Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

21 May 2019 05:00:45 AM IST
Last Updated : 21 May 2019 05:02:36 AM IST

विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच

अरविन्द मोहन
विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच
विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच

जिस तरह से लगभग सारे एग्जिट पोल नरेन्द्र मोदी की वापसी का उद्घोष कर रहे हैं, उसमें 23 तक कोई बड़ी असहमति जताने का कोई मतलब नहीं है।

इस बात का भी नहीं कि जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने तीन सौ सीटों की भविष्यवाणी की तो सारे पोल्स्टर उसी आंकड़े पर पहुंच कर क्यों रु क गए? पर कुछ बातें ये नतीजे भी बताते हैं।
पहली चीज तो खुद मोदी का बल है, जो सब पर भारी रहा है और शायद चुनाव नतीजों में भी सबसे ज्यादा असरदार होगा। दूसरे यूपी, बिहार, झारखंड और कर्नाटक जैसे राज्यों में एक हद तक विपक्षी एकता के बावजूद मोदी विरोधियों का बिखराव और लगभग बिना एजेंडे के लड़ाई (मोदी हराओ कोई ज्यादा लाभकारी एजेंडा नहीं बन सकता) मोदी जैसे चुस्त और चौकस ही नहीं पूरे पांच साल चुनाव मोड में ही काम करने वाले व्यक्ति के खिलाफ बहुत कारगर नहीं हो सकता।
यह जरूर हुआ कि मोदी बहुत ऊंचे पिच पर लगे रहे और मायावती-अखिलेश ही नहीं जगन रेड्डी, स्टालिन, चंद्रशेखर राव और नवीन पटनायक जैसे लोग एकदम निचले स्तर के मुद्दों पर। फिर भाजपा को कहीं राष्ट्रवाद का सहारा लाभकर लगा तो कहीं साध्वी प्रज्ञा ब्रांड हिंदुत्व, तो कहीं हिंदू-मुसलमान ध्रुवीकरण की राजनीति। पर हर जगह चुनावी एजेंडा मोदी और भाजपा ने सेट किया। पर तीन सौ एनडीए के औसत आंकड़े का मतलब पिछली बार से पचास सीट काम आना जो मोदी लहर के कमजोर पड़ने का प्रमाण माना जा सकता है। नतीजों में ‘करेक्शन’ के जरिए पचास सीटें कम हो जाएं तो मोदी के लिए सरकार की जोड़-तोड़ मुश्किल हो जाएगी। जिन जगन रेड्डी और चंद्रशेखर राव के भरोसे वे बैठे थे वे किसी और जुगाड़ में जुट गए हैं। सचमुच के नतीजों में मोदी या विपक्ष जिस किसी को जरूरत होगी उनका खेल बढ़ जाएगा।

