Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

26 Jan 2020 04:29:20 AM IST
Last Updated : 26 Jan 2020 04:31:37 AM IST

बतंगड़ बेतुक : किसके हक की लड़ाई है ये

विभांशु दिव्याल
बतंगड़ बेतुक : किसके हक की लड़ाई है ये
बतंगड़ बेतुक : किसके हक की लड़ाई है ये

आंदोलन से शंकाग्रस्त हुआ झल्लन इधर-उधर ताक रहा था, पहले आंदोलनकारी ने उसकी शंका का समाधान नहीं किया था सो अब वह किसी दूसरे आंदोलनकारी को तलाश रहा था।

एक आंदोलनकारी ने छोटा-सा मजमा लगा रखा था और अपने जुझारू तेवरों में मुसलमानों के साथ हुए संवैधानिक अन्याय को समझा रहा था। समझा रहा था कि कैसे बाहर से आने वाले हिंदू, सिख, बौद्ध, ईसाई, पारसी सभी को नागरिकता का अधिकार दिया जा रहा है मगर मुसलमानों को इससे वंचित कर भारतीय मुसलमानों के साथ भेदभाव किया जा रहा है। झल्लन इस आंदोलनकारी के निकट सरक आया और धीरे से अपना सवाल दोहराया, ‘भाईजान, आप एक ही लकीर क्यों पीट रहे हैं। जब नागरिकता कानून से भारतीय मुसलमानों का कोई संबंध ही नहीं है तो आप इसमें उन्हें क्यों घसीट रहे हैं?’ आंदोलनकारी बोला,‘हम किसी को नहीं घसीट रहे, हम तो सिर्फ यह कह रहे हैं कि जब सबको नागरिकता का हक दिया जा रहा है तो मुसलमानों से क्यों लिया जा रहा है? जब संविधान ने सबको बराबरी का हक दिया है तो संविधान का उल्लंघन क्यों किया जा रहा है?’

