Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

25 Nov 2018 04:24:02 AM IST
Last Updated : 25 Nov 2018 04:26:51 AM IST

गुरु परब : सामाजिक-आध्यात्मिक कर्त्तव्य का बोध

गिरीश्वर मिश्र
गुरु परब : सामाजिक-आध्यात्मिक कर्त्तव्य का बोध
गुरु परब : सामाजिक-आध्यात्मिक कर्त्तव्य का बोध

इस सप्ताह गुरु परब खास रहा जब गुरु नानक देव जी के आगमन की साढ़े पांच सौंवी जयंती का आयोजन शुरू हुआ।

उनकी उपस्थिति उस दौर में हुई थी, जब मुगल शासन के प्रभुत्व के दौर में भारतीय समाज जातियों और वगरे में बंटा हुआ था। अज्ञानता, गरीबी और अंधविश्वास हावी थे। पूरे माहौल में निराशा व्याप्त थी। नामदेव, चैतन्य, सूरदास, कबीर जैसे संत-महात्मा उभर रहे थे। ऐसे दौर में प्रथम सिख गुरु श्री गुरु  नानक देव जी का प्रादुर्भाव हुआ जिन्होंने अज्ञान और सामाजिक रूढ़ियों के खिलाफ जबर्दस्त सामाजिक जंग छेड़ी जिसके मूल में आध्यात्मिक बदलाव लाने की सोच थी।
गुरुनानक ने दैनिक जीवन में धर्म का पालन अपने दायित्वों के साथ कैसे किया जा सकता है, इसकी राह दिखाई। अड़तीस की उम्र होते-होते वे पूरी तरह से धर्म कार्य को समर्पित हो गए। पूरे भारत के तीथरे समेत अनेक क्षेत्रों का भ्रमण किया। उनके गाए पदों को एकत्र कर पांचवे सिख गुरु  श्री अर्जन ने संकलित किया। इस संकलन को ‘आदि ग्रंथ साहब’ का नाम दिया। इसे हरमंदर साहब, (आज का स्वर्ण मंदिर परिसर, अमृतसर) में स्थापित किया गया। सिख धर्म गुरु ओं की जो परंपरा शुरू हुई  वह दसवें गुरु  श्री गुरु  गोविंद सिंह तक चली जो संभवत: सबसे तेजस्वी, यशस्वी, निर्भीक, विद्वान और अनोखे योद्धा साबित हुए। मुगल शासन औरंगजेब  के राज्य-काल में बड़ा ही क्रूर था। उस दौरान गुरु  गोविंद सिंह जी के शौर्य, बलिदान और सर्जनात्मक ऊर्जा ने भारतीय इतिहास में नया अध्याय लिखा। ‘दसम ग्रंथ’ में उनकी काव्य रचनाएं संकलित हैं। गुरु  गोविंद सिंह ने अपने  बाद ग्रंथ साहब को ही जीवित गुरु  का दरजा दिया। भक्ति और शक्ति, दोनों का संतुलन करते हुए उन्होंने ‘खालसा’ की स्थापना की जो साधु-सैनिक की जुगलबंदी जैसी थी।

