Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

21 May 2019 05:00:45 AM IST
Last Updated : 21 May 2019 05:02:36 AM IST

विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच

अरविन्द मोहन
विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच
विश्लेषण : एग्जिट पोल का सच

जिस तरह से लगभग सारे एग्जिट पोल नरेन्द्र मोदी की वापसी का उद्घोष कर रहे हैं, उसमें 23 तक कोई बड़ी असहमति जताने का कोई मतलब नहीं है।

इस बात का भी नहीं कि जब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने तीन सौ सीटों की भविष्यवाणी की तो सारे पोल्स्टर उसी आंकड़े पर पहुंच कर क्यों रु क गए? पर कुछ बातें ये नतीजे भी बताते हैं।
पहली चीज तो खुद मोदी का बल है, जो सब पर भारी रहा है और शायद चुनाव नतीजों में भी सबसे ज्यादा असरदार होगा। दूसरे यूपी, बिहार, झारखंड और कर्नाटक जैसे राज्यों में एक हद तक विपक्षी एकता के बावजूद मोदी विरोधियों का बिखराव और लगभग बिना एजेंडे के लड़ाई (मोदी हराओ कोई ज्यादा लाभकारी एजेंडा नहीं बन सकता) मोदी जैसे चुस्त और चौकस ही नहीं पूरे पांच साल चुनाव मोड में ही काम करने वाले व्यक्ति के खिलाफ बहुत कारगर नहीं हो सकता।
यह जरूर हुआ कि मोदी बहुत ऊंचे पिच पर लगे रहे और मायावती-अखिलेश ही नहीं जगन रेड्डी, स्टालिन, चंद्रशेखर राव और नवीन पटनायक जैसे लोग एकदम निचले स्तर के मुद्दों पर। फिर भाजपा को कहीं राष्ट्रवाद का सहारा लाभकर लगा तो कहीं साध्वी प्रज्ञा ब्रांड हिंदुत्व, तो कहीं हिंदू-मुसलमान ध्रुवीकरण की राजनीति। पर हर जगह चुनावी एजेंडा मोदी और भाजपा ने सेट किया। पर तीन सौ एनडीए के औसत आंकड़े का मतलब पिछली बार से पचास सीट काम आना जो मोदी लहर के कमजोर पड़ने का प्रमाण माना जा सकता है। नतीजों में ‘करेक्शन’ के जरिए पचास सीटें कम हो जाएं तो मोदी के लिए सरकार की जोड़-तोड़ मुश्किल हो जाएगी। जिन जगन रेड्डी और चंद्रशेखर राव के भरोसे वे बैठे थे वे किसी और जुगाड़ में जुट गए हैं। सचमुच के नतीजों में मोदी या विपक्ष जिस किसी को जरूरत होगी उनका खेल बढ़ जाएगा।

