Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

08 Nov 2017 01:00:08 AM IST
Last Updated : 08 Nov 2017 01:05:05 AM IST

एनटीपीसी : ऐसे हादसों पर रोक जरूरी

भारत डोगरा
एनटीपीसी : ऐसे हादसों पर रोक जरूरी
एनटीपीसी : ऐसे हादसों पर रोक जरूरी

नवम्बर 1 को ऊंचाहार (रायबरेली) स्थित एनटीपीसी के ताप बिजलीघर में हुई भीषण दुर्घटना में अभी तक 33 मजदूर मारे गए हैं व 100 से अधिक घायल हैं.

लगभग 60 मजदूरों के गंभीर रूप से घायल होने के समाचार हैं. हालांकि दुर्घटना के कारणों की विस्तृत स्थिति पूरी जांच से ही सामने आएगी, पर आरंभिक जानकारियों से उच्च स्तर पर गंभीर मानवीय गलतियों के संकेत तो मिलने ही लगे हैं. आरोप है कि बड़ी संख्या में ठेका मजदूरों को खतरनाक स्थितियों में कार्य करने को भेजा गया, बॉयलर के ठीक रख-रखाव या मेनटेनेंस में भी कमी रही.

500 मेगावाट की यूनिट 6 को जल्दबाजी में चालू किया गया, जिससे सुरक्षा पर समुचित ध्यान नहीं दिया जा सका. फिलहाल इस बारे में पूरी जानकारी के लिए चाहे कुछ इंतजार करना पड़े पर विभिन्न क्षेत्रों में समय-समय पर होने वाली कार्यस्थल की दुर्घटनाओं से इतना तो स्पष्ट है कि जरूरी सावधानियां अपना कर इनमें बहुत कमी लाई जा सकती है.

हकीकत यह है कि जहां सीवर की सफाई, कुछ तरह के खनन कार्यों, रसायन व विस्फोट जैसे उद्योगों में दुर्घटनाएं बहुत समय से अधिक होती रही हैं, वहां अब पहले सुरक्षित माने जाने वाले क्षेत्रों जैसे कृषि में भी जानलेवा दुर्घटनाएं बढ़ रही है जैसा कि हाल में विदर्भ क्षेत्र में पेस्टीसाइड छिड़काव की दुर्घटनाओं में होने वाली बड़ी संख्या में मौतों या किसानों व मजदूरों के जहरीलेपन से प्रभावित होने की घटनाओं से सिद्ध हुआ. आक्यूपेशनल हेल्थ एंड सेफ्टी के विकोष ने अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के आंकड़ों के आधार पर बताया है कि दुनिया में एक वर्ष में 12 करोड़ आक्यूपेशनल या रोजगार से जुड़ी हुई दुर्घटनाए होती हैं. इनमें से 210000 दुर्घटनाएं जानलेवा सिद्ध होती हैं.

प्रतिदिन, औसतन ऐसे 500 व्यक्ति हैं, जो रोजगार के लिए अपने घर से जाते हैं पर कार्यस्थल पर दुर्घटना के कारण फिर कभी घर नहीं लौटते हैं. आक्यूपेशनल र्घटनाओं में मौतों से अधिक गंभीर समस्या तरह-तरह की गंभीर चोट लगने की हैं. इस कारण बड़ी संख्या में प्रभावित व्यक्ति विशेषकर मजदूर तरह-तरह की अपंगता का शिकार भी होते हैं. यदि विश्व में जो आक्यूपेशनल दुर्घटनाओं की दर है, यहीं भारत में भी मान ली जाए हो तो यहां एक वर्ष में 2 करोड़ आक्यूपेशनल दुर्घटनाएं होती हैं.

यह दुर्घटनाएं कृषि, बड़े व छोटे उद्योगों, विभिन्न निर्माण स्थलों, खदानों, वनों आदि विभिन्न कार्यस्थलों पर होती हैं. पर इनमें से बहुत कम दुर्घटनाएं ही संज्ञान में आती हैं या इनका कोई रिकॉर्ड रखा जाता है. इनसे प्रभावित होने वालों की बहुत कम क्षतिपूर्ति हो पाती है. विशेषज्ञों के मुताबिक यह जरूरी नहीं है कि आधुनिकता व मशीनीकरण के आगमन से सुरक्षा की स्थिति में सुधार हो. कई बार सुरक्षा पर प्रतिकूल असर भी पड़ सकता है. अत: तकनीकी में बदलाव के समय सेफ्टी का विशेष ध्यान रखना जरूरी है. डॉ. रोनाल्ड स्किब ने अपने अध्ययन में बताया है कि प्राय: सभी दुर्घटनाओं के कई मिले-जुले कारण होते हैं पर इनमें मानवीय गलतियों की मुख्य भूमिका होती है. गार्डन एम. स्मिथ और मार्क वीजलराइट ने कार्यस्थल दुर्घटनाओं को कम करने में ‘पब्लिक हेल्थ’ एप्रोच की पैरवी की है.

