Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

12 Oct 2017 05:54:32 AM IST
Last Updated : 12 Oct 2017 06:03:20 AM IST

शिक्षण संस्थाएं : धर्मनिरपेक्ष चरित्र जरूरी

डॉ. ब्रह्मदीप अलूने
शिक्षण संस्थाएं : धर्मनिरपेक्ष चरित्र जरूरी
शिक्षण संस्थाएं : धर्मनिरपेक्ष चरित्र जरूरी

भारत के पहले राष्ट्रपति एवं महान शिक्षाविद् डॉ. राजेन्द्र प्रसाद देश में शिक्षा व्यवस्था के पुनर्निर्माण, शिक्षा से सामाजिक कल्याण, शिक्षा के माध्यम, शिक्षा और सामंजस्य, व्यावहारिक शिक्षा और बुनियादी तालीम जैसे सामाजिक सरोकारों से ताउम्र गहराई से जुड़े रहे.

भारतीय शिक्षा को लेकर उनके विचार सदैव प्रासंगिक बने रहते हैं. वे देश के करोड़ों लोगों के व्यक्तित्व की विभिन्नताओं को देश की एकता एवं अखंडता के लिए चुनौती समझते थे, जो देश के विकास में बाधक हो सकता है. उन्होंने जोर देकर कहा था कि देश की एकता एवं अखंडता को बनाए रखने का काम पुलिस का डंडा या अदालतें नहीं कर सकतीं. अगर यह दूर किया जा सकता है, तो केवल अच्छी शिक्षा द्वारा, और यह काम हमारे विश्वविद्यालय ही कर सकते हैं.

हाल ही में केंद्रीय विश्वविद्यालयों के एक सरकारी ऑडिट में सलाह दी गई है कि अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी और बनारस हिन्दू यूनिवर्सिटी के नाम से क्रमश: ‘मुस्लिम’ व ‘हिन्दू’ शब्द हटा लिया जाए ताकि विश्वविद्यालयों का धर्मनिरपेक्ष चरित्र प्रदर्शित हो सके. भारत के भावी भविष्य के सपने संजोने में देश के दो शिक्षा संस्थानों का गहरा योगदान रहा है. इन दोनों विश्वविद्यालयों को केंद्रीय विश्वविद्यालय का दरजा प्राप्त है, और हजारों विद्यार्थी नियमित यहां से ज्ञानार्जन कर रहे हैं. किसी धर्मनिरपेक्ष देश के शिक्षा संस्थानों में माहौल कैसा हो, यह देखना बेहद जरूरी हो जाता है क्योंकि इन दोनों विश्वविद्यालयों की प्रतिष्ठा देश ही नहीं विदेशों में भी है, और अनेक देशों के विद्यार्थी यहां शिक्षा प्राप्त करने आते हैं.

अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय की स्थापना सन् 1877 में स्वाधीनता संग्राम के दौरान राष्ट्रीय भावनाओं को मजबूत आधार एवं स्वदेशी शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए सर सैयद अहमद खान ने की थी. पहले दिन से ही अरबी, फारसी भाषाओं के साथ-साथ संस्कृत की शिक्षा की भी व्यवस्था की गई. सर सैयद अहमद खां निश्चित तौर पर इस विश्वविद्यालय के जरिए मुसलमानों को आधुनिक शिक्षा से जोड़ना चाहते थे. देश की सर्वोत्तम सुविधाओं से शुमार इस विश्वविद्यालय में तकरीबन 25 फीसद विद्यार्थी गैर-मुसलमान हैं. वैसे यहां के गैर-मुस्लिम छात्रों का अनुभव सामान्य नहीं रहता. रमजान शुरू होते ही कैम्पस के भीतर सारी कैंटीन बंद कर दी जाती हैं, जो शाम को इफ्तार के वक्त ही खुलती हैं. यहां तक कि होस्टल में भी यही स्थिति रहती है. कैम्पस में एक मजहब का बोलबाला रहता है.

