Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

14 Apr 2019 07:08:48 AM IST
Last Updated : 14 Apr 2019 07:11:23 AM IST

पुनरावलोकन : मैत्री है लोकतंत्र की आत्मा

अरुण त्रिपाठी
पुनरावलोकन : मैत्री है लोकतंत्र की आत्मा
पुनरावलोकन : मैत्री है लोकतंत्र की आत्मा

सत्रहवीं लोक सभा के लिए हो रहे इस चुनाव में अपनी 128वीं जयंती पर लोकतंत्र संबंधी बाबा साहेब भीमराव आम्बेडकर के विचार बहुत प्रासंगिक हैं।

एक ओर माना जा रहा है कि लोकतंत्र का अर्थ नियमित होने वाले चुनाव और उससे निकलने वाली प्रतिनिधि सरकार है। दूसरी ओर, माना जा रहा है कि लोकतंत्र का अर्थ संविधान सम्मत शासन पद्धति है, जो नेता और दल राज्य के तंत्र पर काबिज होगा, वही उसे परिभाषित करेगा। यही वजह है कि लोकतंत्र का उत्सव माना जाने वाला और लोकतंत्र का नृत्य कहा जाने वाला चुनाव कई बार राजनीतिक दलों का शोर, धनबल और कड़वी बहसों का तांडव जैसा लगता है। इसी से ऊब कर कभी एक साथ लोक सभा और विधानसभा के चुनावों की बात की जाती है, तो कभी गैर-दलीय राजनीतिक व्यवस्था में समाधान देखा जाता है।
डॉ. आम्बेडकर इस समस्या से जूझते हुए अपने जीवन के आखिरी दिनों में कभी ‘रिडल्स इन हिंदुइज्म’ में लोकतंत्र के मूल की तलाश करते हैं, तो कभी वॉयस आफ अमेरिका से 20 मई, 1956 को भारत में लोकतंत्र के भविष्य पर अपना संदेश प्रसारित करते हैं। मानते हैं कि लोकतंत्र का दुनिया में कोई एक अर्थ नहीं है। जिसकी जैसी सोच है, वह लोकतंत्र को उस तरीके से देखता है। इसमें सबसे स्थूल सोच तो यही है कि लोकतंत्र एक प्रकार की सरकार है। जिसका अर्थ यही है कि जहां जनता स्वयं अपनी सरकार चुनती है यानी जहां सरकार प्रतिनिधित्व की सरकार है, वहां लोकतंत्र है। इसके लिए वयस्क मताधिकार और निश्चित अवधि पर चुनाव होते रहना जरूरी है। 

