Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

23 Jan 2020 12:35:06 AM IST
Last Updated : 23 Jan 2020 12:37:16 AM IST

विश्लेषण : बैंक कर्ज में कमी चिंताजनक

प्रभात पटनायक
विश्लेषण : बैंक कर्ज में कमी चिंताजनक
विश्लेषण : बैंक कर्ज में कमी चिंताजनक

नोटबंदी में 2016 के नवम्बर में जब 500 और 1000 रुपये के नोट बंद किए गए थे, उससे अचानक बड़ी भारी मात्रा में नकदी बैंकों की तिजोरियों में आ गई थी।

लेकिन जनता को मजबूरी में ही सही, जो यह नकदी जमा करानी पड़ी थी, उस पर बैंकों को तो ब्याज देना पड़ रहा था। स्वाभाविक रूप से वे इस नकदी का इस्तेमाल इस तरह से करने की कोशिश कर रहे थे कि इससे उनकी कुछ कमाई हो जाए वरना यह नकदी बैंकों की तिजोरियों में ही पड़ी रहती तो उससे तो बैंकों की लार्भाकता में छेद ही हुआ होता। बहरहाल, यह बहुत ही ज्ञानवर्धक है कि बैंकों ने अचानक अपने हाथों में आ गई अतिरिक्त नकदी का इस्तेमाल किस तरह से किया।
भारत सरकार के पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार अरविंद सुब्रमण्यम ने हाल में विचार पेश किया था कि बैंकों ने इस नकदी का इस्तेमाल, रीयल एस्टेट तथा अन्य क्षेत्रों को नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों के जरिए ऋण देने के लिए इस्तेमाल किया था। इससे हमारी अर्थव्यवस्था में उछाल आया था। अब जब यह उछाल बैठ गया है, इससे अर्थव्यवस्था में वह गिरावट तो आई ही है, जो हम सब देख रहे हैं लेकिन इसके साथ डुबाऊ ऋणों की गंभीर समस्या भी आई है, जिसके शकिंगे में आज बैंकिंग क्षेत्र खास तौर पर सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक हैं। बहरहाल, इस विचार की पुष्टि करने वाले शायद ही कोई साक्ष्य नजर आते हैं।

