Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

29 Nov 2021 12:34:03 AM IST
Last Updated : 29 Nov 2021 12:37:32 AM IST

कृषि कानून : क्रुफ टूटा खुदा-खुदा करके!

कृषि कानून : क्रुफ टूटा खुदा-खुदा करके!
कृषि कानून : क्रुफ टूटा खुदा-खुदा करके!

लाए उस बुत को इल्तिजा करके। कुफ्रटूटा खुदा-खुदा करके।’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेने और कृषि उपजों के न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी पर विचार के लिए समिति बनाने की घोषणा पर सबसे अच्छी टिप्पणी लखनऊ के उन्नीसवीं शताब्दी के नामचीन शायर पं. दयाशंकर ‘नसीम’ के इस शे’र की मार्फत की जा सकती है।

अपने साल भर के आंदोलन में किसानों ने बहुत बड़ी कीमत चुकाई है। उन्हें शीत-ताप और बारिश के बीच कई मौसम राजधानी की सीमाओं पर खुले आसमान के नीचे अस्थायी टेंटों में बिताने पड़े, दमनकारी सरकारी अड़ंगेबाजी के बीच सात सौ से ज्यादा शहादतें देनी पड़ीं और अनगिनत लांछन झेलने पड़े। किसानों के आंदोलन के आरंभ से ही उसकी वैधता और विसनीयता पर नाना प्रकार के दोष लगाने आरंभ कर दिए गए थे। कभी उन्हें मुट्ठी भर बताया तो कभी किसान मानने से ही इनकार कर दिया गया। खालिस्तानी, देशद्रोही से लेकर आंदोलनजीवी, परजीवी और मवाली तक उन पर भला कौन-कौन-सी तोहमत नहीं लगाई गई? लांछित करने का सिलसिला उत्तर प्रदेश के लखीमपुरखीरी में कुचल मारने तक जा पहुंचा तो भी शोक या सहानुभूति के सरकारी बोल नहीं ही फूटे। यह तो किसानों का जीवट था कि इसके बावजूद अहिंसक संघर्ष के पथ से विचलित नहीं हुए, अपने आंदोलन को दुनिया के सबसे लंबे आंदोलनों में से एक बनाया और सरकार की उम्मीद के अनुसार थक या हार जाने की बजाय लंबी लड़ाई को तैयार रहे। प्रधानमंत्री कहें कुछ भी, यह विश्वास उन्हें भी नहीं ही होगा कि उनकी घोषणा मात्र से उनकी सरकार और किसानों के बीच अविश्वास की वे सारी दीवारें कहें या गांठें एक झटके में ढह या खुल जाएंगी। वैसे ही, जैसे अब तक किसानों के कई शुभचिंतकों तक को विश्वास नहीं था कि ‘दृढ़निश्चयी’ प्रधानमंत्री को किसी भी तरह कृषि कानूनों की वापसी की सीमा तक ‘झुकाया’ जा सकता है।

