Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

07 Feb 2019 05:43:45 AM IST
Last Updated : 07 Feb 2019 05:46:03 AM IST

विश्लेषण : हवा-हवाई बजट

प्रभात पटनायक
विश्लेषण : हवा-हवाई बजट
विश्लेषण : हवा-हवाई बजट

एक जमाना था जब केंद्र सरकार का सालाना बजट एक गंभीर मामला हुआ करता था।

बेशक, तब भी बजट में उसे बनाने वाली सरकार का वर्गीय झुकाव झांक रहा होता था, लेकिन यह वर्गीय झुकाव ठीक-ठीक किस तरह से विभिन्न बजट प्रस्तावों में अभिव्यक्त होता था, इसे बजट आंकड़ों की छानबीन कर के साबित करना होता था और इसमें मेहनत लगती थी। यूं तो हमेशा से बजट में चीजों को रंग-चुनकर पेश किए जाने का भी एक तत्व रहता था, लेकिन यह हाशिए तक ही सीमित रहता था। बजट का मुख्य भाग, गंभीर छानबीन की मांग करता था, लेकिन मोदी सरकार के राज में अब यह सब बदल गया है। अब तो सबसे महत्त्वपूर्ण बजट प्रस्तावों को शायद ही खास गंभीरता से लिया जा सकता है।
जरा इस बजट के सबसे नजर खेंचू प्रस्ताव पर ही नजर डाल लें। यह प्रस्ताव 2 हेक्टेयर तक की जमीन की मिल्कियत वाले सभी किसान परिवारों के लिए 6,000 रुपये साल की सहायता देने का है, मगर जिस रोज कामचलाऊ वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने बजट में यह घोषणा की, छुट्टी पर चल रहे असली वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कह दिया कि वित्त वर्ष 2019-20 से ही केंद्र सरकार, राज्य सरकारों से कह सकती है कि इस धन हस्तांतरण में 40 फीसद योगदान दें, जबकि 60 फीसद हिस्सा ही केंद्र देगा। यह स्पष्ट है कि अगर केंद्र सरकार ने वाकई इस हस्तांतरण के लिए फंड की व्यवस्था की होती, तो जेटली ने इसे तथ्यत: एक केंद्र-प्रायोजित योजना में तब्दील नहीं कर दिया होता। जेटली की टिप्पणी से यह साबित होता है कि बजट में इस योजना के लिए जो साधन दिखाए गए हैं, वह वास्तव में बिल्कुल ही हवाई हैं और बजट के आंकड़े, पूरी तरह से दिखावटी हैं। आंकड़ों का यह खोखलापन, 2018-19 के संशोधित अनुमानों के मामले में भी सच है।

