Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

08 Feb 2018 02:27:36 AM IST
Last Updated : 08 Feb 2018 02:30:04 AM IST

इच्छा मृत्यु : सरकार और कानून एकमत

विशेष गुप्ता
इच्छा मृत्यु : सरकार और कानून एकमत
इच्छा मृत्यु : सरकार और कानून एकमत

बहुत लंबे संघर्ष के बाद निष्क्रिय इच्छा मृत्यु (पैसिव यूथनेसिया) देने पर राजनीतिक और कानूनी स्तर पर सहमति तकरीबन बन चुकी है.

गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने कड़ी शतरे के साथ निष्क्रिय इच्छा मृत्य की इजाजत देने की तैयारी कर ली है. ज्ञात हो कि शीर्ष अदालत ने कुछ समय पहले केंद्र सरकार से इच्छा मृत्यु को कानूनी आधार देने की अर्जी पर अपना पक्ष रखने को कहा था. कोर्ट ने यह बात कॉमन कॉज नामक गैर-सरकारी संगठन की याचिका पर सुनवाई के दौरान कही थी.
दरअसल, इस संबध में न्यायमूर्ति अनिल दवे की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने एडिशनल सॉलिसिटर जनरल पीएस पटवालिया को इस संबध में सरकार की ओर से निर्देश लाने के लिए कहा था. इसके अलावा विधि आयोग की 241वीं रिपोर्ट में भी कुछ निश्चित दिशा-निर्देशों के साथ निष्क्रिय इच्छा मृत्यु की इजाजत देने का समर्थन भी किया गया था.

याचिकाकर्ता की ओर से पैरवी कर रहे प्रशांत भूषण का कहना था कि वेंटिलेटर पर रखे व्यक्ति, जिसके बचने की उम्मीद न हो, को जीवन समाप्त करने की इजाजत मिलनी चाहिए. यह भी तर्क था कि जिस व्यक्ति को पता हो कि उसकी जान नहीं बच सकती तो उसे फिर वेंटिलेटर पर रखने की पीड़ा को सहन करने का दबाव क्यों डाला जाना चाहिए. हालांकि अब से पहले सरकार ने इस मुद्दे का कड़ा विरोध करते हुए इसे आत्महत्या करार दिया था. परंतु ध्यान रहे हाल ही में सरकार ने इच्छा मृत्यु से जुड़ा मेड़िकल ट्रीटमेंट ऑफ टर्मिनली इल पेशेंट लंबित बिल-2006 में सख्त प्रावधान करते हुए अब इसे मैनेजमेंट ऑफ पेशेंट्स विद टर्मिनल इलनेस-विदड्राल ऑफ ऑडिकल लाइफ सपोर्ट बिल नाम दिया है. असल में इस बिल में उन मरीजों के दर्द निवारण की व्यवस्था की गई है, जो निष्क्रिय इच्छा मृत्यु का विकल्प चुनेंगे. इसमें गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीज की जीवन रक्षक मेड़िकल सपोर्ट को हटाना शामिल किया गया है. परंतु इस बिल में स्पष्ट प्रावधान किया गया है कि इसके लिए अस्पतालों को एक स्वीकृति समिति गठित करनी होगी. यह समिति जीने की इच्छा से जुड़े आवेदनों पर विचार करेगी. सही मायनों में यह एक लिखित दस्तावेज होगा जिसमें उस मरीज के लिए जीवन भर किए गए उपायों के बाद भी उसकी हालत में सुधार न होने की बात भी उसमें साफ तौर पर बतानी होगी. खास बात यह है कि कोई व्यक्ति समिति के सामने गलत आंकड़े पेश करता है, तो उसे अधिकतम 10 साल की जेल और बीस लाख से लेकर एक करोड़ रुपये का जुर्माना भरना होगा.
इच्छा मृत्यु के मामले से तस्वीर अभी तक पूरी तरह साफ नहीं थी. विगत समय में देखें तो सुप्रीम कोर्ट में इससे जुड़े दो निर्णय हमारे सामने हैं. पहला, अनुच्छेद-21 में गरिमा के साथ जीने के अधिकार से जुड़ा है. परंतु इसमें लोगों का तर्क है कि अगर इसमें जीने का अधिकार शामिल है, तो इसमें गरिमा के साथ मरने का अधिकार भी शामिल होना चाहिए. परंतु 1996 में सुप्रीम कोर्ट ने ज्ञान कौर बनाम पंजाब सरकार के मामले में स्पष्ट किया कि अनुच्छेद-21 में जीवन जीने के अधिकार में मृत्युवरण का अधिकार शामिल नहीं है. अगर इसमें शामिल करते भी हैं, तो यह आईपीसी की धारा 306 और 309 में आत्महत्या का अपराध माना जाएगा.  सुप्रीम कोर्ट ने दूसरा फैसला 7 मार्च, 2011 को मुबई के किंग एडर्वड मेमोरियल अस्पताल की नर्स अरुणा रामचन्द्र शानबाग, जो यौन शोषण के बाद वहां लंबे समय से कोमा में थीं, के मामले में सुनाया था. इस फैसले से साफ हो गया था कि यदि शानबाग के कानूनी रक्षक चाहें तो उन्हें  जीवित रखने वाले सपोर्ट सिस्टम को हटाया जा सकता है. उस अस्पताल की नर्से इस फैसले के खिलाफ खड़ी हो गई थीं. अरुणा शानबाग ने उसी अस्पताल में लंबे समय तक नसरे की देखरेख में रहते हुए आखिर में अपने प्राण त्याग दिए परंतु उसके जाते-जाते तक इच्छा मृत्यु पर बहस अधूरी ही बनी रही. सही मायनों में सुप्रीम कोर्ट के इन दोनों फैसलों का आशय तो समान ही था परंतु उसमें निष्क्रिय इच्छा मृत्यु से जुड़ी कोई राय साफ न होने से उसमें कानूनी उलझन अभी तक भी बनी हुई है.
 इच्छा मृत्यु पर देश में अभी कोई स्पष्ट कानून न होने से गंभीर मरीजों के सामने बहुत परेशानी हैं. जब तक कोई स्पष्ट कानून नहीं बनता तब तक शीर्ष अदालत का यही निर्णय लागू रहेगा. भारत के लिए निष्क्रिय इच्छा मृत्यु का वरण करना निश्चित ही बहुत ही संवेदनशील मामला है. भारत जैसे उदार देश में कानूनों की आड़ में उसके दुरुपयोग की भी पूरी-पूरी संभावनाएं मौजूद हैं. खुशी की बात है कि इच्छा मृत्यु के तमाम नैतिक, सामाजिक, सांस्कृतिक और वैज्ञानिक पहलुओं के मद्देनजर सरकार और शीर्ष अदालत दुखित जीवन को मोक्ष के अंतिम पायदान पर ले जाने की न्यायोचित व्यवस्था करने की तैयारी में है. लगता है कि देश ऊहापोह की उलझन से बहुत जल्द मुक्त होकर राहत की सांस लेगा.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS: कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने परिवार सहित स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका, रोटियां बनायी

