Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

15 Dec 2019 02:20:25 AM IST
Last Updated : 15 Dec 2019 02:29:09 AM IST

बतंगड़ बेतुक : झल्लन की बात में दम है

विभांशु दिव्याल
बतंगड़ बेतुक : झल्लन की बात में दम है
बतंगड़ बेतुक : झल्लन की बात में दम है

झल्लन ने हमें आते हुए देख हांक लगाई, ‘ददाजू, इधर आइए, मिठाई तो नहीं है, लीजिए शगुन की यह टॉफी खाइए।’ हमने कहा, ‘पहले ये बता किस खुशी में तू हमें टॉफी खिला रहा है?’

वह बोला,‘सारे विपक्ष को फेल कर बिल पास हो गया। अब देखिए लोग कैसी खुशी मना रहे हैं! इसी खुशी में हम आपको टॉफी खिला रहे हैं।’
हमने कहा, ‘बिल पास हुआ तो हुआ, लेकिन यह देख संसद का कितना दुरुपयोग हुआ और उन विपक्षियों की सोच जो इस बिल पर मातम मना रहे हैं और इसके पास होने के दिन को इतिहास का काला दिन बता रहे हैं, इसे संविधान का अपमान बता रहे हैं, मुसलमान विरोधी ठहरा रहे हैं।’ झल्लन बोला,‘ददाजू,सरकार कोई भी काम करे सारे चिरकुट बिना सोचे-समझे उसे संविधान विरोधी बता डालते हैं और भले जो मुसलमानों के हित में हो उसे मुसलमान विरोधी बना डालते हैं।’ हमने कहा, ‘झल्लन, तुझे किसी को चिरकुट नहीं कहना चाहिए, यह असंवैधानिक शब्द है, इससे बचना चाहिए।’ झल्लन बोला, ‘क्या ददाजू, सरकार अच्छा करे तो यह लोग चिरकुटियाई करें, बुरा करे तो चिरकुटियाई करें, खुद कभी कुछ कर नहीं पाये कोई और करे तो उस पर भी चिरकुटियाई करें, ऐसे लोगों को चिरकुट न कहें तो क्या कहें? पर ददाजू, हम संविधान का नहीं आपका मान रखते हैं; इसलिए आपकी आपत्ति का संज्ञान लेते हुए अपने कहे चिरकुट शब्द को वापस लेते हैं।’ हमने कहा, ‘झल्लन,ये तेरी धूर्ततापूर्ण नीति है,अपने कहे को अनकहा बताना तेरी कुटिल रीति है।’ झल्लन बोला,‘अच्छा ददाजू, बताएं कि जिन मुस्लिम देशों ने हिंदू, सिख, ईसाई, पारसी जैसे अल्पसंख्यकों को अपने यहां से भागने पर विवश कर दिया वे कहां जाएंगे, सीधे हिंदुस्तान ही तो आएंगे। ऐसे सताये,डराये,भगाये लोगों को भारत अपना नागरिक बना लेता है तो इसमें मुसलमानों का क्या ले लेता है?’

हमने कहा, ‘देख झल्लन, तू सरकारी भाषा बोल रहा है, सच को सियासत के पैमाने पर तौल रहा है। भारत धर्मनिरपेक्ष देश है, यहां सबको समान दृष्टि से देखा जाता है। हिंदू हो या मुसलमान, सिख हो या ईसाई सबको समान अधिकार दिया जाता है। जो मुसलमान भारत आये हैं नागरिक बनने का हक उनका भी बनता है, उन्हें नागरिकता देने में सरकार का क्या बिगड़ता है? सरकार भेदभाव कर रही है यही उसकी जड़ता है।’झल्लन बोला,‘इस्लामी देशों से जो मुसलमान आते हैं, वे शरणार्थी नहीं घुसपैठिये होते हैं, उनके इरादे कभी नेक नहीं होते, वे भारत में रहकर भी भारत के नहीं होते। समझे ददाजू! शरणार्थी और घुसपैठिये में फर्क है इसलिए आप जो कह रहे हैं कि वह तर्क नहीं, कुतर्क है।’हमने कहा,‘झल्लन, तेरी यह सोच बहुत ही संकुचित और इंसानियत विरोधी है। इंसानियत का तकाजा होता है कि हिंदू-मुसलमान न किया जाये और जो भी मुसीबत में हो उसकी सहायता की जाये, उसे सहायता दी जाये।’ झल्लन बोला, ‘ददाजू, यही बात तो हम कह रहे हैं कि जो मुसीबत में हैं उनकी मदद करिए और जो मुसीबत बन रहे हैं उनकी मदद मत करिए, जितनी जल्दी हो सके उन्हें देश से बाहर करिए।’ हमने कहा, ‘झल्लन, धर्मनिरपेक्ष देश में ऐसा नहीं होता, यहां धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं होता। न हम बांग्लादेश, अफगानिस्तान हैं, न पाकिस्तान है, हम हिंदुस्तान हैं। वहां अल्पसंख्यकों के साथ कितना भी अन्याय हो, हम अल्पसंख्यकों के साथ अन्याय नहीं कर सकते, उन्हें समानता के अधिकार से दूर नहीं रख सकते।’ झल्लन झल्लाकर बोला,‘ददाजू, आप क्यों नहीं समझते हो कि यहां अल्पसंख्यकों से कोई उनके अधिकार नहीं ले रहा है बल्कि जिन अल्पसंख्यकों को प्रताड़ित कर उनके अधिकार छीन लिये गये हैं, उन्हें अधिकार दे रहा है।’ हमने कहा,‘देख झल्लन, इसका अर्थ यह नहीं कि पड़ोसी जो कर रहा हो, वह हम भी करने लगें और अगर पड़ोसी मजहबी नफरत की आग में जल रहा हो तो हम भी उसी आग में जलने लगें।’ झल्लन बोला, ‘ददाजू, जब पड़ोस में आग लगी होती है तो आंच आपके घर तक आती है और अपना घर बचाने के लिए पड़ोसी की आग बुझानी ही होती है, इसलिए आप जैसे धर्मनिरपेक्षतावादियों को चाहिए कि पड़ोसियों को धर्मनिरपेक्षता का पाठ पढ़ाएं, अल्पसंख्यकों के साथ कैसा बर्ताव किया जाये यह उन्हें सिखाएं।’ हमने कहा, ‘वे अलग देश हैं, न हम उन्हें पढ़ा सकते हैं न सिखा सकते हैं।’
झल्लन व्यंग्य से बोला,‘ददाजू, ये अलग देश जिन्होंने बनाए हैं, उन्हें समझाइए कि नकली सीमाएं हटाएं और समूचे भू-भाग पर धर्मनिरपेक्षता की गंगा बहाएं।’ हमने कहा,‘लेकिन झल्लन बात यहां के मुसलमानों की है।’ झल्लन बोला, ‘यहां का मुसलमान धर्मनिरपेक्षता की नहीं मुसलमानों की लड़ाई लड़ता है और जब कभी हिंदू-मुसलमान का मुद्दा उठता है तो धर्मनिरपेक्षता को कवच बना लेता है। याद रखिए ददाजू, मुसलमान सिर्फ  मुसलमान रहेंगे तो हिंदू भी सिर्फ हिंदू रहने के लिए भड़कते रहेंगे और जब तक पड़ोस में मुस्लिम राष्ट्र रहेंगे यहां के हिंदू, हिंदू राष्ट्र के लिए ललकते रहेंगे।’ झल्लन की बातों से थोड़ी सच्चाई भी झांक रही थी और हमारे मन में डरावनी आशंका कांप रही थी।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

