Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

15 Dec 2019 03:12:16 AM IST
Last Updated : 15 Dec 2019 03:17:12 AM IST

मीडिया : नई भाषा की दरकार

सुधीश पचौरी
मीडिया : नई भाषा की दरकार
मीडिया : नई भाषा की दरकार

इंडिया रेप कैपिटला! दिल्ली रेप कैपिटल! समस्या होगी लिमिटेड। लेकिन चैनल बना देंगे अनलिमिटेड। कैपिटल न हुई अतिरंजना की नुमाइश हो गई।

यह खबर की भाषा न होकर एनजीओ-एक्टिविस्टों की भाषा है। याद करें। कुछ पहले दिल्ली को ‘कार्बन कैपिटल’ कहा जा रहा  था। शहर में कुछ हत्याएं हो जाती हैं, तो खबर चैनल लाइनें लगाने लगते हैं: ‘दिल्ली र्मडर कैपिटल’! ऐसी ‘अतिरंजनापूर्ण’ लाइनें दर्शकों का ध्यान खींचने के लिए दी जाती हैं। चैनलों की भाषा ‘हाइपर’ इसीलिए बनाई जाती है ताकि खबर खबर की तरह न जाकर किसी बड़े हल्ले की तरह जाए और उत्तेजित कर दे। भाषा का ऐसा हाइपर चलन निर्भया कांड के लाइव प्रसारणों के दौरान विकसित हुआ। विरोध प्रदर्शनों के प्रसारण ने ‘सूचना’ की ‘सामान्य भाषा’ को बेकार कर दिया। एक धक्कामार भाषा ईजाद हुई जो सबको उस रेप की भयावहता को बताती।

ऐसे अतिरंजनात्मक मुहावरे विज्ञापनों में सबसे पहले दिखे। ‘महाभारत’ सीरियल का एक प्रायोजक अपने ब्रांडेड मक्खन की मारकेटिंग करने के लिए कैचलाइन देता था कि ‘ये है स्वाद इंडिया का’! उसने सारे भारत को अपना मारकेट बना डाला। एक ब्रांडेड नमक के विज्ञापन में कैचलाइन आने लगी : ये है नमक इंडिया का! ऐसे ही कोई बनियान बेचने वाला कहता कि ‘भारत की बनियान’ तो कोई कच्छी बेचने वाला कहता कि ‘ये है भारत की कच्छी’। बनियान-कच्छियां ‘भारत’  को पहनाई जाती रहीं। विज्ञापन वाले भारत ‘बनियान-कच्छी’ की अलगनी बनाते रहे। ऐसे ही जब दिल्ली में डेंगू का  प्रकोप हुआ तो खबर चैनलों ने उसे ‘डेंगू कैपिटल’ बना दिया या कूड़ा न उठा तो ‘कूड़ा कैपिटल’ बना दिया। प्रदूषण का प्रकोप बढ़ा तो दिल्ली को ‘जहरीली हवा की कैपिटल’ कहने लगे।

इस तरह की अतिरंजनापूर्ण पदावली के चलन का कारण हमारे खबर चैनल हैं, जो एक दूसरे के कंपटीशन के बीच दर्शकों का ध्यान खींचने के लिए ऐसी ‘भड़काऊ खेंचू’ लाइनें लगाकर दर्शक जुटाते हैं। अगर वे कहें कि ‘दिल्ली का आसमान साफ नहीं’ तो यह सामान्य भाषा किसी का ध्यान न खींच पाएगी लेकिन जैसे ही टीवी कहेगा कि ‘दिल्ली की हवा में जहर’ है, तो लोगों की ‘सांसें’ थम जाएंगी। टीवी आजकल खबर की जगह देकर ‘शॉक’ देकर हमें अधिकाधिक ‘संवेदनशून्य’ बनाता है। अगर खबर चैनल बताएं कि आज दिल्ली में ‘अलग-अलग जगहों पर तीन रेप हुए’ तो ये खबरें उसी तरह की बनेंगी जैसी कि अखबार के किनारे के कॉलम में छपती हैं। लेकिन जैसे ही कहेंगे कि ‘दिल्ली रेप कैपिटल’ या ‘इंडिया रेप कैपिटल’ है, तो ऐसी अतिरंजना कुछ देर के लिए ध्यान अवश्य खीचेगी, भले कुछ देर बाद हम इसके आदी हो जाएं। दर्शकों का ध्यान खींचने के लिए खबर चैनलों ने अपनी भाषा ‘विज्ञापनी भाषा’ बना डाला है। इसीलिए कोई-कोई तो ‘नेशन वांट्स टू नो’ या ‘इंडिया वांट्स टू नो’ कहकर अपने को ‘नेशन’ ही बना डालता है। चुनाव आते हैं, तो लिखा आता है ‘इंडिया डिसाइड्स’। ‘आम चुनाव’ या ‘संसदीय चुनाव’ कहने की जगह ‘इंडिया डिसाइड्स’ कहना आलंकारिक लगता है।

इस तरह के अतिरंजनापूर्ण मुहावरों को कई बार राजनीति में भी इस्तेमाल किया जाता है जैसे कि कोई अपने को  ‘युवक हृदय सम्राट’ कहलवाता है, तो कोई अपने को ‘भारत की आशा’ कहलवाता है, या कोई अपने को ‘भारत का गौरव’ (चाहे वह भारत का गोबर भी होने लायक न हो) कहलवाता है, तो कोई ‘भारत की शान’ कहलवाता है। ऐसे ही मुहावरे क्रिकेट के लिए भी इस्तेमाल किए जाते रहे हैं। एक दिन भारत की क्रिकेट की टीम ‘टीम इंडिया’ कही  जाने लगी। इसी तरह कई फिल्मी गानों में ‘ये मेरा इंडिया’ ‘ये मेरा इंडिया’ होने लगा। एक दिन पहले जब राहुल गांधी ने कहा ‘इंडिया इज रेप कैपिटल’ तो वे उसी विज्ञापनी भाषा का इस्तेमाल कर रहे थे, जिसे कभी गुजरात के सीएम मोदी ने किया था।

इसीलिए राहुल के ‘रेप कैपिटल’ कहने पर जब भाजपा के नेता उनसे ‘इंडिया’ से माफी मांगने पर जोर देने लगे तो राहुल ने मोदी के 2013 के एक भाषण की क्लिप को ट्विटर पर लगा दिया जिसमें मोदी दिल्ली को ‘रेप कैपिटल’ कहते नजर आते हैं। यह भी खबर चैनलों ने दिखाई और विवाद ठंडा पड़ गया। लेकिन समस्या सिर्फ इतने से नहीं निपटती कि ‘अगर इनने कहा तो उनने भी तो कहा’। असल समस्या खबर की भाषा को ‘विज्ञापनी भाषा’ बना देने की है। इसके जरिए चैनल खबरों को ‘अनलिमिटेड’ बना देते हैं। खबर की अतिरंजनात्मकता हमें अधिकाधिक ‘संवेदनहीन’ बनाती जाती है। जरूरत है खबरों की नई ‘रचनात्मक-भाषा’ की!


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा


 

172.31.21.212