Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

31 Dec 2017 01:54:24 AM IST
Last Updated : 31 Dec 2017 02:03:47 AM IST

सीजन्स ग्रीटिंग्स

सुधीश पचौरी
सीजन्स ग्रीटिंग्स
सीजन्स ग्रीटिंग्स (फाइल फोटो)

इतने दिन बाद किसी ने नए बरस की शुभकामनाओं का एक कार्ड भेजा है, जिस पर छपा है 'सीजन्स ग्रीटिंग्स' यानी नये साल का स्वागत.

कार्ड जिस लिफाफे में आया है, उसमें हाथ से नाम और पता लिखा है, जो भेजने वाले मित्र की खूबसूरत हैंड राइटिंग की याद दिलाता है. अंदर जहां सीजन्स ग्रीटिंग्स लिखा है, उसके नीचे मित्र के हस्ताक्षर हैं. जब से मोबाइल, मैसेज और व्हाट्सएप जैसे माध्यम आए हैं, तब से लोग भूल ही गए लगते हैं कि नये बरस का स्वागत करने के लिए कभी ग्रीटिंग्स कार्ड भी हुआ करते थे, जो नये साल के आने से पहले ही रवाना किए जाते थे, और नये साल में बाद तक पहुंचते रहते थे. वह पोस्ट ऑफिस का जमाना था. डाक होती. डाकिए होते. वे घर-घर चिठ्ठी-पत्री पहुंचाया करते. आप अपने डाकिए को पहचाना करते थे. वह आपको पहचानता था. वह एक विश्वसनीय 'मानवीय माध्यम' होता था. 

यही चिठ्ठी-पत्री का और ग्रीटिंग्स कार्डस का जमाना था. कोई तीस-चालीस साल पहले तक दिल्ली के बाजारों की पटरियों पर ग्रीटिंग्स कार्ड उसी तरह से बिका करते थे, जिस तरह से इन दिनों मोबाइल के कवर्स बिका करते हैं, या कपड़े बिका करते हैं. तब कार्ड प्रिंटिंग एक बड़ा उद्योग था. हर अवसर के लिए स्पेशल कार्ड होते. 'आरचीज' जैसी दुकानें इसी दौर में खुलीं. जन्म दिवस, पितृ दिवस, मातृ दिवस, मित्र दिवस, हैप्पी मैरिज एन्नीवर्सरी, राखी कार्ड और न जाने कौन-कौन से कार्ड मिला करते. नये बरस का स्वागत करने वाले नई-नई डिजाइन के कार्ड छपा करते और थोक में बिका करते. कुछ सस्ते होते तो कुछ महंगे होते. कार्ड के साथ लिफाफे मिलते. लिफाफों पर मित्रों के पते लिख कर और डाक टिकट चिपका, पोस्ट बॉक्स में डालकर आप अपने को कुछ 'मॉडर्न' हुआ समझते.

हम में से जो लोग छोटे कस्बों और गांवों से आए हैं, उनके लिए कार्ड कल्चर एक मॉडर्न टच देती. कार्ड से शुभकामना संदेश भेजकर नया साल मनाना हमें कुछ आधुनिक बना जाता. लेकिन देखते ही देखते नई सूचना क्रांति और उसके नाना उपादानों खासकर मोबाइल की कनेक्टिविटी ने सब कुछ बदल दिया. व्हाट्सएप, मैसेज और फेसबुक आदि ने कार्ड कल्चर को आउट कर दिया. हर बात पर 'हैप्पी हैप्पी' तो होने लगा. ग्रीटिंग्स और शुभकामनाओं का आदान-प्रदान तो बढ़ा लेकिन 'दस्तखतों' वाले संदेश गायब हो गए.

आज जरा-जरा सी बात पर मैसेज तो नजर आते हैं,  लेकिन एक कसक फिर भी रह जाती  है, जिसे 'साइबर स्पेस' का 'साइबरपना' यानी आभासीपना देता ही है. यहां लिखे को हम न छू सकते हैं, न सूंघ सकते हैं, न अक्षरों पर हाथ फिरा कर उनको महसूस कर सकते हैं. वे एकदम सपाट और पास होकर भी दूर ही रहते हैं. वे फिजीकल नहीं महसूस होते.



फिर एक दिन ऐसा आता है कि मोबाइल का स्पेस भर जाता है. आप जगह बनाने के लिए साफ करते हैं, तो संदेश उड़ाने पड़ते हैं, और इस तरह वे गायब हो जाते हैं. आप उनको दोबारा पलट कर देखने से वंचित हो जाते हैं. यों तो इनका भी भंडारण हो जाता है, लेकिन इन्हें रिटीव करने में वह मजा नहीं आता जो कार्ड्स के फाइल में लगे होने और बरसों बाद उसे पलट कर देखने में आता है. कार्ड होते तो कहीं फाइल में या गड्डी बांध कर रखे होते. आप उनको बरसों बाद भी देख सकते थे. अपना इतिहास पढ़ सकते थे. कार्ड को संभालना एक 'कल्चरल काम' लगता है. मैसेज संभालना 'कल्चरल' नहीं महसूस होता.

