Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

26 Jul 2014 12:16:10 PM IST
Last Updated : 26 Jul 2014 12:20:35 PM IST

करगिल विजय दिवस: शहीद लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे की कहानी पिता की जुबानी

करगिल वॉर के हीरो शहीद लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे (फाइल फोटो)

कारगिल युद्ध के दौरान अदम्य साहस का परिचय देकर देश के लिए शहीद हुए महान सपूत लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे के पिता आज भी अपने पुत्र का जिक्र आने पर शहादत का गर्व प्रदर्शित करते हैं.

लेकिन वह अपने पुत्र को खोने की पीड़ा भी नहीं छुपा पाते हैं. लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे को मरणोपरांत परम वीर चक्र से नवाजा गया था.

ऑपरेशन विजय के दौरान 11 गोरखा रायफल्स रेजिमेंट की पहली वाहनी के अधिकारी लेफ्टिनेंट मनोज कुमार पांडे खालूबार को फतह करते हुए वीरगति को प्राप्त हुए थे. कारगिल युद्ध की 15वीं बरसी के मौके पर शहीद सैन्य अधिकारी मनोज कुमार पांडे के पिता गोपीचंद पांडे भावुक हो गए.

सवाल किए जाने पर उनकी वाणी में एक पिता का स्नेह, एक भारतीय नागरिक की प्रशंसा और अपने युवा पुत्र को खोने की पीड़ा साफ तौर पर झलकती हुयी महसूस हुयी.

शहीद अधिकारी के पिता ने जैसे ही अपने पुत्र की बहादुरी और उसके जीवन के बारे में बताया तो मानो सुनने वाले के मन और मस्तिष्क में शहीद की अनेक छवियां दिखायी दीं. पांडे ने बताया कि उनका पुत्र सेना में जाने के पहले ही सदैव दूसरे की कठिनाइयों को दूर करने का प्रयास करता था. पुणे के पास खडकवासला स्थित राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में कड़े प्रशिक्षण, अफसर की वर्दी धारण करने, मोर्चे पर जाने और बर्फीले और ऊंचे पर्वत पर युद्ध संबंधी बातों के बारे में भी उन्होंने बताया.

पांडे बताते हैं कि मनोज अलग सोच और ओजस्वी व्यक्तित्व का धनी था. वे अपने आप को भाग्यशाली मानते हैं कि उन्हें उसका पिता बनने का मौका मिला. अपने पुत्र की विशेषताएं बताते हुए वे कहते हैं कि मनोज समझता था कि दौलत और अन्य सारी चीजें चली जाती हैं, लेकिन सिर्फ नाम रह जाता है.

पांडे बताते हैं कि उनके पुत्र मनोज के लिए कोई भी व्यक्ति छोटा नहीं था. अकादमी में एक आदमी 'कैडेट्स' के जूते पालिश किया करता था. एक बार जब वह खडकवासला भ्रमण पर गये थे तब उनके बेटे ने उस आदमी से उनका परिचय करवाया. उस व्यक्ति ने पांडे को बताया कि वह जूते चमकाते हुए बूढ़ा हो गया, लेकिन मनोज पहले ऐसे कैडेट थे, जिन्होंने उसको 'दादा' कहकर संबोधित किया.

आजकल के युवाओं के बहुराष्ट्रीय कंपनियों में काम करने की ललक और दौलत के पीछे भागने की होड़ के बारे में पूछने पर उन्होंने जवाब दिया कि पैसा महत्वपूर्ण है, लेकिन राष्ट्रीय अस्मिता की रक्षा करना भी अनिवार्य है. उनका मानना है कि राजनीतिज्ञों को आगे आना चाहिए और सरकार को इस दिशा में कुछ ध्यान देना चाहिए. ऐसे राजनेताओं की जरूरत है जो युवाओं का मार्गदर्शन कर सकें.

पांडे की चार संतानों में मनोज सबसे बडे थे. पांडे दंपत्ति के एक पुत्री और दो पुत्र हैं. भारत का सर्वश्रेष्ठ वीरता पदक राष्ट्रपति ने पांडे को उनके जांबाज पुत्र के पराक्रम के लिए प्रदान किया था. पदक के साथ दिया गया प्रशस्ति पत्र एक वीरगाथा से कम नहीं है. प्रशस्ति पत्र के अनुसार बटालिक क्षेत्र में 'जौबार टॉप' पर फतह और अन्य आक्रमणों की श्रृंखला में लेफ्टिनेंट पांडे ने हिस्सा लिया और कई घुसपैठियों को मारकर औरों को पीछे खदेड़ा.

