Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

03 Apr 2020 11:35:24 PM IST
Last Updated : 03 Apr 2020 11:40:17 PM IST

सरोकार के प्रकाश से दूर होगा कोरोना का अंधकार

उपेन्द्र राय
सीईओ एवं एडिटर इन चीफ
सरोकार के प्रकाश से दूर होगा कोरोना का अंधकार
देश में संपूर्ण लॉकडाउन

देश में संपूर्ण लॉकडाउन का आज 10वां दिन है, यानी वो पड़ाव जहां 21 दिनों की तालाबंदी का आधा सफर पूरा होता है। लेकिन इस बात का यह मतलब लगाना बड़ी भूल होगी कि अब कोरोना से लड़ाई का आधा सफर ही बाकी है।

दरअसल देश अब लड़ाई के उस निर्णायक दौर में प्रवेश कर रहा है जहां हर राह पर परस्पर सहयोग, हर मोड़ पर आपसी सरोकार और हर कदम पर एक-दूसरे पर विश्वास की जरूरत है। लॉकडाउन के असर को व्यापक और सामुदायिक संक्रमण को सीमित करके देश को उसके इतिहास की शायद सबसे बड़ी त्रासदी से बचाने का इसके अलावा कोई रास्ता नहीं है।

देश बेशक अभी सामुदायिक संक्रमण की अवस्था में न पहुंचा हो, लेकिन इसका खतरा ज्यादा दूर भी नहीं है। पिछले 10 दिनों में संपूर्ण लॉकडाउन के भविष्य पर उठा हर सवाल इस खतरे की आहट से लाजवाब साबित हुआ है। शायद इसीलिए अगले 11 दिनों का सबसे बड़ा सवाल यही रहने वाला है कि संपूर्ण लॉकडाउन कोरोना की इस खतरनाक स्टेज को टालने के अपने मकसद में कितना कामयाब रहेगा? देश की सरकार ने इसके लिए मेगा प्लान बनाना भी शुरू कर दिया है। गुरु वार को मुख्यमंत्रियों की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रधानमंत्री ने एक तरह से इस दिशा में राज्यों की तैयारियों का जायजा भी ले लिया। उम्मीद है कि 21 दिनों की मियाद पूरी होने पर लॉकडाउन को भले ही पूरी तरह से न हटाया जाए, पर इसकी चरणबद्ध प्रक्रिया शुरू हो सकती है  बेशक हालात इसी तरह काबू में रहे जैसे कि वो फिलहाल हैं।

यही देश और सरकार की सबसे बड़ी चुनौती भी है। खासकर लॉकडाउन के पहले आधे हिस्से की दो बड़ी घटनाओं ने इस चुनौती को और मुश्किल बना दिया है। दोनों घटनाएं भारत के लिए ही नहीं, भारत की ओर उम्मीद की नजरों से देख रही दुनिया के लिए भी महत्वपूर्ण हैं। एक घटना गरीबों के पलायन की है जिसमें भुखमरी या कोरोना में से किसी एक को चुनने की लाचारी है और दूसरी घटना धर्म के विस्तार से जुड़ा सुकून है जिसमें केवल अपने कौम को ही नहीं, पूरे वतन को मुश्किल में डालने का अजीबोगरीब जुनून है।
 

पलायन की घटना को किसी ने साजिश कहा, तो किसी ने चिंता जताई। मगर, जब दुधमुहें बच्चे को गोद में लेकर एक बाप या सात महीने का गर्भ लेकर कोई महिला अपने परिवार के साथ सैकड़ों किलोमीटर पैदल चलने की ठान ले तो उसका कारण मामूली कतई नहीं हो सकता। सवाल यह है कि गरीब अगर सड़क पर उतरे तो क्या वह कोरोना से लड़ाई नहीं थी? कोरोना संकट ने गरीबों की रोजी-रोटी छीन ली। अस्तित्व की लड़ाई में कोरोना को मात देने ही तो वे निकले थे। जी गए तो कोरोना हार जाए और हार गए तो कोरोना जीत जाए।

निजामुद्दीन के मरकज का मसला अलग है। सामान्य दिनों में वहां सालभर धर्मगुरुओं और आस्थावानों का जमघट लगा रहता है। इसमें कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है। लेकिन संकट काल में समाज और देश की उम्मीदें अलग होती हैं। यह वह वक्त होता है जब सारे धर्म मिलकर इंसानियत के धर्म में बदल जाते हैं जिसके सामने फिर किसी एक धर्म के प्रचार का मंसूबा बेमानी हो जाता है। मरकज में पहुंचे लोग इसी ‘ईमान’ को सुरक्षित रखने की उम्मीदों पर खरे नहीं उतरे। जिस पवित्र जगह से धार्मिंक शिक्षाओं का विस्तार होना था, वहीं से जाने-अनजाने देश भर में कोरोना का फैलाव होना अब दुनिया के लिए सबक बन गया है। यह अंधविश्वास भी सामने आया कि ऊपरवाले के दरबार में कोरोना से कोई नहीं मर सकता और यह हठधर्मिंता भी कि अगर कोई मरता भी है तो इससे बेहतर मौत कुछ हो ही नहीं सकती।

