Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

05 Aug 2020 12:44:41 AM IST
Last Updated : 05 Aug 2020 12:46:44 AM IST

विश्लेषण : चुनौतियां हैं बरकरार

जकिया सोमन
विश्लेषण : चुनौतियां हैं बरकरार
विश्लेषण : चुनौतियां हैं बरकरार

पिछले साल 1 अगस्त को देश में तीन तलाक के विरुद्ध कानून पारित किया गया था। भारतीय जनता पार्टी ने मुस्लिम महिला (वैवाहिक अधिकारों में संरक्षण), 2019 कानून की वार्षिक तिथि को मुस्लिम महिला अधिकार दिवस के रूप मे मनाया।

सोशल मीडिया पर थैंक्समोदीभाईजान प्रचलित हुआ। इसमें कोई संदेह नहीं कि हमारे देश में जुबानी एक-तरफा तलाक या तीन तलाक के खिलाफ कानून की सख्त जरूरत थी। सुप्रीम कोर्ट के 2017 के फैसले के बावजूद तीन तलाक की कई घटनाएं सामने या रही थी। ऐसे में मुस्लिम महिला को संरक्षण मिलना लाजमी ही। साथ ही यह भी कहना होगा की तीन तलाक के अलावा भी मुस्लिम महिला कई अन्य समस्याओं से जूझ रही हैं।
सरकार का रुख गरीबी, रोजगार, शिक्षा, सामाजिक न्याय एवं समान नागरिक अधिकारों के प्रति भी उतना ही जरूरी है जितना कि तीन तलाक पर। व्यापक मुस्लिम समाज के साथ भेदभाव और कटुता के चलते मुस्लिम महिला के साथ न्याय नहीं हो सकता। वैसे किसी भी समाज में महिला के अधिकारों की बात उठाना आसान नहीं होता। मानव प्रजाति के इतिहास में पुरुष प्राधान्य एवं औरत के शोषण का सिलसिला सदियों से चला आ रहा है। दुनिया भर के देशों में पितृसत्ता का वर्चस्व आधुनिक युग में भी बरकरार है। औरतों के हक में नीति नियम एवं कानून बनाना हमेशा मुश्किल होता है। विकसित देशों में भी औरतों को वोट देने का अधिकार या संपत्ति का अधिकार मिलने में बहुत चुनौतियों का सामना करना पड़ा है। फिर हमारे देश में तो पितृसत्तात्मक मानसिकता के साथ-साथ हर चीज राजनीति से प्रेरित होती है। औरतों के हक में कानून बनाने के रास्ते में कई राजनीतिक अवरोध खड़े कर दिए जाते हैं।

