Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

22 Sep 2019 05:39:49 AM IST
Last Updated : 22 Sep 2019 05:45:26 AM IST

बॉब-अल-मंडेब: अशांति खतरनाक

रहीस सिंह
बॉब-अल-मंडेब: अशांति खतरनाक
बॉब-अल-मंडेब: अशांति खतरनाक

पिछले कुछ दिनों का घटनाक्रम दर्शाता है कि बॉब अल-मंडेब की खाड़ी बेहद अशांत है। यह अशांति वैश्विक राजनीति में यह कोई निर्णायक भूमिका निभाएगी या नहीं, अभी कहना मुश्किल है।

बीती 14 सितम्बर को यमन के शिया विद्रोही ग्रुप हूती ने ड्रोन और मिसाइलों के जरिए जिस तरीके से सऊदी अरब के अबकैक प्लांट और खुरैस ऑयल फील्ड्स को निशाना बनाया, उस पर कुछ सवालिया निशान हैं तो हैं ही, लेकिन उसमें किसी ग्लोबल गेम की गंध भी आती हुई महसूस हो रही है। हालांकि इस हमले की जिम्मेदारी स्वयं हूती विद्रोहियों ने ली है लेकिन अमेरिका हूती की बजाय ईरान को दोषी मान रहा है क्योंकि न केवल वह बल्कि उसके सहयोगी हूतियों को ईरान सरोगेट संतान मान रहे हैं। कहीं यह अमेरिका-ईरान युद्ध की पटकथा लेखन की शुरुआत तो नहीं?
दरअसल, हूती विद्रोहियों द्वारा किए गए हमलों के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने ट्विट किया कि ऐसे कोई सुबूत नहीं हैं कि ड्रोन यमन से आए थे। इस पर ईरानी विदेश मंत्रालय ने प्रतिक्रिया में पोम्पियो के आरोप से इनकार के साथ ही यह भी कहा कि इन आरोपों के जरिए ईरान के खिलाफ भविष्य में कदम उठाने के लिए जमीन तैयार की जा रही है। शायद यह सच भी है क्योंकि पिछले वर्ष संयुक्त राष्ट्र के इनवेस्टीगेटर्स ने अपनी रिपोर्ट में कहा था कि हूतियों के पास फील्डेड ड्रोन हैं, जिनकी रेंज 1500 किमी के आसपास है। यह रेंज तो अबकैक और खुरैस तक पहुंचने के लिए पर्याप्त है। इसका तात्पर्य यह हुआ कि हूती दोनों अरब संयंत्रों पर हमला करने में सक्षम थे। फिर भी उंगली ईरान की तरफ, जिसके खिलाफ अमेरिका के पास कोई सबूत नहीं है।

आखिर क्यों? जरा इतिहास में झांके। इस टकराव की जड़ें 1930, 1960, 1990 और 2000 के दशक तक जाएंगी। 1930 के दशक में जब सऊदी अरब का पुनरुत्थान हो रहा था तो उसके समर्थित इमाम यमन का उत्तर और दक्षिण में भौगोलिक सांस्कृतिक विभाजन कर रहे थे। कमोबेश विभाजन की इस मनोदशा या विखण्डित यमनी राष्ट्रवाद से या फिर विखण्डित सांस्कृतिक/धार्मिक राष्ट्रवाद से यमनी अभी सम्पन्न है। यही विभाजन बाहरी ताकतों को हस्तक्षेप का अवसर प्रदान करता है और गृहयुद्ध को ताकत देता है। दरअसल, 1960 के दशक में जो सऊदी अरब समर्थन वाले इमाम के लड़ाकों और मिस्र के समर्थन वाली रिपब्लिन ताकतों के बीच तो लम्बा गृह युद्ध चला था, उसने 1968 में यमन गणराज्य की स्थापना का अवसर तो प्रदान किया मगर इसने यमन में क्वासी ट्रेडीशनल यानी अर्धपरम्परा वाली विदेशी दादागीरी को भी अवसर प्रदान कर दिया। अंतिम रूप से यूनाइटेड रिपब्लिकन ऑफ यमन की स्थापना1990 के दशक में हुई और अली अब्दुल्ला सालेह सत्तारूढ़ हुए जो 2012 तक सत्ता में रहे। इस बीच 2004 में शिया मिलीशिया अंसार अल्लाह ने राष्ट्रपति अली अब्दुल्लाह सालेह के खिलाफ जैदी पंथ के मुखिया हुसैन बदरेद्दीन अल-हूती के नेतृत्व में विद्रोह कर दिया, हालांकि सफलता नहीं मिली। लेकिन अरब स्प्रिंग के दौरान जब ट्यूनीशिया, मिस्र, लीबिया में बैठे तानाशाहों के पतन का सिलसिला शुरू हुआ तो सालेह भी सत्ता नहीं बचा पाए और उन्हें अपने सदर्न डिप्टी अब्दरब्बू मंसूर हादी का सत्ता सौंपनी पड़ी। परंतु 2014 में अल-हूती ने हादी को भी सत्ता से बेदखल कर दिया इसलिए उन्हें रियाद में शरण लेनी पड़ी।
ध्यान रहे कि मार्च में 2015 सऊदी अरब के नेतृत्व में एक सैन्य गठबंधन बना, जिसने अल-हूती के खिलाफ ‘ऑपरेशन डेसीसिव स्टॉर्म’ नाम का सैन्य अभियान शुरू किया। इस गठबंधन में आठ देश शामिल थे और अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस खुफिया ट्रेनिंग, हथियार आपूर्ति और तकनीक मुहैया करा रहे थे। किंतु फिर भी यह असफल रहा। आज की स्थिति यह है कि संयुक्त अरब अमीरात इस गठबंधन से हटना चाहता है। सवाल उठता है कि क्यों सऊदी अरब सफल नहीं हो पाया? इसलिए कि ईरान हूतियों के साथ खड़ा है? या फिर इसलिए कि एक तो इस संघर्ष को शिया बनाम सुन्नी बना दिया गया है? या फिर इसलिए कि सऊदी अरब अपनी साम्राज्यवादी इच्छा को त्याग नहीं पा रहा है और वह यमन पर आधिपत्य चाहता है? या फिर इसलिए कि अमेरिका सोमालिया में सैन्य अड्डा न बना पाने के बाद अब यमन पर निगाह गड़ाए बैठा है? उत्तरी इन्हीं में से किसी एक में है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता


 

172.31.21.212