Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

06 Oct 2019 12:27:23 AM IST
Last Updated : 06 Oct 2019 12:29:51 AM IST

वैदेशिक : डर रहा चीनी गणराज्य

रहीस सिंह
वैदेशिक : डर रहा चीनी गणराज्य
वैदेशिक : डर रहा चीनी गणराज्य

माओ त्से तुंग ने जब चीनी लोक गणराज्य की स्थापना की थी तब उनका उद्देश्य था-समानता और लाभ में सभी की बराबर हिस्सेदारी।

इसकी 70वीं वषर्गांठ पर राष्ट्रपति शी जिनपिंग भी एकता, विकास और मजबूती पर जोर देते दिखे। यहां दो सवाल हैं। पहला यह कि क्या माओ के चीन ने माओ को अभी तक आत्मसात कर रखा है? दूसरा- क्या शी जिनपिंग जिन तीन पर विषयों पर अपनी प्रतिबद्धता जता रहे हैं, वे चीन ने हासिल कर लिए हैं अथवा चीन सही अथरे में उनमें से कम से दो के मामले में काफी दूर है?
डेंग जियांग पिंग ने अब से 40 साल पहले जिस नए चीन की बुनियाद रखी थी वह माओ की सांस्कृतिक क्रांति से अलग कृत्रिम समाजवादी अथवा पूंजीवादी तत्वों से निर्मित थी। इसे ही जियांग जेमिन, हू जिंताओ और शी जिनपिंग ने आगे बढ़ाया। परिणाम यह हुआ कि 4 दशक में माओ के चीन का मौलिक स्वरूप बदल गया। अब उसे देखकर कोई भी कह सकता है कि माओ त्से तुंग ने जिस चीनी लोक गणराज्य को स्थापित किया था, उसका ‘लोक’ अब भी चीन में वही महत्त्व रखता है, जो माओ के समय रख रहा था। दरअसल, इसे खत्म करने की शुरुआत माओ ने ही कर दी थी। उन्होंने ‘ग्रेट लीप फॉर्वड’ और ‘कल्चरल रिवोल्यूशन’ का सहारा लिया जो सही अथरे में चीनी किस्म का नवजागरण कम माओ की निरंकुशता के अधीन लोगों के एकत्ववाद का प्रशिक्षण अधिक था। यही वजह है कि ‘कल्चरल रिवोल्यूशन’ के युग में चीन में जड़ता का विकास अधिक हुआ। डेंग ने इस जड़ता को तोड़ा और चीन को खुला आसमान देने की कोशिश की।

माओ के बाद के चार दशकों में चीन विकास दर के मामले में डबल डिजिट तक पहुंचे और दुनिया का सबसे तेज गति से विकास करने वाला देश बना। चीनी निर्यातों ने दुनिया में भर में घूम मचायी, भुगतान संतुलन चीन के पक्ष में किया, विदेशी मुद्रा भण्डार को समृद्ध बनाया और चीन की अर्थव्यवस्था को दुनिया की दूसरी अर्थव्यवस्था बना दिया। इसी दौर में वह दुनिया का सबसे बड़ा कर्ज प्रदाता बना जिसके चलते उसे र्वल्ड बैंक जैसी संज्ञा दी जाने लगी। उसने चेकबुक डिप्लोमैसी के जरिए एशिया और अफ्रीका के तमाम देशों के प्राकृतिक संसाधनों को अपनी अर्थव्यवस्था से जोड़ने में कामयाबी हासिल की और दुनिया के सबसे महत्त्वाकांक्षी लक्ष्य ‘वन बेल्ट वन रोड’ से एशिया एवं यूरोप के देशों को जोड़कर एक धुरी के रूप में प्रतिष्ठा करने का प्रयास किया। लेकिन उसकी इस विकास गाथा में बहुत सी बीमारियां छुपी थीं, जिनका खुलासा करने से चीनी नेतृत्व कतराता रहा। यही वजह है कि वह अपनी आर्थिक नीतियों के जरिए माओ को मारता गया, लेकिन राजनीतिक व्यवस्था में जिंदा रखता रहा ताकि लोगों को उनके मौलिक अधिकारों से वंचित रखने में सफल हो सके।
पिछले चार दशकों में चीन का जो रूपांतरण हुआ उसने विकास में असामंजस्य और विरूपता को बढ़ाया। कारण यह कि नवविकासवाद की चीनी सैद्धांतिकी ने इस प्रचार पर बल दिया कि युवा यदि प्रसिद्धि पाना चाहते हैं तो वे अनिवार्य रूप से धनी बनें। ऐसा हुआ भी। लेकिन युवाओं के धनी बनने की अदम्य प्यास ने चीन की विकास दर को तो बढ़ा दिया, लेकिन चीन को फिर उन्हीं स्थितियों में पहुंचा दिया जिनके कारण 20वीं सदी में माओ पैदा हुए। इस ‘कैपिटलिस्टिक रोडर्स’ ने चीन में डेंग को तो स्थापित कर दिया, लेकिन माओ को खो दिया। माओ देश में पूंजीवाद की न्यूनतम भूमिका देखना चाहते थे, लेकिन आज यह सर्वाधिक निर्णायक भूमिका में है, जिसके चलते चीन में असमानता काफी जटिल एवं व्यापक स्थिति में देखी जा सकती है। ये स्थितियां सही अथरें में चीनी शासकों को माओ के भूत से डरा रही हैं।
इसमें कोई संशय नहीं होना चाहिए कि गरीबी के आधार पर समाजवादी व्यवस्था नहीं बनाई जा सकती। लेकिन क्या यह भी सच नहीं होना चाहिए कि केवल अर्थमेटिक्स से आर्थिक समृद्धता, समानता और न्याय की स्थापना भी नहीं की जा सकती। अगर ऐसा होता तो चीन दुनिया का रोल मॉडल बनता। लेकिन ऐसा नहीं हुआ बल्कि इसके विपरीत चीन के अंदर से ही उसके इस मॉडल को चुनौती मिल रही है, फिर चाहे वह मकाऊ हो, हांगकांग हो, ताइवान हो या फिर तिब्बत और शिनजियांग में बौद्धों तथा वीगरों का आंदोलन हो।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड


 

172.31.21.212