नीतीश कुमार ने एक दूरी बनानी शुरू भी कर दी है और शिव सेना का बहुत भरोसा किया भी नहीं जा सकता। स्टालिन और चंद्रबाबू के साथ आने की गुंजाइश बहुत कम है। चुनाव बीतने के पहले ही न्यौता तो यूपीए की प्रमुख सोनिया गांधी के नाम से ही बंटने लगा वरना तभी तक चंद्रबाबू या चंद्रशेखर राव जैसे चुनाव से निवृत्त लेकिन आगे की सरकार में बड़ी भूमिका निभाने के इच्छुक लोग ही सामने आए थे। चंद्रबाबू काफी हद तक कांग्रेस और राहुल गांधी के पक्ष में जोड़-तोड़, समीकरण, शासन और सरकार का एजेंडा बनाने की कोशिश कर रहे थे/हैं तो राव साहब किसके लिए, यह कहना मुश्किल है। चुनाव में सीधी भागीदारी और जनता की नब्ज को बेहतर जानने वाले जब ऐसे प्रयास करें  तो हमें भी कुछ ज्यादा साफ सिग्नल मिलते ही हैं। जब सोनिया के नाम से न्यौता बंटने और तारीख की अदल-बदल की खबर आई तो इसे त्रिशंकु संसद बनने और आगे की तैयारियों का संकेत पुख्ता हुआ। देने को तो इस तरह के सिग्नल मोदी ने भी दिए पर एक नेता, मजबूत नेता, छप्पनिया नेता और पाकिस्तान को धूल चटाकर दिग्विजय पर निकले नेता की भी कुछ मजबूरियां थीं, और हैं। जब पूरा चुनाव उसके नाम पर लड़ा जा रहा हो, उसे भी अपने पक्ष और विपक्ष के बंटवारे में मजा आ रहा हो तो वे किस तरह पोस्ट-पोल गठबंधन और जुगाड़ की तरफ जा सकते हैं।
जब उनको भी लग गया कि चुनाव किस लाइन पर है और यूपी-बिहार का नुकसान और बंगाल-ओडिशा का गणित उतना अनुकूल नहीं है, तो उन्होंने दन से ममता की तरफ से कुर्ता और रसोगुल्ला भेजने की बात सार्वजनिक की, बीजू जनता दल के खिलाफ आक्रमण को धीमा किया, तूफान राहत के नाम पर नवीन पटनायक के साथ खूब तस्वीरें साझा कीं और जब ममता ने उल्टा सिग्नल देना शुरू किया तो आक्रमण तेज कर दिया। इस बीच, अपने नामांकन के समय एनडीए नेताओं की परेड भी कराई और प्रकाश सिंह बादल के सार्वजनिक तौर पर पैर भी छुए। फिर भी एक्जिट पोल बताते हैं कि मोदी, एनडीए, भाजपा और उसके लगभग सारे ही उम्मीदवारों को मोदी की मजबूत और नेता वाली छवि से लाभ हुआ। उनसे नाराज शिव सेना भी इसी बात का लाभ लेने के लिए वापस गठबंधन में आई और खुद को प्रधानमंत्री मेटेरियल मानने वाले नीतीश भी सिर झुकाकर चुनाव में साथ ही रहे। पर अभी चुनाव खत्म भी नहीं हुआ और नतीजे आए भी नहीं कि इस छवि से दिक्कत समझ आने लगी है। इसकी तुलना में ढीली-ढाली छवि के राहुल को काफी सुविधा हो गई है। गठजोड़ बनाने के सूत्रधार गुलाम नबी आजाद ने तो यह भी कह दिया है कि गठबंधन करने में प्रधानमंत्री के पद का दावा भी छोड़ा जा सकता है। पहले यह बात गुप-चुप भी की गई होगी।
जाहिर तौर पर भाजपा और मोदी की तरफ से एकदम मजबूरी न हो जाए ऐसी घोषणा की ही नहीं जा सकती। मोदी के नेतृत्व और दावे को भाजपा नीचे कर ले, यह असंभव है। ऐसे करने से तो उसका सारा चुनावी ही नहीं, बल्कि राजनैतिक डिस्कोर्स धराशायी हो जाएगा। ऐसे में उसे गठबंधन के नाम पर पालकी ढेने वाले या कुछ लाभ ले-देकर पट जाने वाले साथी ही मिलने की संभावना ज्यादा है। अब एक्जिट पोल भले ऐसी स्थिति न आने का संकेत दें पर इसे नतीजे आने तक पूरी तरह खारिज करना मुश्किल है। इस मामले में कांग्रेस या गैर-भाजपा, गैर-कांग्रेसी दलों के नेता बेहतर स्थिति में हैं। कांग्रेस अगर अभी से प्रधानमंत्री पद का दावा छोड़ने को तैयार है, तो इसे राहुल के लिए ‘खतरा’ न मानकर एक रणनीति ही माना जा रहा है।
दूसरी ओर, गडकरी या राजनाथ कुछ भी ऐसा बोल देते हैं, जिसका मतलब खींच-तान कर भी मोदी विरोध निकाला जाता है, तो मोदी के कान तो खड़े होते ही हैं, खुद गडकरी जैसों को सफाई देते-देते मुश्किल हो जाती है। यहां न चाहते हुए भी अटल बिहारी और आडवाणी का किस्सा भी लाना ही पड़ेगा। मन्दिर आंदोलन के बाद सारी पार्टी आडवाणी की बनाई थी, सांसदों में ज्यादातर लोग उनके खेमे के थे, पार्टी पर उनकी जबरदस्त पकड़ थी। दूसरी तरफ वाजपेयी थे जो मन्दिर आंदोलन के पक्ष में न होने से अकेले पड़ गए थे। पर जैसे ही गठबंधन की जरूरत पड़ी भाजपा को एक मिनट की देर न लगी आडवाणी को दरकिनार करने में। क्योंकि उनके नाम पर दूसरे दल साथ न आते, न समर्थन करते।  नतीजों को लेकर भविष्यवाणी करना मुश्किल है। मगर हम देख रहे हैं कि राजनीति नतीजों के इंतजार में नहीं बैठी है। वे सारे खिलाड़ी सक्रिय हो गए हैं, जो सरकार गठन में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। चुनाव बाद की राजनीति झमाझम शुरू हो गई है, लेकिन भाजपा को मजबूत नेता बल भी है, और बोझ सा भी बन गया है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
वयस्क ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी जरूरी है योग