हिंदी के कवि अ™ोय बड़े करीने वाले थे. वे साहित्य संबंधी गोष्ठियों के काडरे, निमंतण्रपत्रों को अपने पास सुरक्षित रखते थे. आप उनको पढ़कर उस दौर के साहित्यिक और कल्चरल इतिहास की झलक पा सकते हैं. ऐसे काडरे के किनारों पर लिखे नोट्स जिस तरह आपको आपके सोचने का इतिहास बता सकते हैं, साइबर स्पेस के संदेश उस तरह नहीं बता पाते. आपके मित्र का संदेश तो है मोबाइल का नम्बर भी है,  मेल का पता भी है, लेकिन उसके दस्तखत नहीं हैं, रंग-बिरंगी स्याहियां नहीं हैं, उनका पुरानापन और उस पुरानेपन की खास 'खूशबू' नहीं है.

हम कनेक्ट तो जरूरत से ज्यादा हैं, लेकिन एक दूसरे से संबंधित और संबद्ध नहीं रह गए हैं. साइबर स्पेस ने हमें संपर्कित तो कर दिया है, लेकिन किसी से संबंधित और संबद्ध नहीं रहने दिया है, और एक मानी में अपने आप से भी 'असबद्ध' कर दिया है. क्या बेहतर न हो कि हम कार्ड कल्चर की ओर फिर से लौटें और 'सीजन्स ग्रीटिंग्स' वाले काडरे का ही लेन देन शुरू करें ताकि हमारे दस्तखत कहीं तो बचे रहें.

 


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS:

PICS: 'ये बॉलीवुड सेल्फी ऑस्कर में हॉलीवुड सेल्फी को मात देगी?'

PICS:  दिल्ली के मैडम तुसाद में लगेगा सनी लियोनी का मोम का पुतला

PICS: दिल्ली के मैडम तुसाद में लगेगा सनी लियोनी का मोम का पुतला

PICS: ये है 18 बहादुर बच्चों की कहानी, आईएएस व आईपीएस तो किसी की डाक्टर बनने की तमन्ना

PICS: ये है 18 बहादुर बच्चों की कहानी, आईएएस व आईपीएस तो किसी की डाक्टर बनने की तमन्ना

जानिए 19 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 19 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 18 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 18 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

टाइगर जिंदा है ने दी बेहतरीन यादें: कैटरीना कैफ

टाइगर जिंदा है ने दी बेहतरीन यादें: कैटरीना कैफ

जानिए 17 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 17 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

आदिरा कामकाजी माता-पिता पर गर्व करेगी: रानी मुखर्जी

आदिरा कामकाजी माता-पिता पर गर्व करेगी: रानी मुखर्जी

जानिए 16 जनवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 16 जनवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 15 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 15 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

PICS: तमिलनाडु में धूमधाम से मनाया जा रहा पोंगल

PICS: तमिलनाडु में धूमधाम से मनाया जा रहा पोंगल

जानिए 14 से 20 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 14 से 20 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 13 जनवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 13 जनवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 12 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 12 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

PICS:

PICS: 'स्वच्छ आदत स्वच्छ भारत' की ब्रांड एंबेसडर बनीं काजोल

PICS: मकर संक्रांति: रंग-बिरंगी पतंगों से सजा खिला-खिला आकाश, छाया राजनीति का रंग

PICS: मकर संक्रांति: रंग-बिरंगी पतंगों से सजा खिला-खिला आकाश, छाया राजनीति का रंग

जानिए 11 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 11 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

मैं पेरिस में नहीं रहती हूं: मल्लिका

मैं पेरिस में नहीं रहती हूं: मल्लिका

PICS:एक मेला किताबों वाला, किताबों के बारे में थोड़ा यह भी जानें

PICS:एक मेला किताबों वाला, किताबों के बारे में थोड़ा यह भी जानें

जानिए 10 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 10 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 9 जनवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 9 जनवरी 2018, मंगलवार का राशिफल

जानिए 8 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 8 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 7 से 13 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 7 से 13 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल

जब जरुरत गर्ल के नाम से मशहूर हुई रीना राय

जब जरुरत गर्ल के नाम से मशहूर हुई रीना राय

जानिए 6 जनवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 6 जनवरी 2018, शनिवार का राशिफल

जानिए 5 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

जानिए 5 जनवरी 2018, शुक्रवार का राशिफल

'तुझे मेरी कसम' के सेट पर रितेश-जेनेलिया में क्यों नहीं हुई बात?

PICS: उत्तरी व पूर्वी भारत में ठंड का कहर जारी, विमान, ट्रेन सेवाएँ प्रभावित

PICS: उत्तरी व पूर्वी भारत में ठंड का कहर जारी, विमान, ट्रेन सेवाएँ प्रभावित

जानिए  4 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 4 जनवरी 2018, बृहस्पतिवार का राशिफल

जानिए 3 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 3 जनवरी 2018, बुधवार का राशिफल

जानिए 1 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 1 जनवरी 2018, सोमवार का राशिफल

जानिए 31 दिसम्बर से 06 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 31 दिसम्बर से 06 जनवरी तक का साप्ताहिक राशिफल


 

172.31.20.145