Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

27 Nov 2022 08:17:23 PM IST
Last Updated : 27 Nov 2022 08:18:41 PM IST

खराब सौदे के वर्षो बाद बचतकर्ताओं को ब्याज दर बढ़ने से बड़ी राहत

बचतकर्ताओं को ब्याज दर बढ़ने से बड़ी राहत

बचतकर्ताओं के लिए यह लंबे इंतजार के बाद जीत का एहसास हुआ है। वर्षो तक अपने बैंक खातों और एफडी पर लगभग कुछ भी नहीं पाने के बाद बचतकर्ता अंतत: मुद्रास्फीति के साथ तालमेल बिठाने के करीब आ रहे हैं। नए जारी किए गए बॉन्ड खरीदने के लिए निवेशकों को उच्च ब्याज भुगतान के साथ पुरस्कृत किया जा रहा है।

विशाल चंडीरामणि, मैनेजिंग पार्टनर, प्रोडक्ट्स और सीओओ, ट्रस्टप्लूटस वेल्थ ने कहा कि आपूर्ति श्रृंखला की बाधाओं, रूस-यूक्रेन संघर्ष, और उच्च कच्चे और खाद्य कीमतों जैसे कारणों से विश्व स्तर पर मुद्रास्फीति बढ़ रही है, वैश्विक केंद्रीय बैंकों को ब्याज दरों को उच्चतम स्तर तक बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा है।

नतीजतन, बैंकों और एनबीएफसी ने भी एफडी और बॉन्ड पर दरों में बढ़ोतरी की है। इसके अतिरिक्त, घरेलू मोर्चे पर बैंकों को ऋण वृद्धि में तेजी को पूरा करने के लिए अपने पूंजीकरण स्तर को बढ़ाने की जरूरत होगी। यह एफडी और बॉन्ड जारी करने पर दी जा रही दरों में और योगदान देगा। चंडीरामणि ने कहा कि निश्चित आय में निवेशकों के लिए उच्च प्रतिफल को लॉक करने का यह एक अच्छा समय है, क्योंकि कुछ महीनों/तिमाहियों के बाद मुद्रास्फीति कम हो सकती है और निश्चित आय निवेश पर सकारात्मक वास्तविक रिटर्न का लाभ मिलना शुरू हो सकता है।

फिक्स्ड डिपॉजिट की तुलना में बॉन्ड बेहतर रिटर्न देते हैं। फिनवे एफएससी के सीईओ रचित चावला ने कहा कि महंगाई के दौर में भी फिक्स्ड डिपॉजिट निवेश का सुरक्षित तरीका है। हालांकि, फिक्स्ड डिपॉजिट या स्थिर बैंक खाते से रिटर्न बॉन्ड में निवेश की तुलना में काफी कम हो सकता है।

इस समय बैंक में फिक्स्ड डिपॉजिट पर लगभग 5.5 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है, ठीक उसी तरह जिस तरह पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट पर सालाना 6.7 फीसदी का रिटर्न मिल सकता है। हालांकि आर्थिक मंदी के दौरान भी बॉन्ड, विशेष रूप से सरकारी बॉन्ड में रणनीतिक निवेश उपयोगी हो सकता है।

उन्होंने कहा कि किसी बॉन्ड में प्रभावी ढंग से निवेश करने का एक तरीका यह है कि इसे मैच्योरिटी की तारीख तक होल्ड करके रखा जाए और उस पर ब्याज की रकम वसूल की जाए। बॉन्ड से प्रभावी ढंग से बचाने का एक और तरीका है कि उन्हें रणनीतिक रूप से सही समय पर उसमें निवेश की गई प्रारंभिक राशि की तुलना में अधिक कीमत पर बेच दिया जाए। याद रखने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि बॉन्ड पर ब्याज दरों में विपरीत संबंध होता है और अगर ब्याज दरें बढ़ती हैं तो बॉन्ड की कीमतों में गिरावट की संभावना अधिक होती है, क्योंकि नए बॉन्ड की तुलना में इसका कूपन कम मूल्यवान होता है। मुद्रास्फीति के दौरान भी बॉन्ड में निवेश करने के लाभों में सुरक्षा, अनुमानित आय धारा और विविधीकरण शामिल हैं।

