Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

22 Apr 2013 02:32:10 AM IST
Last Updated : 22 Apr 2013 02:46:14 AM IST

भारत के मंगल मिशन पर नजरें

शशांक द्विवेदी
लेखक
पीएसएलवी-एक्स एल (फाइल फोटो)

नासा के मिशन मंगल के बाद अब भारत ने भी मंगल पर पहुंचने की कवायद शुरू कर दी है.

पिछले दिनों केंद्रीय कैबिनेट ने भारत के मिशन मार्स के तहत नवम्बर, 2013 में मंगल ग्रह पर उपग्रह भेजने को मंजूरी दे दी है. अंतरिक्ष में उपग्रह प्रक्षेपण का सौवां मिशन पूरा करने के बाद भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने मंगल मिशन की तैयारी शुरू कर दी है. यह मिशन पूरी तरह से स्वदेशी होगा. इस परियोजना पर करीब 450 करोड़ रुपए खर्च होंगे. कई शोधों से यह साबित हो चुका है कि मंगल ग्रह ने धरती पर जीवन के क्रमिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की है, इसलिए यह अभियान देश के लिए बेहद महत्वपूर्ण है.

मंगलयान के साथ 15 किलो का पेलोड भेजा जाएगा. इनमें कैमरे और सेंसर जैसे उपकरण शामिल हैं, जो मंगल के वायुमंडल और उसकी दूसरी विशिष्टताओं का अध्ययन करेंगे. मंगलयान को लाल ग्रह के निकट पहुंचने में आठ महीने लगेंगे. मंगल की कक्षा में स्थापित होने के बाद यान मंगल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारियां भेजेगा. मंगलयान का मुख्य फोकस संभावित जीवन, ग्रह की उत्पत्ति, भौगोलिक संरचनाओं और जलवायु आदि पर रहेगा. यान यह पता लगाने की भी कोशिश करेगा कि क्या लाल ग्रह के मौजूदा वातावरण में जीवन पनप सकता है. मंगल की परिक्रमा करते हुए ग्रह से उसकी न्यूनतम दूरी 500 किमी और अधिकतम दूरी आठ हजार किमी रहेगी. इसरो के पूर्व अध्यक्ष प्रो. यूआर राव के नेतृत्व में गठित समिति ने मंगलयान द्वारा किए जाने वाले प्रयोगों का चयन किया है. प्रो. राव के अनुसार उनकी टीम ने मंगल के लिए कुछ नायाब किस्म के प्रयोग चुने हैं. एक प्रयोग के जरिए मंगलयान लाल ग्रह के मीथेन रहस्य को सुलझाने की कोशिश करेगा. क्योंकि मंगल के वायुमंडल में मीथेन गैस की मौजूदगी के संकेत मिले हैं.

मंगलयान पता लगाने की कोशिश करेगा कि मंगल पर मीथेन उत्सर्जन का स्रोत क्या है. मंगल आज भले ही एक निष्प्राण लाल रेगिस्तान जैसा नजर आता हो, लेकिन उसके बारे में कई सवाल आज भी अनुत्तरित हैं. हमारे सौरमंडल में अभी सिर्फ पृथ्वी पर जीवन है. शुक्र ग्रह पृथ्वी के बहुत नजदीक हैं, लेकिन वहां की परिस्थितियां जीवन के लिए एकदम प्रतिकूल हैं. मंगल भी पृथ्वी के बेहद करीब है, लेकिन उसके वायुमंडल में ऑक्सीजन की मात्रा बहुत कम है. वहां कुछ चुंबकीय पदार्थ भी मौजूद हैं, लेकिन ग्रह का चुंबकीय क्षेत्र नहीं है. केवल एक अंतरिक्ष यान भेज कर चंद्रमा पर जल खोजकर भारत ने जो करिश्मा किया उसे देखते हुए भारत के मंगल अभियान को लेकर देश के भीतर व बाहर दोनों जगह उत्साह का माहौल है. मंगलयान भारत की पूर्ण स्वदेशी योजना है. मंगलयान की उड़ान यह सिद्ध करेगी कि भारत 5 करोड़ से 40 करोड़ किमी लंबी तथा 300 दिन तक चलने वाली अंतरिक्ष यात्राओं को कुशलता से नियंत्रित कर सकता है.                               
    
भारत का मंगलयान मंगल पर उतरेगा नहीं, अपितु उसकी सतह से 500 से 8 हजार किमी दूर रहते हुए परिक्रमा करेगा. भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान का विश्वस्त राकेट ‘पीएसएलवी-एक्स एल’ मंगलयान को लेकर श्री हरिकोटा से उड़ान भरेगा. पीएसएलवी मंगलयान को अंतरिक्ष में पृथ्वी की कक्षा में स्थापित कर देगा. इसके बाद मंगलयान के छह इंजन चालू होकर इसे पृथ्वी की उत्केंद्री कक्षा में ऊपर उठा देंगे. तब मंगलयान 600 से 2.15 लाख किमी दूर रहते हुए पृथ्वी की परिक्रमा करने लगेगा. इसके बाद एक बार यान के इंजन फिर चालू किए जाएंगे जो मंगलयान को पृथ्वी की कक्षा से निकाल कर उसे सूर्य लक्ष्यी पथ पर मंगल की ओर अंतरग्रही यात्रा पर भेज देगें. यदि सब कुछ योजनानुरूप चला तो मंगलयान सितम्बर 2014 में मंगल की परिक्रमा में पहुंच जाएगा.

