Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

20 Apr 2017 04:19:29 AM IST
Last Updated : 20 Apr 2017 04:24:16 AM IST

तीन तलाक : शरीयत या शोषण?

असद रजा
लेखक
तीन तलाक : शरीयत या शोषण?
तीन तलाक : शरीयत या शोषण?

इस प्रश्न कि क्या एक साथ एक ही बैठक में तीन तलाक देना पत्नी का शोषण है, का उत्तर देने से पहले हमें शरीयत (इस्लामी धार्मिक विधान), मौलवियों, बुद्धिजीवियों और इस मुद्दे पर कुरआन के निर्देशों पर विचार करना होगा.

ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की उस घोषणा पर भी सोचना होगा जिसमें कहा गया है एक साथ तीन तलाक तो सही है परंतु उसका गलत इस्तेमाल करने वालों का सामाजिक बहिष्कार किया जाए.
बोर्ड के अध्यक्ष मौलाना सैयद राबे हसन नदवी का कथन है कि ‘यदि कुछ लोग तीन तलाक का नाजायज इस्तेमाल कर रहे हैं, तो उस स्थिति में कानून को बदलने की आवश्यकता नहीं बल्कि लोगों को अपना व्यवहार बदलने के लिए तैयार करने की जरूरत है.’ इसका तात्पर्य है कि मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड एक ही बैठक में एक साथ तीन तलाक को शरीयत का अंग मानता है, मगर इसके गलत इस्तेमाल पर सामाजिक बहिष्कार की बात करता है. परंतु प्रश्न है कि इस बात को कौन तय करेगा कि तीन तलाक के अधिकार का किसी पति ने सही इस्तेमाल किया है या गलत? वास्तविक प्रश्न तो यह है कि एक साथ तीन तलाक देने का कानून सही है या गलत? इस प्रश्न के संदर्भ में उल्लेखनीय है कि इस्लाम धर्म अब अनेक (72 या अधिक) मसलकों (उप संप्रदायों) में बंटा हुआ है, जो शरीयत के कानूनों की व्याख्या अपने-अपने दृष्टिकोण से करते हैं. उदाहरणार्थ-अहले हदीस और शिया इत्यादि मसलक एक ही बैठक में तीन तलाक देने के कानून को इस्लाम विरोधी करार देते हैं.

