Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

19 Feb 2020 04:41:32 AM IST
Last Updated : 19 Feb 2020 04:46:39 AM IST

मुद्दा : कोई लंच फ्री नहीं होता

रणधीर तेजा चौधरी
मुद्दा : कोई लंच फ्री नहीं होता
मुद्दा : कोई लंच फ्री नहीं होता

जीवन में गुणवत्ता तभी आ सकती है, जब इंसान को मूलभूत जरूरतें जुटाने के लिए ज्यादा जद्दोजहद न करनी पड़ती हो।

बेहतर जीवन को मापने का पैमाना यह भी है कि आपको अपनी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए साधन जुटाने में हर दिन कितने घंटे मशक्कत करनी पड़ती है। दूसरा पैमाना यह भी है कि साधन अर्जित हैं या अनार्जित। अर्जन से प्राप्त क्रय शक्ति का उपयोग सार्थक तरीके से किए जाने की प्रवृत्ति होती है। तार्किक तरीके से खर्च किया जाता है। कोशिश रहती है कि अनिवार्य जरूरतें पूरी हों और बेवजह कर्ज के संजाल में न फंसना न पड़ जाए। दरअसल, इसी चुनौती से पार पाने का ज्ञान-विज्ञान है अर्थशास्त्र।
बेरोजगारी की विकराल समस्या के चलते बेरोजगारी भत्ते जैसे उपाय इसीलिए कारगर नहीं माने गए क्योंकि उससे फिजूलखर्ची बढ़ने से जीवन में गुणवत्ता नहीं आ पाती। इसी क्रम में यह भी कोशिश हुई कि हाशिये पर पड़े लोगों को बुनियादी सुविधाएं नाममात्र के खर्च पर मुहैया कराई जाएं। लेकिन यहां समस्या यह रहती है कि हर सुविधा कुछ लागत से तैयार होती है। उसे नि:शुल्क मुहैया नहीं कराया जा सकता। ऐसे में सब्सिडी का विकल्प उभरा। इसमें उपयोगकर्ता को बनिस्बत कम दाम पर कोई वस्तु या सेवा उपलब्ध कराई जाती है, लेकिन उसे तैयार करने वाले को सरकार या नियोक्ता अपनी तरफ से पूरी लागत का भुगतान करते हैं, और इस प्रकार सेवा या वस्तु का विनिर्माण करने वाले को नुकसान नहीं होने पाता यानी वह घाटे में नहीं रहता। कल्याणकारी अर्थव्यवस्था वाले देश में सरकार का प्रयास होता है कि अपने लोगों को ज्यादा-से-ज्यादा इस प्रकार सक्षम बनाया जाए ताकि उनकी क्रयशक्ति कमजोर न पड़ने पाए। फिर, आर्थिक गतिविधियों का चक्र चलायमान रखने के लिए भी जरूरी है कि लोगों के हाथों में खर्च करने के लिए पैसा हो। इसी कड़ी में लोकलुभावन योजनाएं क्रियान्वित की जाती हैं। दक्षिण भारत से यह सिलसिला आरंभ हुआ। दैनिक उपयोग की चीजें सस्ते में मुहैया कराने से शुरू होकर किसानों को  खाद-पानी फ्री देने और कर्जमाफी जैसी तमाम बातों में फिक्र थी तो यही कि लोगों के हाथों में पैसा बना रहे।

लेकिन फसल के लाभकारी दाम नहीं मिलने से इस प्रयास का फायदा किसान को नहीं मिल पाता। पैदावार लेकर मंडियों में पहुंचा किसान का आढ़तियों और सब्जी मंडियों में माशाखोरों द्वारा उत्पीड़न होता है। मंडी में जीरी (धान) लेकर पहुंचे किसानों की उपज को दोयम दरजे का बताकर सरकारी दाम भी नहीं दिए जाते। नतीजतन, किसान औने-पौने दाम में धान बेचने को विवश होते हैं। घर जल्दी लौटने और ऊपर से मौसम के बदलते तेवर के चलते ज्यादा दिन तक मंडी परिसर में खुले में धान को किसान नहीं रख पाते। उस दाम पर उपज बेचने को विवश होते हैं, जिससे लागत भी नहीं निकल पाती। यही हाल सब्जी के काश्तकारों का भी होता है। सुबह-सवेरे ट्रैक्टरों में सब्जी की पैदावार भरकर सब्जी मंडियों में पहुंचे काश्तकारों को बमुश्किल लागत निकाल पाने वाले दाम मिल पाते हैं। सब्जी जल्द खराब होने वाली पैदावार होने के कारण किसान के सामने ज्यादा विकल्प नहीं होते। मंडी में एक थोक कारोबारी ने जो दाम बोल दिया तो बोल दिया। मजाल है कि उससे ज्यादा दाम किसान को मिल जाए। दरअसल, सांकेतिक भाषा में माशाखोर दाम आपस में बताने लगते हैं, किसान के खिलाफ कारटेल बन जाता है, जिससे उसे लागत जितना दाम भी मिलना मुश्किल हो जाता है। लेकिन शिक्षा, स्वास्थ्य, बिजली-पानी, परिवहन जैसे क्षेत्रों में न के बराबर शुल्क या मुफ्त सेवा मुहैया कराकर अवाम के हाथों में किसी भी माध्यम से पैसा पहुंचाने की कवायद गलत नहीं है।
यकीनन इससे उनका सशक्तिकरण होता है। हालांकि कुछ को लगता है कि इस प्रकार वस्तुएं और सेवाएं नि:शुल्क मुहैया कराने से लोगों में एक प्रकार की काहिली आती है। बात कुछ अर्थों में सही भी है। मगर चिकित्सा, शिक्षा जैसी मदों पर नि:शुल्क सेवा मुहैया कराने का उपाय गलत नहीं ठहराया जा सकता। दरअसल, ये उपाय ‘दीर्घकालिक निवेश’ कहे जा सकते हैं। लोगों को अच्छी शिक्षा मिलती है, तो देश के उत्पादक मानव शक्ति के रूप में ढलेंगे। जाहिर है कि कालांतर में देश-समाज के लिए उपयोगी भी साबित होंगे। इससे देश में उत्पादकता बढ़ती है। साथ ही, जीवन में गुणवत्ता का स्तर भी उठेगा। स्वास्थ्य क्षेत्र में नि:शुल्क या मामूली शुल्क पर सेवा मुहैया कराने से स्वस्थ समाज का निर्माण हो सकेगा। फलस्वरूप सरकार को स्वास्थ्य के मद पर ज्यादा परिव्यय करने की नौबत नहीं रह जाएगी। बहरहाल, अवाम का सशक्तिकरण किए जाने के प्रयासों को राजनीति के चश्मे से नहीं देखा जाना चाहिए। भले ही कहा जाता हो, ‘कोई लंच मुफ्त नहीं होता’।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...


 

172.31.21.212