Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

14 Jan 2020 05:58:36 AM IST
Last Updated : 14 Jan 2020 06:00:54 AM IST

जेएनयू : दोतरफा थी हिंसा

अवधेश कुमार
जेएनयू : दोतरफा थी हिंसा
जेएनयू : दोतरफा थी हिंसा

दिल्ली पुलिस के विशेष जांच दल ने प्राथमिक जांच रिपोर्ट सार्वजनिक की है। इसके मुताबिक जेएनयू की भयावह हिंसा एकपक्षीय नहीं थी।

पहली बार हिंसा की जो तस्वीरें आई, उनके पहले भी हिंसा हुई थी जिनका सच सामने आ चुका है। दिल्ली पुलिस ने इसकी पुष्टि की है। दिल्ली पुलिस ने हिंसा मामले में नौ आरोपितों की तस्वीरें जारी की हैं। इसमें जेएनयूएसयू की अध्यक्ष आइशी घोष भी शामिल हैं। पुलिस को कठघरे में खड़ा करने वाले कुछ भी कहें, लेकिन उसने यही कहा कि यह छात्रों का मामला है, इसलिए हम तत्काल गिरफ्तार नहीं कर रहे, उन्हें नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। प्रश्न है कि अगर जांच पूरी नहीं हुई तो फिर दिल्ली पुलिस ने पत्रकार वार्ता क्यों की? इसका उत्तर देते हुए सिट प्रमुख ने ही कहा कि छात्रों का भविष्य इससे जुड़ा हुआ है, उसको ध्यान में रखते हुए हम आपसे जानकारी साझा कर रहे हैं। जाहिर है, ज्यादा गलफहमी न फैले इसलिए यह जरूरी था। वैसे पुलिस का कहना है कि इन छात्रों से जब भी हम कनेक्ट करने की कोशिश करते हैं तो ये कानून का उल्लंघन करते हैं।
अब जरा घटनाक्रम को देखिए और जो माहौल बनाया गया उससे तुलना करिए। माहौल यह बनाने की कोशिश हुई कि भाजपा की सरकार होने के कारण उनसे जुड़े छात्र संगठन ने गुंडों की तरह वामपंथी छात्र संगठनों से जुड़े लोगों को मारा। क्यों मारा? इसका समाधानपरक जवाब नहीं। पुलिस ने बताया कि जेएनयू में विंटर रजिस्ट्रेशन चल रहा है, जिसका वामपंथी दलों से जुड़े छात्र संगठन एआईएसएफ, एसएफआई, आईसा और डीएसएफ विरोध कर रहे हैं।

