Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

12 Jun 2019 02:41:10 AM IST
Last Updated : 12 Jun 2019 02:44:53 AM IST

छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी

अतुल कनक
छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी
छोटी नदियां : इनकी भी सुध लेनी होगी

दक्षिणी हिस्से में मॉनसून की फुहारों ने जनजीवन को हर्षित करना शुरू कर दिया है। किसी भी कृषि प्रधान देश में मॉनसून का आगमन एक उत्सव से कम नहीं होता।

हम उस उत्सव की देहरी पर खड़े हैं। उत्सव का यह संस्कार इसलिए भी महत्त्वपूर्ण है कि वष्रा न केवल हमें तात्कालिक जरूरतों के लिए पानी उपलब्ध कराती है, विविध जल संग्रहण क्षेत्रों में हमारे लिए इतना स्नेहाशीष एकत्र जल के रूप में छोड़ जाती है कि हम वर्ष पर्यत उसका उपयोग करके सुख के सपनों को संवार सकते हैं।
मानव सभ्यता का विकास नदियों के किनारे हुआ। जल और जमीन की पर्याप्त उपलब्धता ने नील नदी से लेकर सिंधु घाटी तक सभ्यता के विकास के प्रारंभ में ही मानव जीवन को उत्कर्ष के नवसोपान सौंपे। नदियों के इस योगदान को आशीर्वाद के रूप में ग्रहण करते हुए भारतीय संस्कृति ने नदियों को मातृस्वरूपा कहा है। गंगा जैसी नदियों के बारे में तो माना जाता है कि उनके स्पर्श मात्र से जीवन के पाप धुल जाते हैं। लेकिन गंगा ही क्यों, भारतीय संस्कृति में तो अधिकांश नदियों को पवित्र माना गया है। बिहार की कर्मनाशा नदी को इसका अपवाद कहा जा सकता है, जिसके बारे में सामान्य मान्यता रही कि उसके स्पर्श से ही मनुष्यों के सद्कर्मो का क्षय हो जाता है। लेकिन उसके भी अपने सांस्कृतिक-सामाजिक कारण रहे। दरअसल, कर्मनाशा नदी को पार करने के बाद बंगाल का वह हिस्सा शुरू हो जाता है, जिसमें प्राचीन काल में बौद्ध धर्म का प्रभाव था। भारतीय इतिहास के एक कालखंड में बौद्ध धर्म और सनातन पंथ की मान्यताएं परस्पर इतनी आमने-सामने हो गई थीं कि एक दूसरे के प्रभाव को भी सद्कर्मो के नाश का कारण कहा जाने लगा था अन्यथा कर्मनाशा नदी ने भी अपने किनारे पर बसे गांवों को भरपूर साधन दिए हैं।