अच्छा होता कि मरकज ने वेटिकन सिटी और मक्का से सबक लिया होता। वीरान हो चुकी वेटिकन सिटी में बारिश में भीगते हुए पोप ने अकेले सड़क पर चल कर कोरोना के खिलाफ एकजुटता का संदेश दिया है। दुनिया आबाद बनी रहे, इसलिए मक्का में खुदा का घर भी सुनसान है। दुनिया भर की मस्जिदों और गिरिजाघरों का यही हाल है। हमारे देश में भी चारों धाम बंद हैं, धार्मिंक स्थलों में सन्नाटा पसरा है, कभी न रुकने वाला अमृतसर का लंगर भी कोरोना काल में ठहर गया है। यह सब सिर्फ इसलिए कि कोरोना से लड़ाई मजबूत हो।

हालांकि अपराध की हद वाली इस लापरवाही के लिए अकेले मरकज को कसूरवार ठहराना भी जायज नहीं होगा। जाहिर तौर पर यह मामला सावधानी हटी, दुर्घटना घटी वाला दिखता है। यह कैसे मान लिया जाए कि देश की राजधानी में इतनी सतर्कता और सुरक्षा के बावजूद हजारों लोग जमा होते रहे और पुलिस और खुफिया तंत्र को भनक तक नहीं लगी या फिर कहीं ऐसा तो नहीं कि पता होते हुए भी हमारा तंत्र इसकी गंभीरता को भांप नहीं सका। मरकज में जमातें पहली बार नहीं पहुंची थी। वैसे भी तबलीगी मरकज में आने वाले प्रतिनिधि ब्यूरो ऑफ इमीग्रेशन से लेकर गृह मंत्रालय तक अपने आगमन की सूचना देते हैं। सवाल उठता है कि फिर इस बार ऐसा क्या हुआ कि इतने दिनों तक दो हजार से ज्यादा लोगों का जमावड़ा लगा रहा और न तो 100 मीटर से कम दूरी पर बने थाने में कोई हलचल हुई और न खुफिया तंत्र ने कोई सक्रियता दिखाई। क्या दिल्ली पुलिस की जिम्मेदारी मरकज के प्रतिनिधियों से मुलाकात का ‘सबूत’ तैयार करने भर से पूरी हो जाती है? उल्टे दिल्ली पुलिस की ओर से जारी मुलाकात के इस वीडियो से ही इस बात के सबूत मिल जाते हैं कि एसएचओ से लेकर बड़े पुलिस अफसर और एसडीएम रैंक के अधिकारी तक को इस जमावड़े की सूचना थी। फिर बार-बार के पत्र-व्यवहार के बावजूद समय रहते कोई कार्रवाई नहीं हुई तो इसके लिए अकेले मरकज पर ठीकरा फोड़ने से काम नहीं चलेगा।

रास्ता बार-बार केवल इस सवाल को उठाने से भी नहीं निकलेगा कि इस चूक की देश को कितनी बड़ी कीमत चुकानी पड़ेगी। बल्कि इसके लिए एक बार फिर कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर खड़ा होना पड़ेगा। साथ ही इस लड़ाई को कमजोर कर रहे लोगों को साफ और स्पष्ट संदेश भी देना होगा कि मानवाधिकार मानवों के लिए होता है, दानवों के लिए नहीं। खासकर कोरोना के कहर से बचाने के लिए ‘धरती के भगवान’ की तरह काम कर रहे डॉक्टरों और हेल्थ वर्करों के साथ बदसलूकी को तो किसी कीमत पर बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। इंदौर, धारावी, राजस्थान और यूपी-बिहार से इंसानियत को शर्मसार करने वाली कई ऐसी तस्वीरें सामने आई हैं जब कोरोना से लोगों की जान बचा रहे स्वास्थ्य अमले को अपनी जान तक दांव पर लगानी पड़ी है।
 
अच्छी बात यह है कि इन सब घटनाओं के बावजूद कोरोना से लड़ने का देश का संकल्प और जज्बा बरकरार है और अब तो दुनिया भी इस जज्बे को सलाम कर रही है। स्वास्थ्य से जुड़े दुनिया के सबसे बड़े संगठन डब्ल्यूएचओ तक ने कोरोना से भारत की लड़ाई की तारीफ की है और अमेरिका, ब्रिटेन जैसी महाशक्तियों को इससे सीख लेने की सलाह दी है। भारत से उम्मीद की जा रही है कि जिस तरह साथ रहकर हमने पोलियो से दुनिया को निजात दिलाई, वैसी ही एकजुटता कोरोना के अंधकार को भी दूर कर सकती है। पांच अप्रैल की रात को देश के घर-घर में प्रकाश पर्व मनाने की प्रधानमंत्री की अपील दरअसल एक अरब 36 करोड़ देशवासियों को यह स्मरण करवाने की कोशिश ही है कि सामाजिक दूरियां बनाए रखते हुए भी सामूहिक शक्ति के दम पर कोरोना की महामारी को भी परास्त किया जा सकता है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब


 

172.31.21.212