Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

28 Jan 2022 02:12:53 AM IST
Last Updated : 28 Jan 2022 02:17:20 AM IST

जयंती : लाला लाजपत राय और मातृशक्ति

जयंती : लाला लाजपत राय और मातृशक्ति
जयंती : लाला लाजपत राय और मातृशक्ति

हरियाणा लाला लाजपतराय जी की कर्मभूमि रहा है। 28 जनवरी का दिवस लाला लाजपतराय जैसे दूरदृष्टा बहुयामी व्यक्तित्व को नमन करने का व उनके आदश्रे व दृष्टिकोण का अनुकरण करने का अवसर है।

हम प्राय: लाला जी का संस्मरण ‘मेरे शरीर पर पड़ी एक एक लाठी ब्रिटिश सरकार के कफन में कील का काम करेगी’ के उद्घोष से करते हैं, परन्तु लाला जी न केवल एक सच्चे देशभक्त, समाजसेवक, शिक्षाविद्व, लेखक, ओजस्वी वक्ता, सफल वकील अपितु एक समर्पित समाज सुधारक भी थे। समाज के कमजोर वगरे हरिजन, मजदूरों व स्त्रियों के बारे में उन्हें विशेष चिंता थी। उनका मानना था कि जब तक समाज के यह सभी वर्ग सबल और समान नहीं होंगे-राष्ट्र निर्माण का कार्य पूरा नहीं हो सकता। एक सशक्त समाज के लिए स्त्रियों का सशक्तिकरण एक आवश्यक शर्त है।
भारतीय स्त्रियों के प्रति लाला जी के मन में एक विशेष सम्मान, संवेदना व चिंता थी। उनका यह मानना था कि भारतीय समाज में औरतें भारतीय सभ्यता, संस्कृति, आदशरे व मूल्यों कि संरक्षक हैं। वह स्वयं के बारे में लिखते हुए रेखांकित करते हैं कि मेरी माता जी गुलाब देवी हमारे परिवार की एक आदर्श महिला थीं। मेरे सफल जीवन का सारा श्रेय मेरी माता जी द्वारा दिए गए प्रशिक्षण व संस्कारों को जाता है। एक अन्य जगह वह लिखते हैं कि मेरे पिता जी जो एक मौलवी अध्यापक के अत्याधिक प्रभाव में थे-मेरी माता जी कि ढृढ़ इच्छाशक्ति व डर के कारण ही मुसलमान नहीं बन सके। परन्तु 20वीं शताब्दी के शुरू तक भारतीय समाज में स्त्रियों की दशा से विशेष रूप से चिंतित थे। बाल विवाह का प्रचलन था। 1891 के विवाह संबंधी कानून द्वारा लड़कियों की विवाह के लिए न्यूनतम आयु 10 वर्ष से बढ़ा कर 12 वर्ष की गई थी। यह छोटी बच्चियां जो अल्प आयु में ही गर्भवती हो जाती थीं के लिए घोर अत्याचार था। कमजोर व अविकसित होने के कारण माताओं और बच्चों की मृत्युदर भी अत्यधिक थी।

