Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

27 Mar 2020 05:12:52 AM IST
Last Updated : 27 Mar 2020 05:15:21 AM IST

मध्य प्रदेश : जनादेश पर भारी ’ऑपरेशन‘

राजेन्द्र शर्मा
मध्य प्रदेश : जनादेश पर भारी ’ऑपरेशन‘
मध्य प्रदेश : जनादेश पर भारी ’ऑपरेशन‘

यह कोई संयोग ही नहीं था कि कोरोना वायरस से बचाव के तकाजों से संसद का बजट सत्र समय से पहले खत्म किए जाने के चंद घंटों में ही शिवराज सिंह चौहान को चौथी बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई जा चुकी थी।

बेशक, इस तरह महज पंद्रह महीने में भाजपा की सत्ता में वापसी हो गई और लगातार पंद्रह साल राज्य में सत्ता से बाहर रही कांग्रेस एक बार फिर सत्ता से बाहर हो गई। चाहें तो इसे 2018 आखिर में मध्य प्रदेश, राजस्थान तथा छत्तीसगढ़ में भाजपा की चुनावी हार खास तौर पर हिंदीभाषी भारत में विधानसभाई चुनावों में भाजपा की हार के सिलसिले को, जो पिछले महीने दिल्ली में हुए चुनाव में उसकी हार तक जारी था, पलटने में भाजपा के ‘आपरेशन कमल’ की कामयाबी भी कह सकते हैं।
लेकिन, इस कामयाबी की भारतीय जनतंत्र को क्या कीमत चुकानी पड़ी है, इसका कुछ अंदाजा उस संयोग की क्रोनोलॉजी से लगाया जा सकता है, जिसका हमने शुरू में जिक्र किया है। कोरोना वायरस की रोकथाम के जरूरी उपाय के तौर पर पूरे देश में लॉक डॉउन, यहां तक कि कथित ‘जनता कर्फ्यू’ लागू कराए जाने और विपक्षी सांसदों के बार-बार इस खतरे को देखते हुए, संसद का अधिवेशन खत्म किए जाने की मांग करने के बावजूद, संसद का सत्र समाप्त नहीं किया गया क्योंकि मध्य प्रदेश में ऑपरेशन कमल को कामयाब कराने के लिए यह जरूरी था। छह मंत्रियों समेत कमलनाथ सरकार के समर्थक 22 विधायकों के भाजपा-शासित कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरू में रिसॉर्ट में जा छुपने और भाजपा के माध्यम से विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफे भेज देने के बाद मध्य प्रदेश के स्पीकर ने कोरोना के खतरे के आधार पर विधानसभा की बैठक और इस तरह ‘आपरेशन कमल’ की सफलता भी, दस दिन यानी 26 मार्च तक टालने की कोशिश की थी। स्पीकर के फैसले को पलटवाने और तुरंत विधानसभा में बहुमत का परीक्षण कराने के लिए भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट में जो याचिका डाली थी उसकी सफलता के लिए, सांसदों को खतरे में डालते हुए भी, संसद का अधिवेशन जारी रखा जाना जरूरी था।

