Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

 लेख

 
न्यायपालिका : बहुत कुछ करने की जरूरत

जहां एक ओर 2017 में न्यायालय ने कई ऐतिहासिक फैसले सुनाए वहीं 2018 में भी कई महत्त्वपूर्ण फैसले आने हैं. ....

सामयिक : दलितों का देश कहां महाराज!

भीमा कोरेगांव में पहली जनवरी 2018 को हुई रैली के दौरान हुआ हमला और उसके जवाब में हुए बंद के दौरान हुई तोड़फोड़ और हिंसा निंदनीय है लेकिन उससे निकला आख्यान और नेतृत्व महत्त्वपूर्ण है. ....

क्रिकेट : तलाशनी होगी हार की वजह

घर में एक के बाद एक सीरीज जीतने से अजेय समझे जाने की गलतफहमी शायद केपटाउन के न्यूलैंड्स में मिली हार के बाद दूर हो गई है. ....

अदालतें : सांस्कृतिक संघर्ष के केंद्र

अदालतों का चरित्र तेजी से बदलता दिखाई दे रहा है. इसे कई तरह से महसूस किया जा रहा है. यहां उन पहलूओं की चर्चा की जा रही है, जो अदालतों के भीतर पेशेवराना समूह के साथ घटित हो रहे हैं. ....

मुद्दा : खतरनाक कौन, कोहरा या हम!

प्राकृतिक रूप से पैदा होने वाला कुहासा, कोहरा या धुंध एक सामान्य घटना है. सर्दियों में कोहरा कम से कम उत्तर भारत में तो लौटता ही है. ....

अर्थव्यवस्था : कैसा होगा परिदृश्य

देश की आर्थिक स्थिति कैसी है, इसे जानना इसलिए आवश्यक हो गया है कि हमारे सामने अर्थव्यवस्था को लेकर कई प्रकार की तस्वीरें पेश की जा रहीं हैं. ....

मुद्दा : भ्रामक विज्ञापनों पर नकेल जरूरी

मशहूर क्रिकेट खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी या फिल्म स्टार अमिताभ बच्चन किसी उत्पाद का प्रचार करते हैं तो लोग उन पर कमोबेश भरोसा कर ही लेते हैं. ....

नजरिया : बदला वक्त बदलें नजरिया

कहते हैं कि अंग्रेजों ने देश के टुकड़े किए. हिन्दुस्तान-पाकिस्तान बनाए. मगर, क्या 200 साल बाद भीमा-कोरेगांव के बहाने दलित-गैर दलित उन्माद भी अंग्रेजों ने पैदा किया? ....

मीडिया : गुस्से की सेल

विज्ञापनों के बारे में विचार करने वाले मानकर चलते हैं कि वे हमेशा एक ‘उपभोक्ता समाज’; कंज्यूमर सोसाइटीज बनाया करते हैं. ....

प्रसंगवश : जीवन की दरकार

नोटबंदी, डिजिटलीकरण और जीएसटी ने सिखा दिया है कि आर्थिक नीति केंद्रीय महत्त्व की है, और उसमें फेरबदल और उतार-चढ़ाव के साथ-साथ हर किसी की मुश्किलें, चाहे कोई बड़ा आदमी हो या छोटा, घटती-बढ़ती हैं. ....

परत-दर-परत : दलित संघर्ष में अहिंसा के लिए जगह

जाति प्रथा ने एक ऐसा समाज बनाया था, जिसमें दलितों से आत्मरक्षा के साधन छीन लिए गए थे. सैकड़ों साल से नियम था कि जो दलित हैं, शस्त्र धारण नहीं कर सकते. ....

वैश्विकी : दुत्कार और पुचकार के बीच पाकिस्तान

पाकिस्तान के प्रति अमेरिकी रुख में आए बदलाव से वैश्विक राजनीति के जानकारों को शायद ही अचरज हो. ....

आप : हम-तुम में फंस गई आप

देश भ्रष्टाचार उन्मूलन, व्यवस्था परिवर्तन और तमाम उच्च आदर्शों के साथ देश के तमाम आंदोलनकारियों, ईमानदार अफसरों और बुद्धिजीवियों की सहानुभूति लेकर सत्ता में आई आम आदमी पार्टी अब हम और तुम के झगड़े में उलझ कर र ....

उत्तर प्रदेश : स्वेटर नहीं स्कूली बच्चों को

पूर्व राष्ट्रपति स्वर्गीय डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ने कहा था कि हमारे इस देश के सबसे अच्छे दिमाग स्कूलों में क्लासरूम की आखिरी बेंच पर भी मिल सकते हैं... यानी क्लास रूम की आखिरी पंक्ति पर बैठने वाले बच्चों की प्रतिभ ....

