Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

23 Sep 2019 04:16:54 AM IST
Last Updated : 23 Sep 2019 04:19:28 AM IST

अर्थव्यवस्था : एक निर्भीक सुधार

राजीव सिंह
अर्थव्यवस्था : एक निर्भीक सुधार
अर्थव्यवस्था : एक निर्भीक सुधार

सितम्बर 20, 2019 की तारीख सबसे प्रभावी सुधारों में से एक की घोषणा करने के लिए याद की जाएगी।

वित्तीय प्रोत्साहन की कमी की वजह से बचाव की मुद्रा में आने के बाद सरकार ने अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देने के लिए कई उपायों की घोषणा की थी, लेकिन उनमें से कोई भी कॉरपोरेट टैक्स में बड़ी कटौती जितना प्रभावी नहीं था। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमन ने इन फैसलों की घोषणा करने के दौरान निर्भीकता का परिचय दिया। राजस्व में कमी की वजह से नर्वस होने के बजाये उन्होंने यह जता दिया कि अब विकास ही सरकार की प्राथमिकता है।
मंत्री ने घरेलू कंपनियों से सभी सेस एवं सरचार्ज सहित वर्तमान 35 प्रतिशत के कॉरपोरेट टैक्स को कम कर इसे 25.17 प्रतिशत पर ले आने की घोषणा की। विनिर्माण क्षेत्र से जुड़ी नई कंपनियों के लिए 1 अक्टूबर के बाद शामिल कंपनियों के लिए सभी सेस एवं सरचार्ज सहित कर दर अब 17.01 प्रतिशत होगी। इसी प्रकार, मैट या न्यूनतम वैकल्पिक कर में 3.5 प्रतिशत की कटौती कर दी गई है। इस फैसले को एक अध्यादेश के जरिये कार्यान्वित किया जाएगा। उम्मीद है कि सरकार को इस फैसले से 1.45 लाख करोड़ रुपये या वित वर्ष 2019-20 की अनुमानित जीडीपी के 0.7 प्रतिशत के राजस्व से हाथ धोना पड़ेगा। वर्तमान वित्त वर्ष के लिए यह जरूर चिंता की बात है और वास्तव में 10 वर्ष के बॉण्ड पर यील्ड 16 आधार अंक बढ़ गया है। हालांकि वर्तमान वर्ष के लिए यह चिंता की बात है पर जैसे ही आर्थिक विकास में बढ़ोतरी होगी, बढ़ी अर्थव्यवस्था से प्राप्त उच्च कर संग्रह का प्रभाव निम्न कर दर के प्रभाव का समाप्त कर देगा। वास्तव में, लैफर कर्व के अनुसार, भारत में कॉरपोरेट टैक्स की दरें उपेष्टतम थीं और कर दरों में कटौती आर्थिक प्रोत्साहन को बढ़ावा देगी और कर राजस्व बढ़ाएगी।

