Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

16 Dec 2012 12:42:59 AM IST
Last Updated : 16 Dec 2012 12:45:20 AM IST

धर्म संहिता नहीं है ऋग्वेद

हृदयनारायण दीक्षित
लेखक
धर्म संहिता नहीं है ऋग्वेद

ऋग्वेद दुनिया का प्रथम काव्य है. क्षिति, जल, पावक, गगन और समीर को एक साथ गुनगुनाता हुआ काव्य.

लयबद्ध, प्रीति रस से सराबोर छंदबद्ध. भारत स्वयं में एक छंदबद्ध काव्य है. ऋग्वेद के पहले भी यहां सुदीर्घ काव्य परंपरा थी. ऋग्वेद के अनेक ऋषियों ने प्राचीन काव्य परंपरा का उल्लेख किया है. ऋग्वेद में ऋषि अयास्य आंगिरस ने कहा है हमारे पूर्वजों ने सात छंदों वाले स्तोत्र रचे थे. इनकी उत्पत्ति ऋत-सत्य से हुई थी.

आंगिरस ने तो स्तुतिपरक-स्तोत्र की रचना का ही उल्लेख किया. लेकिन ऋषि वामदेव ने सीधे ‘काव्य’ शब्द का ही प्रयोग किया है. काव्य अमर होता है कभी मरता नहीं. ऋग्वेद में वामदेव कहते हैं- देवों के काव्य को देखो. यह उगता है, इसका अवसान होता है, फिर-फिर प्रकट होता है. ऋग्वेद का काव्य अभिभूत करता है.

वैदिक काल में यज्ञ होते हैं. यज्ञ देवों की आराधना हैं, एक संस्था भी हैं; लेकिन ऋषि कवि के लिए यज्ञ भी काव्य का विषय हैं. बताते हैं, जैसे शोभन मुस्कराती स्त्री एकनिष्ठ होकर पति की ओर उन्मुख होती है वैसे ही घृतधाराएं अगि की ओर जाती हैं. जैसे पुत्र पिता की गोद में चढ़ता है, घृतधाराएं उसी तरह अगि पर चढ़ती हैं. वैदिक काव्य बड़ा प्यारा है.

वैदिक कवि अपने परिवेश के प्रति भावुक हैं. वष्रा आती है. मेढ़क निकालते हैं. उसके पहले वे छुपे रहते हैं. ऋषि का ध्यान उनके छुपने व प्रकट होने पर तो है ही, उनकी ध्वनि पर भी है. कहते हैं मेढ़क वर्ष भर सोने के बाद व्रत धारण करने वाले स्तुतिकर्ता की तरह प्रसन्न करने वाली वाणी बोल रहे हैं. जान पड़ता है कि ऋषियों का ध्यान ध्वनि तंत्र पर ज्यादा है. कहते हैं- मंडूकों में कोई बकरी की तरह बोलता है और कोई गायों की तरह. जैसे शिष्य अपने गुरू की ध्वनि का अनुसरण करते हैं, वैसे ही ये मंडूक भी हैं.

वैदिक काव्य मधुरस से भरापूरा है. ऋग्वेद में विामित्र और नदी का संवाद भावप्रवण रचना है. विामित्र ने उफनाती नदी से कहा- हम पार उतरना चाहते हैं, आप नीचे होकर बहो. नदी ने कहा- तुम दूर से आए हो. जैसे बच्चों को स्तनपान कराने के लिए मां झुकती है और जैसे पति को आलिंगन करने के लिए पत्नी अवनत होती है, उसी तरह हम भी तुम्हारे लिए नीची हो जाती हैं. यहां नदी भले ही उथली हो जाने की घोषणा करती है लेकिन कवि का भावबोध नदी से भी बहुत गहरा और रम्य है. जल देवता हैं.

जल ही संसार के सारे रसों का आधार हैं. कहते हैं- हे ऋत्विजो! जैसे शोभन पत्नी के साथ पुरुष आनंदित होते हैं, उसी तरह जल से मिलकर सोम. उसी जल से सोम को मिलाओ. रात्रि अंधकार के साथ आती है. ऋषि हृदय में रात्रि के प्रति अनुराग भाव है. कहते हैं- रात्रि ने चारों दिशाओं में विस्तार पाया है. वह नक्षत्रों के साथ शोभा प्राप्त करती है. ऋग्वेद के सभी मंत्र काव्य रस से सराबोर हैं. प्रकृति वर्णन में जहां काव्य की चरम ऊंचाइयां हैं, वहीं दार्शनिक सूक्तों में अनुभूतिक गहराइयां भी हैं.

ऋग्वेद आधुनिक कविता की नई शैली की तरह गद्य-मुक्तक नहीं है. ऋग्वेद आज्ञा सूचक धर्मसंहिता भी नहीं है. यहां किसी देवदूत की घोषणा नहीं है. अनेक ऋषि हैं. विचार विविधिता है. साढ़े दस हजार मंत्रों वाले इस काव्य संकलन में कहीं भी ‘मानने’ पर जोर नहीं है. यहां संसार के प्रति सामान्य आकषर्ण है. ऋग्वेद का समाज परलोक या स्वर्गलोक को यथार्थ संसार से बड़ा नहीं मानता. वह देवताओं को भी अपने भोजन, रसपान और खेती-किसानी के कामों के लिए आमंत्रित करता है. ऋग्वेद एक सनातन प्रवाह है. यूरोपीय विद्वान मैक्समूलर ने लिखा- जब तक पृथ्वी पर पर्वत और नदियां रहेंगी, तब तक ऋग्वेद की महिमा का प्रसार होता रहेगा. ऋग्वेद की रचना अचानक नहीं हुई.

पहले बोली का विकास हुआ, फिर सुव्यवस्थित भाषा संपदा आई. प्रकृति और समाज को देखने के तमाम दृष्टिकोण विकसित हुए. विचार-विमर्श और तर्क-प्रतितर्क का वातावरण था. सामाजिक, आर्थिक, वैज्ञानिक प्रश्नावली तो थी ही, दार्शनिक प्रश्न भी थे. ऋग्वेद में इसके पहले के अतीत की स्मृतियां हैं. तत्कालीन वर्तमान का रस, आनंद, राग-द्वैष है और भविष्य की दृष्टि भी है. सत्य, शिव और सुंदर भी हैं. शुभ और अशुभ एक साथ हैं. ऋषि सृष्टि, संसार और जीवन रहस्यों का वर्णन करते हैं.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा


 

172.31.21.212