Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

12 Jun 2019 02:41:10 AM IST
Last Updated : 12 Jun 2019 02:44:53 AM IST

छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी

अतुल कनक
छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी
छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी

दक्षिणी हिस्से में मॉनसून की फुहारों ने जनजीवन को हर्षित करना शुरू कर दिया है। किसी भी कृषि प्रधान देश में मॉनसून का आगमन एक उत्सव से कम नहीं होता।

हम उस उत्सव की देहरी पर खड़े हैं। उत्सव का यह संस्कार इसलिए भी महत्त्वपूर्ण है कि वष्रा न केवल हमें तात्कालिक जरूरतों के लिए पानी उपलब्ध कराती है, विविध जल संग्रहण क्षेत्रों में हमारे लिए इतना स्नेहाशीष एकत्र जल के रूप में छोड़ जाती है कि हम वर्ष पर्यत उसका उपयोग करके सुख के सपनों को संवार सकते हैं।
मानव सभ्यता का विकास नदियों के किनारे हुआ। जल और जमीन की पर्याप्त उपलब्धता ने नील नदी से लेकर सिंधु घाटी तक सभ्यता के विकास के प्रारंभ में ही मानव जीवन को उत्कर्ष के नवसोपान सौंपे। नदियों के इस योगदान को आशीर्वाद के रूप में ग्रहण करते हुए भारतीय संस्कृति ने नदियों को मातृस्वरूपा कहा है। गंगा जैसी नदियों के बारे में तो माना जाता है कि उनके स्पर्श मात्र से जीवन के पाप धुल जाते हैं। लेकिन गंगा ही क्यों, भारतीय संस्कृति में तो अधिकांश नदियों को पवित्र माना गया है। बिहार की कर्मनाशा नदी को इसका अपवाद कहा जा सकता है, जिसके बारे में सामान्य मान्यता रही कि उसके स्पर्श से ही मनुष्यों के सद्कर्मो का क्षय हो जाता है। लेकिन उसके भी अपने सांस्कृतिक-सामाजिक कारण रहे। दरअसल, कर्मनाशा नदी को पार करने के बाद बंगाल का वह हिस्सा शुरू हो जाता है, जिसमें प्राचीन काल में बौद्ध धर्म का प्रभाव था। भारतीय इतिहास के एक कालखंड में बौद्ध धर्म और सनातन पंथ की मान्यताएं परस्पर इतनी आमने-सामने हो गई थीं कि एक दूसरे के प्रभाव को भी सद्कर्मो के नाश का कारण कहा जाने लगा था अन्यथा कर्मनाशा नदी ने भी अपने किनारे पर बसे गांवों को भरपूर साधन दिए हैं।

नदियों की पवित्रता की यह अवधारणा नदियों के प्रवाह की प्रांजलता की दुश्मन हो गई। हमने मनमाने तरीके से उनके प्रवाह को यह मानते हुए प्रदूषित किया कि उनके स्पर्श से तो सब कुछ पवित्र हो जाता है। गंगा जैसी नदी भी कुछ स्थानों पर इतनी प्रदूषित पाई गई है कि उन स्थानों के आसपास गंगा नदी का जल पीने योग्य नहीं रहा। जिस नदी के बारे में माना जाता है कि राजा भागीरथ अपने पुरखों का उद्धार करने के लिए उसे स्वर्ग से पृथ्वी पर लाए, उस नदी का प्रदूषण चिंता का कारण हो गया हो तो अन्य नदियों की स्थिति की कल्पना की जा सकती है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में एक नदी है चंदल्रोही। करीब साठ किलोमीटर यह नदी एक दर्जन से अधिक गांवों की जरूरतों को पूरा करके कोटा शहर के निकट चंबल में मिल जाती है। लेकिन कारखानों से इसके प्रवाह में सतत प्रवाहित होते अपशिष्ट ने नदी के प्रवाह को बदबूदार कर दिया है। झालावाड़ जिले की चंद्रभागा नदी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्त्व की थी लेकिन उसके पानी में भी अब नहा पाना दिवास्वप्न सा प्रतीत होता है। उत्तर प्रदेश की सई नदी के बारे में मान्यता है कि यह उस कुंड से निकली है, जहां कभी देवी पार्वती सती हुई थीं। त्रेता युग में वनवास के समय स्वयं मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने इस नदी में स्नान किया था। तुलसीदास ने अयोध्या कांड में इसका जिक्र किया है। लेकिन सई नदी की हालत अब यह है कि लोग पशुओं तक को इसके आसपास नहीं जाने देते।
मिथिलांचल को नदियों का पीहर कहा जाता है। यहां गोरा और चमहा नदी तो पहले ही गुम हो चुकी हैं, और बेलौंती, फरैनी, चकरदाहा जैसी नदियों की स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं है। बुंदेलखंड में अवैध खनन के कारण नदियों के तल में पोखर जैसे बन गए हैं, जिन्होंने नदियों के प्रवाह को अवरुद्ध कर लिया है। 2012 में बुंदेलखंड में राजनीतिक स्तर पर नदियों को बचाने के लिए आंदोलन की बात कही गई थी। लेकिन छोटी नदियां आज भी अपने हाल पर आंसू बहा रही हैं। छिंदवाड़ा जिले की बोदरी नदी देखते ही देखते गंदे नाले में बदल गई है। राजस्थान के जयपुर शहर का अमानीशाह नाला पहले द्रव्यवती नदी था, जिसे एक विशेष परियोजना के तहत पुन: संवारा जा रहा है।
ऐसा नहीं है कि नदियों का जीर्णोद्धार संभव नहीं है। पंजाब में संत बलबीर सिंह सिचेवाल ने कालीबेई नदी को और राजस्थान में तरुण भारत संघ के नेतृत्व में सत्तर गांवों के निवासियों ने अलवर की अरवरी नदी के प्रसंग में साबित कर दिया है कि सामुदायिक संकल्प हो तो दम तोड़ती हुई नदियों को नवजीवन दिया जा सकता है। संकल्प, संचेतना और संवेदना ही छोटी नदियों को बचा सकते हैं। सरस्वती नदी से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार उसे यह आशीर्वाद प्राप्त था कि जब यह लगने लगे कि दुनिया के मंतव्य उसकी शुचिता के अनुकूल नहीं रहे तो वह लुप्त होना प्रारंभ कर दे। यह महज संयोग नहीं है कि कलयुग के प्रारंभ के साथ ही सरस्वती लुप्त होना शुरू हो गई थी। अब भी हमने छोटी नदियों की सुध नहीं ली तो पीढ़ियां हमें क्षमा नहीं करेंगी।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड


 

172.31.21.212