मेरा विश्वास है कि राजकोषीय समेकन का रास्ता लगभग एक वर्ष और आगे बढ़ा दिया गया है। इसका दूसरा पहलू यह है कि अगर सरकार विकास को बढ़ावा देने में विफल रही तो आने वाले वर्षो में कर संग्रह और अधिक प्रभावित हो सकता है। कुल मिला कर, मेरा यह मानना है कि विकास माध्यम से दीर्घ अवधि में राजकोषीय समेकन के लिए सर्वश्रेष्ठ प्रोत्साहन उपलब्ध कराएगा। इसका तात्कालिक प्रभाव कॉरपोरेट जगत में धारणा को मजबूत करने के रूप में सामने आएगा जो वर्तमान में नीचे है। यह कदम बुनियादी भावनाओं को पुनर्जीवित कर सकता है। इसके अतिरिक्त, यह कैपेक्स चक्र को पुनर्जीवित करने में सहायक साबित हो सकता है, जिसे पिछली दो तिमाहियों में नुकसान हुआ है। साथ ही,  कंपनियों की वित्तीय सेहत को सुधारने में भी मदद मिलेगी। कंपनियों के पास दो विकल्प हैं, या तो वे कर लाभों को बनाए रखें या दूसरा, वे मात्रा बढ़ाते हुए अपनी वस्तुओं या सेवाओं के मूल्य में इजाफा करें। हलकान क्षेत्रों से जुड़ी कंपनियां इस लाभ को मांग को बढ़ावा देने, खासकर जहां मांग लचीलापन अधिक है, के लिए हस्तांतरित कर सकती हैं। यह विशेष रूप से, उपभोक्ता वस्तुओं, ऑटो एवं रियल एस्टेट के मामले में होगा।
अप्रत्यक्ष रूप से इससे सीमेंट, स्टील, कैपिटल गुड्स एवं बैंकों जैसे सेक्टरों को लाभ होगा। मेरा अनुमान है कि यह कदम सूचीबद्ध कंपनियों के शुद्ध लाभ को वित वर्ष 2019-20 के दौरान बढ़ावा देगा। यह कदम कंपनियों के लिए पूंजी की लागत में भी कमी लाएगा। यहां यह याद रखना महत्त्वपूर्ण है कि भारत में कॉरपोरेट दरें न केवल ऊंची हैं बल्कि उन देशों की तुलना में महत्त्वपूर्ण रूप से अधिक हैं, जिनके साथ भारत निर्यात बाजारों एवं एफडीआई के लिए प्रतिस्पर्धा करता है। नई दरें शेष क्षेत्रों के साथ प्रतिस्पर्धी हैं। कोरिया, चीन और इंडोनेशिया में 25 प्रतिशत की कॉरपोरेट दरें हैं, जबकि मलेशिया में 24 प्रतिशत है। अमेरिका एवं चीन के बीच व्यापार युद्ध ने दूसरे देशों के लिए अवसर खोल दिए हैं और भारत वियतनाम और इंडोनेशिया जैसे देशों के साथ-साथ एक अग्रणी दावेदार है, जहां कर दरें क्रमश: 20 प्रतिशत और 25 प्रतिशत है। नई विनिर्माण कंपनियों के लिए 17 प्रतिशत की कर दर की तुलना आसानी से सिंगापुर (17 प्रतिशत) एवं हांगकांग (16.5 प्रतिशत) के साथ की जा सकती है। यह विनिर्माण क्षेत्र के लिए एक उल्लेखनीय प्रोत्साहन प्रदान कर सकता है और ‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा दे सकता है। इसका दोहरा लाभ हो सकता है, जो जीडीपी को बढ़ावा भी देगा और रोजगार के नये अवसर पैदा करेगा। यह कदम प्रधानमंत्री के अमेरिका के दौरे से कुछ ही दिन पहले उठाया गया है, जिसका परिणाम कुछ प्रतिबद्धताओं के रूप में सामने आ सकता है।
अन्य कदमों में, सरकार ने बजट में पेश किए गए बढ़े अधिभार को वापस ले लिया है, जो प्रतिभूति लेनदेन कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी कंपनी में इक्विटी शेयरों की बिक्री से पैदा कैपिटल गेन पर लागू था। यह रिटेल, एचएनआई एवं पूंजी बाजारों में संस्थानों की अधिक भागीदारी को प्रोत्साहित करेगा। इसके अतिरिक्त, मंत्री ने यह भी कहा कि जिन सूचीबद्ध कंपनियों ने 5 जुलाई से पहले बायबैक की घोषणा की थी, उन्हें बायबैक से छूट प्रदान की जाएगी। इंफोसिस एवं विप्रो जैसी कंपनियां, जिन्होंने बजट के दिन से पहले बायबैक की घोषणा की थी, प्रमुख लाभार्थी होंगी।  तरलता स्थिति को बढ़ावा देने, निर्यातों को पुनजीर्वित करने और रोजगारों के अवसरों को सृजित करने के लिए विकासोन्मुखी घोषणाओं के तीन सप्ताहों के बाद, आखिरकार सरकार ने सही रास्ता चुना और उपरोक्त उपायों की घोषणा की। यह तय है कि भारतीय कंपनियों द्वारा निर्यात बाजार में प्रतिस्पर्धा करने और विनिर्माण क्षेत्र में अधिक एफडीआई आकर्षित करने के लिए और अधिक सुधारों की आवश्यकता होगी।
संक्षेप में, भूमि एवं श्रम सुधारों, अवसंरचना में निवेश एवं लालफीताशाही में कमी लाने के लिए विकास की आवश्यकता है। अपने पहले के कार्यकाल में विवेकपूर्ण कदमों पर फोकस करने के बाद, यह स्पष्ट है कि सरकार का इरादा विकास को बढ़ावा देना है। त्यौहारी मौसम से पहले इसकी घोषणा किए जाने के कारण यह उपभोग को बढ़ावा देने में सहायक हो सकता है, जिससे बुनियादी भावनाओं को बढ़ावा मिलेगा। मुझे यह भी उम्मीद है कि सरकार आगे आने वाले दिनों में और अधिक उपायों की घोषणा करेगी। फोकस विकास को पुनर्जीवित करने पर होना चाहिए और विकास में पहल करने के अतिरिक्त, प्राथमिकता अवसंरचना व्यय को बढ़ाने एवं वित्तीय क्षेत्र की सेहत में सुधार लाने की होनी चाहिए।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता


 

172.31.21.212