Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

10 Apr 2020 02:22:07 AM IST
Last Updated : 10 Apr 2020 02:25:05 AM IST

सामयिक : इस्लाम, कोरोना और राष्ट्र हित

प्रो. सतीश कुमार
सामयिक : इस्लाम, कोरोना और राष्ट्र हित
सामयिक : इस्लाम, कोरोना और राष्ट्र हित

दुनिया के सामने धर्म को लेकर बवाल मचा हुआ है। केवल इस्लाम ही नहीं, ईसाई और सिख पंथ भी इसमें शामिल हैं। लेकिन जिस तरीके से इस्लाम के तबकों में कोरोना को लेकर बवाल मचा है, वह अत्यंत ही गंभीर है।

इसने राष्ट्र हित और मानवता को संकट में डाल दिया है। तब्लीगी जम्मात ने कोरोना का कारवां मलयेशिया से शुरू करते हुए पाकिस्तान और भारत को पूरी तरह से चपेट में ले लिया है।
दरअसल, धर्म कूपमंडूकता लाखों जीवन के लिए मुसीबत बन गई।  जब वुहान में कोरोना के फैलने की बात सिद्ध हुई तो दुनिया के मुल्लाओं ने यह कहकर इस बात को हल्का कर दिया कि यह चीन के पाप की निशानी है। चीन ने युगुर मुसलमानों के साथ जो ज्यादतियां की हैं, उन्हीं का यह प्रतिफल है। जब कोरोना ने ईरान और मलयेशिया जैसे देशों में दहशत फैलानी शुरू की तो इस्लामिक गुरु ओं ने इस पर यह कहकर प्रश्न चिह्न खड़ा कर दिया कि मस्जिद में लोगों का उपचार होता है न कि बीमारियों का विस्तार। इसलिए बड़े स्तर पर लोगों की भीड़ बनी रही, चबूतरे को चूमने का सिलसिला भी बरकरार रहा। भारत में जब तब्लीगी जमात का खुलासा हुआ तो हड़कंप मच गया। इसके पहले तक तब्लीगी जमात के मुखिया को कोई जानता तक नहीं था, लोगों ने तो तब जाना जब उनके वीडियो और ऑडियो टेप वायरल हुए जिनमें वह कह रहे हैं कि अगर मस्जिद में मृत्यु भी होती है तो इससे अच्छा और कोई स्थान नहीं हो सकता किसी भी मुस्लिम को मरने के लिए।

