Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

26 Jun 2019 06:01:40 AM IST
Last Updated : 26 Jun 2019 06:05:14 AM IST

डॉ साहब, अपनी पहचान बचाइए

कृष्णप्रताप सिंह
डॉ साहब, अपनी पहचान बचाइए
डॉ साहब, अपनी पहचान बचाइए

साल 1969-70 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता स्वर्गीय चन्द्रभानु गुप्त ने अपनी आत्मकथा ‘मेरा सफर कहीं रुका नहीं, झुका नहीं’ में लिखा है कि इस देश के डॉक्टर भी उतने ही अधकचरे व कर्त्तव्यहीन हैं, जितने नेता।

गुप्त के निधन के 39 साल बाद हमारे डॉक्टरों ने न सिर्फ  केंद्र में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी और पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के बीच छिड़े हिंसक सत्ता संघर्ष में अपना अमानवीय इस्तेमाल कराकर बल्कि महाराष्ट्र के बीड जिले में पिछले तीन साल में 4605 महिला गन्ना कटाई मजदूरों के गर्भाशय निकालने में आपराधिक ‘सहयोग’ और उत्तर प्रदेश के बरेली में एक दुधमुंही बच्ची का इलाज करने से जानलेवा इनकार के मार्फत भी ‘सिद्ध’ कर दिया है कि चन्द्रभानु ने उस वक्त जो कुछ लिखा था, वह आज भी उतना ही सत्य है।
कहने की जरूरत नहीं कि बीड में महिला गन्ना कटाई मजदूरों के गर्भाशय निकालने का गोरखधंधा तीन साल की उम्र पा ही नहीं सकता था, अगर डॉक्टर कर्त्तव्यहीनता से बाज आकर अपने पेशे से जुड़ी नैतिकताएं ठीक से निभाते। इसी तरह चार दिन की बरेली की बच्ची को जिंदगी का पांचवां दिन इसलिए नसीब नहीं हुआ कि वह अपनी जिस दादी मां की गोद में सरकारी अस्पताल पहुंची, उसको पता नहीं था कि वह उसे पुरु षों के अस्पताल में ले जाएं या महिलाओं के। दोनों अस्पतालों के डॉक्टर शटलकॉक की तरह इस दादी मां को एक से दूसरे अस्पताल भेजते रहे और जब तक वे तय कर पाते कि उनमें से बच्ची का इलाज कौन करेगा, बच्ची की सांसें चुक गई। जाहिर है कि ऐसे में यह तय कर पाना मुश्किल है कि पश्चिम बंगाल के बहाने अपनी सुरक्षा की आड़ लेकर उनके द्वारा की गई हड़ताल ज्यादा अमानवीय थी या बच्ची के इलाज में बरती गई कर्त्तव्यहीनता।

गौरतलब है कि जैसे इस कर्त्तव्यहीनता का वैसे ही जिंदगी और मौत के बीच झूल रहे मरीजों को उनके हाल पर छोड़ देने वाली इन डॉक्टरों की ट्रेड यूनियनों जैसी पिछली हड़ताल का भी समर्थन नहीं किया जा सकता था क्योंकि जिस लम्पट वीवीआइपी संस्कृति से उनकी सुरक्षा को सबसे ज्यादा अंदेशे पैदा होते हैं, उसके साथ उनकी मिलीभगत उक्त हड़ताल में भी बेअसर रही थी। ‘चाल करें झींगा और मारे जाएं रोहू’ की तर्ज पर उन्होंने खुराफात की जड़ वीवीआइपियों की सेवा-टहल से कतई कोई इनकार नहीं किया था और अपनी हड़ताल का सारा नजला लाचार, बेजार व बेकसूर मरीजों पर ही गिराते रहे थे। यह मानने के कारण हैं कि वीवीआइपी की यह ‘सेवा’ ही उन्हें कर्त्तव्यहीनता की ऐसी अमर्यादित शक्ति देती है, जिसकी आड़ में वे चार दिन की बच्ची से भी डॉक्टर तो क्या आदमी की तरह भी पेश नहीं आते।
एक समय इन डॉक्टरों ने उत्तर प्रदेश में लगभग ऐसी ही परिस्थितियों में अचानक हड़ताल कर दी, जिसके कारण मरीजों पर बुरी बीतने लगी तो हिंदी के अपने समय के महत्त्वपूर्ण कवि विष्णु खरे ने, जो उन दिनों ‘नवभारत टाइम्स’ के लखनऊ संस्करण के संपादक थे,लिखा था-इस हड़ताल का कतई समर्थन नहीं किया जा सकता; क्योंकि ये डॉक्टर या उनकी यूनियनें कभी इस बात को लेकर हड़ताल नहीं करतीं कि उनके अस्पतालों में समुचित उपकरण व सुविधाएं नहीं हैं, जिसके कारण उनके लिए मरीजों के प्रति अपना कर्त्तव्य निभाना कठिन हो रहा है। अस्पतालों में अटी पड़ी गंदगी से भी उन्हें कोई दिक्कत नहीं होती-मरीजों के घंटों तक डॉक्टर के इंतजार के लिए अभिशप्त अथवा पेयजल व शौचालय जैसी सुविधाओं से वंचित होने से भी। जहां पहले कहा जाता था कि डॉक्टर के पास जाने का गुर्दा (यानी हैसियत। तात्पर्य जेब में भरपूर रुपये होने से।) होना चाहिए, अब कहा जाता है कि किसी भी ऑपरेशन के बाद पक्का कर लेना चाहिए कि मरीज के दोनों गुर्दे अथवा सारे अंग अपनी जगह सलामत हैं कि नहीं।
थोड़े ही दिन पहले कानपुर में डॉक्टरों की संलिप्तता वाले एक बड़े किडनी रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है, लेकिन डॉक्टरों के सबसे बड़े संगठन आइएमए में किसी भी स्तर पर इसकी शर्म महसूस नहीं की गई है। कई साल पहले आई एक रिपोर्ट के अनुसार देश भर में कोई दस हजार लोग हर साल इन डॉक्टरों की खराब लिखावट के चलते अपनी जानें गवा देते हैं। देश में अभी भी कई क्षेत्र ऐसे हैं, जहां लोग समय पर डॉक्टर उपलब्ध न हो पाने के कारण जानें गंवाने को अभिशप्त हैं। ऐसा नहीं होगा तो मरीजों का तो जो होगा, होगा ही, डॉक्टर भी अपनी पुरानी पहचान नहीं बचा पाएंगे।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: चैंपियन बनने से चूकी न्यूजीलैंड, विलियमसन बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट

PICS: चैंपियन बनने से चूकी न्यूजीलैंड, विलियमसन बने मैन ऑफ द टूर्नामेंट

PICS: राम कपूर ने अपने बढ़े वजन को दी मात, शेयर की चौंका देने वाली तस्वीरें..

PICS: राम कपूर ने अपने बढ़े वजन को दी मात, शेयर की चौंका देने वाली तस्वीरें..

फेस क्लींजिंग त्वचा की देखभाल के लिए जरूरी

फेस क्लींजिंग त्वचा की देखभाल के लिए जरूरी

मलाइका और अर्जुन ने बिताए न्यूयॉर्क में यादगार पल, देखे तस्वीरें

मलाइका और अर्जुन ने बिताए न्यूयॉर्क में यादगार पल, देखे तस्वीरें

PICS: बेटी नितारा के लिये मिशन मंगल में काम कर रहे हैं अक्षय कुमार

PICS: बेटी नितारा के लिये मिशन मंगल में काम कर रहे हैं अक्षय कुमार

PICS: अमूल इंडिया

PICS: अमूल इंडिया 'फैन ऑफ द मैच' चारूलता पटेल पर हुआ फिदा, दिया ट्रिब्यूट

हॉलीवुड की फैशन मैगजीन्स पर छांईं प्रियंका चोपड़ा, दिखीं कुछ इस अंदाज़ में

हॉलीवुड की फैशन मैगजीन्स पर छांईं प्रियंका चोपड़ा, दिखीं कुछ इस अंदाज़ में

तस्वीरों में देखें, अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

तस्वीरों में देखें, अहमदाबाद में भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा

स्पाइडर-मैन का भारत में

स्पाइडर-मैन का भारत में 'देसी' स्वागत

Photos: मुंबई को बारिश से थोड़ी राहत, धीमे-धीमे पटरी पर लौट रही है जिन्दगी

Photos: मुंबई को बारिश से थोड़ी राहत, धीमे-धीमे पटरी पर लौट रही है जिन्दगी

सारा अली खान हुई इमोशनल, लिख डाली कार्तिक आर्यन के लिए यह पोस्ट

सारा अली खान हुई इमोशनल, लिख डाली कार्तिक आर्यन के लिए यह पोस्ट

PICS: जो जोनस की शादी में पारंपरिक परिधान साड़ी में नजर आईं प्रियंका, वायरल हुई फोटो

PICS: जो जोनस की शादी में पारंपरिक परिधान साड़ी में नजर आईं प्रियंका, वायरल हुई फोटो

मुंबई में आज भी भारी बारिश, पानी-पानी हुई मायानगरी

मुंबई में आज भी भारी बारिश, पानी-पानी हुई मायानगरी

रणवीर नहीं, ये है दीपिका पादुकोण के ‘83’ में काम करने की वजह

रणवीर नहीं, ये है दीपिका पादुकोण के ‘83’ में काम करने की वजह

वयस्क ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी जरूरी है योग

वयस्क ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी जरूरी है योग

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

अपने जन्मदिन की तस्वीरों में करिश्मा ने दी उम्र को मात

अपने जन्मदिन की तस्वीरों में करिश्मा ने दी उम्र को मात

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

दीपिका एक

दीपिका एक 'अच्छी सिंधी बहू' है : रणवीर

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर 'बॉस लुक' में नजर आईं सोनम

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में दीपिका के

PICS: Cannes में दीपिका के 'लाइम ग्रीन' लुक के मुरीद हुए रणवीर सिंह

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र


 

172.31.21.212