नदियों की पवित्रता की यह अवधारणा नदियों के प्रवाह की प्रांजलता की दुश्मन हो गई। हमने मनमाने तरीके से उनके प्रवाह को यह मानते हुए प्रदूषित किया कि उनके स्पर्श से तो सब कुछ पवित्र हो जाता है। गंगा जैसी नदी भी कुछ स्थानों पर इतनी प्रदूषित पाई गई है कि उन स्थानों के आसपास गंगा नदी का जल पीने योग्य नहीं रहा। जिस नदी के बारे में माना जाता है कि राजा भागीरथ अपने पुरखों का उद्धार करने के लिए उसे स्वर्ग से पृथ्वी पर लाए, उस नदी का प्रदूषण चिंता का कारण हो गया हो तो अन्य नदियों की स्थिति की कल्पना की जा सकती है। दक्षिण-पूर्वी राजस्थान में एक नदी है चंदल्रोही। करीब साठ किलोमीटर यह नदी एक दर्जन से अधिक गांवों की जरूरतों को पूरा करके कोटा शहर के निकट चंबल में मिल जाती है। लेकिन कारखानों से इसके प्रवाह में सतत प्रवाहित होते अपशिष्ट ने नदी के प्रवाह को बदबूदार कर दिया है। झालावाड़ जिले की चंद्रभागा नदी ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्त्व की थी लेकिन उसके पानी में भी अब नहा पाना दिवास्वप्न सा प्रतीत होता है। उत्तर प्रदेश की सई नदी के बारे में मान्यता है कि यह उस कुंड से निकली है, जहां कभी देवी पार्वती सती हुई थीं। त्रेता युग में वनवास के समय स्वयं मर्यादा पुरुषोत्तम राम ने इस नदी में स्नान किया था। तुलसीदास ने अयोध्या कांड में इसका जिक्र किया है। लेकिन सई नदी की हालत अब यह है कि लोग पशुओं तक को इसके आसपास नहीं जाने देते।
मिथिलांचल को नदियों का पीहर कहा जाता है। यहां गोरा और चमहा नदी तो पहले ही गुम हो चुकी हैं, और बेलौंती, फरैनी, चकरदाहा जैसी नदियों की स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं है। बुंदेलखंड में अवैध खनन के कारण नदियों के तल में पोखर जैसे बन गए हैं, जिन्होंने नदियों के प्रवाह को अवरुद्ध कर लिया है। 2012 में बुंदेलखंड में राजनीतिक स्तर पर नदियों को बचाने के लिए आंदोलन की बात कही गई थी। लेकिन छोटी नदियां आज भी अपने हाल पर आंसू बहा रही हैं। छिंदवाड़ा जिले की बोदरी नदी देखते ही देखते गंदे नाले में बदल गई है। राजस्थान के जयपुर शहर का अमानीशाह नाला पहले द्रव्यवती नदी था, जिसे एक विशेष परियोजना के तहत पुन: संवारा जा रहा है।
ऐसा नहीं है कि नदियों का जीर्णोद्धार संभव नहीं है। पंजाब में संत बलबीर सिंह सिचेवाल ने कालीबेई नदी को और राजस्थान में तरुण भारत संघ के नेतृत्व में सत्तर गांवों के निवासियों ने अलवर की अरवरी नदी के प्रसंग में साबित कर दिया है कि सामुदायिक संकल्प हो तो दम तोड़ती हुई नदियों को नवजीवन दिया जा सकता है। संकल्प, संचेतना और संवेदना ही छोटी नदियों को बचा सकते हैं। सरस्वती नदी से जुड़ी पौराणिक कथा के अनुसार उसे यह आशीर्वाद प्राप्त था कि जब यह लगने लगे कि दुनिया के मंतव्य उसकी शुचिता के अनुकूल नहीं रहे तो वह लुप्त होना प्रारंभ कर दे। यह महज संयोग नहीं है कि कलयुग के प्रारंभ के साथ ही सरस्वती लुप्त होना शुरू हो गई थी। अब भी हमने छोटी नदियों की सुध नहीं ली तो पीढ़ियां हमें क्षमा नहीं करेंगी।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

'दबंग 3' में प्रीति जिंटा की एंट्री? सलमान संग पुलिस वर्दी में आईं नज़र

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का 'बॉस' लुक

PICS:

PICS: 'बाला' के लिए यामी ने रीक्रिएट किया नीतू सिंह का 70 के दशक का लुक

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने 'टूरिस्ट गाइड', जिनपिंग को कराई सैर

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने

साइना की बायोपिक के लिए जमकर पसीना बहा रही हैं परिणीति, शेयर की ये तस्वीर

साइना की बायोपिक के लिए जमकर पसीना बहा रही हैं परिणीति, शेयर की ये तस्वीर

PICS: ...जब रक्षा मंत्री राजनाथ ने राफेल में भरी उड़ान

PICS: ...जब रक्षा मंत्री राजनाथ ने राफेल में भरी उड़ान

जब विनोद खन्ना को पिता से मिली धमकी

जब विनोद खन्ना को पिता से मिली धमकी

पटना में बाढ़ से हाहाकार, देखिए तस्वीरें

पटना में बाढ़ से हाहाकार, देखिए तस्वीरें

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी रणबीर ने

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी रणबीर ने

'Bigg Boss' के लिए इन सेलिब्रिटीज ने लिया ज्यादा पैसा!

'बिग बॉस 13’ का घर होगा पर्यावरण के अनुकूल, देखें First Look

बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार 'मोक्ष नगरी' गया

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली


 

172.31.21.212