जाहिर है एक धर्मनिरपेक्ष देश के शिक्षा संस्थान से अलहदा यहां का माहौल है. ‘यही नहीं शुक्रवार को हाफ टाइम के बाद जुम्मे की नमाज के लिए छुट्टी दे दी जाती है. इस दौरान भी सारी कैंटीन बंद हो जाती हैं.’ ऐसे में यहां पढ़ने वाले गैर-मुस्लिम कैसा अनुभव करते होंगे, समझा जा सकता है. काशी हिन्दू विश्वविद्यालय के संस्थापक मालवीय जी को सात्विकता, देशभक्ति, धर्मनिष्ठा तथा सेवा भाव के अद्भुत गुणों के साक्षात अवतार के रूप में याद किया जाता है. इस शिक्षा संस्थान को लेकर मालवीय जी की परिकल्पना में एक ऐसा धर्मनिरपेक्ष भारत का बेहतर भविष्य  रहा होगा जिससे समूचा राष्ट्र मजबूत हो सके. 1905 में इस विश्वविद्यालय को स्थापित करने का प्रस्ताव रखा गया और 4 फरवरी, 1916 को बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय का शिलान्यास हुआ. वर्तमान में यह विश्वविद्यालय अपनी स्थापना के गौरव को दरकिनार करने के रूप में तेजी से पहचान बना रहा है. काशी हिन्दू विश्वविद्यालय की स्थापना के 100 साल पूरे होने पर जो रैली निकली थी, उसमें राम मंदिर के नारे लग रहे थे. अभी हाल ही में इस शिक्षा संस्थान में राष्ट्रवाद और संस्कृतिवाद थोपने के प्रयास भी किए गए.

देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने भारत की एकता एवं अखंडता की रक्षा के लिए धर्म, जाति और संस्कृति का सहारा लेने से सदा बचने की हिदायत दी थी. भारत की तेजी से बढ़ती जनसंख्या के साथ सबसे बड़ी चुनौती देश के धर्मनिरपेक्ष चरित्र और साझी विरासत को बनाए रखना है. यह शिक्षा संस्थान ही कर सकते हैं, जिसकी बात डॉ.राजेन्द्र प्रसाद ने की थी. भारत के ख्याति प्राप्त शिक्षण संस्थानों में कथित संस्कृतिवाद को थोपने के प्रयास इस उदार लोकतंत्र के लिए आत्मघाती हो सकते हैं. बहरहाल, केंद्रीय विश्वविद्यालयों के सरकारी ऑडिट की सलाह पर गंभीरता से विचार किए जाने की जरूरत है.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 18 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 17 से 23 दिसम्बर तक का साप्ताहिक राशिफल

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से

PICS: 95 साल के हुए दिलीप कुमार, जानें कैसे बने यूसुफ खां से 'दिलीप कुमार'

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

Photos: ... इसलिए शशि कपूर को देखने दोबारा कभी अस्पताल नहीं गये अमिताभ

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

भारती सिंह ने हर्ष लिम्बाचिया संग लिए सात फेरे, देखिए Photos

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 4 दिसंबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बृहस्पतिवार, 30 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, बुधवार, 29 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

PICS: पुरानी साड़ी का ऐसे करें दोबारा इस्तेमाल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 20 नवम्बर 2017 का राशिफल

B

B'day Spl: 42 की हुई पूर्व मिस यूनीवर्स सुष्मिता सेन, आज भी बरकरार है ग्लैमरस अवतार

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

PICS: इस सवाल के जवाब ने भारत की मानुषी को बनाया मिस वर्ल्ड...

B

B'day- आराध्या की मौजूदगी घर में खुशी लाती है: अमिताभ

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

Diabetes: कहीं रह ना जाए मां बनने की चाह अधूरी

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 13 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 12 से 18 नवम्बर का साप्ताहिक राशिफल

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

सावधान! दिल्ली की दमघोंटू हवा में सांस लेने का मतलब 50 सिगरेट रोज पीना

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

महिला हॉकी टीम का भव्य स्वागत

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 6 नवम्बर 2017 का राशिफल

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

PICS: हैप्पी बर्थडे: 29 साल के हुए विराट, ऐसे मनाया बर्थडे

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

गिनीज बुक तक पहुंची खिचड़ी के तड़के की महक

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

बर्थ डे स्पेशल: देखें शाहरूख की वो तस्वीरें जो कर देगीं आपको हैरान

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

नेहरा ने लगभग 40 हजार दर्शकों के सामने क्रिकेट को कहा अलविदा...

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

PICS: सूरत में राहुल की वैन पर चढ़कर लड़की ने ली सेल्फी

हैप्पी बर्थडे:

हैप्पी बर्थडे: 'खूबसूरती की मिसाल' ऐश्वर्या राय बच्चन 44 की हुईं

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 30 अक्टूबर 2017 का राशिफल

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

यौन शक्ति घटाता है मोटापा

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

फीफा U-17: खूबसूरत रंगोली से सजा कोलकाता का साल्ट लेक स्टेडियम

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

प्रशिक्षु IAS अधिकारी जनता से जुडने की क्षमता विकसित करें: PM

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

तस्वीरों में देखिये, सूर्य उपासना के महापर्व छठ की छटा

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

माता सीता ने किया था पहला छठ, यहां मौजूद हैं उनके पदचिन्ह

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..

पटाखा बैन का असर, पिछले साल से कम हुआ प्रदूषण, देखें..


 

172.31.20.145