नेतृत्व ने भी उनकी शिकायतों को अनसुना कर दिया। योगी सरकार के नौकरशाहों ने जिस तरह मीडिया को बड़े-बड़े विज्ञापन देकर असली मुद्दों से परे रखा, वो भी एक बड़ा कारण रहा। ज्यादातर मीडिया ने भी इन नौकरशाहों की बात सुनकर जनता के बीच दुष्प्रचार फैलाया और जनता को गुमराह करने का भी काम किया। फिर वो चाहे जेवर हवाई अड्डे के विज्ञापन में चीन के हवाई अड्डे की तस्वीर हो या फिर बंगाल के फ्लाईओवर की तस्वीर। इस तरह के झूठे विज्ञापनों से योगी सरकार की काफी किरकिरी हुई। गनीमत यह है सोशल मीडिया ने इस सब की पोल खोल दी और जनता को भी समझ में आने लगा कि विज्ञापन की आड़ में क्या चल रहा है। 2017 से ही योगी और उनकी ‘टीम इलेवन’ ही सरकार चला रही थी। किसी भी विधायक की कहीं भी कोई सुनवाई नहीं थी। इतना ही नहीं, योगी मंत्रीमंडल के एक मंत्री तो ऐसे हैं, जो अपनी इच्छा से किसी अधिकारी नियुक्ति या निलंबन भी नहीं करवा सकते थे। एक चर्चा तो यह भी आम हो चुकी है कि यदि किसी विधायक को दो किलोमीटर की सड़क भी बनवानी पड़ती थी, तो उसे यह कह कर डांट दिया जाता था, ‘क्या सड़क बनवाने में कमीशन कमाना चाहते हो?’ इतना ही नहीं, यदि किसी विधायक को कुछ काम करवाना होता था, तो वह इस ‘टीम इलेवन’ के बैचमेट से कहलवाता था, तब जा कर शायद वो काम होता। वो विधायक तो जन प्रतिनिधि केवल नाम का ही था। उत्तर प्रदेश में योगी सरकार की सफलता या विफलता के बारे में सरकारी तंत्र के अलावा संघ का एक बड़ा तंत्र है, जो जमीनी हकीकत का पता लगाता है। परंतु उत्तर प्रदेश में संघ के इस तंत्र का एक बड़ा हिस्सा वैश्य और ब्राrाण समाज से आता है। पिछड़ी जातियों से बहुत कम लोग इस तंत्र का हिस्सा हैं। इसलिए पिछड़ी जातियों की पीड़ा संघ के शीर्ष नेतृत्व तक पहुंची ही नहीं। सवर्णो के प्रतिनिधियों ने संघ के शीर्ष नेतृत्व को योगी सरकार की बड़ाई कर उन्हें असलियत से दूर रखा। संघ के नेतृत्व को यह तो नजर आया कि 2017 की उत्तर प्रदेश की सरकार में पिछड़ी जातियों के मंत्री व विधायक तो बड़ी मात्रा में हैं परंतु प्रचारक नहीं। यदि ऐसा होता तो संघ अपनी कमर कस लेता और शायद इस भगदड़ की नौबत न आती। इसके साथ ही जातिगत जनगणना पर जो यू टर्न भाजपा सरकार ने लिया है, उसने आग में घी डालने का ही काम किया है।
योगी जी तो भगवा धारण कर इतना भी नहीं समझे कि वो अब एक मठ के मठाधीश नहीं, बल्कि सूबे के मुख्यमंत्री हैं। भगवाधारी या साधु तो अहंकार में रह सकते हैं, लेकिन एक मुख्यमंत्री को तो हर तरह के व्यक्ति से मुखातिब होना पड़ता है। फिर वो चाहे मीडिया हो, उनके अपने मंत्रीमंडल के सदस्य हों, विधायक हों, केंद्र द्वारा भेजे गए विशेष दूत हों या फिर आम जनता। अगर आप सभी को अपने मठ का सहायक समझ कर उससे अपशब्द कहेंगे या उनको अहमियत नहीं देंगे तो इसका फल भी आपको भोगना पड़ेगा। अब देखना यह है कि आने वाली 10 मार्च को योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश की जनता कौन-सा फल अर्पित करेगी।


विनीत नारायण
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email


फ़ोटो गैलरी
कान्स 2022: दीपिका का रेड कार्पेट लुक

कान्स 2022: दीपिका का रेड कार्पेट लुक

केदारनाथ: बाबा केदार के खुले कपाट, उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब

केदारनाथ: बाबा केदार के खुले कपाट, उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब

युद्ध में खंडहर बना यूक्रेन

युद्ध में खंडहर बना यूक्रेन

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 29 पुरावशेष लौटाए, पीएम मोदी ने किया निरीक्षण, देखें तस्वीरें

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 29 पुरावशेष लौटाए, पीएम मोदी ने किया निरीक्षण, देखें तस्वीरें

रूस यूक्रेन युद्ध में तबाही

रूस यूक्रेन युद्ध में तबाही

यूरोप एक बार फिर युद्ध की दहलीज पर

यूरोप एक बार फिर युद्ध की दहलीज पर

नहीं रहीं भारत की स्वर कोकिला

नहीं रहीं भारत की स्वर कोकिला

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

प्रयागराज में पीएम मोदी

प्रयागराज में पीएम मोदी

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

सीएम योगी संग आधी रात

सीएम योगी संग आधी रात 'काशी दर्शन' करने निकले PM मोदी

इतिहास के नाम काशीधाम

इतिहास के नाम काशीधाम

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की 'लव स्टोरी' का ट्रेलर जारी

भारत जीता ओवल टेस्ट

भारत जीता ओवल टेस्ट

दिल्ली हुई पानी-पानी

दिल्ली हुई पानी-पानी

स्कूल चलें हम

स्कूल चलें हम

शहनाज का बोल्ड अंदाज

शहनाज का बोल्ड अंदाज

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी


 

172.31.21.212