भारत सहित पूरी दुनिया के एक सौ से अधिक देशों में उपरोक्त मसलकों के मानने वाले करोड़ों मुसलमान रहते हैं. लेकिन इस्लाम के हन्फी मसलक और कुछ अन्य मसलकों के मुसलमान एक साथ तीन तलाक को शरीयत का कानून मानते हैं. पूरे विश्व में तीन तलाक को सही मानने वाले मुसलमानों की जनसंख्या भी करोड़ों में है. यहां यह उल्लेख भी उचित होगा कि एक साथ तीन तलाक को शरीयत का अंग मानने वाले भी इस प्रकार की तलाक को अच्छा नहीं समझते हैं परंतु कोई पति यदि इस प्रकार तीन तलाक दे दें तो वह इसे शरीयत की दृष्टि से सही करार देते हैं, और कहते हैं कि तलाक हो गई है.
मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड भी अनेक बन गए हैं. शिया धार्मिक नेता मौलाना मोहम्मद अतहर ने शिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड गठित किया, जिसका नेतृत्व इन दिनों मौलाना यासूब अब्बास कर रहे हैं. यह मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड तीन तलाक को शरीयत नहीं मानता है. इसी प्रकार मुस्लिम महिलाओं ने भी शाइस्ता अम्बर के नेतृत्व में मुस्लिम महिलाओं के लिए अलग से एक मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड बनाया है. यह भी एक ही बैठक में तीन तलाक को गलत मानता है. इन बोडरे के गठन से साबित होता है कि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड से मुस्लिम महिलाएं और कुछ मुस्लिम मसलक सन्तुष्ट नहीं हैं. इन असंतुष्टों का कहना है एक ही बैठक में तीन तलाक में मुस्लिम महिलाओं का शोषण है और कुरआन और इस्लाम की शिक्षा के खिलाफ है. इस सिलसिले में वे कुरआन शरीफ के ‘सूरए निसा’ और ‘सूरए तलाक’ का हवाला देते हैं, जिसमें साफ कहा गया है कि तीन तोहर (मासिक धर्मो के बाद का समय) में यानी तीन महीनों में तीन तलाक दी जाएं  और यह कि अल्लाह को तलाक पसंद नहीं है.
यहां बताना भी उचित होगा कि इस्लाम धर्म में धार्मिक कानून या शरीयत के मुख्य स्रोत दो हैं. एक स्रोत कुरआन शरीफ है. कुरआन पाक में प्रत्येक मसलक के मुसलमान का अटूट विश्वास है. दूसरा स्रोत हदीस है. हदीस पैगम्बर-ए-इस्लाम  हजरत मोहम्मद (सल्लम) के उन कथनों एवं निर्देशों को कहते हैं, जो उन इस्लामी हस्तियों द्वारा बयान किए गए हैं, जो पैगम्बरे अकरम के जीवनकाल में उनके साथ रहीं. परंतु इन हदीसों में जहां बहुत-सी सही हैं, वहीं कुछ कमजोर और संदेहास्पद भी. एक साथ तीन तलाक देने का स्रोत कुरआन पाक नहीं बल्कि हदीसें ही हैं. इसीलिए लगभग 22 मुस्लिम देशों सऊदी अरब, पाकिस्तान, इराक, ईरान, इंडोनेशिया, तुर्की, मिस्र आदि में एक ही बैठक में तीन तलाक पर विभिन्न ढंगों से अंकुश लगाया गया है. इधर, तीन तलाक के समर्थक भारतीय मुसलमानों और मौलवियों का कहना है कि हम इन इस्लामी देशों के कानूनों को नहीं मानते. प्रश्न  है कि जब भारत में भी तीन तलाक के रिवाज पर बहस हो रही है और केंद्र सरकार और उप्र, गुजरात, राजस्थान, उत्तराखंड, हरियाणा, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, मणिपुर आदि सरकारें और स्वयं सर्वोच्च न्यायालय भी एक ही बैठक में तीन तलाक देने के पक्ष में नहीं है और इस पर कानूनी पाबंदी की मांग उठा रहे हैं, तब क्या ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और हन्फी मसलक के मुसलमान ऐसी पाबंदी को स्वीकार करेंगे? 
जहां तक मुस्लिम छात्रों विशेष रूप से छात्राओं का प्रश्न है तो वे खुल कर तीन तलाक का विरोध करते हैं. हन्फी मसलक के अनेक बुद्धिजीवी भी एक बैठक में तीन तलाक को गलत मानते हैं. जामिया मिल्लिया इस्लामिया के इस्लामिक अध्ययन के पूर्व विभागाध्यक्ष एवं मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी, जोधपुर के अध्यक्ष प्रो. अख्तरूलवासे तीन तलाक को कुरआन के खिलाफ बताते हैं. इसी प्रकार मशहूर शायर  जावेद अख्तर ने मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा तीन तलाक को जायज करार देने की घोषणा की आलोचना करते हुए इसे शोषण कहा है और इस पर पाबंदी लगाने की मांग की है.
वास्तव में 21वीं सदी में जब महिलाएं जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में पुरुषों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर महान कार्य कर रही हैं, तब उन पर  तीन  तलाक की तलवार से उनके मानवीय अधिकारों का हनन निश्चित ही चिंता का विषय है. वे अपने अधिकारों के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई हैं, तो ऑल इंडिया पर्सनल लॉ बोर्ड और उलेमा को भी इस मुद्दे पर खुले मन से इस पर पुनर्विचार करना चाहिए. ऐसा नहीं किया गया तो उनका अड़ियलपन देश में मुस्लिमों की बदनामी का सबब बन जाएगा. वास्तव में एक साथ तीन तलाक शरीयत नहीं बल्कि मुस्लिम महिलाओं का शोषण है.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से 'दिलीप कुमार'

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

B

B'day Spl: 42 की हुई पूर्व मिस यूनीवर्स सुष्मिता सेन, आज भी बरकरार है ग्लैमरस अवतार

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

B

B'day- आराध्या की मौजूदगी घर में खुशी लाती है: अमिताभ

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

हैप्पी बर्थडे:

हैप्पी बर्थडे: 'खूबसूरती की मिसाल' ऐश्वर्या राय बच्चन 44 की हुईं

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..


 

172.31.20.145