बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे कादर खान

PICS: बहुआयामी प्रतिभा के धनी थे कादर खान

बॉलीवुड में कादर खान को एक ऐसे बहुआयामी कलाकार के तौर पर याद किया जायेगा जिन्होंने सहनायक, संवाद लेखक, खलनायक, हास्य अभिनेता और चरित्र अभिनेता के तौर पर दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनायी। कादर खान के अभिनय की एक विशेषता रही है कि वह किसी भी तरह की भूमिका के लिये उपयुक्त थे। फिल्म ‘कुली’ एवं ‘वर्दी’ में क्रूर खलनायक की भूमिका हो या फिर ‘कर्ज चुकाना है’ एवं ‘जैसी करनी वैसी भरनी’ फिल्म में भावपूर्ण अभिनय या फिर ‘बाप नंबरी बेटा दस नंबरी’ और ‘प्यार का देवता’ जैसी फिल्मों में हास्य अभिनय, इन सभी चरित्रों में उनका कोई जवाब नहीं है। कादर खान का जन्म 22 अक्टूबर 1937 में अफगानिस्तान के काबुल में हुआ था। उन्होंने अपनी स्नातकोत्तर की पढ़ाई उस्मानिया विश्वविद्यालय से पूरी की। इसके बाद उन्होंने अरबी भाषा के प्रशिक्षण के लिये एक संस्थान की स्थापना करने का निर्णय लिया। उन्होंने अपने करियर की शुरूआत बतौर प्रोफेसर मुंबई में एमएस सब्बों सिद्धिक कालेज आफ इंजनीयरिंग से की। इस दौरान कादर खान कॉलेज में आयोजित नाटकों में हिस्सा लेने लगे। एक बार कॉलेज में हो रहे वार्षिक समारोह में उन्हें अभिनय करने का मौका मिला। इस समारोह में अभिनेता दिलीप कुमार उनके अभिनय से काफी प्रभावित हुए और उन्हें अपनी फिल्म ‘सगीना’ में काम करने का प्रस्ताव दिया।

 
 
Don't Miss
 
PIC OF THE DAY