PICS: कनाडाई प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने परिवार सहित स्वर्ण मंदिर में मत्था टेका, रोटियां बनायी

जानिए बुधवार, 21 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए बुधवार, 21 फरवरी 2018 का राशिफल

फिल्मों में काम करने वाली पहली मिस इंडिया थी नूतन

फिल्मों में काम करने वाली पहली मिस इंडिया थी नूतन

जानिए मंगलवार, 20 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए मंगलवार, 20 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए सोमवार, 19 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए सोमवार, 19 फरवरी 2018 का राशिफल

जानिए 18 से 24 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 18 से 24 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

आशा भोंसले ने किया खुलासा, यश चोपड़ा ने उनसे साझा किया था एक राज़

आशा भोंसले ने किया खुलासा, यश चोपड़ा ने उनसे साझा किया था एक राज़

PICS: 36 साल की उम्र में रोजर फेडरर बने दुनिया के नंबर वन टेनिस खिलाड़ी

PICS: 36 साल की उम्र में रोजर फेडरर बने दुनिया के नंबर वन टेनिस खिलाड़ी

PICS: भारत ने 5-1 से जीती वनडे सीरीज, कप्तान विराट ने अनुष्का को दिया जीत का क्रेडिट

PICS: भारत ने 5-1 से जीती वनडे सीरीज, कप्तान विराट ने अनुष्का को दिया जीत का क्रेडिट

जानिए 17 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 17 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 16 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 16 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

चाहकर भी कभी चीन नहीं गए राज कपूर, ये थी वजह

चाहकर भी कभी चीन नहीं गए राज कपूर, ये थी वजह

PICS: आमिर खान ने खोला राज- 10 साल की उम्र में हुआ था

PICS: आमिर खान ने खोला राज- 10 साल की उम्र में हुआ था 'एकतरफा' पहला प्यार

जानिए 15 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 15 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 14 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 14 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 13 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 13 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

PICS: मोदी ने मस्कट में शिवमंदिर में किये दर्शन, ग्रांड मस्जिद भी देखी

PICS: मोदी ने मस्कट में शिवमंदिर में किये दर्शन, ग्रांड मस्जिद भी देखी

PICS: मीन-मेख करके खानेवाले नहीं हैं पीएम मोदी: शेफ संजीव कपूर

PICS: मीन-मेख करके खानेवाले नहीं हैं पीएम मोदी: शेफ संजीव कपूर

जानिए 12 फरवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 12 फरवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 11 से 17 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 11 से 17 फरवरी 2018 का साप्ताहिक राशिफल

गर्व है कि

गर्व है कि 'पैडमैन' की कमान पुरुषों ने संभाली: गौरी शिंदे

जानिए 10 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 10 फरवरी 2018, शनिवार का राशिफल

PICS: माधुरी के साथ 23 साल बाद काम करेगी रेणुका

PICS: माधुरी के साथ 23 साल बाद काम करेगी रेणुका

जानिए 9 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 9 फरवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

...इसलिए

...इसलिए 'पैडमैन' के प्रचार में समय नहीं दे पा रही हैं राधिका आप्टे

PICS: ऑटो एक्सपो में आज लॉन्च हुई नई गाड़ियां, जानें क्या-क्या है फीचर्स

PICS: ऑटो एक्सपो में आज लॉन्च हुई नई गाड़ियां, जानें क्या-क्या है फीचर्स

PICS: पीएम मोदी ने शेयर की अपनी दिनचर्या, करते हैं इतने घंटे काम और सिर्फ इतने घंटे आराम

PICS: पीएम मोदी ने शेयर की अपनी दिनचर्या, करते हैं इतने घंटे काम और सिर्फ इतने घंटे आराम

जानिए 8 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 8 फरवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

PICS: एक साल के हुए करण जौहर के जुडवां बच्चे

PICS: एक साल के हुए करण जौहर के जुडवां बच्चे

जानिए 7 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 7 फरवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 6 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 6 फरवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

सही फिल्म मिलने का इंतजार कर रही हैं सैयामी खेर

सही फिल्म मिलने का इंतजार कर रही हैं सैयामी खेर


 

172.31.20.145