मकर संक्रांति: उड़ी-उड़ी रे पतंग...

मकर संक्रांति: उड़ी-उड़ी रे पतंग...

आचार्य गौतम ने बताया कि आकाश में रंग-बिरंगी अठखेलियां करती पतंग को देख हर किसी का मन पतंग उड़ाने के लिए लालायित हो उठता है। हर साल मकर संक्रांति के दिन लोग चूड़ा-दही खाने के बाद मकानों की छतों और खुले मैदानों में पतंग उड़ाकर दिन का मजा लेते हैं।

 
 
Don't Miss
 
PIC OF THE DAY