उन्होंने बताया है कि सामान्यत: दुर्घटनाओं को कम करने के प्रयास एक कंपनी या एक इकाई में केंद्रित होते हैं. पर यदि जन-स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से देखा जाए, जो किसी स्थान के सभी उद्योगों व वहां की आबादी को समग्र रूप से देखते हुए पूरे क्षेत्र का नियोजन सुरक्षा की दृष्टि से करना चाहिए. जहां खतरनाक स्थिति का बुरा असर उद्योग में काम करने वाले लोगों पर पड़ता है, वहां आसपास रहने वाले लोगों को भी इससे जुड़े खतरे सहने पड़ते हें, जैसे कि भोपाल गैस त्रासदी जैसी दुर्घटनाओं में कई बार देखा गया है.

इस क्षेत्र में हुए अनुसंधानों से हादसों की संभावना को कम करने के व उनसे होने वाली मौत की संभावना को कम करने के कई उपाय उपलब हुए हैं. स्वीडन, फिनलैंड, जापान व जर्मनी ने जानलेवा सिद्ध होने वाली कार्यस्थल की दुर्घटनाओं को कम करने में महत्त्वपूर्ण सफलता प्राप्त की है. यह देश जानलेवा कार्यस्थल की दुर्घटनाओं में 30 से 40 वर्षो में लगभग 60 से 70 प्रतिशत की कमी कर सके हैं. यह उपलब्धि महत्त्वपूर्ण तो है, पर यदि विश्व स्तर पर देखें तो अभी यह उपलब्धि बहुत कम क्षेत्रों तक सीमित है. इससे अधिक क्षेत्र ऐसे हैं जहां अभी स्थिति बहुत चिंताजनक बनी हुई है. अत: कार्यस्थल की दुर्घटनाओं को कम करने के लिए अभी बहुत प्रयास बाकी हैं. हमारे देश में अभी इस क्षेत्र में ज्यादा प्रगति नहीं हो सकी है व कई चुनौतियां हमारे सामने हैं.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

B

B'day Spl: 42 की हुई पूर्व मिस यूनीवर्स सुष्मिता सेन, आज भी बरकरार है ग्लैमरस अवतार

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

B

B'day- आराध्या की मौजूदगी घर में खुशी लाती है: अमिताभ

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

हैप्पी बर्थडे:

हैप्पी बर्थडे: 'खूबसूरती की मिसाल' ऐश्वर्या राय बच्चन 44 की हुईं

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..

PICS: दीपोत्सव का पांच दिवसीय उत्सव शुरू, सजे बाजार, धनतेरस आज

PICS: दीपोत्सव का पांच दिवसीय उत्सव शुरू, सजे बाजार, धनतेरस आज

जन्मदिन विशेष: बॉलीवुड की

जन्मदिन विशेष: बॉलीवुड की 'ड्रीम गर्ल' हेमा मालिनी के डॉयलॉग जो हिट रहेंगे

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना है शुभ, धन में होगी 13 गुना वृद्धि

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना है शुभ, धन में होगी 13 गुना वृद्धि

त्यौहारों पर निखारें बाल,हाथ,नाखून,अपनाएं शहनाज हुसैन के टिप्स

त्यौहारों पर निखारें बाल,हाथ,नाखून,अपनाएं शहनाज हुसैन के टिप्स

पापा शाहिद के बेटी मीशा के साथ प्यार भरे पल, देखें तस्वीरें

पापा शाहिद के बेटी मीशा के साथ प्यार भरे पल, देखें तस्वीरें

अशोक कुमार, किशोर कुमार दोनों भाईयों को हमेशा से जोड़ गयी 13 अक्टूबर

अशोक कुमार, किशोर कुमार दोनों भाईयों को हमेशा से जोड़ गयी 13 अक्टूबर

अजीब खबर, 5 साल की छोटी उम्र में जवानी पार कर आने लगा बुढ़ापा

अजीब खबर, 5 साल की छोटी उम्र में जवानी पार कर आने लगा बुढ़ापा

PICS: दिल्ली का सेंट्रल विस्टा 16 मिलियन रंगों से जगमगाया, 365 दिन रहेगा रोशन

PICS: दिल्ली का सेंट्रल विस्टा 16 मिलियन रंगों से जगमगाया, 365 दिन रहेगा रोशन


 

172.31.20.145