अपने समय के सभी धर्मो के श्रेष्ठ विचारों को साथ लेकर गुरु  नानक ने अपनी अनुभूतियों को सबसे साझा किया था। वे एकेरवादी थे। उनका दृढ़ विश्वास था कि अच्छे कर्मो  और सेवा की भावना के साथ जीने से ही परमात्मा मिलते हैं। गृहस्थ जीवन जीते हुए सेवा और सत्संग करना तथा आपसी भाईचारे की भावना के साथ रहना, मनुष्य मात्र में ईश्वर का वास देखना और उस एक ईश्वर का निरंतर स्मरण करते रहना ऐसे विचार हैं, जो उनकी वाणी में बार-बार आते हैं। उनकी सोच बड़ी सीधी और सरल है। आखिर, जो हर जगह व्याप्त है वह हमारे शरीर में भी रहता है, और उसे पाया जा सकता है।
सिख विचार मानता है कि मनुष्य को अपना कर्त्तव्य निभाना चाहिए। गुरु  कहते हैं, ‘सत्य का पालन सबसे बड़ा गुण है, जो सभी पापों को धो देता है’। संतोष और आत्म नियंत्रण की भी बड़ी महत्ता गाई गई है। आदमी अक्सर इंद्रिय-सुख के पीछे भागता रहता है, और उनसे मिलने वाले सुख को हमेशा का बनाए रखना चाहता है। ऐसे में काम, क्रोध, लोभ, मोह और अहंकार आदमी के सबसे बड़े दुश्मन बन जाते हैं। गुरु  कहते हैं कि सिख के लिए सरल साधना की जरूरत है, जिसमें मुख्य रूप से शामिल हैं-बुरे विचार से दूर रहना, अच्छे काम करना, सबकी सेवा करना और सज्जनों का साथ। साथ ही यह भी याद रखने की जरूरत होती है कि श्रम से उपार्जित धन संपदा सिर्फ अपने लिए ही नहीं होती, उसे जरूरतमंदों और गरीबों पर भी खर्च करना चाहिए। सादा जीवन और उच्च विचार का आदर्श गुरु  के जीवन का यथार्थ था। गुरु  ने भय और भ्रमों से दूर धैर्य के साथ बिना किसी भेदभाव के सबके साथ जुड़े रहना, पारिवारिक जीवन की पवित्रता बनाए रखने और शारीरिक परिश्रम की गरिमा पर बड़ा जोर दिया। एक सिख के लिए दुनिया में रहते हुए भी दुनियावी चीजों से खुद को अलग रखना चाहिए। उसके लिए गुरु बानी को स्मरण करते रहना, विवेक से काम लेना नित्य और अनित्य का भेद करना जरूरी होता है। फल की आशा में वह काम करके चुप बैठा नहीं रहता। सदैव सक्रिय रहता है। भिन्न मतों और विश्वासों के प्रति उदार दृष्टि रखता है। गुरु  की कृपा के योग्य बने रहने की कोशिश करता है। 
समाज में बदलाव के साथ सिखजनों में भी बदलाव आया है परंतु सिख विचार आज भी प्रासंगिक हैं। सिख परंपरा में नैतिकता को जीवन का मुख्य आधार माना गया है। विना उत्तम आचरण और सामाजिक नैतिकता के आत्मिक विकास संभव ही नहीं है। नैतिकता आध्यात्मिक जीवन के विकास का मुख्य उपाय है। कोई भी आदमी जन्मजात कमजोर या पापी नहीं होता। वह कुछ दैवी और प्रगतिशील प्रवृत्तियों के साथ जन्म लेता है पर कई बार पाप की प्रवृत्ति इतनी तीव्र हो जाती है कि आदमी रास्ते से विचलित हो जाता है। सच का रास्ता न छोड़ना, पाप से परे रहना, ईमानदार रहना और दूसरों के प्रति न्याय करना प्रगति के लिए आवश्यक हैं। जीवन में उत्कृष्टता पाने के लिए त्याग जरूरी है। इसके विपरीत स्वार्थ और अहंकार हमें पतन की ओर ले जाते हैं। इसीलिए सेवा में प्यार और दान पर बड़ा जोर दिया गया।आज दुनिया में सिख धर्म की व्यापक उपस्थिति है। सहजता, गुरु  और गुरु बानी के प्रति आदर, दूसरों का आदर सत्कार, परिश्रम, ईमानदार जीवन और नि:स्वार्थ सेवा की भावना सामाजिक दृष्टि से आज भी बहुमूल्य हैं।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के

PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के 'पूप' की चाय पीना बड़ी बात नहीं

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह


 

172.31.21.212