मंगलयान मंगलग्रह की परिक्रमा करते हुए ग्रह की जलवायु, आंतरिक बनावट, वहां जीवन की उपस्थिति, ग्रह की उत्पत्ति, विकास आदि के विषय में बहुत-सी जानकारी जुटा कर पृथ्वी पर भेजेगा. वैज्ञानिक जानकारी को जुटाने हेतु मंगलयान पर कैमरा, मिथेन संवेदक, उष्मा संवेदी अवरक्त वर्ण विश्लेषक, परमाणुविक हाइड्रोजन संवेदक, वायु विश्लेषक आदि पांच प्रकार के उपकरण लगाए जा रहे हैं. इन उपकरणों का वजन 15 किलोग्राम के करीब होगा. मेथेन की उत्पत्ति जैविक है या रासायनिक, यह सूचना मंगल पर जीवन की उपस्थिति का पता लगाने में सहायक होगी. मंगलयान में ऊर्जा की आपूर्ति हेतु 760 वाट विद्युत उत्पादन करने वाले सौर पैनल लगे होंगे.

इस अभियान में 15 किलो के पांच एक्सपेरिमेंटल पेलोड्स भेजे जाएंगे. मंगल के लिए जो मिथेन सेंसर भेजा जाएगा उसका वजन 3.59 किलो होगा. यह सेंसर मंगल के पूरे डिस्क को छह मिनट के अंदर स्कैन करने में सक्षम है. दूसरा उपकरण थर्मल इंफ्रारेड स्पेक्टोमीटर है. इसका वजन चार किलो होगा. यह मंगल की सतह को मैप करेगा. एक और उपकरण मार्स कलर कैमरा है जिसका वजन 1.4  किलो है. इसके अलावा लेमैन-अल्फा फोटोमीटर का वजन 1.5  किलो है. यह मंगल के वातावरण में एटॉमिक हाइड्रोजन का पता लगाएगा.

इससे पहले के दूसरे देशों के मंगल अभियानों में भी इस ग्रह के वायुमंडल में मिथेन का पता चला था, लेकिन इस खोज की पुष्टि की जानी अभी बाकी है. ऐसा माना जाता है कि कुछ तरह के जीवाणु अपनी पाचन प्रक्रिया के तहत मिथेन गैस मुक्त करते हैं. अगर भारत का मंगल अभियान समय पर शुरू हो जाता है तो इससे वह उन खास पांच देशों की लिस्ट- अमेरिका, रूस, यूरोप, चीन और जापान- में आ जाएगा, जो इस तरह के मिशन को अंजाम दे चुके हैं.
लाल ग्रह यानी मंगल पर जीवन की संभावनाओं को लेकर वैज्ञानिकों की ही नहीं, आम आदमी की भी उत्सुकता लंबे अरसे से रही है. इस जिज्ञासा के जवाब को तलाशने के लिए कई अभियान मंगल ग्रह पर भेजे भी गए. मंगलयान का मुख्य काम यह पता करना है कि क्या कभी मंगल ग्रह पर जीवन था. मंगलयान ग्रह की मिट्टी के नमूनों को इकट्ठा कर यह पता लगाएगा कि क्या कभी मंगल पर जीवन था या नहीं? इस अभियान का उद्देश्य यह पता लगाना है कि वहां सूक्ष्म जीवों के जीवन के लिए स्थितियां हैं या नहीं और अतीत में क्या कभी यहां जीवन रहा है. पृथ्वी से बाहर ग्रहों के बीच किसी यान को भेजने का भारत का यह पहला अवसर होगा. यदि भारत अपने मंगलयान को सुरक्षित मंगल की कक्षा में पहुंचा कर उसे ठीक से नियंत्रित रख लेता है तो भी यह एक बड़ी उपलब्धि होगी.


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

Bigg Boss 13: सिद्धार्थ शुक्ला ने शहनाज के पापा को डैडी कहा?

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

मेरे भीतर एक मॉडल छिपी हुई है: करीना

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: काशी-महाकाल एक्सप्रेस में भगवान शिव के लिए एक सीट आरक्षित

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

PICS: मौनी रॉय की छुट्टियों की तस्वीर हुई वायरल

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

लैक्मे फैशन वीक में जाह्नवी और विक्की कौशल ने रैम्प वॉक किया

'रंगीला' से 'लाल सिंह चड्ढा' तक: कार्टूनिस्ट के कैलेंडर में आमिर खान के किरदार

PICS: आप का

PICS: आप का 'छोटा मफलरमैन', यूजर्स को हुआ प्यार

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: ढोल नगाड़ों से गूंज रहा है ‘AAP’ कार्यालय

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

PICS: जिम लुक की चर्चा से मायूस हैं जान्हवी कपूर, बोलीं...

Oscars 2020:

Oscars 2020: 'पैरासाइट' सर्वश्रेष्ठ फिल्म, वाकिन फिनिक्स और रेने ने जीता बेस्ट एक्टर्स का खिताब

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

PICS: मारुती ने ऑटो एक्सपो में नई Suzuki Jimny की दिखाई झलक, जानें क्या है खास

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

Bigg Boss 13: एक्स कंटेस्टेंट मधुरिमा तुली ने नई तस्वीरों से चौंकाया

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

PICS: दिल्ली में कई दिग्गज नेताओं ने डाला वोट

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

नयी तस्वीरों में कहर ढाती नजर आईं तनुश्री दत्ता

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

Auto Expo: हुंडई का नया 2020 Tucson फेसलिफ्ट लॉन्च, देखें यहां फर्स्ट लुक

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

PICS: जानलेवा कोरोना वायरस से रहें सतर्क, जानें लक्षण और बचने के उपाय

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

इंदौर और भोपाल में मार्च में होगा आइफा अवॉर्ड समारोह

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...

बजट 2020 की खास बातें एक नजर में...


 

172.31.21.212