जाहिर है कि मप्र में भाजपा की सत्ता में वापसी सुनिश्चित करने के बाद, संसद के अधिवेशन की जरूरत भी खत्म हो गई। मोदी सरकार का सक्रिय आशीर्वाद, भाजपा की मध्य प्रदेश में सत्ता में वापसी के लिए जरूरी तो था, लेकिन अपने आप में काफी नहीं। उसे काफी बनाया कांग्रेस के विधायकों में से थोक के हिसाब से दल-बदल कराने के भाजपा के ‘आपरेशन कमल’ ने। इसीलिए तो मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद चौहान ने सबसे पहला काम तो अपनी पार्टी की सदस्यता त्याग कर भाजपा की सदस्यता लेने के वाले 22 पूर्व विधायकों के प्रति ‘आभार प्रकट’ करने का ही किया। उन्हें भरोसा भी दिलाया कि ‘उनके विश्वास को कभी टूटने नहीं’ दिया जाएगा। यह सिलसिला यहीं नहीं रुका। कांग्रेस से इस थोक दल-बदल और इस तरह चौहान की सत्ता में वापसी में धुरी की भूमिका अदा करने वाले ज्योतिरादित्य सिंधिया को वह कैसे भूल सकते थे? चौहान ने उनका हार्दिक आभार जताया, अभिनंदन किया और ‘सदैव मिलकर कार्य करते रहने’ का संकल्प भी जताया। 
जाहिर है कि इन्हीं सब हथकंडों के जरिए और दलबदल कानून को पूरी तरह से धता बताते हुए सिर्फ पंद्रह महीने पहले मध्य प्रदेश की जनता द्वारा चुनाव के जरिए किए गए फैसले को पलटा गया है। 2018 के आखिर में हुए विधानसभाई चुनाव में मध्य प्रदेश की जनता ने भाजपा को विपक्ष में बैठने का आदेश दिया था और कांग्रेस की सीटें करीब दोगुनी हो जाने के अर्थ में कांग्रेस के पक्ष में फैसला दिया था। हालांकि 114 सीटों के साथ कांग्रेस शुरू से 109 सीटों वाली भाजपा से साफ तौर पर आगे थी, फिर भी उसके 230 सदस्यीय सदन में बहुमत के अंक से दो सीट पीछे रहने के सहारे भाजपा ने किसी भी जोड़-जुगाड़ से दोबारा सत्ता में पहुंचने के लिए काफी हाथ-पांव मारे भी थे। लेकिन चंद महीनों में होने जा रहे लोकसभाई चुनाव से ऐन पहले मोदी की छवि पर अच्छा असर न पड़ने की चिंता से मोदी-शाह जोड़ी ने उस समय इन कोशिशों को बढ़ावा नहीं दिया।
बहरहाल, आम चुनाव में दोबारा जीत के बाद और मोदी-शाह जोड़ी के खुद भाजपा समेत देश भर में सत्ता पर अपना कब्जा पहले से भी ज्यादा मजबूत कर लेने के बाद, जोड़-जुगाड़ का वह संकोच हवा हो गया। उल्टे चुनाव में हार के बाद भी हर जगह किसी भी तिकड़म से सत्ता पर काबिज होने की भाजपा की हवस, जो मोदी-1 में गोवा, मणिपुर, मिजोरम से लेकर मेघालय, उत्तराखंड तक में खुलकर सामने आई थी, मोदी-2 में और भड़क उठी है, जिसके निशाने पर अब अपेक्षाकृत बड़े राज्य हैं। इस सिलसिले की शुरुआत कर्नाटक से हुई थी और अब मध्य प्रदेश में जो कुछ हुआ है, पिछले साल की जुलाई के आखिर में परवान चढ़े कर्नाटक के ‘आपरेशन कमल’ का ही दूसरा संस्करण है। यह दलबदल कानून को बेमानी बनाते हुए थोक में दलबदल कराने की तिकड़म का ही दूसरा नाम है। भारतीय जनतंत्र का दुर्भाग्य है कि चुनाव में पांच साल के लिए जनता के फैसले की हिफाजत करने के लिए बनाए गए दलबदल विरोधी कानून को सबके देखते-जानते हुए धता बताने के इस खेल में देश में सत्ता में बैठी पार्टी तो शामिल ही है और जैसा कि मध्य प्रदेश के खेल के सफल होने तक संसद का सत्र खींचे जाने से साफ है, इस खेल में विधायिका को भी घसीट लिया गया है।
इसके ऊपर से, जैसा कि मप्र प्रकरण में सुप्रीम कोर्ट के आदेश से साफ है, न्यायपालिका भी जनतंत्र का मखौल बनाए जाने पर अंकुश लगाने में लगातार विफल हो रही है। इससे पहले कर्नाटक में सामूहिक इस्तीफा देने वाले दलबदलू विधायकों की विधानसभा की सदस्यता समाप्त करने के जरिए मौजूदा विधानसभा के कार्यकाल के दौरान उनके दोबारा चुनाव लड़ने पर रोक लगाई थी, सुप्रीम कोर्ट ने रोक हटाकर उनके वर्तमान विधानसभा में ही भाजपा के टिकट पर चुनकर फिर से पहुंचने का रास्ता खुलवाया था। जाहिर है कि मप्र के ऑपरेशन कमल-2 के लाभार्थियों को कर्नाटक के अपने समकक्षों जैसे लाभ मिलेंगे।
जब देश में सत्ता पर काबिज राजनीतिक शक्ति, जिसने अपने हाथों में अकूत धनबल भी जमा कर लिया है और जो सिर्फ नौकरशाही तथा विधायिका ही नहीं, तमाम संस्थाओं को अपने इशारे पर नचा रही है, चुनाव में जनता द्वारा चुनी गई विपक्षी सरकारों को हटाकर सत्ता हथियाने पर आमादा हो, तो उसका हाथ कौन पकड़ सकता है? शायद न्यायपालिका ही। लेकिन, शीर्ष न्यायपालिका यह जिम्मेदारी पूरी करने में लगातार विफल हो रही है। तभी तो ऑपरेशन कमल जीत रहे हैं और कहना न होगा कि जनादेश हार रहा है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...


 

172.31.21.212