भारत ने वह व्यवस्था निर्मिंत कर ली है, और यही कारण है कि हम इसे दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बताते हुए इतराते नहीं हैं। हमारा चुनाव आयोग इस प्रणाली को चलाने वाला सबसे विसनीय संस्थान माना जाता है। तमाम राजनीतिशास्त्री इसी प्रणाली का अध्ययन करते हैं, और उन्होंने इसे ही लोकतंत्र की आत्मा मान लिया है। यही वजह है कि राज्य का तंत्र इसे चलाने में अपनी वैधता मानता है, और राजनीतिक दल इसी प्रक्रिया में येन केन प्रकारेण अपनी विजय सुनिश्चित करना चाहते हैं। जनता द्वारा चुनी हुई सरकार लोकतंत्र का साध्य बन गई है, और उस साध्य के लिए कुछ नियमों का पालन करते हुए तमाम तरह के चातुर्य और साधन जायज ठहराए जाते हैं। 
यहां पर बाबा साहेब कहते हैं कि लोकतंत्र एक प्रकार का सामाजिक संगठन है। लोकतंत्र सिर्फ  सरकार से नहीं, बल्कि एक लोकतांत्रिक समाज से चलता है, बल्कि लोकतांत्रिक समाज का गठन इसके मूल में है। लोकतांत्रिक समाज के लिए वे दो जरूरी अवयव मानते हैं। एक अवयव है, समाज का वगरे के रूप में स्तरीकरण न होना। दूसरा अवयव है, व्यक्ति और समुदाय द्वारा निरंतर समायोजन करते रहने और एक दूसरे के लिए पारस्परिकता की भावना रखना। इस भावना को एक युवा शायर इस्तेखार अहमद इस तरह व्यक्त करते हैं-बेशक आप बड़े हैं, बड़े रहें, लेकिन इतनी तो जगह दें कि हम भी खड़े रहें।
दूसरे को खड़े होने की जगह देना और उसके हितों की चिंता करना और उसके साथ समायोजन करना लोकतंत्र का मूल है। जो लोग सरकार और समाज को अलग-अलग समझते हैं, और मानते हैं कि चुनाव आयोग के संचालन में सरकार बन गई तो लोकतंत्र कायम रहेगा, वे भूल करते हैं। बाबा साहेब की नजर में सरकार समाज से अलग नहीं है, वह समाज का हिस्सा ही है। सरकार को समाज ने ही बनाया है, और अपने कुछ कामों को संचालित करने  के लिए जिम्मेदारी दी है, क्योंकि वह काम सामुदायिक सामाजिक जीवन के लिए अनिवार्य है। इसीलिए जो लोग सरकार और समाज को अलग-अलग मानते हैं, वे भूल करते हैं। बाबा साहेब की नजर में दूसरी भूल यह न समझ पाना है कि सरकार का काम समाज की इच्छाओं और उद्देश्यों का प्रतिनिधित्व करती है, और वह यह काम तभी कर सकती है, जब उसकी जड़ें जिस समाज में है, वह लोकतांत्रिक है। वह समाज लोकतांत्रिक नहीं है, तो सरकार भले वैधानिक रूप से चुनकर आती रहे वह लोकतांत्रिक नहीं होगी। ऐसा एशिया, अफ्रीका और अरब ही नहीं, अमेरिका और यूरोप के तमाम देशों में देखा जा सकता है। तुर्की में भी चुनाव होते हैं, और रूस में भी होते हैं। लेकिन वहां का समाज लोकतांत्रिक नहीं है, इसलिए सरकारें लोकतांत्रिक नहीं हो सकतीं। यही हालात दक्षिणी अमेरिका के तमाम देशों में भी हैं। भारत समेत एशिया के तमाम देशों में सरकारों का व्यवहार लोकतांत्रिक नहीं बन पा रहा है, तो उसकी जड़ में यही है।
बाबा साहेब तीसरी गलती इस सोच को मानते हैं कि सरकार अच्छी है या बुरी, लोकतांत्रिक है या अलोकतांत्रिक, यह इस पर निर्भर करता है कि उसे किस तरह की नौकरशाही मिली है। इसलिए महज संयोग नहीं है कि हमारे मौजूदा प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने लुटियन के टीले पर बैठे अफसरों के व्यवहार को लेकर असहजता प्रकट की थी। वास्तव में कोई भी अफसर वही बनेगा, जिस सामाजिक परिवेश में उसका प्रशिक्षण होगा। ऐसा नहीं है कि सिर्फ  अफसर हो जाने से कोई लोकतांत्रिक हो जाएगा।
बाबा साहेब, जिन्हें समता के योद्धा के रूप में जाना जाता है, और यह भी कहा जाता है कि वे अपने उस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए स्वतंत्रता के आंदोलन से किनारा किए हुए थे, के लिए स्वतंत्रता किसी एक वर्ग के लिए नहीं, समाज के सभी वगरे के लिए जरूरी थी। इसीलिए वे स्वतंत्रता के संघर्ष की बजाय समता के संघर्ष में ज्यादा जोर से जुटे थे। समता और स्वतंत्रता के इस झगड़े में उनका संदेश तब बहुत बड़ा हो जाता है, जब कहते हैं कि समता और स्वतंत्रता जैसे मूल्यों को जो मूल्य साधे हुए वह है बंधुत्व। यहां वे फ्रांसीसी क्रांति को याद करते हुए कहते हैं कि उससे निकले ‘फ्रेटरनिटी’ के लिए सही प्रयोग भगवान बुद्ध द्वारा दिया गया शब्द ‘मैत्री’ है, क्योंकि बिना मैत्री के लिए स्वतंत्रता समता को समाप्त कर देगी और समता स्वतंत्रता को।
यहीं पर बाबा साहेब और महात्मा गांधी एक साथ लोकतंत्र के आधार स्तंभ के रूप में खड़े दिखते हैं। गांधी इसी प्रेम को प्राणी जगत को बांधने वाली गुरु त्वाकषर्ण शक्ति मानते हैं। जो लोग महात्मा गांधी और बाबा साहेब को एक दूसरे का शत्रु मानते हैं, वे दरअसल लोकतंत्र की मैत्री भावना में यकीन नहीं रखते। वे तो वास्तव में एक कालखंड में विचरण करने वाले महावीर और बुद्ध हैं, जो एक ही तरह का संदेश दे रहे हैं। इसलिए मौजूदा चुनाव से अगर मैत्री निकलती है, तो मानना चाहिए कि चुनाव अपनी सही उद्देश्य के लिए संपन्न हुए वरना उसके लिए नये सिरे से प्रयास करना चाहिए।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

दीपिका एक

दीपिका एक 'अच्छी सिंधी बहू' है : रणवीर

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर 'बॉस लुक' में नजर आईं सोनम

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में दीपिका के

PICS: Cannes में दीपिका के 'लाइम ग्रीन' लुक के मुरीद हुए रणवीर सिंह

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS:

PICS: 'वीरू' के अंदाज में बोले धर्मेंद्र, हेमा को नहीं जिताया तो पानी की टंकी पर चढ़ जाऊंगा

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

बृहस्पतिवार, 28 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

बृहस्पतिवार, 28 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग


 

172.31.21.212