1955 में भारतीय संसद को हिन्दू मैरिज कानून बनाते समय काफी विरोध का सामना करना पड़ा था। कुछ कट्टर सोच वाले धार्मिंक गुरु  और राजनीतिक संगठनों को हिन्दू विवाह मामलों में कानूनी सुधार मंजूर नहीं था। वर्तमान समय मे भाजपा, कांग्रेस और अन्य पक्षों के राजनीतिक हित से बढ़ कर स्त्री अधिकार और स्त्री स्वातंत्रय की बात करना मुश्किल है। फिर हमारे देश में मुस्लिम औरतों के अधिकारों से जुड़ी और भी पेचीदगियां हैं। देश का संविधान सभी को समान अधिकार और धर्म स्वांतंत्र का अधिकार देता हैं, लेकिन अल्पसंख्यक समुदाय और खासकर मुस्लिम समुदाय शरीयत और पारिवारिक मामलों को लेकर हमेशा संवेदनशील रहा है, जिसके चलते मुस्लिम पारिवारिक कानून में सुधार नहीं हो पाया। 1986 का शाहबानो प्रकरण सभी को याद है। भारत में सेकुलरिज्म या धर्मनिरपेक्षता के नाम पर हमेशा से राजनीति होती रही है। कांग्रेस के सेकुलरिज्म की कीमत मुस्लिम समाज और खासकर मुस्लिम औरतें चुकाती रही हैं। कांग्रेस ने हमेशा पर्सनल लॉ बोर्ड जैसे पुरु षवादी कट्टर संगठनों का साथ दिया है। तीन तलाक या एक से ज्यादा शादियां या निकाह हलाला जैसी कुरीतियों पर कभी कानूनी रोक नहीं लग पाई, लेकिन शिक्षा और जानकारी के बढ़ने से 2016 में कई मुस्लिम औरतों ने वो कमाल कर दिखाया जो 1986 में नामुमकिन था।
औरतों ने अपने कुरानी अधिकार और सांविधानिक अधिकारों की लोकतांत्रिक लड़ाई छेड़ दी। सुप्रीम कोर्ट ने जुबानी एक-तरफा तलाक या तीन तलाक के खिलाफ औरतों के हक में फैसला दिया। केंद्र की भाजपा सरकार ने इस फैसले को सही अर्थ में लागू करने के लिए पिछले साल तीन तलाक कानून पारित किया। सरकार के इस कदम का मुस्लिम समाज ने खुलकर विरोध किया। गौरतलब है कि 2014 मे भाजपा के सत्ता में आने के बाद कई घटनाएं घटी, जिससे मुस्लिम नागरिकों को असुरक्षा महसूस होने लगी। गौरक्षा के नाम पर हिंसा, लव-जिहाद के नाम पर पुलिस दमन, बार-बार पाकिस्तान जाने को कहा जाना,सीएए जैसे कानून, एनआरसी-एनपीआर इत्यादि ने मुस्लिम समाज मे काफी डर पैदा किया है। सरकार की नीतियों और नियत पर काफी सवाल खड़े हुए हैं। इन नीतियों के विरोध में जमकर प्रदर्शन हुए जहां औरतों ने अगवाई की।
देशभर में मुस्लिम औरतों ने छात्रों, युवा और कर्मशीलों के साथ कंधे-से-कंधा मिलाकर न्याय और समानता के लिए कई प्रदर्शन किए। तीन तलाक भी मानव अधिकार और सामाजिक न्याय से जुड़ा प्रश्न है। उसे अलग-थलग देखना मजाक होगा। जब नागरिकता पर प्रश्नचिह्न लग जाए तब औरत के दुख और तीन तलाक के बारे में सोचने की फुरसत किसी को भी नहीं हो सकती। सरकार को भी समझना होगा कि मुस्लिम औरत व्यापक मुस्लिम समाज का हिस्सा है। उसे अपने समाज से काटकर अपने अधिकार नहीं दिलवाए जा सकते। और फिर सरकार का सांविधानिक दायित्व सभी नागरिकों के लिए है, फिर वे मुस्लिम हो या हिन्दू या ईसाई।
तीन तलाक कानून में कई प्रावधान हैं, जिनका जिक्र जरूरी है। पति को तीन साल की सजा हो सकती है। इस कानून के विरोध में कुछ लोगों ने कहा कि यह कानून मुस्लिम मदरे से जेल भरने की साजिश है, लेकिन इन सबके बावजूद यह कानून असरदार साबित हुआ है। तीन तलाक का प्रमाण कम हुआ है। जो काम पुरुषों ने अपने आप नहीं करना चाहा, वो काम कानून  और सजा के डर ने कर दिखाया। अच्छा होता अगर मुस्लिम उलेमा खुद ही स्वेच्छा से सुधार कर लेते। इस तरह औरतों को अपने कुरानी हक मिल सकते थे। इससे पहले देश में दहेज विरोध कानून एवं घरेलू हिंसा कानून भी बड़े असरदार रहे हैं। कानूनी संरक्षण औरतों का संविधानिक अधिकार है।
प्रधानमंत्री मोदी ने 2019 में प्रतिज्ञा लेते व्यक्त सबका विश्वास हासिल करने की बात कही थी। इस बात को हकीकत में तब्दील करने के लिए प्रयास होना जरूरी है। तीन तलाक कानून और साधारण जानकारी की बढ़ोतरी से देश में जुबानी एक-तरफा तलाक पर रोक जरूर लगी है। कैबिनेट ने तीन तलाक कानून पर जो पहल की; उसी दृढ़ता से उसे मुस्लिम नागरिकों की लोकतंत्र में भागीदारी के लिए भी पहल करनी होगी।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के

PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के 'पूप' की चाय पीना बड़ी बात नहीं

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह


 

172.31.21.212