दर्जनों देशों से इस धार्मिंक सम्मलेन में भाग लेने के लिए लोग भारत आए थे। तकरीबन भारत के हर राज्य से भी शिरकत इसमें हुई थी। इनमें सैकड़ों विदेशी भी थे जो पहले मलयेशिया से होते हुए पाकिस्तान गए थे। फिर भारत आए। उनमें से 700 लोग कोरोना के मरीज थे। इस सम्मलेन ने भारत को पूरी तरह से अपनी चपेट में ले लिया। जब पुलिस द्वारा सख्ती की गई तो धर्म के नाम पर उलटी-सीधी बातें और अफवाह फैलाई जाने लगीं कि यह समुदाय विशेष को अपमानित करने की साजिश है। कई जगहों पर तब्लीगी जमात से निकले लोग वायरस को और फैलाने की कोशिश कर रहे हैं जैसे कि यह बीमारी किसी समुदाय विशेष को ही प्रभवित करेगी। राष्ट्र हित को तिलांजलि दी गई जब तब्लीगी समुदाय का यह मानना है कि इसका प्रयास धर्म का शुद्धिकरण है तो फिर यह नकारात्मक सोच क्यों? यह भी कि पैगम्बर साहब ने महामारी की हालत की व्याख्या कुरान में की है जो आज की क्वारांटाइन व्यवस्था से मिलती-जुलती है। लेकिन जब सऊदी अरबिया मक्का मदीना को अनिश्चित काल के लिए बंद कर सकते हैं, तो भारत में फिर ऐसी सोच क्यों पैदा हो रही है? इंडोनेशिया सहित दर्जनों इस्लामिक देशों ने मस्जिदों में ताला लगा दिया है।
यहां मध्य मार्च में देश-विदेश से आए हजारों लोगों के जरिए देश के तमाम हिस्सों में कोरोना का संक्रमण फैल गया। छब्बीस मार्च को भी मरकज में धार्मिंक कार्यक्रम हुआ जिसमें दो हजार लोगों ने हिस्सा लिया जबकि उस समय पूरे देश में लॉक-डाउन लागू था। मरकज निजामुद्दीन के 24 जमाती कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इनमें कुछ की मौत हो चुकी है। तब्लीगी जमात के निजामुद्दीन इलाके में हुए सम्मेलन ने जिस तरह से देश के कई हिस्सों में कोविड-19 कोरोना वायरस को फैलाने का काम किया है, उसी तरह से दूसरे कई देशों में इस जमात के दूसरे सम्मेलनों ने इस महामारी को फैलाया है। पड़ोसी देश पाकिस्तान के लाहौर में दो हफ्ते पहले इस जमात के समारोह में ढाई लाख लोग शामिल हुए थे। ना सिर्फ  पाकिस्तान, बल्कि कुवैत, फिलीपींस, ट्यूनीशिया तक में कोविड-19 महामारी को फैलाया गया है। पाकिस्तान के लाहौर में 11 से 15 मार्च तक तब्लीगी जमात का बहुत बड़ा जलसा हुआ था। इसमें तकरीबन 2.5 लाख लोगों ने हिस्सा लिया था। पाकिस्तान की तरह ही मलयेशिया में भी इस जमात का एक सम्मेलन हुआ था जिसमें 16 हजार लोगों ने हिस्सा लिया था। बाद में मलयेशिया में 620 कोरोना के मरीज ऐसे मिले जिन्होंने इस सम्मेलन में हिस्सा लिया था। इस सम्मेलन में हिस्सा लेने वालों ने ब्रुनेई, थाईलैंड, इंडोनेशिया समेत छह दक्षिणी-पूर्वी देशों में कोरोना वायरस का प्रसार किया है। यही वजह है कि तब्लीगी जमात को अभी समूचे एशिया में कोरोना को फैलाने वाली सबसे बड़ी वजह बताया जाने लगा है।
जब पूरा राष्ट्र एक वैश्विक महामारी के अत्यंत ही कठिन दौर से गुजर रहा है, वैसे हालत में मुस्लिम समुदाय के चंद लोगों की बेवकूफी ने देश को खतरे में डाल दिया है। यहां पर गंभीर प्रश्न यह है कि मुस्लिम समुदाय क्यों देश की समस्या को समझने के लिए मानसिक रूप से तैयार नहीं है? उनकी मंशा क्या है? क्या यह महामारी भी राजनीति से प्रेरित है? इन प्रश्नों का हल जानना जरूरी है। तब्लीगी की स्थापना 1927 में मेवात में हुई थी जिसके संस्थापक इलियास कांधलवी थे। इसके वर्तमान मुखिया मौलाना साद उनके पौत्र हैं। ये देवबंदी स्कूल के अनुयायी माने जाते हैं। कहने के लिए यह एक गैर-राजनीतिक संगठन है, जो इस्लामिक प्रचार और धर्म सुधार के प्रयासों से जुड़ा हुआ है, लेकिन इसकी जड़ें इस्लामिक आतंकी संगठनों से जुड़ी हुई हैं। पाकिस्तान के सुरक्षा विशेषज्ञ डॉ. फरहान जाहिद ने अपने शोध आलेख में इस बात की चर्चा की है कि यह संगठन आतंकी संगठनों की जननी है। इसे गेटवे ऑफ टेरर कहा जा सकता है। पाकिस्तान के तकरीबन सभी आतंकी संगठनों में इसकी शिरकत है। बांग्लादेश में भी यह संगठन सक्रिय है। श्रीलंका में हुए आतंकी हमले भी इस संगठन की मिलीभगत थी।
अमेरकी जांच ब्यूरो ने 2002 में इस बात का खुलासा किया था कि तब्लीगी जमात की गतिविधियां आतंकवाद से जुड़ी हैं। तकरीबन पाकिस्तान के सभी बड़े-छोटे आतंकी संगठन की मिलीभगत जमात से रही है। क्या आज यह जरूरी नहीं है कि भारत के मौलाना खुलकर इस बात का विरोध करें और राष्ट्र हित में समुदाय को कायदे-कानून मानने के लिए समझाएं। भारत की सार्थक कूटनीति ने दक्षिण एशिया के देशों में इस महामारी से लड़ने के लिए सामूहिक जज्बा पैदा किया, दुनिया के सामने नई अलख जगाई। इस मुहिम में किसी समुदाय विशेष का अहित नहीं छिपा हुआ है, बल्कि राष्ट्र हित गुंथा हुआ है। मुस्लिम समुदाय के गुरु ओं को यह बात सामने रखनी होगी, नहीं तो देश के हालात और बिगड़ सकते हैं।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट


 

172.31.21.212