जुलाई 2 और 3, 1999 की दरमियानी रात को उनकी पलटन खालूबार की ओर कूच करते हुए अपने अंतिम लक्ष्य की तरफ बढ़ रही थी, तब आसपास की पहाड़ियों से दुश्मनों ने गोलियों की बौछार कर दी. लेफ्टिनेंट पांडे को आदेश दिया गया कि शत्रु के ठिकाने नेतस्तनाबूत कर दिए जाएं ताकि वाहिनी सूर्योदय से पहले सुरक्षित स्थान पर पहुंच जाए.

दुश्मन की भारी गोलीबारी के बावजूद युवा अधिकारी ने तेजी से अपनी पलटन को एक बेहतर जगह ले जाते हुए एक दल को दाहिने तरफ के ठोर तबाह करने को भेज दिया और स्वयं बांयी तरफ के ठोर की तरफ बढ़ गये.

पहले ठोर पर हमला करते हुए उन्होंने शत्रु के दो सिपाहियों को मार गिराया और दूसरे ठोर पर भी इतने ही सिपाही मारे. तीसरे ठोर पर आक्रमण करते हुए उनके कंधे और पांवों में गंभीर चोंटे आयीं. अपने घावों की परवाह किये बिना वे हमले का नेतृत्व करते रहे और अपने जवानों की हौंसला अफजाई करते हुए एक हथगोले से चौथे ठोर की धज्जियां उड़ा दीं. इसी दौरान उनके सर पर एक से अधिक गोलियां लगीं और वे वीर गति को प्राप्त हुए. लेफ्टिनेंट पांडे के इस अदम्य साहस और नेतृत्व के कारण भारतीय सैनिकों को खालूबार पर विजय हासिल करने में मदद मिली.


 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email


फ़ोटो गैलरी
73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

73वां गणतंत्र दिवस समारोह : गणतंत्र दिवस पर देखें राजपथ का भव्य नजारा

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

तस्वीरों में देखें- कहीं पोंगल, कहीं खिचड़ी तो कहीं है मकर संक्रांति

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

दिल्ली में लगा 55 घंटे का कर्फ्यू, सड़कें हुईं वीरान

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

आज से 15 से 18 साल के बच्चों को टीकाकरण, देखिए देशभर से तस्वीरें

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

माता वैष्णो देवी मंदिर में भगदड़

प्रयागराज में पीएम मोदी

प्रयागराज में पीएम मोदी

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

ड्रोन मेगा शो में दिखी अमर शहीद नायकों की गाथा

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

कैटरीना-विक्की ने शेयर की खूबसूरत तस्वीरें

सीएम योगी संग आधी रात

सीएम योगी संग आधी रात 'काशी दर्शन' करने निकले PM मोदी

इतिहास के नाम काशीधाम

इतिहास के नाम काशीधाम

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

शुरू हुई किसानों की घर वापसी

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

हेलीकॉप्टर दुर्घटना : योद्धाओं के शोक में पूरा देश

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

तेजस्वी ने रचाई एलेक्सिस से शादी

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

कैटरीना एवं विक्की बंधे बंधन में

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

भारत-रूस की अटूट दोस्ती

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रीय ध्वज का अनावरण

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

अनुष्का पशुओं के प्रति समर्पित

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की

नागा चैतन्य और साईं पल्लवी की 'लव स्टोरी' का ट्रेलर जारी

भारत जीता ओवल टेस्ट

भारत जीता ओवल टेस्ट

दिल्ली हुई पानी-पानी

दिल्ली हुई पानी-पानी

स्कूल चलें हम

स्कूल चलें हम

शहनाज का बोल्ड अंदाज

शहनाज का बोल्ड अंदाज

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

काबुल एयरपोर्ट पर जबरदस्त धमाका

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

लॉर्डस पर भारत की ऐतिहासिक जीत

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

ओलंपिक खिलाड़ियों से नाश्ते पर मिले पीएम मोदी

तालिबान शासन के डर से लोग काबुल छोड़कर भागे

तालिबान शासन के डर से लोग काबुल छोड़कर भागे

टोक्यो से घर वापसी पर भव्य स्वागत

टोक्यो से घर वापसी पर भव्य स्वागत

भारतीय ओलंपिक दल का भव्य स्वागत

भारतीय ओलंपिक दल का भव्य स्वागत

टोक्यो ओलंपिक 2020 का रंगारंग समापन

टोक्यो ओलंपिक 2020 का रंगारंग समापन

नीरज ने भाला फेंक में ओलंपिक में भारत को दिलाया गोल्ड मैडल

नीरज ने भाला फेंक में ओलंपिक में भारत को दिलाया गोल्ड मैडल

ओलंपिक कुश्ती में रवि दहिया को रजत पदक

ओलंपिक कुश्ती में रवि दहिया को रजत पदक

जश्न मनाती टीम इंडिया

जश्न मनाती टीम इंडिया


 

172.31.21.212