Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

11 Dec 2019 12:07:13 AM IST
Last Updated : 11 Dec 2019 12:09:02 AM IST

शिवसेना : कैसी बनाएगी महाराष्ट्र की तस्वीर?

योगेश कुमार सोनी
शिवसेना : कैसी बनाएगी महाराष्ट्र की तस्वीर?
शिवसेना : कैसी बनाएगी महाराष्ट्र की तस्वीर?

विगत दिनों महाराष्ट्र में बड़े सियासी ड्रामे के बाद राज्य को मुख्यमंत्री तो मिला लेकिन उठापठक अभी भी जारी है। सभी पार्टी के मुखियाओं ने तो मजबूरी में दिल-दिमाग मिला लिये लेकिन निचले स्तर पर खींचातानी देखने को मिल रही है।

बीते बुधवार मुंबई के धारावी में एक राजनीतिक कार्यक्रम में करीब 400 शिवसैनिकों ने बीजेपी का दामन थाम लिया। कार्यक्रम के दौरान एक कार्यकर्ता ने कहा, ‘शिवसेना ने उन पार्टयिों के सहयोग से सरकार बनाई है, जो हिन्दुत्व के खिलाफ रहती हैं। जब शिवसेना ऐसे दलों का हमेशा से विरोध करती रही  तो क्या सत्ता के लालच में इतनी गिर गई कि बाला साहेब के उसूलों को भी भूल गई’। पहला ऐसा मौका है जब शिवसेना के इतने सारे कार्यकर्ता एक साथ अन्य पार्टी में गए हों। पार्टी के लिए बड़ा झटका भी माना जा रहा है।
पिछले दिनों अपने पूर्व सहयोगी दल बीजेपी से ढाई-ृढाई साल के फार्मूले पर बात न बनने के बाद शिवसेना ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन करके सरकार बनाई है। फिलहाल सभी के मन में प्रश्न एक ही है कि क्या कट्टर हिन्दू छवि वाली शिवसेना मौजूदा सहयोगी दलों, जिनका वह विरोध करती आई है, के साथ सरकार संचालित कर पाएगी? हालांकि बीते कुछ वर्षो में राजनीति में कुछ अटपटा नहीं लगता। जैसा कि जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी का सरकार बनाना, उत्तर प्रदेश में कट्टर प्रतिद्वंद्वी सपा-बसपा का साथ चुनाव लड़ना। ऐसे तमाम सबके समक्ष हैं। इस तरह की जुगलबंदी ज्यादा लंबी नहीं चल पाती।

शिवसेना ने 1972 में पहली बार चुनाव लड़ते हुए 26 उम्मीदवार उतारे थे और मात्र एक सीट जीत कर अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। उस समय महाराष्ट्र में 270 विधानसभा सीटें थीं और शिवसेना का वोट दो प्रतिशत भी नहीं था। 1978 में शिवसेना ने 35 सीटों पर चुनाव लड़ा। उसका खाता भी नहीं खुला। इस घटना से बाला साहब ठाकरे बेहद निराश हुए और उन्होंने  इसके बाद भारी मंथन करते हुए पार्टी में जान फूंकी और कार्यकर्ताओं को जोड़ना शुरू कर दिया। 1990 में 183 सीटों पर चुनाव लड़ा और 52 सीट जीतकर महाराष्ट्र की राजनीति में अपना वर्चस्व कायम किया। 1995 और 1999 में 69 सीट, 2004 में 62 सीट, 2009 में 160 सीट पर लड़ते हुए 44 सीट, 2014 में पहली बार सभी सीटों पर किस्मत अजमाई लेकिन 63 सीट पर विजय प्राप्त की थी और वोट 20 प्रतिशत तक आया।
हाल ही में हुए 2019 के चुनाव में शिवसेना ने बीजेपी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा जिसमें बीजेपी 162 और शिवसेना 126 सीटों पर प्रत्याशी उतारे। शिवसेना ने 56 सीटें जीतीं। नब्बे के दशक से वर्चस्व में आने के बाद से लेकर अब तक शिवसेना का वोट प्रतिशत न कभी इतना बढ़ा कि जिससे वो कभी बहुत ज्यादा उत्साहित हुई हो और न ही ग्राफ इतना गिरा कि राज्य में अपनी उपस्थिति दर्ज कराने में विफल हुई हो। अपने वोट प्रतिशत को एक सामान ही रख पाई है। लेकिन इस बार राजनीतिक विशेषज्ञों के अनुसार शिवसेना मुख्यमंत्री पद के लिए स्वार्थ में नजर आई। हालांकि इस को लेकर कोई दो राय नहीं कि महाराष्ट्र की राजनीति में शिवसेना हमेशा किंगमेकर की भूमिका निभाती आ रही है। इस बार भी चुनावों से पहले बीजेपी व शिवसेना ने दूर-दूर तक नहीं सोचा था कि वो मिलकर सरकार नहीं बना पाएंगे।
दोनों पार्टयिां अपनी जिद्द पर अड़ी रहीं, जिससे दोनों की किरकिरी भी खूब हुई। इसके अलावा, महाराष्ट्र के इतिहास में पहली बार देखने को मिलेगा कि जब शिवसेना को राज्य का गृह मंत्रालय मिलेगा। दो दशकों की बात करें तो 1999 से 2014 तक गृह मंत्रालय लगातार एनसीपी के पास रहा। फिलहाल सरकार में बैठे मौजूदा दल एक-दूसरे के दबाव समझते हुए कुछ भी करने को तैयार हैं, तो इसलिए एनसीपी सबसे महत्त्वपूर्ण मंत्रालय शिवसेना को देने के लिए तैयार हो गई। बहराहल, देश की वित्तीय राजधानी को संचालित करना आसान नहीं है।
शिवसेना नई पार्टी नहीं है, लेकिन ठाकरे परिवार से पहली बार किसी सदस्य ने कमान संभाली हैं तो चुनौतियां और ज्यादा समझी जा रही हैं। इसलिए उसे हर कदम समझदारी से रखना होगा। साथ ही, उसे अपने कार्यकर्ता संभालने की जरूरत है क्योंकि किसी नेता के दल बदलने से इतना फर्क नहीं पड़ता जितना कार्यकर्ता के बागी होने से। चिंता का विषय यह भी है कि अभी तो निगम के अलावा कई और छोटे बड़े चुनाव होने हैं, ऐसे में शिवसेना क्या कहकर अपनी परफोमेंस दिखाएगी? जैसे कि ऐसे चुनावों में तो पूर्ण रूप से कार्यकर्ता ही मुख्य किरदार निभाता है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका


 

172.31.21.212