Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

20 Aug 2019 05:18:09 AM IST
Last Updated : 20 Aug 2019 05:20:43 AM IST

श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को

प्रेमकुमार मणि
श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को
श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री और चर्चित राजनेता डॉ. जगन्नाथ मिश्र अब दिवंगत हैं। वह तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री हुए, कुछ समय के लिए केंद्र में मंत्री हुए और विभिन्न तरीकों से बिहार की राजनीति को लम्बे समय तक प्रभावित किया।

उन्होंने बिहार में एक नई राजनीतिक संस्कृति को जन्म दिया, जिसे कुछ लोगों ने पसंद किया, कुछ ने नापसंद। लेकिन इन सब के बावजूद यह खरा सच है कि लगभग डेढ़ दशक तक बिहार की राजनीति के वह केंद्रीय व्यक्ति बने रहे।
मिश्र जी की राजनैतिक पृष्ठभूमि को समझने के लिए 1970 के कांग्रेस को समझना होगा। बिहार में कांग्रेस ने 1971 में एक नया मोड़ लिया था। इंदिरा गांधी का जमाना था। वह अपनी ही पार्टी के दक्षिणपंथी धड़े से जूझ रही थीं। पीएन हक्सर उनके सलाहकार थे। बिहार मामलों को जगन्नाथ मिश्र के बड़े भाई ललित नारायण मिश्र देख रहे थे। एल.एन. मिश्र ने बिहार कांग्रेस को एक नई जमीन दी। बिहार के जातिवादी समाज को उन्होंने उलट-पुलट कर इंदिरा कांग्रेस के लिए एक रास्ता बनाया। बिहार कांग्रेस ऊंची कही जाने वाली जातियों का जमावड़ा हो गया था। 1960 के दशक तक बिहार कांग्रेस भूमिहारों, राजपूतों और कायस्थों के सामाजिक स्वाथरे को साधने वाला एक मंच भर था। ब्राह्मण इस संवर्ग में नहीं थे। वे तीनों से पीछे थे। पिछड़े तबकों का तो कोई अता-पता ही नहीं था। अधिक से अधिक डिप्टी मिनिस्टर होने की उनकी कुव्वत होती थी।

