भारत का बहादुर बेटा था सरबजीत

Pics: बहादुर बेटे सरबजीत की मौत पर दुख, दोषियों को मिले कड़ी से कड़ी सजा

सरबजीत की मौत पर प्रधामंत्री मनमोहन सिंह ने दुख जताया है. मनमोहन सिंह का कहना है कि पाकिस्तान ने इस पूरे मामले पर मानवीय पहलू को ध्यान में नहीं रखा. सरबजीत पर बर्बर और कातिलाना हमले के जिम्मेदार अपराधियों को न्याय के कठघरे में लाया जाए. मनमोहन ने कहा कि सरकार सरबजीत के शव को घर लाने और उनका अंतिम संस्कार करने के इंतजाम करेगी. प्रधानमंत्री ने अपने शोक संदेश में कहा, ‘‘मैं सरबजीत सिंह के निधन से अत्यंत दुखी हूं. वह भारत का वीर सपूत था जिसने अपनी पीड़ा का सामना अत्यंत दिलेरी के साथ किया.’’ उन्होंने कहा, ‘‘विशेष तौर पर यह खेदजनक है कि पाकिस्तान सरकार ने मामले में मानवीय रवैया अपनाने के लिए भारत सरकार, सरबजीत के परिवार और भारत तथा पाकिस्तान के समाज के लोगों के आग्रह पर ध्यान नहीं दिया.’’ मनमोहन ने कहा कि समूचे राष्ट्र की संवेदनाएं सरबजीत के परिवार के साथ हैं. उन्होंने कहा, ‘‘ईश्वर उनकी आत्मा को शांति प्रदान करें जो उन्हें जीवन में नहीं मिल पाई.’’ आपको बता दें पाकिस्तान में मौत की सजा का सामना कर रहे भारतीय कैदी सरबजीत सिंह का लाहौर के जिन्ना अस्पताल में पाकिस्तानी समयानुसार देर रात एक बजे निधन हो गया. सरबजीत की मृत्यु कड़ी सुरक्षा वाले जेल में कैदियों द्वारा बर्बर हमला किए जाने के बाद पिछले छह दिनों तक कोमा में रहने के बाद हुई. सरबजीत के इलाज की निगरानी कर रहे मेडिकल बोर्ड के प्रमुख महमूद शौकत ने मीडिया को बताया, ‘‘:जिन्ना अस्पताल: में ड्यूटी पर तैनात एक डॉक्टर के पास से मेरे पास देर रात एक बजे (भारतीय समयानुसार डेढ़ बजे) फोन आया जिसमें सूचित किया गया कि सरबजीत नहीं रहे.’’ इस्लामाबाद में भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों ने बताया कि उन्हें जिन्ना अस्पताल के अधिकारियों ने सरबजीत की मृत्यु के बारे में सूचित किया है. शौकत ने बताया कि अधिकारियों की ओर से सरबजीत के शव का पोस्टमार्टम करने के बारे में फैसला करना बाकी है.

 
 
Don't Miss
 
PIC OF THE DAY