1920 में प्रत्येक पीढ़ी ने 32 लाख से अधिक माताओं की प्रसव के दौरान मृत्यु देखी है। पुरु षों का पुनर्विवाह आम बात थी परन्तु विधवा स्त्रियों की शादी सामाजिक तौर पर प्रतिबंधित थी और वे नारकीय जीवन भोगने को विवश थीं। इसके साथ ही देवदासी, सती, व बहुपत्नी प्रथा प्रचलित थी-जिसका समाज में बहुत कम प्रतिशोध था। महिलाओं में साक्षरता दर 1911 तक 10 प्रति हजार थी। इस प्रकार हिंदू समाज का लगभग आधा भाग (महिलाएं) शारीरिक, सामाजिक व आर्थिक दृष्टि से अत्यंत कमजोर व हीन अवस्था में या मैं कहूं तो लकवाग्रस्त था। लाला जी समाज को एक आंगिक स्वरूप मैं देखते थे जिसमें शरीर के प्रत्येक अंग का स्वस्थ होना अति आवश्यक है, अन्यथा यह रु ग्ण या अपंग व्यक्ति के समान है। अत: वह औरतों के अधिकारों व सम्मान के प्रति पूर्ण सजग थे तथा उन्हें उचित स्थान दिलाने के लिए प्रयत्नशील भी। लाला जी के अनुसार ‘आज सबसे अधिक आवश्यकता हमें अपनी माताओं का सर्वोत्तम ध्यान रखने की है। एक हिंदू के लिए औरत एक लक्ष्मी है, सरस्वती एवं शक्ति का सामूहिक प्रत्यक्ष रूप है। वह सभी प्रकार की शक्ति, सुंदरता और आशाओं का आधार है।’ माताएं समाज की निर्माता हैं, यदि उनका स्वयं का स्वास्थ्य ठीक नहीं होगा, यदि वे बलिष्ठ नहीं होंगी तो समाज से हम किसी प्रकार की बेहतरी की उम्मीद नहीं कर सकते। स्त्रियों की दशा सुधारने के लिए लाला जी ने सर्वप्रथम स्त्री शिक्षा पर बल दिया। अपनी पुस्तक  में न सिर्फ  उन्होंने स्त्री शिक्षा बल्कि सह-शिक्षा का भी भरपूर समर्थन किया। उनकी यह मांग थी कि प्रत्येक जिले में लड़कियों के लिए कम-से-कम एक राष्ट्रीय विद्यापीठ होना चाहिए, जिसमें उनके लिए खेलकूद के मैदान के साथ व्यायामशाला भी अवश्य हों ताकि हमारी लड़कियां शिक्षित, स्वस्थ व सुडौल हों। सन 1926 में सर गंगाराम के सहयोग से उन्होंने लाहौर में विधवाओं के लिए भी पाठशाला खुलवाई। जब उनकी अपनी बेटी पार्वती देवी के पति का 1907 में स्वर्गवास हो गया तो उन्होंने उसे भी आत्मनिर्भर और राजनीतिक-सामाजिक क्षेत्र में सक्रिय होने की प्रेरणा दी।
वह स्त्रियों के सशक्तीकरण के पक्षधर थे। उनके अनुसार भारत में उनकी दयनीय स्थिति का अन्य कारण उनकी आर्थिक निर्भरता थी। इसके लिए शिक्षा के साथ-साथ वह उनकी सार्वजनिक जीवन में भागीदारी के पक्षधर थे। वह पुरु ष व स्त्रियों के समान अधिकारों व अवसर के कट्टर समर्थक थे। उनके अनुसार यह दोनों आपस में सहयोगी होने चाहिए न कि उनमें निर्भरता, दासता या तुच्छ होने की भावना हो। उन्होंने स्त्रियों को संबोधित करते हुए उन्हे हीन भावना का त्याग करते हुए प्रगतिशील, तर्कशील होकर समाज के सभी जीवन में अग्रसर होने का आहवान किया। समान योग्यताओं वाली किसी भी स्त्री के लिए वह सभी अवसर एवं अधिकार प्राप्त हों जो किसी भी पुरु ष के लिए उपलब्ध हैं। लाला जी एक व्यावहारिक व्यक्ति थी। वह केवल कथनी नहीं अपितु करनी में अधिक विश्वास रखते थे। हरियाणा आज महिलाओं की सर्वपक्षीय विकास, सशक्तीकरण के परिणाम स्वरूप निश्चित रूप से लाला जी के सपनों को साकार करने की दिशा में अग्रसर है। यही उस महान आत्मा के प्रति सच्ची श्रद्धांजली है। नमन।
(कुलपति डॉ. बी.आर. अंबेडकर राष्ट्रीय विधि विवि, सोनीपत)


विनय कपूर मेहरा
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email


फ़ोटो गैलरी
कान्स 2022: दीपिका का रेड कार्पेट लुक

कान्स 2022: दीपिका का रेड कार्पेट लुक

केदारनाथ: बाबा केदार के खुले कपाट, उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब

केदारनाथ: बाबा केदार के खुले कपाट, उमड़ा श्रद्धालुओं का सैलाब

युद्ध में खंडहर बना यूक्रेन

युद्ध में खंडहर बना यूक्रेन

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 29 पुरावशेष लौटाए, पीएम मोदी ने किया निरीक्षण, देखें तस्वीरें

ऑस्ट्रेलिया ने भारत को 29 पुरावशेष लौटाए, पीएम मोदी ने किया निरीक्षण, देखें तस्वीरें

रूस यूक्रेन युद्ध में तबाही

रूस यूक्रेन युद्ध में तबाही

यूरोप एक बार फिर युद्ध की दहलीज पर

यूरोप एक बार फिर युद्ध की दहलीज पर

नहीं रहीं भारत की स्वर कोकिला

नहीं रहीं भारत की स्वर कोकिला

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

प्रयागराज में पीएम मोदी

प्रयागराज में पीएम मोदी

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

सीएम योगी संग आधी रात

सीएम योगी संग आधी रात 'काशी दर्शन' करने निकले PM मोदी

इतिहास के नाम काशीधाम

इतिहास के नाम काशीधाम

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की 'लव स्टोरी' का ट्रेलर जारी

भारत जीता ओवल टेस्ट

भारत जीता ओवल टेस्ट

दिल्ली हुई पानी-पानी

दिल्ली हुई पानी-पानी

स्कूल चलें हम

स्कूल चलें हम

शहनाज का बोल्ड अंदाज

शहनाज का बोल्ड अंदाज

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी


 

172.31.21.212