Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

20 Aug 2019 05:18:09 AM IST
Last Updated : 20 Aug 2019 05:20:43 AM IST

श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को

प्रेमकुमार मणि
श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को
श्रद्धांजलि : बिहार नहीं भूलेगा डॉ. मिश्र को

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री, पूर्व केंद्रीय मंत्री और चर्चित राजनेता डॉ. जगन्नाथ मिश्र अब दिवंगत हैं। वह तीन बार बिहार के मुख्यमंत्री हुए, कुछ समय के लिए केंद्र में मंत्री हुए और विभिन्न तरीकों से बिहार की राजनीति को लम्बे समय तक प्रभावित किया।

उन्होंने बिहार में एक नई राजनीतिक संस्कृति को जन्म दिया, जिसे कुछ लोगों ने पसंद किया, कुछ ने नापसंद। लेकिन इन सब के बावजूद यह खरा सच है कि लगभग डेढ़ दशक तक बिहार की राजनीति के वह केंद्रीय व्यक्ति बने रहे।
मिश्र जी की राजनैतिक पृष्ठभूमि को समझने के लिए 1970 के कांग्रेस को समझना होगा। बिहार में कांग्रेस ने 1971 में एक नया मोड़ लिया था। इंदिरा गांधी का जमाना था। वह अपनी ही पार्टी के दक्षिणपंथी धड़े से जूझ रही थीं। पीएन हक्सर उनके सलाहकार थे। बिहार मामलों को जगन्नाथ मिश्र के बड़े भाई ललित नारायण मिश्र देख रहे थे। एल.एन. मिश्र ने बिहार कांग्रेस को एक नई जमीन दी। बिहार के जातिवादी समाज को उन्होंने उलट-पुलट कर इंदिरा कांग्रेस के लिए एक रास्ता बनाया। बिहार कांग्रेस ऊंची कही जाने वाली जातियों का जमावड़ा हो गया था। 1960 के दशक तक बिहार कांग्रेस भूमिहारों, राजपूतों और कायस्थों के सामाजिक स्वाथरे को साधने वाला एक मंच भर था। ब्राह्मण इस संवर्ग में नहीं थे। वे तीनों से पीछे थे। पिछड़े तबकों का तो कोई अता-पता ही नहीं था। अधिक से अधिक डिप्टी मिनिस्टर होने की उनकी कुव्वत होती थी।

कांग्रेस की इसी कमजोरी का लाभ लेने के लिए लोहिया ने अपनी समाजवादी पार्टी के एजेंडे में ‘पिछड़ा पावें, सौ में साठ’ का नारा रखा। उन्हें 1967 में सफलता भी मिली। इंदिरा कांग्रेस ने 1971 के लोक सभा चुनाव तक गैरब्राह्मण ऊंची जातियों के नेताओं को बाहर कर दिया। महेश प्रसाद सिंह, सत्येंद्र नारायण सिंह और केबी सहाय अब इंदिरा कांग्रेस से बाहर थे। कांग्रेस ने कम्युनिस्टों, पिछड़े तबकों के एक हिस्से, ब्राह्मणों, दलितों और मुसलमानों का एक मोर्चा बनाया। इस मोर्चे को ‘भीषण’ चुनावी सफलता मिली। बिहार में विपक्ष के दिग्गज मधु लिमये आदि बुरी तरह पराजित हुए। 1972 के विधानसभा चुनाव में भी यही स्थिति रही। कांग्रेस के केदार पांडेय मुख्यमंत्री हुए। साल भर बाद अब्दुल गफूर का आना हुआ।
सामाजिक रूप से जेपी आंदोलन का चरित्र वही था, जिसे जगन्नाथ मिश्र ने अपनाया था। आपातकाल के कुछ पहले अब्दुल गफूर की जगह डॉ. जगन्नाथ मिश्र को मुख्यमंत्री बनाया गया था। 1975 के फरवरी में एलएन मिश्र की हत्या हो गई थी। इसी के बाद जगन्नाथ मिश्र मुख्यमंत्री हुए। आपातकाल के विषम काल में जब पूरा विपक्ष जेल में था, वह निष्कंटक राज कर रहे थे। उनकी राजनैतिक क्षमता का कोई इम्तिहान नहीं हुआ। 1977 में कांग्रेस बुरी तरह हार गई। कर्पूरी ठाकुर मुख्यमंत्री हुए। वह समाजवादी थे। पहले ही वर्ष में पिछड़ों के  लिए मुंगेरी लाल आयोग की सिफारिशों को लागू कर ठाकुर ने एकबारगी द्विज-मिजाज की ताकतों को चुनौती दे डाली। जनता पार्टी एक पंचगामी राजनीतिक मोर्चा था, जिसमें जनसंघ, दक्षिणपंथी कांग्रेस, समाजवादी सब थे। जगन्नाथ मिश्र इंदिरा कांग्रेस के नेता और सर्वेसर्वा थे। यही समय था जब उन्होंने अपनी राजनैतिक क्षमता का परिचय दिया। जनसंघ और दक्षिणपंथी कांग्रेसी धड़े से समझौता कर उनने उस कर्पूरी ठाकुर की सरकार को गिरा दिया, जिससे द्विज ताकतें चिढ़ी हुई थीं। इसी द्विज तबके ने राजनैतिक कायापलट में मुख्य हिस्सेदारी की थी। यह तबका अब कांग्रेस की तरफ था। मगर एक विचित्र वैचारिक विरोधाभास था। कांग्रेसी जगन्नाथ मिश्र और जनसंघी कैलाशपति मिश्र एक हो गए।
अगले दस वर्ष तक कांग्रेस सत्ता में रही। जगन्नाथ मिश्र की वैचारिकता उस पर हावी रही। इन दस वर्षो में किसी दलित, पिछड़े, मुसलमान को कांग्रेस ने कोई तरजीह नहीं दी। प्रतिक्रिया ऐसी हुई कि तब से अब तीस साल होने जा रहे हैं, पिछड़ी राजनीति का ही बोलबाला है। इसके वास्तविक जनक डॉ. जगन्नाथ मिश्र हैं। यह एक विचित्र स्थिति है कि इस दिग्गज राजनेता को राजनैतिक रूप से नीतीश कुमार के साथ और चारा-स्कैम मामले में लालू प्रसाद के साथ जुड़ने की नौबत आई। डॉ. जगन्नाथ मिश्र  ही वह नेता हैं, जिन्होंने अति पिछड़ी जातियों के राजनैतिक महत्त्व को पहली दफा समझा। आपातकाल में डॉ. मिश्र ने 20 सूत्री कमेटियों मे सभी जिलों में तीन प्रतिनिधि ओबीसी के मनोनीत किए। इससे इस तबके में, एक जागृति आई। आज यह मुद्दा भारतीय राजनीति का केंद्रीय बिंदु बन गया है। कांग्रेस को यह भी पता नहीं कि यह उसका काम है। डॉ. साहब आज नहीं हैं। बिहार की राजनीति में उनके प्रभाव को कई स्तरों और रूपों में देखा जा सकता है और देखा जाएगा। बिहार को उन्हें नहीं भूलना चाहिए। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार 'मोक्ष नगरी' गया

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया 'योगा एस940' लैपटॉप, कीमत 23,990 रुपये

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

B

B'day special: फिल्में छोड़ तिब्बतन योगा क्लासेस चलाती हैं मंदाकिनी

60 साल के हुए संजय दत्त

60 साल के हुए संजय दत्त

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर


 

172.31.21.212