ज्यादातर छात्र रजिस्ट्रेशन कराना चाहते हैं। पांच जनवरी की घटना का वीडियो आया लेकिन पुलिस ने एक जनवरी से ही विवरण दिया है। जांच में पता चला कि एक और दो जनवरी को रजिस्ट्रेशन की कोशिश करने वाले छात्रों को डराया-धमकाया गया, उनसे धक्का-मुक्की भी की गई। 3 जनवरी को एआईएसएफ, एसएफआई, आईसा और डीएसएफ के सदस्य सेंट्रलाइज रजिस्ट्रेशन सिस्टम को रोकने के लिए जबरदस्ती सर्वर रूम में घुसे, कर्मचारियों को बाहर निकाल दिया, सर्वर बंद कर दिया। 4 जनवरी को दोपहर में पीछे शीशे के दरवाजे से अंदर घुसे और सर्वर को बर्बाद कर दिया। रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया रु क गई। इन मामले में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है जिसमें आइशी घोष का नाम है। पांच जनवरी को साढ़े 11 बजे रजिस्ट्रेशन न करने देने से परेशान चार छात्र स्कूल ऑफ सोशल साइंसेज के सामने बैठे थे। एआईएसएफ, आईसा, एसएफआई और डीएसएफ का एक समूह उन छात्रों को पीटने लगा। बीच-बचाव के लिए गए गाडरे को भी पीटा गया। 20 छात्रों के खिलाफ गाडरे पर हमला करने की प्राथमिकी दर्ज हुई है। इसके बाद पांच जनवरी को इन्हीं 4 संगठनों के नकाबपोश हमलावरों ने पेरियार हॉस्टल में छात्रों को चुन-चुनकर मारा। पुलिस का कहना है। इसमें जेएनयूएसयू अध्यक्ष भी शामिल थीं। कुछ खास कमरों को निशाना बनाया गया। शाम को साबरमती हॉस्टल में नकाबपोश हमलावरों ने तोड़फोड़ और हिंसा की। इस समूह में शामिल कुछ छात्रों को चिह्नित किया गया है। नर्मदा हॉस्टल में भी हिंसा का केस दर्ज हुआ है।
अभी यह आधी जांच रिपोर्ट है। इससे इतना साफ होता है कि 5 जनवरी की शाम का जो दृश्य हमने देखा उसकी पृष्ठभूमि पहले बनाई जा चुकी थी। पांच जनवरी को आरंभ में पिटे गए ज्यादातर या तो विद्याथी परिषद के थे या फिर आम छात्र जो सेमेस्टर रजिस्ट्रेशन कराना चाहते थे। इन छात्रों की पिटाई एवं घायल होने के कारण निश्चय ही गुस्सा पैदा हुआ होगा। तभी ह्वाट्सऐप समूह बना अपनी रक्षा के लिए जिसमें कहा गया कि सभी अपनी रक्षा के लिए कुछ न कुछ पास रखें। इसलिए यह भी नहीं कहा जा सकता कि जिन लोगों के हाथों में कोई डंडा दिख रहा है, वे हमलावर ही थे। आखिर पेरियार हॉस्टल में उन्हीं कमरों में क्यों हमला हुआ जिसमें परिषद के छात्र थे? बहुत सारे छात्र-छात्राओं ने छिपकर अपने को बचाया। छात्राओं के गुप्तांगों पर चोट की गई। इसलिए यह मानने में कोई हर्ज नहीं है कि बाद में इसकी प्रतिक्रिया में हमला हुआ। जो लोग चेहरे ढंके हुए थे, वे परिषद के भी हो सकते हैं और सामान्य छात्रों का समूह या उनके साथ कुछ बाहरी समर्थक भी।  आइशी घोष उनको संदिग्ध बनाने को पुलिस का पक्षपातपूर्ण रवैया बता रही हैं। उनके सिर पर चोट आई तो किसी ने हमला किया। किंतु इससे यह साबित नहीं होता कि उनके नेतृत्व में इसके पहले हमले नहीं हुए थे। सीसीटीवी फुटेज पहचान का सबसे अच्छा स्रोत हो सकता था, लेकिन वाईफाई सर्वर ध्वस्त होने से सीसीटीवी फुटेज नहीं मिला। पुलिस को भी वायरल वीडियो और तस्वीरों की मदद से पहचानना पड़ रहा है। वीडियो में वे लाठी, डंडों से लैस समूह के साथ दिख रही हैं, जो हमलावर है। पेरियार हॉस्टल में हमले के शिकार हुए छात्र भी गवाही दे रहे हैं। आखिर उतने लोग पीटे गए तो कोई आकाश से आकर तो नहीं पीट गया।
सर्वर केन्द्र को ताला लगाकर बाहर कुछ नकाबपोशों के साथ जेएनयू की पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष गीता कुमारी दिख रही हैं। इन्हें यहां से हटने के लिए कहने पर वह पुलिस से बहस कर रही हैं। दो महीने से ज्यादा समय से ये छात्र समूह पूरे जेएनयू को अपने सिर उठाकर रखा हुआ है। उच्च न्यायालय के इस आदेश के बावजूद कि प्रशासनिक भवन ने 100 मीटर तक आप प्रदर्शन नहीं कर सकते उन्होंने प्रशासनिक भवन को नारों से पोत दिया गया। विवेकानंद की मूर्ति को नुकसान पहुंचाया।
भगवा, हिन्दुत्व, भाजपा, संघ के अंत के नारे लिखे गए। यह छात्र संगठन के नारे नहीं हो सकते। ये राजनीतिक नारे हैं। इनके पीछे राजनीतिक दलों और नेताओं की भूमिका है। पुलिस को इनके चेहरे से भी नकाब उतारना चाहिए। पुलिस भी जानती है कि इन छात्र नेताओं के पक्ष में राजनीतिक दलों के साथ बड़े-बड़े वकीलों का समूह खड़ा हो जाएगा। इसलिए वह इनके विरुद्ध ठोस साक्ष्य पर ही मामला बनाएगी। जेएनयू पर वर्चस्व रखने तथा अपने विचारों के लिए प्रशिक्षण केंद्र बनाने के वामपंथी दलों की नीति का अंत होना चाहिए। साथ ही छात्रों के बीच वैचारिक दुश्मनी और हिंसा के अंत के लिए भी मध्यस्थता एवं मेल-मिलाप की कोशिश जरूरी है। पुलिस ने किसी को गिरफ्तार न कर सही किया है। जो अपराधी प्रवृत्ति के हैं, उनको छोड़कर किसी छात्र का भविष्य खराब हो जाए, यह उचित नहीं होगा।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: अहमदाबाद में छाए भारत-अमेरिकी संबंधों का बखान करते इश्तेहार

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

PICS: महाशिवरात्रि: देशभर में हर-हर महादेव की गूंज, शिवालयों में लगा भक्तों का तांता

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

महाशिवरात्रि: जब रुद्र के रूप में प्रकट हुए शिव

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

जब अचानक ‘हुनर हाट’ पहुंचे प्रधानमंत्री मोदी, देखें तस्वीरें...

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

अबू जानी-संदीप खोसला के लिए रैम्प वॉक करते नजर आईं सारा

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड

लॉरेस पुरस्कार: मेसी और हैमिल्टन ने साझा किया लॉरेस स्पोटर्समैन अवार्ड


 

172.31.21.212