ट्रस्ट एमएफ के सीईओ संदीप बागला ने कहा कि ब्याज दरें बचतकर्ता की क्रय शक्ति को बनाए रखने के लिए हैं। यदि कीमतें एक निश्चित दर से बढ़ रही हैं, जिसे मुद्रास्फीति दर कहा जाता है, तो ब्याज दरें आम तौर पर मुद्रास्फीति दर से अधिक होनी चाहिए। बचतकर्ताओं को मुद्रास्फीति के खिलाफ पर्याप्त रूप से मदद दी जाती है और इस प्रकार उत्पन्न बचत को उत्पादक क्षेत्रों में परिवर्तित किया जा सकता है, जिससे स्वस्थ आर्थिक विकास दर बनी रहती है।

कोविड-19 की शुरुआत में यह आशंका थी कि उत्पादन, कमाई, खर्च आदि में गिरावट के कारण अर्थव्यवस्थाओं में भारी गिरावट आएगी। केंद्रीय बैंकरों ने अर्थव्यवस्थाओं को चालू रखने के लिए बेताब बोली में वित्तीय प्रणाली को भर दिया और मुद्रास्फीति के नीचे दरों में कटौती की।

भारतीय बचतकर्ताओं के लिए जश्न का पल आ सकता है। बागला ने कहा कि बचतकर्ताओं के साथ खराब सौदा हुआ, क्योंकि उनकी बचत मुद्रास्फीति से कम अर्जित हुई और वास्तविक दरें नकारात्मक हो गईं। उच्च चल निधि, आपूर्ति पक्ष के झटकों और तंग श्रम बाजारों के कारण वैश्विक मुद्रास्फीति में वृद्धि हुई। केंद्रीय बैंकों को तेजी से दरें बढ़ानी पड़ीं और भारतीय बचतकर्ता जो अपनी बचत पर 3-4 फीसदी कमा रहे थे, अब बाजार दर 7-7.25 फीसदी के करीब पहुंच रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय बचतकर्ता के लिए यह जश्न का क्षण हो सकता है, बशर्ते मुद्रास्फीति 5-5.50 फीसदी पर आ जाए।

यदि मुद्रास्फीति उच्च बनी रहती है, तो बचतकर्ता उच्च नाममात्र दर अर्जित करेगा, लेकिन प्रतिफल की वास्तविक दर कम रहेगी। उन्होंने कहा कि ब्याज दरों को मुद्रास्फीति के साथ जोड़कर देखा जाना चाहिए, क्योंकि यह महत्वपूर्ण है कि ब्याज दरें अपेक्षित मुद्रास्फीति से अधिक हों, ताकि बचत करने वाले को सकारात्मक वास्तविक प्रतिफल प्राप्त हो सके। प्रोफिसिएंट इक्विटीज के संस्थापक और निदेशक मनोज कुमार डालमिया ने कहा कि जैसे-जैसे ब्याज दरें बढ़ती हैं और बॉन्ड पर प्रतिफल बढ़ता है, निवेशकों को हाल ही में जारी किए गए बॉन्ड पर बेहतर दर मिल रही है।

एसएजी इंफोटेक के एमडी अमित गुप्ता ने कहा कि "कुछ बेहतरीन निवेशों में बेहतरीन गुणवत्ता वाले कॉर्पोरेट बॉन्ड, पीएसयू और बैंक बॉन्ड और बेहतरीन क्षमता के सरकारी बॉन्ड शामिल हैं। मेरा सुझाव है, यदि आप एक निवेशक हैं जो 2-3 साल की होल्डिंग अवधि वहन कर सकते हैं। आपको निश्चित रूप से डायनेमिक बॉन्ड फंडों में अपना एक्सपोजर बढ़ाना चाहिए। क्योंकि वे आपको मध्यम और लंबी अवधि के बॉन्ड पर बढ़ती यील्ड से महत्वपूर्ण लाभ प्राप्त करने का मौका दे सकते हैं।"

उन्होंने कहा, इसके अलावा, अस्थिर खर्चो और खर्च पर अचानक निर्णय लेने के मामले में आजीविका बेहतर होगी। इस अस्थिर स्थिति में बदलती बाजार स्थितियों के जवाब में पोर्टफोलियो स्थिति को समायोजित करने की स्वतंत्रता डायनेमिक बॉन्ड फंड को लंबी अवधि के लिए बेहतर निवेश बनाती है।

इस बदलते परिवेश में फ्लोटिंग-रेट फंड और कम-मैच्योरिटी फंड शायद बुद्धिमान विकल्प हैं। उन्होंने कहा कि चल निधि को पंप करने के लिए आरबीआई द्वारा की गई कोई भी कार्रवाई इन फंडों के लिए फायदेमंद होनी चाहिए।


आईएएनएस
नई दिल्ली
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 


फ़ोटो गैलरी

 

172.31.21.212