Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

05 Feb 2009 12:22:03 PM IST
Last Updated : 30 Nov -0001 12:00:00 AM IST

वायरल फीवर से कैसे बचें

सर्दियों का जाने का समय हो गया है। ठंड़ और और गर्म के मिक्स मौसम ने अपनी दस्तक दे दी है। रात और सुबह चल रही हवाओं में सर्दियां और सूरज की तपिश से गर्मी की आहट पहचानी जा सकती है। जबकि दिन गरम हैं और राम ठंड़ी। मौसम में बदलाव स्वास्थ्य की नजर से बेहद संवेदनशील हैं। जरा सी लापरवाही आपको बीमार कर सकती है। वैसे तो इस मौसम में सबसे आम बीमारी है वायरल फीवर। वायरल फीवर को साधारण बोलचाल में फ्लू, इंफ्लूएंजा, कॉमन कोल्ड या हड्डीतोड़ बुखार के नाम से जाना जाता है। वायरल फीवर आने का कारण है कि अचानक जब हम ठंडे वातावरण के संपर्क में आते हैं तो हमारे अंदर के वायरस क्रियाशील हो जाते हैं। यह वायरस आइसक्रीम, सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन या फ्रिज के ठंडे पानी के सेवन से भी सक्रिय हो जाते हैं तथा शरीर की रोग सहने की क्षमता थोड़े समय के लिए प्रभावित कर देते हैं और हम बीमार हो जाते हैं। जिस व्यfक्त को वायरल फीवर होने वाला होता है उसके सिर और बदन में जोरों का दर्द होता है। सूखी तेज खांसी, जुकाम, गले में खराश, नाक से पानी, छींक आना, भूख कम लगना तथा कमर दर्द जैसे लक्षण दिखाई पड़ते हैं। इस फीवर में शरीर का तापमान 101 से 103 डिग्री या और ज्यादा हो जाता है। वायरल एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक सांस के द्वारा फैलता है। इस फीवर का मरीज जब खांसता या छींकता है तो उसके विषाणु पास वाले व्यक्ति के शरीर में सांस व मुंह के द्वारा प्रवेश कर जाते हैं। एक-दो दिन में वह व्यक्ति भी वायरल बुखार से पीड़ित हो जाता है। यदि समय पर इलाज किया जाए तो यह फीवर सप्ताह भर में ठीक हो जाता है। इस बुखार में पैरासिटामॉल, क्रोसीन या एस्प्रीन की ही तरह की दवाएं दी जाती हैं। यदि बैक्टीरिया का असर है तो कोई एंटी बायोटिक लेना ठीक होगा। इसके अलावा इसमें तुलसी या अदरक की चाय लें। ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थों का सेवन करें। गले की खराश दूर करने के लिये गर्म पानी में शहद मिला कर पिएं। रोगी अधिक लोगों के संपर्क में न आएं। ध्यान रखें कि रोगी को इलाज से अधिक आराम की जरूरत है। अगर आप चाहते हैं कि आपको वायरल फीवर न हो तो सबसे पहला काम कभी खाली पेट घर से बाहर न निकलें। इसके पीछे कारण यह है कि खाली पेट शरीर को कमजोर करता है। बासी खाना, फल-सब्जियां न खायें। मौसम के हिसाब से कपड़े पहनें, मौसमी आहार और फल जरूर खायें। अगर कुछ भी बाहर खा रहे हों तो सफाई का पूरा ध्यान रखें।

Source:PTI, Other Agencies, Staff Reporters
 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 


फ़ोटो गैलरी

 

172.31.21.212