Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

25 Aug 2019 07:06:15 AM IST
Last Updated : 25 Aug 2019 07:09:17 AM IST

श्रद्धांजलि : एक आदर्श जीवन का अवसान

अवधेश कुमार
श्रद्धांजलि : एक आदर्श जीवन का अवसान
एक आदर्श जीवन का अवसान

सहसा इस समाचार को दिल से स्वीकार करना आसान नहीं है कि अरु ण जेटली हमारे बीच नहीं रहे। हालांकि उनकी स्थिति करीब से जानने वालों ने उसी दिन उम्मीद खो दी थी जब पिछले 9 अगस्त को उनको अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान में भर्ती कराया गया।

इसके पूर्व ही उन्होंने नरेन्द्र मोदी 2 सरकार में कोई जिम्मेवारी लेने से इनकार कर दिया था। जेटली सुलझे हुए व्यक्तित्व थे। भाजपा में उनकी एक जिम्मेवारी प्रतिदिन प्रवक्ताओं का वर्ग लेने की थी। वे बताते थे कि किस मुद्दे पर पार्टी की क्या राय है। बीमार रहने के बावजूद वे यह जिम्मेवारी पूरी करते रहे लेकिन प्रवक्ताओं को हिदायत देते थे कि मेरे नजदीक नहीं आना संक्रमण का खतरा है। एक दिन उन्होंने सबके सामने बोल ही दिया कि अब तो मैं कुछ दिनों का ही मेहमान हूं जितनी बात करनी है कर लो। उस दिन अनेक प्रवक्ताओं की आंखों में आंसू आ गए थे। टिश्यू कैंसर तथा किडनी प्रत्यारोपण के बाद पैदा हुई जटिलताओं से जूझते हुए भी उन्होंने अपना आत्मबल बनाए रखा तभी वे उस अवस्था में भी काम कर पा रहे थे। मनुष्य यहीं पर आकर असहाय हो जाता है। मृत्यु पर किसी का वश नहीं।
छियासठ वर्ष की उम्र उनके जाने का समय नहीं था। जेटली जी का जाना भाजपा के लिए तो बहुत बड़ी क्षति है ही, भारतीय राजनीति और समग्र रूप में देश के लिए भी क्षति है। गोविन्दाचार्य के पार्टी से अलग होने, प्रमोद महाजन के जाने के बाद से वे पार्टी के प्रमुख विचारक, रणनीतिकार और केंद्र व प्रदेश के नेताओं, मुख्यमंत्रियों, मंत्रियों के प्रमुख सलाहकार हो गए थे। हालांकि 2019 के चुनाव में अस्वस्थता के कारण उनकी बड़ी भूमिका नहीं दिख रही थी, लेकिन राजधानी दिल्ली से ही प्रबंधन, जगह-जगह से जमीनी हालात का पता करना एवं रणनीतिक दृष्टि से मार्गदर्शन करना, विपक्ष के हमलों का पत्रकार वार्ता द्वारा, निजी साक्षात्कार के माध्यम से जवाब देकर तथा ब्लॉग लिखकर वे मोर्चा संभाले हए थे। कोई मुख्यमंत्री नहीं होगा जो समस्याएं आने पर उनसे सलाह नहीं लेता रहा हो। अपने कद के कारण वे अधिकारपूर्वक बात कर सकते थे। नरेन्द्र मोदी और अमित शाह उन पर आंख मूंदकर विश्वास ही नहीं करते थे, जो उन्होंने कर दिया उसका सम्मान भी करते।

