Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

15 Dec 2010 12:00:32 AM IST
Last Updated : 15 Dec 2010 12:00:32 AM IST

नहीं बंधी पर्यावरण संरक्षण की खास उम्मीद

क्लाइमेंट चेंज सम्मेलन सम्पन्न

मैक्सिको के कानकुन में क्लाइमेंट चेंज सम्मेलन सम्पन्न हुआ।

रविशंकर

जिसका मुख्य उद्देश्य था, विकसित और विकासशील राष्ट्र 2020 तक ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन में भारी कटौती लाने की घोषणा करें तथा विकासशील और गरीब देशों को उन खतरों से निपटने के लिए आर्थिक और तकनीकी मदद देने का ऐलान करें। 2012 में खत्म होने वाले क्योटो प्रोटोकॉल को जारी रखने पर सहमति कायम करना भी इसका एक मुख्य उद्देश्य था। दो हफ्ते तक चले इस सम्मेलन में इन मसौदे को अंतिम रूप देने के लिए करीब दो सौ देशों के मंत्रियों ने जमकर माथापच्ची की।
लेकिन सम्मेलन शुरू होने से पहले ही विकसित एवं विकासशील देशों के बीच ग्रीनहाउस गैसों में कटौती को लेकर बहस शुरू हो गई। क्योंकि हर देश अपने लाभ के हिसाब से अपना रूख अपनाए हुए थे। जापान ने यह कहकर सम्मेलन की संभावनाओं पर पानी फेर दिया कि वह आगे क्योटो संधि से बंधने के लिए तैयार नहीं है। इसके तहत जापान सहित विश्व के 38 अमीर-औद्योगिक देशों ने यह वचन दिया हुआ है कि वे ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को 2008 से 2012 तक के बीच घटाकर 1990 के स्तर से भी 5 प्रतिशत कम करेंगे। जापान को चिंता है कि यदि उसने फिर इस पर सहमति व्यक्त कर दी तो उसकी अर्थव्यवस्था और भी पीछे हो जाएगी। वहीं भारत और चीन का मानना है कि उनकी अर्थव्यवस्थाएं विकास के रास्ते पर हैं, इसलिए वे इस तरह की किसी संधि को नहीं अपना सकते हैं।  
कानकुन में तमाम खींचतान के बावजूद दुनिया के देशों के बीच एक समझौता हो गया है। उसके तहत विकासशील देशों की मदद के लिए सौ अरब डॉलर वाला एक हरित जलवायु कोष बनाये जाने पर सहमति हो गई है। भारत ने इसे अहम कदम बताया है। सम्मेलन में यह भी घाोषणा की गई है कि 2020 तक सौ अरब डॉलर जुटाकर गरीब देशों को दिए जायेंगे ताकि ये जलवायु परिवर्तन के नतीजों से निपट सकें। हालांकि सम्मेलन में कार्बन का उत्सर्जन और घटाने की बात जरूर कही गई है, पर इसके तरीके का स्पष्ट जिक्र नहीं है। वहीं क्योटो प्रोटोकाल की समय सीमा 2012 से आगे बढ़ाने को लेकर भी कुछ स्पष्ट नहीं किया गया है जबकि क्योटो प्रोटोकाल के भविष्य को लेकर ही सबसे अधिक विवाद है।
कानकुन में हुई वार्ता कई मायनों में महत्वपूर्ण थी। एक तरफ जहां राजनीतिक समझौते को 2010 में एक अंतरराष्ट्रीय संधि का रूप दिया जाना था। साथ ही विकसित एवं विकासशील देशों के बीच ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को लेकर जो मतभेद आज तक बने हुए है, इसका भी समाधान इस सम्मेलन में निकलने की उम्मीद की जा रही थी। पर कानकुन में किसी समझौते पर पहुंचने के लिए अनेक विवादास्पद मुद्दों को अलग कर दिया गया। साथ ही यह निर्णय लिया गया कि सम्मेलन में हुए फैसलों को अगले साल दक्षिण अफ्रीका के डरबन में आगे बढ़ाया जाएगा। उम्मीद की जा रही है कि इसमें कानूनी बाध्यकारी समझौते पर आम राय बन जाएगी। हालांकि संभावना थी कि कानकुन में ही किसी विधिक रूप से बाध्यकारी समझौते पर आम राय बन सकेगी। इसके लिए तैयारी बैठकें भी की गई थीं। लेकिन कोई सकारात्मक परिणाम सामने नहीं आया।
आज ग्रीनहाउस का प्रभाव तेजी से बढ़ रहा है। अनुमान है कि स्थिति यही रही तो 2050 तक पृथ्वी के तापमान में 4 डि.से. तक की वृद्धि हो जाएगी। जिससे समुद्र के जल स्तर में 10 इंच से 5 फुट तक की वढ़ोतरी हो सकती है। जिससे सभी समुद्र तटीय नगर डूब जाएंगे। भारत के मुम्बई, कोलकाता, चेन्नई, पणजी, विशाखापत्तनम्, कोचीन आदि का भी अस्तित्व खतरे में पड़ जाएगा। न्यूयॉर्क, लांस एंजिल्स, पेरिस एवं लंदन आदि बड़े नगर भी जल मग्न हो सकते हैं। अत: यह संकट किसी एक देश की समस्या नहीं है, बल्कि विश्वव्यापी समस्या है। आज विकास की अंधी दौड़ के कारण ही ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन उच्चतम स्तर तक पहुंच गया है। इस रेस में पिछड़ने के डर से कोई भी देश कम उत्सर्जन के लिए तैयार नहीं है। वैसे भारत में प्रति व्यक्ति कार्बन उत्सर्जन एक प्रतिशत से भी कम है, जबकि आबादी के हिसाब से भारत ग्रीनहाउस गैसों का उत्सर्जन करने वाले देशों की सूची में पांचवे स्थान पर है।
यह सत्य है कि 1972 के स्टॉकहोम से 2007 में बाली तक अनेक छोटे-बड़े जलवायु परिवर्तन से सम्बन्धित सम्मेलन हुए। इन सभी में ग्रीनहाउस गैसों के उत्सर्जन को कम करने के लिए योजनाएं बनाई गर्इं। लेकिन इसमें अब तक कुछ खास कामयाबी नहीं मिल सकी है। अमेरिका, जो कि सर्वाधिक प्रदूषण उत्पन्न करता है, अपने आर्थिक विकास में बाधा की दुहाई देकर पर्यावरण सम्बन्धित समझौतों से अलग रहना चाहता है। कहने का आशय यही है कि अनेक प्रयासों के बावजूद नतीजा अब तक शून्य रहा है। इसलिए समन्वित प्रयास और समय से चेतने में ही भलाई है।


