Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

20 Aug 2011 12:27:49 AM IST
Last Updated : 20 Aug 2011 12:39:42 AM IST

सद्भावना के प्रतीक राजीव गांधी

पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी (फाइल फोटो)

भारत में सूचना क्रांति के जनक पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी देश में सद्भावना के प्रतीक माने जाते है.

अपने जीवन में उन्होंने सांप्रदायिकता एवं सांप्रदायिक दंगों की खिलाफत की. अन्तरराष्ट्रीय आतंकवाद के बढ़ते खतरे को भांपकर उन्होंने देश में आतंकवाद पर लगाम लगाने के लिए सख्त कदम उठाने की हिमायत की थी.
   
सद्भावना दिवस 20 अगस्त पर विशेष

अखिल भारतीय आतंकवाद निरोधी फ्रंट के अध्यक्ष मनिन्दर सिंह बिट्टा ने कहा, 'राजीव गांधी की मृत्यु भी आतंकवाद के चलते हुई थी और अफसोस है कि हमारे देश के राजनीतिज्ञों ने उनकी मौत से कोई सबक नहीं सीखा. जब तक आतंकवादियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं होगी, तब तक हम इस पर पूरी तरह लगाम लगाने में कामयाब नहीं हो पायेंगे.'
   
उन्होंने आरोप लगाया, 'हर चीज का बड़ी तेजी से राजनीतिकरण हो रहा है और इसी के चलते आतंकवादी या नक्सलवादी बेखौफ

होकर मासूम लोगों को मार रहे हैं. वोट की राजनीति के चलते ही राजीव गांधी के हत्यारों, अफजल गुरू और भुल्लर को सजा देने में

इतनी देरी हो रही है.'

उन्होंने कहा कि पंजाब में आज अमन और शांति है, क्योंकि उस वक्त की सरकार ने कड़े कदम उठाने में झिझक नहीं दिखाई. यदि पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की सुरक्षा को वापस नहीं लिया जाता तो देश के युवा और प्रखर प्रधानमंत्री आज हमारे बीच होते.   

राजीव गांधी का जन्म 20 अगस्त 1944 को मुंबई में हुआ था. उनकी जयंती को देश में 'सद्भावना दिवस' और 'अक्षय ऊर्जा दिवस' के तौर पर मनाया जाता है. वर्ष 1991 के आम चुनाव के प्रचार के दौरान तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में लिट्टे आतंकियों ने बम विस्फोट से उनकी हत्या कर दी थी.

राजीव गांधी इन्दिरा गांधी के पुत्र,जवाहरलाल नेहरू के पौत्र और भारत के नौवें प्रधानमंत्री थे.

1984 में इंदिरा गांधी की हत्या के बाद उनके पुत्र राजीव गांधी भारी बहुमत के साथ प्रधानमंत्री बने थे. उसके बाद 1989 के आम चुनावों में कांग्रेस की हार हुई और पार्टी दो साल तक विपक्ष में रही. 1991 के आम चुनाव में प्रचार के दौरान तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में एक भयंकर बम विस्फोट में राजीव गांधी की मौत हो गई थी.

राजीव का विवाह एन्टोनिया मैनो से हुआ जो उस समय इटली की नागरिक थी. विवाहोपरान्त उनकी पत्नी ने नाम बदलकर सोनिया गांधी कर लिया. उनकी शादी 1968 में हुई जिसके बाद वे भारत में रहने लगी. राजीव व सोनिया की दो बच्चे हैं. पुत्र राहुल का जन्म 1970 और पुत्री प्रियंका का जन्म 1971 में हुआ.

राजीव गांधी की राजनीति में कोई रूचि नहीं थी और वह एक एयरलाइन पाइलट की नौकरी करते थे. आपातकाल के उपरान्त जब इन्दिरा गांधी को सत्ता छोड़नी पड़ी थी, तब कुछ समय के लिए राजीव परिवार के साथ विदेश में रहने चले गए थे. परंतु 1980 में अपने छोटे भाई संजय गांधी की एक हवाई जहाज़ दुर्घटना में असामयिक मृत्यु के बाद माता इन्दिरा को सहयोग देने के लिए 1982 में राजीव गांधी ने राजनीति में प्रवेश लिया.

वह अमेठी से लोकसभा का चुनाव जीत कर सांसद बने और 31 अक्टूबर 1984 को सिख आतंकवादियों द्वारा प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी की हत्या किए जाने के बाद भारत के प्रधानमंत्री बने और अगले आम चुनावों में सबसे अधिक बहुमत पाकर प्रधानमंत्री बने रहे.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 


फ़ोटो गैलरी

 

172.31.21.212