झल्लन बोला, ‘मगर भाईजान, सरकार कहती है कि हिंदू, सिख, बौद्ध वहां से जान बचाकर शणार्थी बनकर आये हैं। इसलिए उन्हें नागरिकता दी जा रही है, किसी की नागरिकता ली नहीं जा रही है।’ आंदोलनकारी बोला,‘यही तो हम कह रहे हैं कि जो मुसलमान यहां आये हैं उनके साथ भेदभाव मत कीजिए, उन्हें भी नागरिकता दीजिए।’ झल्लन बोला,‘लेकिन भाईजान, जो मुसलमान आये हैं वे न तो जान बचाकर आये हैं, न प्रताड़ित होकर आये हैं, वे तो यहां खाने-कमाने या अपना ठिकाना बनाने जबरन चले आये हैं। इनमें और उनमें थोड़ा फर्क तो कीजिए, जिन्हें जुल्म का शिकार होकर वहां से भागना पड़ा है, उन्हें थोड़ी तो हमदर्दी दीजिए।’ आंदोलनकारी बोला,‘देखो मियां, ‘इस मुल्क में पहले से ही गरीबों, मजलूमों, बेरोजगारों की तादात करोड़ों में है फिर औरों को क्यों बुला रहे हो, क्यों उन्हें नागरिकता दिलवा रहे हो?’ झल्लन बोला, ‘पाकिस्तान, अफगास्तिान, बांग्लादेश से जिन्हें भागने को मजबूर किया गया है वे और कहां जाएंगे, यहीं तो आएंगे। यह तो इंसानियत का तकाजा है कि उन्हें पनाह दी जाये, इज्जत की जिंदगी अता की जाये।’ आंदोलनकारी बोला, ‘अगर उन्हें पनाह दे रहे हैं तो बाहर से आये मुसलमानों को भी पनाह दीजिए, भेदभाव मत कीजिए।’
झल्लन ने कहा, ‘भाईजान, आप दो तरह की बात कर रहे हैं। एक तरफ आप कह रहे हैं कि यहां मजलूमों की संख्या पहले से ही बहुत है और मजलूमों को यहां लाने की जरूरत नहीं है और दूसरी तरफ कह रहे हैं कि मुसलमानों को भी नागरिकता दीजिए, मुसलमानों के साथ भेदभाव करना ठीक नहीं है।’ आंदोलनकारी बोला,़‘ठीक समझे मियां,हम यही कह रहे हैं, बुलाना है तो सबको बुलाइए नहीं तो किसी को मत बुलाइए।’ झल्लन बोला, ‘यानी मुसलमानों को शामिल कर लिया जाएगा तो आपको यहां मजलूमों की भीड़ बढ़ने पर कोई एतराज नहीं होगा। तब आपको यह चिंता नहीं होगी कि इस बढ़ी हुई भीड़ के साथ भारत का क्या होगा?’
आंदोलनकारी ने झल्लन को गुस्से से देखा,‘तुम चाहे जो समझो मगर हमारा संविधान हिंदू-मुसलमान का भेदभाव नहीं करता। यही हम तुमको बता रहे हैं, मुसलमानों के साथ गलत हो रहा है। यही हम दुनिया को समझा रहे हैं।’ झल्लन ने कहा, ‘तो आप यह कहना चाहते हैं कि इस्लामी मुल्कों से जो मुसलमान आये हैं वे भी हिंदू-सिखों की तरह जुल्मों-सितम का शिकार होकर आये हैं। लेकिन ऐसी बात न तो आपने कभी बताई, न वहां से आये किसी मुसलमान ने बताई, न ऐसी कोई खबर किसी अखबार में छपी और न कभी किसी चैनल ने दिखाई, जबकि गैर-मुसलमानों पर पड़ोसी मुल्कों में हुए जुल्मों की कहानियां लगातार सामने आती रही हैं, कुछ सताये हुए लोगों की जुबानी आती रही हैं तो कुछ मीडिया की जुबानी आती रही हैं और इंसानियत के हर पैरोकार को सताती रही हैं। भारतीय होने के नाते क्या इनके प्रति आपकी कोई जिम्मेदारी नहीं है?’ आंदोलनकारी बोला,‘हमारी जिम्मेदारी क्या है यह हम बखूबी समझते हैं आप हमें मत समझाइए, जो कुछ समझाना है अपनी सरकार को जाकर समझाइए।’

झल्लन बोला, ‘भाईजान, सरकार को क्या समझाना, सरकार बार-बार समझा रही है कि भारतीय मुसलमानों का इस कानून से कोई लेना-देना नहीं है और सरकार की यह बात हमारी समझ में आ रही है, लेकिन आप उस हक की लड़ाई लड़ रहे हैं जो हक आपसे कभी छिना ही नहीं, यह बात हमारे सर से ऊपर  जा रही है।’ आंदोलनकारी बोला,‘यह कानून मुसलमानों को नागरिकता का हक नहीं दे रहा, यह संविधान का उल्लंघन है, इसी के खिलाफ हमारी जंग है, अगर तुम नहीं समझ पा रहे हो तो तुम्हारा नजरिया तंग है।’ झल्लन बोला, ‘तो आप ये धरना-प्रदर्शन अपने लिए नहीं बाहरी मुसलमानों के लिए कर रहे हैं और जो लड़ाई लड़ रहे हैं, अपने हक के लिए नहीं बल्कि पाकिस्तान-बांग्लादेश से आये मुसलमानों के हक के लिए लड़ रहे हैं?’ आंदोलनकारी ने झल्लन को गुस्से में देखा तो झल्लन झट से कट लिया और पट से अगले आंदोलनकारी की तरफ बढ़ लिया।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के

PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के 'पूप' की चाय पीना बड़ी बात नहीं

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह


 

172.31.21.212