सामयिक : परेशानी में पाकिस्तान

अंतरराष्ट्रीय राजनीति में न तो कोई स्थायी मित्र होता है और न ही स्थायी शत्रुठ यह बात पाकिस्तान और अमेरिका के बीच बदलते हुए रिश्तों के परिप्रेक्ष्य में समझी जा सकती है. ....

मदरसा : छुट्टियां और सियासत

यद्यपि छुट्टियों का कोई धर्म या मजहब नहीं होता परन्तु धार्मिक पर्व और तीज-त्योहारों पर छुट्टियां जरूर होती है. ....

खाद्य सुरक्षा : भारत फूंकेगा नई जान

तारीख 1 जनवरी 2018 को केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्यग मंत्री सुरेश प्रभु ने कहा कि पिछले दिनों ब्यूनस आयर्स (अर्जेंटीना) में आयोजित विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) के 11वें मंत्रिस्तरीय सम्मेलन में खाद्य सुरक्षा के मु ....

क्रिकेट : प्रदर्शन को अहमियत जरूरी

पिछले एक-दो दशक में भारतीय क्रिकेट का नक्शा बदला है. अब क्रिकेट चंद टीमों की बपौती नहीं रह गई है. इसकी वजह राष्ट्रीय चैंपियनशिप के तौर पर खेले जाने वाली रणजी ट्रॉफी में नये-नये चैंपियन सामने आने लगे हैं. ....

सामयिक : नया साल नई इबारतें

नया साल नई इबारतें लेकर आया है. 21वीं सदी की पहली पीढ़ी बालिग हो रही है, और क्षितिज पर संभावनाओं और चुनौतियों के बादल घुमड़ रहे हैं. ....

सावित्री फुले : अस्मिता की पहचान कराई

सावित्री बाई फुले का जन्म 3 जनवरी 1831 को नया गांव (बॉम्बे प्रेसीडेंसी) में हुआ था, जो पुणे शहर से 50 किलोमीटर की दूरी पर है. ....

  फ़ोटो गैलरी
'ये बॉलीवुड...
मैडम तुसाद में...
मैडम तुसाद में...
जानें 18 बहादुर बच्चों...
जानें 18 बहादुर बच्चों...
19 जनवरी 2018, शुक्रवार...
19 जनवरी 2018, शुक्रवार...
18 जनवरी 2018,...
18 जनवरी 2018,...
टाइगर जिंदा है ने...
टाइगर जिंदा है ने...
17 जनवरी 2018, बुधवार...
17 जनवरी 2018, बुधवार...
आदिरा...
आदिरा...
16 जनवरी 2018, मंगलवार...
16 जनवरी 2018, मंगलवार...
सोमवार,15 जनवरी 2018...
सोमवार,15 जनवरी 2018...
तमिलनाडु में पोंगल...
तमिलनाडु में पोंगल...
14 से 20 जनवरी तक...
14 से 20 जनवरी तक...
13 जनवरी 2018, शनिवार...
13 जनवरी 2018, शनिवार...
12 जनवरी 2018, शुक्रवार...
12 जनवरी 2018, शुक्रवार...
'स्वच्छ आदत स्वच्छ...
मकर संक्रांति:...
मकर संक्रांति:...
11 जनवरी 2018,...
11 जनवरी 2018,...
मैं पेरिस में नहीं...
मैं पेरिस में नहीं...
Delhi Book Fair: किताबों के...
Delhi Book Fair: किताबों के...
10 जनवरी 2018, बुधवार...
10 जनवरी 2018, बुधवार...
9 जनवरी 2018, मंगलवार...
9 जनवरी 2018, मंगलवार...
8 जनवरी 2018, सोमवार...
8 जनवरी 2018, सोमवार...
7 से 13 जनवरी तक...
7 से 13 जनवरी तक...
जब जरुरत गर्ल के नाम...
जब जरुरत गर्ल के नाम...
6 जनवरी 2018, शनिवार...
6 जनवरी 2018, शनिवार...
5 जनवरी 2018, शुक्रवार...
5 जनवरी 2018, शुक्रवार...
'तुझे मेरी कसम' के सेट...
गलन वाली ठंड का कहर...
गलन वाली ठंड का कहर...
4 जनवरी 2018,...
4 जनवरी 2018,...
जानिए 3 जनवरी 2018,...
जानिए 3 जनवरी 2018,...
1 जनवरी 2018, सोमवार...
1 जनवरी 2018, सोमवार...
31 दिसम्बर से 06 जनवरी तक...
31 दिसम्बर से 06 जनवरी तक...

 

172.31.20.145