Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

29 Mar 2020 01:03:16 AM IST
Last Updated : 29 Mar 2020 01:06:09 AM IST

मीडिया : ‘रामायण’ पर ‘महाभारत’

सुधीश पचौरी
मीडिया : ‘रामायण’ पर ‘महाभारत’
मीडिया : ‘रामायण’ पर ‘महाभारत’

कोरोना ने हमें कुछ पुराने समय में लौटाना शुरू कर दिया है। शायद इसीलिए, दूरदर्शन जल्द ही ‘रामायण’, ‘महाभारत’, ‘चाणक्य’ तथा ‘ब्योमकेश बख्शी’ जैसे सुपरहिट सीरियलों को फिर से दिखाने जा रहा है।

लेकिन ज्यों ही यह खबर आई त्यों ही कांग्रेस की एक एमपी ने अपने ट्वीट से सरकार का मजाक उड़ाते हुए कह दिया कि रामायण को दिखाने से साफ है कि इस सरकार की प्राथमिकताएं कैसी हैं? और, देखते-देखते, जैसा कि इस दौर में होता रहा है,  ‘रामायण’ के पुनप्र्रसारण पर नये सिरे से एक नया ‘महाभारत’ शुरू हो गया कि रामायण को दिखाना उचित है कि अनुचित?
एक बहस में एक एंकर ने रामायण के निंदकों से पूछा कि आप को रामायण के साथ-साथ ‘महाभारत’, ‘चाणक्य’ और ‘ब्योमकेश बख्शी’ का प्रसारण ठीक लगता है और ‘रामायण’ को दिखाना गलत लगता है। यह तो बड़ी ही ‘दोगली’ आलोचना है। सरकार के पक्षकारों ने रामायण के आलोचकों को जवाब देते हुए कहा कि सरकार कोरोना से लड़ने के लिए अलग प्रयत्न कर रही है, वह ‘राहत पैकेज’ दे रही है, कोरोना के टेस्ट और इलाज की सुविधएं बढ़ा रही है तथा राज्य सरकारों से मिलकर दिन-रात युद्ध स्तर पर काम कर रही है। ‘लॉकडाउन’ भी उनमें से ऐसा ही एक कदम है। इसी ‘लॉकडाउन’ की वजह से इन दिनों में लोग अपने-अपने घरों में बंद हैं। उनकी मांग पर ही हम उनको रामायण आदि सीरियल दिखाने जा रहे हैं। इसमें क्या गलत है?

कहने की जरूरत नहीं कि रामायण को दिखाने को लेकर की जा रही ऐसी आलोचना शुद्ध अवसरवादी आलोचना है। सब जानते हैं कि ‘रामायण’ को लेकर एक टीवी सीरियल बनाने का आदेश स्वयं राजीव गांधी की सरकार ने दिया था। और इस तरह, रामायण को राजीव गांधी बनवाएं तो ठीक, दूरदर्शन से दिखवाएं तो ठीक लेकिन उसी ‘रामायण’ सीरियल को तैंतीस बरस बाद अब भाजपा दिखवाए तो गलत। ये क्या बात हुई? सच तो यह है कि यह ‘रामायण’ न कांग्रेस की है, न भाजपा की है, बल्कि ‘रामानंदी रामायण’ है, जो टीवी की ‘कल्चरल इंडस्ट्री’ का प्रोडक्ट है और उसे एक प्रोडक्ट की तरह ही देखा जाना चाहिए। फिर भी सीरियल में दिखने वाले राम हों या मानस के राम, एक सांस्कृतिक अनुभव के रूप में सबके हैं। उनको जो चाहे जिस भाव से ले सकता है :जाकी रही भावना जैसी! प्रभु मूरत देखी तिन तैसी!!
 तैंतीस बरस पहले जब ‘रामायण’ प्रसारित हुई थी, तब भी कुछ वामपंथी बुद्धिजीवियों ने उसके प्रसारण की निंदा की थी। उनकी नजर में वह एक ‘हिंदू सांप्रदायिकतावादी’ और ‘पुनरुत्थानवादी कथा’ थी और इस तरह घोर ‘प्रतिक्रियावादी’ थी। ऐसे ही तमाम किस्म के आरोप उस समय लगाए गए थे। इन मूर्खतापूर्ण आरोपों के बावजूद रामानंद सागर के बनाए इस सीरियल ने तब के लोकप्रियता के सारे रिकॉर्ड तोड दिए थे और सारे आलोचक व्यर्थ कर दिए। दर्शकों के लिए टीवी सेट मंदिर बन गए। एपीसोड आने से पहले लोग अपने टीवी सेटों की पूजा करते। मालाएं, प्रसाद और पैसे तक चढ़ाते और प्रसंगानुसार रोते-हंसते। विज्ञापन बरसते। कहने की जरूरत नहीं है कि यह दूरदर्शन का स्वर्ण युग था।
इस सीरियल की समीक्षा करते हुए इस लेखक को  उन्हीं दिनों यह भी मालूम हुआ था कि इसे सिर्फ हिंदू ही नहीं देखते थे, बल्कि मुसलमान, सिख, ईसाई आदि भी खूब देखते थे और पाकिस्तान तक में रामायण बहुत पॉपुलर थी। इसका कारण रामकथा की वह चली आती ‘लोकप्रियता’ थी जो आम हिंदू समाज में पहले से ही मौजूद थी और है। ऐसे में ‘रामायण’ के दोबारा प्रसारित किए जाने की समकालीन आलोचना सिद्धांतवादी कम और अवसरवादी अधिक नजर आती है। जरा देखिए : जब कांग्रेस ने रामायण बनवाई और दिखाई तो लेफ्ट बुद्धिजीवियों ने निंदा की क्योंकि तब कांग्रेस सत्ता में थी और आज जब भाजपा सत्ता में है और उसी रामायण को दोबारा दिखाना चाहती है, तो कांग्रेस लेफ्ट की भाषा बोलकर अपने ही नेता के बनाए कार्यक्रम की निंदा में रत है।
अब इन्हें कौन समझाए कि रामायण न कांग्रेस की थी, न है, न हो सकती और न भाजपा की है, या हो सकती है। वह है तो, जनता की है। और रामयण को दोबारा दिखाने की दूसरी वजह दूरदर्शन की अपनी दयनीय स्थिति भी है। गौरतलब है कि आज उसके पास एक भी ऐसा फ्लैगशिप प्रोग्राम नहीं है, जो उसे कमाऊ और कंपटीटिव बनाए। इसलिए इन अवसादपूर्ण दिनों में रामायण को देख कर लोगों को कुछ साहस मिलता है और दूरदर्शन की कुछ कमाई भी होती है तो किसी को क्यों जलना चाहिए?


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास


 

172.31.21.212