बैंकों में बड़े पैमाने पर जमा हुई नकदी का सहारा लेकर वाकई बैंकों द्वारा दिए गए ऋणों को बढ़ाया गया होता, भले ही ये ऋण नॉन बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों के जरिए दिए गए होते तथा रीयल एस्टेट जैसे क्षेत्रों को ही दिए गए होते, तब भी अगर यह सब एक ठीकठाक लंबे अरसे में उल्लेखनीय परिघटना के रूप में हो रहा होता, उससे जनता के मुद्रा-जमा अनुपात में ऐसी गिरावट तो होती ही होती यह गिरावट भी झट से काफूर हो जाने वाली नहीं होती। इसलिए बंदीशुदा नोटों के बड़ी तादाद में जमा होने के चलते, अपने ऋण वितरण में बढ़ोतरी करने के जरिए आर्थिक उछाल लाने की स्थिति बैंक सिर्फ उसी सूरत में पैदा कर सकते थे, जब जनता बंद हुए नोटों को नये नोटों से बदलने के बजाए टिकाऊ आधार पर इस तरह जमा कराया अपना पैसा बैंकों में जमा रखती यानी मुद्रा के रूप में अपना धन रखने के बजाए उसे बैंक जमा-राशियों के रूप में रखने के लिए टिकाऊ तरीके से तैयार होते। दूसरे शब्दों में बैंकों के हाथों में ज्यादा नकदी आने से अर्थव्यवस्था में उछाल तो उसी सूरत में आ सकता था, जब जनता के मुद्रा-जमा अनुपात में टिकाऊ तौर पर बढ़ोतरी हुई होती। लेकिन ऐसी कोई टिकाऊ बढ़ोतरी तो हुई ही नहीं। लोगों ने बंद किए गए नोटों का 99 फीसद, बैंकों में जमा कराने के जरिए, सरकार की इस पूर्व-धारणा को तो पूरी तरह से झुठलाया ही कि नोटबंदी से ‘काला धन’ नष्ट हो जाएगा, इसके साथ ही उन्होंने अपना धन नये नोटों के रूप में रखना ही ज्यादा पसंद किया न कि बैंक जमाओं के रूप में। अर्थव्यवस्था का जैसे-जैसे पुनमरुद्राकरण हुआ, वैसे-वैसे लोगों के हाथों में मुद्रा बढ़ती गई। वास्तव में, नोटबंदी के एक साल के अंदर-अंदर जनता का मुद्रा-जमा अनुपात बढ़कर कमोबेश नोटबंदी से पहले की ऊंचाई तक पहुंच चुका था। इसलिए नोटबंदी के बाद के घटनाक्रम का उक्त आख्यान निराधार ही नजर आता है कि नोटबंदी के चलते, एनबीएफसी के जरिए ही सही, रीयल एस्टेट जैसे क्षेत्रों के लिए बैंक ऋणों का परिमाण बढ़ गया था और इसके चलते इन क्षेत्रों में उछाल आया था।
सचाई यह है कि उस दौर में, जब बैंकों के पास नकदी के पहाड़ लगे हुए थे, उन्होंने अपनी इस नकदी को या तो ‘रिवर्स रेपो ऑपरेशन’ के जरिए रिजर्व बैंक के पास जमा करा दिया था या फिर इसके लिए खास तौर पर गढ़े गए सरकारी बांडों को खरीदने में इस नकदी का निवेश किया था। इस तरह से बैंकों को इस नकदी पर ब्याज तो मिल रहा था, लेकिन इस तरह हासिल हुई नकदी का सरकार खर्च के लिए इस्तेमाल कर ही नहीं रही थी क्योंकि उसके ऐसा करने से राजकोषीय घाटा उस सीमा से ऊपर निकल गया होता, जिसका पालन किए जाने की अंतरराष्ट्रीय वित्तीय पूंजी सरकार से मांग करती है। सचाई यह है कि बैंकों में आई उस अतिरिक्त नकदी ने ऋण वितरण में शायद ही किसी बढ़ोतरी को उत्प्रेरित किया था।
वास्तव में, नोटबंदी के वषर्, 2016 के मार्च से 2017 के मार्च के बीच, अधिसूचित वाणिज्यिक बैंकों द्वारा दिए गए गैर-खाद्य ऋण की वृद्धि, एक साल पहले की इसी अवधि के मुकाबले वास्तव में धीमी ही पड़ी थी और पिछले साल के 9.1 फीसद के स्तर से घटकर 8.4 फीसद ही रह गई थी। कृषि तथा संबद्ध गतिविधियों के लिए ऋण वृद्धि की दर 15.3 से घटकर 12.4 फीसद पर आ गई और उद्योग के लिए 2.7 फीसद से घटकर, ऋण में 1.9 फीसद हो गई। यहां तक कि समग्रता में ‘प्राथमिकता वाले क्षेत्र’ में ऋण वृद्धि की दर, 10.7 फीसद से घटकर 9.4 फीसद रह गई।  याद रहे कि नोटबंदी से किसानों के हाथों में नकदी की भारी तंगी पैदा हुई थी। किसानों के अपनी पैदा की हुई फसल की बिक्री के जरिए हासिल होने वाली नकदी से, नई फसल के लिए लागत सामग्री खरीदने का चक्र टूट गया था। इसके चलते उन्हें अगली फसल के लिए लागत सामग्री खरीदने के लिए निजी महाजनों से अनाप-शनाप दरों पर ऋण लेने पड़े थे और इसने उनके सिर पर कर्ज का बोझ बढ़ाया था और उनकी बदहाली में और इजाफा कर दिया था।
यह नोटबंदी के बड़े स्थायी घावों में से एक है और इसी के चलते अर्थव्यवस्था को इसने स्थायी क्षति पहुंचाई है, और इसे सिर्फ एक तात्कालिक असुविधा की तरह नहीं देखा जा सकता है, जो पुनमरुद्राकरण होने के साथ ही गायब हो गई हो। फिर भी हम देखते हैं कि इस दौर में ठीक उस समय जब किसानों को कजरे की भारी जरूरत थी और उन्हें कर्ज लेने के लिए निजी महाजनों के द्वार खटखटाने पड़ रहे थे, अभूतपूर्व पैमाने पर अपने पास नकदी के अंबार लगे होने के बावजूद बैंक, उन्हें ऋण देने के लिए तैयार ही नहीं थे। यहां तक कि कृषि के लिए दिए जाने वाले ऋणों की वृद्धि की दर बढ़ने के बजाए पहले से धीमी ही पड़ गई। अगर सरकार का किसानी-खेती की तरफ ज्यादा ध्यान होता तो वह एक तीर से दो शिकार कर सकती थी। एक तरफ तो नकदी की तंगी के मारे किसानों की मदद कर सकती थी और दूसरी ओर, विशेष बांड जारी करने जैसे असाधारण कदमों का सहारा लिए बिना ही, बैंकों की लाभकरता को बहाल कर सकती थी। लेकिन उसे इसका तो ख्याल तक नहीं आया। यह भी नवउदारवादी राज में सरकार की प्रकृति को ही दिखाता है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

सीतारमण की पीली साड़ी ने खींचा सोशल मीडिया का ध्यान

सीतारमण की पीली साड़ी ने खींचा सोशल मीडिया का ध्यान

अपने स्टाइलिस्ट लुक से ग्रैमी में छाई प्रियंका

अपने स्टाइलिस्ट लुक से ग्रैमी में छाई प्रियंका

राजपथ पर दिखा देश की सैन्य शक्ति का नजारा, देखिए तस्वीरें

राजपथ पर दिखा देश की सैन्य शक्ति का नजारा, देखिए तस्वीरें

PICS: वीरता पुरस्कार पाने वाले बच्चों पीएम मोदी बोले- मुझे आपसे प्रेरणा मिलती है

PICS: वीरता पुरस्कार पाने वाले बच्चों पीएम मोदी बोले- मुझे आपसे प्रेरणा मिलती है


 

172.31.21.212