देश में आज मनाई जा रही है बकरीद

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

बिहार में बाढ़ से जनजीवन अस्तव्यस्त, 8 की हुई मौत

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

त्याग, तपस्या और संकल्प का प्रतीक ‘हरियाली तीज’

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

बिहार में नदिया उफान पर, बडी आबादी प्रभावित

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

PICS: दिल्ली एनसीआर में हुई झमाझम बारिश, निचले इलाकों में जलजमाव

B

B'day Special: प्रियंका चोपड़ा मना रहीं 38वा जन्मदिन

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

PHOTOS: सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का ट्रेलर रिलीज, इमोशनल हुए फैन्स

B

B'day Special : जानें कैसा रहा है रणवीर सिंह का फिल्मी सफर

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

सरोज खान के निधन पर सेलिब्रिटियों ने ऐसे जताया शोक

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

PICS: तीन साल की उम्र में सरोज खान ने किया था डेब्यू, बाल कलाकार से ऐसे बनीं कोरियोग्राफर

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

पसीने से मेकअप को बचाने के लिए ये है खास टिप्स

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

सुशांत काफी शांत स्वभाव के थे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

अनलॉक-1 शुरू होते ही घर के बाहर निकले फिल्मी सितारे

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

स्वर्ण मंदिर, दुर्गियाना मंदिर में लौटे श्रद्धालु

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

PICS: श्रद्धालुओं के लिए खुले मंदिरों के कपाट

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

चक्रवात निसर्ग की महाराष्ट्र में दस्तक, तेज हवा के साथ भारी बारिश

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

World Cycle Day 2020: साइकिलिंग के हैं अनेक फायदें, बनी रहेगी सोशल डिस्टेंसिंग

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

अनलॉक -1 के पहले दिन दिल्ली की सीमाओं पर ट्रैफिक जाम का नजारा

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

लॉकडाउन बढ़ाए जाने पर उर्वशी ने कहा....

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

एक दिन बनूंगी एक्शन आइकन: जैकलीन फर्नांडीज

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सलमान के ईदी के बिना फीकी रहेगी ईद, देखें पिछली ईदी की झलक

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

सुपर साइक्लोन अम्फान के चलते भारी तबाही, 12 मौतें

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

अनिल-सुनीता मना रहे शादी की 36वीं सालगिरह

लॉकडाउन :  ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

लॉकडाउन : ऐसे यादगार बना रही करीना छुट्टी के पल

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: निर्भया को 7 साल बाद मिला इंसाफ, लोगों ने मनाया जश्न

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: मार्च महीने में शिमला-मनाली में हुई बर्फबारी, हिल स्टेशन का नजारा हुआ मनोरम

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: रंग के उमंग पर कोरोना का साया, होली मिलन से भी परहेज

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: कोरोना वायरस से डरें नहीं, बचाव की इन बातों का रखें ख्याल

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: भारतीय डिजाइनर अनीता डोंगरे की बनाई शेरवानी में नजर आईं इवांका

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: दिल्ली के सरकारी स्कूल में पहुंची मेलानिया ट्रंप, हैप्पीनेस क्लास में बच्चों संग बिताया वक्त

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: ...और ताजमहल को निहारते ही रह गए ट्रंप और मेलानिया

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा

PICS: अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप और मेलानिया ट्रंप ने साबरमती आश्रम में चलाया चरखा


 

172.31.21.212