Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

02 Dec 2019 12:06:06 AM IST
Last Updated : 02 Dec 2019 12:08:35 AM IST

शिक्षा : वैश्विक रैंकिंग में पिछड़ी

कुमार समीर
शिक्षा : वैश्विक रैंकिंग में पिछड़ी
शिक्षा : वैश्विक रैंकिंग में पिछड़ी

एक तरफ केंद्र सरकार नई शिक्षा नीति के क्रियान्वयन को लेकर माथापच्ची में जुटी हुई है वहीं दूसरी तरफ जेएनयू के छात्रों का फीस बढ़ोतरी को लेकर शुरू हुआ धरना-प्रदर्शन नई शिक्षा नीति के विरोध तक पहुंच गया है।

इन छात्रों को धीरे-धीरे अन्य विश्वविद्यालयों व संगठनों, लोगों का भी समर्थन मिलना शुरू हो गया है। पिछले दिनों राजधानी के विभिन्न विश्वविद्यालयों के छात्रों और शिक्षकों द्वारा नई शिक्षा नीति सहित अन्य मुद्दों के खिलाफ प्रदशर्न भी किया गया।  विरोध करने वालों का कहना है कि प्रारूप कागजों पर तो काफी अच्छा व प्रभावशाली दिखाई दे रहा है, लेकिन अपने यहां की शिक्षा व्यवस्था की जो स्थिति है, उसमें क्या उसे अमलीजामा पहनाया जा सकता है? इसमें दो राय नहीं कि यह सचमुच सबसे बड़ा सवाल है और यही वजह है कि इसके क्रियान्वयन को लेकर संदेह व्यक्त किया जा रहा है।
नई शिक्षा नीति की मोटी-मोटी बातों पर गौर करें तो उसके मुताबिक मानव संसाधन विकास मंत्रालय (एमएचआरडी) का नाम अब शिक्षा मंत्रालय होगा और यह भी सच है कि यह बदलाव शिक्षा क्षेत्र के लोग बहुत पहले से चाहते थे। इसके अलावा, प्राइवेट स्कूल कहे जाएंगे, पब्लिक नहीं। नई व्यवस्था में स्कूली शिक्षा में तीन से 18 साल के बच्चों को शामिल किया गया है, यह भी एक प्रगतिशील कदम है। करिकुलर और एक्स्ट्रा करिकुलर का भेद समाप्त करने का प्रस्ताव भी आशाजनक है। लेकिन सुधार के लिए और जो जरूरी कदम उठाये जाने की बात की गई है और जिसकी जरूरत है, शिक्षा से जुड़ी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए क्या मौजूदा स्थिति में यह संभव है? शिक्षा से जुड़ी प्रमुख समस्याओं में सबसे पहले प्राथमिक शिक्षा की समस्या की ही बात करें तो अपने भारत में लगभग छह लाख स्कूल के कमरों की कमी है और शिक्षकों का भी यही हाल है।

कम शिक्षकों के कारण कई कक्षाओं पर अत्यधिक भार रहता है, ऐसे में सभी बच्चों पर ध्यान देना संभव नहीं होता। शिक्षा के अधिकार कानून में प्रत्येक 35 विद्यार्थियों पर एक सिर्फ शिक्षक की नियुक्ति का प्रावधान है। लेकिन इस लक्ष्य को अभी हासिल नहीं किया जा सका है। इसी तरह बुनियादी ढांचे में कमी की बात करें तो बिजली, पानी, शौचालय, चारदीवारी, लाइब्रेरी, कंप्यूटर जैसी बहुत कम ही स्कूलों में सही हैं। सरकारी स्कूलों में शौचालय होने के बावजूद साफ़-सफाई और पानी की कमी है, जिसके चलते भारी संख्या में लड़कियों स्कूल ही नहीं जातीं। मिड डे मील और मुफ्त शिक्षा के बावजूद क़रीब 29 फीसद छात्र बिना पांचवीं कक्षा की पढ़ाई पूरी किए ही स्कूल छोड़ देते हैं। विशेषतौर पर ग्रामीण इलाकों में शिक्षा की गुणवत्ता में काफी कमी है। शिक्षकों के ग़्ौरज़िम्मेदाराना रवैये के चलते सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को ज्ञान नहीं बढ़ पाता। शिक्षकों के समर्पण भाव से पढ़ाने में कमी आई है। एनुअल स्टेटस आप एजुकेशन रिपोर्ट (असर) के मुताबिक़ ग्रामीण क्षेत्रों में सरकार ने शिक्षा क्षेत्र के बुनियादी ढांचे में भले निवेश किया है, लेकिन सफलता नहीं मिली है।
माध्यमिक स्तर की शिक्षा में स्कूलों की कमी, पाठ्यक्रमों की उपलब्धता न होना और सामग्री के मामले में भी फिसड्डी रहना और पर्याप्त विकल्प नहीं होना परेशानी का कारण है। इसके साथ-साथ लाखों शिक्षक संविदा पर काम कर रहे हैं और उनमें से आधे प्रशिक्षित भी नहीं हैं। केवल 60 प्रतिशत बच्चे 12वीं कक्षा से आगे की पढ़ाई जारी रखना चाहते हैं। पारिवारिक विवशताओं और सामाजिक हालात की वज़ह से बच्चे साधारण रोज़गार की ओर चले जाते हैं। इसी तरह उच्च शिक्षा का हाल है। साल 2017 में मानव संसाधन विकास मंत्रालय की स्थायी कमेटी ने भारत में उच्च शिक्षा के समक्ष चुनौतियां और समस्याएं पर अपनी रिपोर्ट में संसाधनों की कमी का जिक्र किया था। यूजीसी के बजट का लगभग 65 फीसद केंद्रीय विश्वविद्यालयों और उनके कॉलेजों द्वारा उपयोग किया जाता है, जबकि राज्य विश्वविद्यालयों और उनके संबद्ध कॉलेजों को शेष 35 फीसद ही मिलता है। इतना ही नहीं, कुल स्वीकृत शिक्षण पदों में से 35 फीसद प्रोफेसर, 46 फीसद एसोसिएट प्रोफेसर और क़रीब 26 फीसद सहायक प्रोफेसर के पद खाली हैं। इसी तरह, रोज़गारपरक कौशल के अभाव की भी बात की गई है और बताया गया है कि तकनीकी शिक्षा के छात्रों में रोज़गारपरक कौशल का अभाव देखा गया है। भारत में उच्च शिक्षा में गुणवत्ता एक बहुत बड़ी चुनौती है। टॉप-200 विश्व रैंकिंग में बहुत कम भारतीय शिक्षण संस्थानों को जगह मिल पाती है जबकि अमेरिका व चीन के बाद भारत विश्व का तीसरा सबसे बड़ा उच्च शिक्षा तंत्र है। लेकिन इसके बावजूद उच्च शिक्षा की सुलभता का सपना साकार नहीं हो पा रहा है।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
PICS: प्रियंका चोपड़ा को मिला यूनिसेफ का डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार

PICS: प्रियंका चोपड़ा को मिला यूनिसेफ का डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार

PICS: रितिक रोशन बने सबसे सेक्सी एशियाई पुरुष

PICS: रितिक रोशन बने सबसे सेक्सी एशियाई पुरुष

शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

शादी की पहली सालगिरह पर तिरुमाला मंदिर पहुंचे दीपिका-रणवीर, देखें तस्वीरें

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

अयोध्या में सामान्य माहौल, कार्तिक पूर्णिमा पर सरयू में स्नान के लिए पहुंच रहे श्रद्धालु

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

PICS: जानें, वायु प्रदूषण के घातक प्रभावों से बचने के उपाय

'दबंग 3' में प्रीति जिंटा की एंट्री? सलमान संग पुलिस वर्दी में आईं नज़र

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

रामायण,महाभारत काल से ही छठ मनाने की रही है परंपरा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

Birthday Special: अभिनेत्री नहीं बनना चाहती थीं परिणीति चोपड़ा

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का

PICS: रणवीर, अर्जुन को भाया अनुष्का का 'बॉस' लुक

PICS:

PICS: 'बाला' के लिए यामी ने रीक्रिएट किया नीतू सिंह का 70 के दशक का लुक

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

ड्रीमगर्ल हु 71 वर्ष की

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

मोदी ने जिनपिंग को उनके चेहरे की आकृति बना शॉल किया भेंट

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने

PICS: ...जब महाबलीपुरम में मोदी बने 'टूरिस्ट गाइड', जिनपिंग को कराई सैर

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने

बिंदास अदाओं से सिने प्रेमियों को दीवाना बनाया रेखा ने

साइना की बायोपिक के लिए जमकर पसीना बहा रही हैं परिणीति, शेयर की ये तस्वीर

साइना की बायोपिक के लिए जमकर पसीना बहा रही हैं परिणीति, शेयर की ये तस्वीर

PICS: ...जब रक्षा मंत्री राजनाथ ने राफेल में भरी उड़ान

PICS: ...जब रक्षा मंत्री राजनाथ ने राफेल में भरी उड़ान

जब विनोद खन्ना को पिता से मिली धमकी

जब विनोद खन्ना को पिता से मिली धमकी

पटना में बाढ़ से हाहाकार, देखिए तस्वीरें

पटना में बाढ़ से हाहाकार, देखिए तस्वीरें

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी रणबीर ने

दमदार अभिनय से खास पहचान बनायी रणबीर ने

'Bigg Boss' के लिए इन सेलिब्रिटीज ने लिया ज्यादा पैसा!

'बिग बॉस 13’ का घर होगा पर्यावरण के अनुकूल, देखें First Look

बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

बिंदास अंदाज से दर्शकों के बीच खास पहचान बनायी करीना ने, आज है जन्मदिन

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

Photos: जन्मदिन पर ‘स्टेच्यू ऑफ यूनिटी’, जंगल सफारी, बटरफ्लाई पार्क पहुंचे PM मोदी

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार 'मोक्ष नगरी' गया

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली


 

172.31.21.212