स्वतंत्र शोधकर्ताओं ने यह साबित कर दिया है कि 2018-19 के लिए केंद्रीय जीएसटी का राजस्व संग्रह, जिसके संशोधित अनुमान में 5.04 लाख करोड़ रुपये ही यानी 2018-19 के बजट अनुमान से पूरे 1 लाख करोड़ रुपये कम रहने का अनुमान था, वास्तव में इस आंकड़े तक भी पहुंचता नजर नहीं आता है। अप्रैल-जनवरी के दौरान यह राजस्व संग्रह 3.77 लाख करोड़ रुपये रहने का ही अनुमान है और 37,635 करोड़ रुपये के औसत मासिक कर संग्रह के साथ, पूरे वित्त वर्ष के लिए यह कर संग्रह 4.52 लाख करोड़ का आंकड़ा पार नहीं कर सकता है। यह संशोधित अनुमान से भी 52,000 करोड़ रुपये घटकर होगा। इसी प्रकार, कापरेरेट आयकर और सार्वजनिक क्षेत्र की हिस्सा पूंजी के विनिवेश से अंतत: हासिल होने वाला राजस्व, 2018-19 के संशोधित अनुमानों से काफी घटकर ही रहने जा रहा है। बहरहाल, चूंकि नवउदारवादी व्यवस्था में विीकृत वित्तीय पूंजी को यह दिखाना बहुत ही जरूरी होता है कि राजकोषीय घाटे को मजबूती से बांधकर रखा जा रहा है, वर्ना यह वित्तीय पूंजी बदहवास हो जाएगी और देश से उड़नछू ही हो जाएगी। इसलिए, सरकार हर तरह की हिसाब-किताब की तिकड़मों का सहारा लेने में लगी रही है।
बेशक, राजकोषीय घाटा अपने आप में कोई बुरी चीज नहीं है, जबकि विीकृत वित्तीय पूंजी और नवउदारवादी अर्थशास्त्रियों द्वारा उसे ऐसा बनाकर पेश किया जाता है। फिर भी, यहां दो नुक्ते दर्ज करने वाले हैं। पहला, कर राजस्व का गंभीर रूप से घटकर आना चिंता का कारण होना चाहिए और भविष्य के लिए अच्छा लक्षण नहीं है। दूसरे, बजट में पेश किए गए आंकड़ों की इसके बाद शायद ही कोई साख रह जाएगी। इसी तरह का अतिरंजनापूर्ण आकलन, 2019-20 की अनुमानित कर प्राप्तियों की भी पहचान बना हुआ है। कापरेरेट कर प्राप्तियां, जो 2018-19 के संशोधित अनुमान में 6.71 करोड़ रुपये लगाई गई हैं और जिनका इस आंकड़े तक भी पहुंचना बहुत ही मुश्किल है, 2019-20 के बजट अनुमान में भारी बढ़ोतरी के साथ, 7.6 करोड़ रुपये आंकी गई हैं। इसी प्रकार, केंद्रीय जीएसटी की प्राप्तियां, जिनके जैसा कि हम पहले ही देख आए हैं, 2018-19 में 4.52 लाख करोड़ रुपये के करीब तक ही पहुंचने का अनुमान है, 2019-20 के बजट अनुमान में बढ़कर, 6.10 लाख करोड़ रुपये पर पहुंचती दिखाई गई हैं। चूंकि बजट के प्राप्तियों के खाते में काफी कुछ हवाई है, स्वाभाविक रूप से यही बात, खचरे के खाते मामले में भी सच है।
बेशक, 2019-20 का बजट बड़ी बेशर्मी से, गरीबों की चिंता ही नहीं होने को  दिखाता है। मनरेगा के लिए आवंटन, 2018-19 के मुकाबले, 1000 करोड़ रुपये घटा दिया गया है। इस तथ्य को देखते हुए कि इसका 2018-19 का आवंटन तो इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही के आखिर तक आते-आते खत्म ही हो चुका था और ऐसा इस जानी-मानी परिघटना के बावजूद देखने को मिल रहा था कि मनरेगा के अंतर्गत रोजगार की मांग का एक अच्छा-खासा हिस्सा तो, रजिस्टर ही नहीं हो पाता है। इस सबके बावजूद, सरकार का इस बार के बजट में 2018-19 से भी 1,000 करोड़ रुपये कम का आवंटन करना, इस योजना के प्रति और इसलिए, इसके लाभार्थी करोड़ों गरीबों के प्रति, सरासर उदासीनता को ही दिखाता है। इसी तरह, अनुसूचित जातियों और जनजातियों के लिए आवंटन में शुद्ध कटौतियां की गई हैं। इतना ही नहीं, खेतिहर परिवारों के लिए नकद सहायता योजना के दायरे से भी, सबसे गरीबों को तो बाहर ही रखा गया है। इस योजना के दायरे में भूमिधर काश्तकार ही आते हैं (जिनके पास ‘आवासीय प्लाट’ के अलावा खेती की ‘जमीन’ हो), भूमिहीन मजदूर तो साफ तौर पर इसके दायरे से बाहर ही रहेंगे। और चूंकि जिन भूमिधरों के लिए यह आय सहायता दी जानी है, उनमें अक्सर बंटाईदारों के नाम नहीं होंगे क्योंकि बंटाईदारी की जोतों के बारे में जानकारी ही नहीं होती है और इस तरह बंटाईदार भी इसके दायरे से बाहर हो जाएंगे। इस तरह कृषि क्षेत्र के भी सबसे गरीबों यानी खेत मजदूरों और बंटाईदारों को इस नकद आय सहायता योजना के दायरे से पूरी तरह से बाहर ही कर दिया गया है।
बेशक, चुनाव से पहले सरकारें घूस देती ही हैं। किंतु 2019-20 के बजट को सामान्य रूप से ऐसा होने से अलगाने वाली एक बात तो यही है कि एक ऐसी सरकार ने, जिसके कार्यकाल के सिर्फ दो महीने नया वित्त वर्ष शुरू होने के बाद बचेंगे, एक पूर्ण बजट पेश किया है, जो कि अंसवैधानिक है। लेकिन, इसके ऊपर से इस बजट के सारे आंकड़े ही हवा-हवाई हैं। आबादी के अपेक्षाकृत छोटे मध्यम संस्तर के लिए कुछ रियायतें दिए जाने को छोड़ दिया जाए तो, बजट के ये आंकड़े सिर्फ चुनाव प्रचार में बढ़त दिलाने के लिए रखे गए हैं।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...


 

172.31.21.212