हालांकि प्रधानमंत्री ने अभी भी कृषि कानूनों में कोई खामी नहीं मानी है। वापसी का कारण भी यह नहीं बताया है कि देर से ही सही, उन्हें उनमें कुछ काला या किसान विरोधी दिख गया है। इतना भर कहा है कि वे कुछ किसानों को इन कानूनों की अच्छाइयां नहीं समझा सके। क्या अर्थ है इसका? यही तो कि जिस किसान आंदोलन ने अपने अप्रतिम जीवट से उन्हें इस यू-टर्न के लिए विवश किया, वे अभी भी उसे कुछ नासमझ किसानों का आंदोलन ही मान रहे हैं। फिर क्यों न किसान नेता राकेश टिकैत ‘जाट मरा तब जानिए जब तेरहवीं हो जाए’ की तर्ज पर एहतियात बरतते हुए कह दें कि किसान अपने घर तभी वापस जाएंगे, जब विवादित कृषि कानूनों को बाकायदा संसद के रास्ते वापस ले लिया जाएगा। संयुक्त किसान मोर्चा चाहता है कि पीएम की घोषणा पर अमल का इंतजार किया जाए। प्रधानमंत्री मोदी चाहते तो उसका इंतजार खत्म करने के लिए अध्यादेश लाकर कृषि कानूनों को फौरन रद्द कर सकते थे, लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। दूसरे, साफ दिखता है कि प्रधानमंत्री के यू-टर्न के पीछे उनकी और पार्टी की अलोकप्रियता का वह डर है, जो किसानों के आंदोलन के चलते लगातार बड़ा होता जा रहा था। इस डर के अलावा और क्या वजह हो सकती है कि किसानों की जिस अनसुनी को विपक्षी दल ‘प्रधानमंत्री का अहंकार’ और ‘भाजपा की क्रूरता’ कहते आ रहे थे, वह अचानक इस कदर विगलित हो जाए कि प्रधानमंत्री के मुंह से फूल झड़ने लगें, माफी जैसे शब्द निकलने लगें। चुनाव में हार के डर से ऐसा हुआ है तो भी इसे लोकतंत्र की शक्ति के रूप में ही देखा जाएगा। कहा जाएगा कि अंतत: किसानों की जनादेश को प्रभावित करने की शक्ति उनके काम आई।
फिर भी इस सवाल को जवाब की दरकार रहेगी कि पांच राज्यों के चुनाव सिर पर न होते तो प्रधानमंत्री को अपनी ‘तपस्या में कमी’ महसूस कराने के लिए किसानों को अभी कितना और लंबा संघर्ष करना पड़ता? जवाब के लिए भी बहुत दूर जाने की जरूरत नहीं। उच्चतम न्यायालय में विभिन्न सुनवाइयों के दौरान सरकार द्वारा उनके आंदोलन के विरु द्ध दी गई नाना प्रकार की संवेदनहीन दलीलों से ही इसे समझा जा सकता है। इससे भी कि किस तरह सरकार ने कोरोना की आपदा को अवसर में तब्दील कर पर्याप्त बहस-मुबाहिसे के बिना और विपक्ष की सेलेक्ट कमेटी को भेजने की मांग की अनसुनी कर बहुमत की निरंकुशता के बूते तीनों कृषि बिलों को पारित कराया था। दु:खद यह है कि इन कानूनों की संवैधानिकता के परीक्षण का मामला शीर्ष अदालत पहुंचा तो वहां भी समय रहते फैसला नहीं हो पाया और बात अमल पर रोक लगाने तक सिमट गई।


कृष्ण प्रताप सिंह
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email


फ़ोटो गैलरी
73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

प्रयागराज में पीएम मोदी

प्रयागराज में पीएम मोदी

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

सीएम योगी संग आधी रात

सीएम योगी संग आधी रात 'काशी दर्शन' करने निकले PM मोदी

इतिहास के नाम काशीधाम

इतिहास के नाम काशीधाम

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की 'लव स्टोरी' का ट्रेलर जारी

भारत जीता ओवल टेस्ट

भारत जीता ओवल टेस्ट

दिल्ली हुई पानी-पानी

दिल्ली हुई पानी-पानी

स्कूल चलें हम

स्कूल चलें हम

शहनाज का बोल्ड अंदाज

शहनाज का बोल्ड अंदाज

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

तालिबान शासन के डर से लोग काबुल छोड़कर भागे

तालिबान शासन के डर से लोग काबुल छोड़कर भागे

टोक्यो से घर वापसी पर भव्य स्वागत

टोक्यो से घर वापसी पर भव्य स्वागत

भारतीय ओलंपिक दल का भव्य स्वागत

भारतीय ओलंपिक दल का भव्य स्वागत

टोक्यो ओलंपिक 2020 का रंगारंग समापन

टोक्यो ओलंपिक 2020 का रंगारंग समापन

नीरज ने भाला फेंक में ओलंपिक में भारत को दिलाया गोल्ड मैडल

नीरज ने भाला फेंक में ओलंपिक में भारत को दिलाया गोल्ड मैडल

ओलंपिक कुश्ती में रवि दहिया को रजत पदक

ओलंपिक कुश्ती में रवि दहिया को रजत पदक

जश्न मनाती टीम इंडिया

जश्न मनाती टीम इंडिया


 

172.31.21.212