नीतीश कुमार ने एक दूरी बनानी शुरू भी कर दी है और शिव सेना का बहुत भरोसा किया भी नहीं जा सकता। स्टालिन और चंद्रबाबू के साथ आने की गुंजाइश बहुत कम है। चुनाव बीतने के पहले ही न्यौता तो यूपीए की प्रमुख सोनिया गांधी के नाम से ही बंटने लगा वरना तभी तक चंद्रबाबू या चंद्रशेखर राव जैसे चुनाव से निवृत्त लेकिन आगे की सरकार में बड़ी भूमिका निभाने के इच्छुक लोग ही सामने आए थे। चंद्रबाबू काफी हद तक कांग्रेस और राहुल गांधी के पक्ष में जोड़-तोड़, समीकरण, शासन और सरकार का एजेंडा बनाने की कोशिश कर रहे थे/हैं तो राव साहब किसके लिए, यह कहना मुश्किल है। चुनाव में सीधी भागीदारी और जनता की नब्ज को बेहतर जानने वाले जब ऐसे प्रयास करें  तो हमें भी कुछ ज्यादा साफ सिग्नल मिलते ही हैं। जब सोनिया के नाम से न्यौता बंटने और तारीख की अदल-बदल की खबर आई तो इसे त्रिशंकु संसद बनने और आगे की तैयारियों का संकेत पुख्ता हुआ। देने को तो इस तरह के सिग्नल मोदी ने भी दिए पर एक नेता, मजबूत नेता, छप्पनिया नेता और पाकिस्तान को धूल चटाकर दिग्विजय पर निकले नेता की भी कुछ मजबूरियां थीं, और हैं। जब पूरा चुनाव उसके नाम पर लड़ा जा रहा हो, उसे भी अपने पक्ष और विपक्ष के बंटवारे में मजा आ रहा हो तो वे किस तरह पोस्ट-पोल गठबंधन और जुगाड़ की तरफ जा सकते हैं।
जब उनको भी लग गया कि चुनाव किस लाइन पर है और यूपी-बिहार का नुकसान और बंगाल-ओडिशा का गणित उतना अनुकूल नहीं है, तो उन्होंने दन से ममता की तरफ से कुर्ता और रसोगुल्ला भेजने की बात सार्वजनिक की, बीजू जनता दल के खिलाफ आक्रमण को धीमा किया, तूफान राहत के नाम पर नवीन पटनायक के साथ खूब तस्वीरें साझा कीं और जब ममता ने उल्टा सिग्नल देना शुरू किया तो आक्रमण तेज कर दिया। इस बीच, अपने नामांकन के समय एनडीए नेताओं की परेड भी कराई और प्रकाश सिंह बादल के सार्वजनिक तौर पर पैर भी छुए। फिर भी एक्जिट पोल बताते हैं कि मोदी, एनडीए, भाजपा और उसके लगभग सारे ही उम्मीदवारों को मोदी की मजबूत और नेता वाली छवि से लाभ हुआ। उनसे नाराज शिव सेना भी इसी बात का लाभ लेने के लिए वापस गठबंधन में आई और खुद को प्रधानमंत्री मेटेरियल मानने वाले नीतीश भी सिर झुकाकर चुनाव में साथ ही रहे। पर अभी चुनाव खत्म भी नहीं हुआ और नतीजे आए भी नहीं कि इस छवि से दिक्कत समझ आने लगी है। इसकी तुलना में ढीली-ढाली छवि के राहुल को काफी सुविधा हो गई है। गठजोड़ बनाने के सूत्रधार गुलाम नबी आजाद ने तो यह भी कह दिया है कि गठबंधन करने में प्रधानमंत्री के पद का दावा भी छोड़ा जा सकता है। पहले यह बात गुप-चुप भी की गई होगी।
जाहिर तौर पर भाजपा और मोदी की तरफ से एकदम मजबूरी न हो जाए ऐसी घोषणा की ही नहीं जा सकती। मोदी के नेतृत्व और दावे को भाजपा नीचे कर ले, यह असंभव है। ऐसे करने से तो उसका सारा चुनावी ही नहीं, बल्कि राजनैतिक डिस्कोर्स धराशायी हो जाएगा। ऐसे में उसे गठबंधन के नाम पर पालकी ढेने वाले या कुछ लाभ ले-देकर पट जाने वाले साथी ही मिलने की संभावना ज्यादा है। अब एक्जिट पोल भले ऐसी स्थिति न आने का संकेत दें पर इसे नतीजे आने तक पूरी तरह खारिज करना मुश्किल है। इस मामले में कांग्रेस या गैर-भाजपा, गैर-कांग्रेसी दलों के नेता बेहतर स्थिति में हैं। कांग्रेस अगर अभी से प्रधानमंत्री पद का दावा छोड़ने को तैयार है, तो इसे राहुल के लिए ‘खतरा’ न मानकर एक रणनीति ही माना जा रहा है।
दूसरी ओर, गडकरी या राजनाथ कुछ भी ऐसा बोल देते हैं, जिसका मतलब खींच-तान कर भी मोदी विरोध निकाला जाता है, तो मोदी के कान तो खड़े होते ही हैं, खुद गडकरी जैसों को सफाई देते-देते मुश्किल हो जाती है। यहां न चाहते हुए भी अटल बिहारी और आडवाणी का किस्सा भी लाना ही पड़ेगा। मन्दिर आंदोलन के बाद सारी पार्टी आडवाणी की बनाई थी, सांसदों में ज्यादातर लोग उनके खेमे के थे, पार्टी पर उनकी जबरदस्त पकड़ थी। दूसरी तरफ वाजपेयी थे जो मन्दिर आंदोलन के पक्ष में न होने से अकेले पड़ गए थे। पर जैसे ही गठबंधन की जरूरत पड़ी भाजपा को एक मिनट की देर न लगी आडवाणी को दरकिनार करने में। क्योंकि उनके नाम पर दूसरे दल साथ न आते, न समर्थन करते।  नतीजों को लेकर भविष्यवाणी करना मुश्किल है। मगर हम देख रहे हैं कि राजनीति नतीजों के इंतजार में नहीं बैठी है। वे सारे खिलाड़ी सक्रिय हो गए हैं, जो सरकार गठन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। चुनाव बाद की राजनीति झमाझम शुरू हो गई है, लेकिन भाजपा को मजबूत नेता बल भी है, और बोझ सा भी बन गया है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार 'मोक्ष नगरी' गया

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया 'योगा एस940' लैपटॉप, कीमत 23,990 रुपये

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

B

B'day special: फिल्में छोड़ तिब्बतन योगा क्लासेस चलाती हैं मंदाकिनी

60 साल के हुए संजय दत्त

60 साल के हुए संजय दत्त

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा


 

172.31.21.212