कांग्रेस की इसी कमजोरी का लाभ लेने के लिए लोहिया ने अपनी समाजवादी पार्टी के एजेंडे में ‘पिछड़ा पावें, सौ में साठ’ का नारा रखा। उन्हें 1967 में सफलता भी मिली। इंदिरा कांग्रेस ने 1971 के लोक सभा चुनाव तक गैरब्राह्मण ऊंची जातियों के नेताओं को बाहर कर दिया। महेश प्रसाद सिंह, सत्येंद्र नारायण सिंह और केबी सहाय अब इंदिरा कांग्रेस से बाहर थे। कांग्रेस ने कम्युनिस्टों, पिछड़े तबकों के एक हिस्से, ब्राह्मणों, दलितों और मुसलमानों का एक मोर्चा बनाया। इस मोर्चे को ‘भीषण’ चुनावी सफलता मिली। बिहार में विपक्ष के दिग्गज मधु लिमये आदि बुरी तरह पराजित हुए। 1972 के विधानसभा चुनाव में भी यही स्थिति रही। कांग्रेस के केदार पांडेय मुख्यमंत्री हुए। साल भर बाद अब्दुल गफूर का आना हुआ।
सामाजिक रूप से जेपी आंदोलन का चरित्र वही था, जिसे जगन्नाथ मिश्र ने अपनाया था। आपातकाल के कुछ पहले अब्दुल गफूर की जगह डॉ. जगन्नाथ मिश्र को मुख्यमंत्री बनाया गया था। 1975 के फरवरी में एलएन मिश्र की हत्या हो गई थी। इसी के बाद जगन्नाथ मिश्र मुख्यमंत्री हुए। आपातकाल के विषम काल में जब पूरा विपक्ष जेल में था, वह निष्कंटक राज कर रहे थे। उनकी राजनैतिक क्षमता का कोई इम्तिहान नहीं हुआ। 1977 में कांग्रेस बुरी तरह हार गई। कर्पूरी ठाकुर मुख्यमंत्री हुए। वह समाजवादी थे। पहले ही वर्ष में पिछड़ों के  लिए मुंगेरी लाल आयोग की सिफारिशों को लागू कर ठाकुर ने एकबारगी द्विज-मिजाज की ताकतों को चुनौती दे डाली। जनता पार्टी एक पंचगामी राजनीतिक मोर्चा था, जिसमें जनसंघ, दक्षिणपंथी कांग्रेस, समाजवादी सब थे। जगन्नाथ मिश्र इंदिरा कांग्रेस के नेता और सर्वेसर्वा थे। यही समय था जब उन्होंने अपनी राजनैतिक क्षमता का परिचय दिया। जनसंघ और दक्षिणपंथी कांग्रेसी धड़े से समझौता कर उनने उस कर्पूरी ठाकुर की सरकार को गिरा दिया, जिससे द्विज ताकतें चिढ़ी हुई थीं। इसी द्विज तबके ने राजनैतिक कायापलट में मुख्य हिस्सेदारी की थी। यह तबका अब कांग्रेस की तरफ था। मगर एक विचित्र वैचारिक विरोधाभास था। कांग्रेसी जगन्नाथ मिश्र और जनसंघी कैलाशपति मिश्र एक हो गए।
अगले दस वर्ष तक कांग्रेस सत्ता में रही। जगन्नाथ मिश्र की वैचारिकता उस पर हावी रही। इन दस वर्षो में किसी दलित, पिछड़े, मुसलमान को कांग्रेस ने कोई तरजीह नहीं दी। प्रतिक्रिया ऐसी हुई कि तब से अब तीस साल होने जा रहे हैं, पिछड़ी राजनीति का ही बोलबाला है। इसके वास्तविक जनक डॉ. जगन्नाथ मिश्र हैं। यह एक विचित्र स्थिति है कि इस दिग्गज राजनेता को राजनैतिक रूप से नीतीश कुमार के साथ और चारा-स्कैम मामले में लालू प्रसाद के साथ जुड़ने की नौबत आई। डॉ. जगन्नाथ मिश्र  ही वह नेता हैं, जिन्होंने अति पिछड़ी जातियों के राजनैतिक महत्त्व को पहली दफा समझा। आपातकाल में डॉ. मिश्र ने 20 सूत्री कमेटियों मे सभी जिलों में तीन प्रतिनिधि ओबीसी के मनोनीत किए। इससे इस तबके में, एक जागृति आई। आज यह मुद्दा भारतीय राजनीति का केंद्रीय बिंदु बन गया है। कांग्रेस को यह भी पता नहीं कि यह उसका काम है। डॉ. साहब आज नहीं हैं। बिहार की राजनीति में उनके प्रभाव को कई स्तरों और रूपों में देखा जा सकता है और देखा जाएगा। बिहार को उन्हें नहीं भूलना चाहिए। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

सीतारमण की पीली साड़ी ने खींचा सोशल मीडिया का ध्यान

सीतारमण की पीली साड़ी ने खींचा सोशल मीडिया का ध्यान

अपने स्टाइलिस्ट लुक से ग्रैमी में छाई प्रियंका

अपने स्टाइलिस्ट लुक से ग्रैमी में छाई प्रियंका

राजपथ पर दिखा देश की सैन्य शक्ति का नजारा, देखिए तस्वीरें

राजपथ पर दिखा देश की सैन्य शक्ति का नजारा, देखिए तस्वीरें

PICS: वीरता पुरस्कार पाने वाले बच्चों पीएम मोदी बोले- मुझे आपसे प्रेरणा मिलती है

PICS: वीरता पुरस्कार पाने वाले बच्चों पीएम मोदी बोले- मुझे आपसे प्रेरणा मिलती है


 

172.31.21.212