वयस्क ही नहीं बल्कि बच्चों के लिए भी जरूरी है योग

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

ब्रेकफास्ट, लंच और डिनर में ये लेना पसंद करते हैं अमिताभ बच्चन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

World Cup 1983: कपिल की टीम का करिश्मा, जब टीम इंडिया बनी थी चैंपियन

दीपिका एक

दीपिका एक 'अच्छी सिंधी बहू' है : रणवीर

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

PICS: शादी के बाद पहली बार मिमी चक्रवर्ती के साथ लोकसभा पहुंचीं नुसरत जहां

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

सोशल मीडिया पर पर्सनल लाइफ शेयर कर रहे हैं सलमान

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

International Yoga Day: मोदी ने रांची में लगाया आसन, देखिए तस्वीरें

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

PHOTOS: देशभर में ईद की धूम

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

मोदी सरकार-2: सीतारमण, स्मृति समेत 6 महिलाएं

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

ICC World Cup 2019 का रंगारंग आगाज, क्वीन एलिजाबेथ से मिले सभी टीमों के कप्तान

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

PICS: बॉलीवुड सितारों के लिए चुनाव का स्वाद रहा खट्टा-मीठा

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

वर्ल्ड कप: लंदन पहुंची विराट ब्रिगेड, एक जैसी यूनीफॉर्म में नजर आई भारतीय टीम

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर

PICS: कान्स में सफेद टक्सीडो पहनकर 'बॉस लुक' में नजर आईं सोनम

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: 25 साल पहले आज ही के दिन सुष्मिता बनीं थीं मिस यूनिवर्स

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में ऐश्वर्या ने गोल्डन मर्मेड लुक में बिखेरा जलवा

PICS: Cannes में दीपिका के

PICS: Cannes में दीपिका के 'लाइम ग्रीन' लुक के मुरीद हुए रणवीर सिंह

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

PICS: पीएम मोदी का पहाड़ी परिधान बना आकर्षण का केंद्र

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

Photos: Cannes में दीपिका पादुकोण के लुक ने जीता सबका दिल

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

PICS: Cannes में कंगना की कांजीवरम ने सबको लुभाया

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

Photos: प्रियंका चोपड़ा ने Cannes में किया अपना डेब्यू

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

अमित शाह के रोडशो में हिंसा, कई घायल

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

IPL: मुंबई इंडियंस ने सड़कों पर निकाली चैंपियन परेड, खुली बस में ऐसे मनाया जश्न

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PICS: ...जब सिंधिया और सिद्धू उतरे क्रिकेट की पिच पर

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PHOTOS: मेट गाला में अनोखे अंदाज में नजर आए प्रियंका, निक जोनस

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: गर्मियों में खूब पीएं पानी, नहीं लगेगी लू

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: माधुरी, मातोंडकर और रेखा समेत इन बॉलीवुड सितारों ने डाला वोट

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS: मोदी फिर प्रधानमंत्री बने तो रचेंगे इतिहास

PICS:

PICS: 'वीरू' के अंदाज में बोले धर्मेंद्र, हेमा को नहीं जिताया तो पानी की टंकी पर चढ़ जाऊंगा

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: चुनावी समर में चमकेंगे फिल्मी सितारे

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

PICS: कॉफी, चाय के बारे में सोचने से ही आ जाती है ताजगी

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

31 मार्च से 6 अप्रैल तक का साप्ताहिक राशिफल

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग

शुक्रवार, 29 मार्च, 2019 का राशिफल/पंचांग


 

172.31.21.212