 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email


फ़ोटो गैलरी
Good Bye Golden Boy: फुटबॉल के भगवान माराडोना के वो 2 गोल जो आज भी किए जाते हैं याद

Good Bye Golden Boy: फुटबॉल के भगवान माराडोना के वो 2 गोल जो आज भी किए जाते हैं याद

IPL 2020: जानें, विजेता और उपविजेता सहित किसने कितनी जीती प्राइस मनी

IPL 2020: जानें, विजेता और उपविजेता सहित किसने कितनी जीती प्राइस मनी

PICS: कंगना रनौत को आई मुंबई की याद, तस्वीरें शेयर करके बताया कौन सी चीज करती हैं सबसे ज्यादा मिस

PICS: कंगना रनौत को आई मुंबई की याद, तस्वीरें शेयर करके बताया कौन सी चीज करती हैं सबसे ज्यादा मिस

PICS: पीएम मोदी ने आरोग्य वन, एकता मॉल और पोषक पार्क का किया उद्घाटन, जानिए इनकी खासियत

PICS: पीएम मोदी ने आरोग्य वन, एकता मॉल और पोषक पार्क का किया उद्घाटन, जानिए इनकी खासियत

PICS: ढेर सारे शानदार फीचर्स के साथ iPhone 12 Pro, iPhone 12 Pro Max लॉन्च, जानें कीमत

PICS: ढेर सारे शानदार फीचर्स के साथ iPhone 12 Pro, iPhone 12 Pro Max लॉन्च, जानें कीमत

PICS: नोरा फतेही ने समुद्र किनारे किया जबरदस्त डांस, वीडियो वायरल

PICS: नोरा फतेही ने समुद्र किनारे किया जबरदस्त डांस, वीडियो वायरल

Big Boss 14 : झलक बिग बॉस 14 के आलीशान घर की

Big Boss 14 : झलक बिग बॉस 14 के आलीशान घर की

PICS: डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के शानदार कलेक्शन के साथ संपन्न हुआ डिजिटल आईसीडब्ल्यू

PICS: डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के शानदार कलेक्शन के साथ संपन्न हुआ डिजिटल आईसीडब्ल्यू

PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के

PICS: अक्षय कुमार ने बताया-रोजाना पीता हूँ गौमूत्र, हाथी के 'पूप' की चाय पीना बड़ी बात नहीं

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

PICS: दिल्ली सहित देश के कई शहरों में एहतियात के साथ शुरू हुई मेट्रो सेवा

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

प्रणब दा के कुछ यादगार पल

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: दिल्ली-NCR में भारी बारिश के बाद मौसम हुआ सुहाना, उमस से मिली राहत

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

PICS: सैफ को जन्मदिन पर करीना कपूर ने दिया खास तोहफा, वीडियो किया शेयर

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

स्वतंत्रता दिवस: धूमधाम से न सही पर जोशो-खरोश में कमी नहीं

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

इन स्टार जोड़ियों ने लॉकडाउन में की शादी, देखें PHOTOS

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

PICS: एक-दूजे के हुए राणा दग्गुबाती और मिहीका बजाज, देखिए वेडिंग ऐल्बम

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

प्रधानमंत्री मोदी ने राममंदिर की रखी आधारशिला, देखें तस्वीरें

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट


 

172.31.21.212