जेटली जी की स्थिति यह थी कि वह कोई भी फैसला पार्टी में कर सकते थे। बिहार में नीतीश कुमार के साथ सरकार बनाने का फैसला उनका ही था। यह हैसियत किसी की कृपा से नहीं, उनकी अपनी योग्यता, क्षमता और व्यवहार से निर्मिंत हुई थी। अपने आरंभिक जीवन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता तथा पदाधिकारी के रूप में उन्होंने अपने संगठन के साथ दूसरे छात्र संगठनों पर भी छाप छोड़ी। जयप्रकाश आंदोलन में उनकी महत्त्वपूर्ण भूमिका थी। अलग-अलग विचारों के छात्रों-युवाओं के बीच समन्वय बनाकर काम करने, नेताओं-कार्यकताओं के गिरफ्तार होने के बावजूद आंदोलन की गतिविधियां चलाते रहने, जेल गए नेताओं के परिवारों का ध्यान रखने आदि में उनकी भूमिका महत्त्वपूर्ण थी। उस आंदोलन में शामिल वैचारिक विरोधी भी उस दौरान के उनके कार्यों की आज भी प्रशंसा करते हैं। जब मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री बने तो दिल्ली में जेटली ही उनके सबसे विस्त सलाहकार और मित्र थे। गुजरात दंगों के बाद  मोदी के त्यागपत्र के लिए अटलजी के अड़ जाने के बाद आडवाणी को समझाने वालों में जेटली ही शामिल थे। वे ही गांधीनगर जाकर मोदी को गोवा कार्यकारिणी बैठक में लाए थे। मोदी और जेटली की दोस्ती भाजपा में एक उदाहरण बन गई।
सांसद के रूप में भी उनकी भूमिका हर दृष्टि से आदर्श थी। विषय को गहराई से रखना, उसके लिए शब्दों का चयन इतना प्रभावी होता था कि विपक्ष के नेता भी उनके भाषण को सुनने के लिए उपस्थित रहते थे। बहस की उनकी कला उन्हें सबसे अलग खड़ा करती थी। पिछले दो दशक से जेटली राज्य सभा की बहस की जान हो गए थे। ख्यातिप्राप्त अधिवक्ता थे, पर लगता था जैसे हर विषय पर उनकी जानकारी उतनी ही गहरी थी जितनी कानून और संविधान की। संसद के सत्र के दौरान केंद्रीय कक्ष में उनके ईर्द-गिर्द पत्रकारों और नेताओं का घेरा लगा रहता था और वे कभी इससे खीझते भी नहीं थे। इस तरह भारतीय संसद के लिए भर यह बहुत बड़ी क्षति है।
वाजपेयी सरकार से लेकर मोदी सरकार में उन्होंने कई मंत्रालय संभाले और किसी को नहीं लगा कि वे इस विभाग के लिए नये थे। सरकार चलाने के लिए अपने विचारों और मुद्दों के प्रति दृढ़ रहते हुए भी विपक्ष के साथ संपर्क, संवाद और समन्वय की आवश्यकता होती है। जेटली इन गुणों पर खरे उतरते थे। विपक्ष के नेताओं के साथ भी उनके संबंध काफी गहरे थे। जब मोदी प्रधानमंत्री बने तो जेटली ही दिल्ली की राजनीति, मीडिया और बौद्धिक वर्ग से उनके संपर्क के मुख्य सूत्रधार थे। जब वे पहली बार राज्य सभा में आए और फिर अटल सरकार में मंत्री बने तो उन्होंने अपना सरकारी घर पार्टी को दे दिया। ग्यारह अशोक रोड के बगल में 9 अशोक रोड लंबे समय तक उनके ही नाम पर आवंटित था जिसमें पार्टी के पूर्णकालिक नेता निवास करते थे। वित्त मंत्री के रूप में उनका योगदान ऐतिहासिक है। एक कर की अवधारणा यानी जीएसटी की कल्पना उनके नेतृत्व में ही साकार हुई। यूपीए सरकार के दौरान डांवाडोल हो चुकी अर्थव्यवस्था को संभालने और दुनिया भर का भारत की आर्थिक शक्ति में विश्वास वापस लाने एवं निवेशकों का भरोसा पैदा करने में देश की अतुलनीय सेवा की। भ्रष्टाचार और काला धन के विरु द्ध जितने कड़े कानून मोदी सरकार ने बनाए वह अपने-आपमें रिकॉर्ड है, और उसमें प्रधानमंत्री के बाद सबसे महत्त्वपूर्ण भूमिका उनकी ही थी।
समाज के निचले तबके के कल्याण एवं सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए बनी योजनाओं में उनके योगदान को कोई नहीं भुला सकता है। उनके द्वारा प्रस्तुत पांच बजट इस बात के प्रमाण हैं कि कैसे उन्होंने बड़े-बड़े बदलाव किए। राजनीति के बदलते चरित्र में भी उन्होने एक कार्यकर्ता का संस्कार बनाए रखा। देश भर में अनेक कार्यकर्ताओं की प्रतिभा पहचान कर उन्होंने पार्टी में जिम्मेवारी दी। आज कई बड़े प्रवक्ता जो टीवी चैनलों पर दिखते हैं, उनमें से कई उनके द्वारा ही तैयार किए गए हैं। इस तरह आरंभिक छात्र नेता से लेकर भाजपा संगठन, विचारधारा, संसद और सरकार के साथ व्यक्तिगत संबंधों में संतुलन बनाकर उन्होंने आदर्श स्थापित किया है। इतने लंबे राजनीतिक जीवन में एक पैसे के भ्रष्टाचार का या किसी तरह के भाई-भतीजावाद का अरोप न लगना जेटलीजी को सार्वजनिक जीवन में अत्यंत ही ऊंचा स्थान प्रदान करता है। संगठन एवं सरकार में इतनी बड़ी जिम्मेवारी रहते हुए किसी पार्टी में उनके व्यक्तिगत विरोधी नहीं मिलेंगे। यह असाधारण स्थिति है। सच कहा जाए तो हमेशा अपने काम के केंद्र में देश को रखने वाला एक ऐसा नेता हमारे बीच से चला गया है जो सबका था, और सबके लिए था।


 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :


फ़ोटो गैलरी
पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार

पिंडदानियों के लिए सजधज कर तैयार 'मोक्ष नगरी' गया

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS: एप्पल ने आईफोन 11 मॉडल किया लांच, शुरुआती कीमत में हुई 50 डॉलर की कटौती

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS:स्कूल में लोग डांस को लेकर उड़ाते थे मजाक: नोरा फतेही

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: 19वां ग्रैंडस्लैम खिताब जीतने के बाद भावुक हुए नडाल, जानें कैसे बने लाल बजरी के बादशाह

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रवीना टंडन जल्द ही बनने वाली हैं नानी

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: रैंप पर अचानक जब दीपिका करने लगीं डांस

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: वायुसेना प्रमुख बीएस धनोआ के साथ विंग कमांडर अभिनंदन ने मिग -21 में भरी उड़ान

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: इतिहास रचकर बोलीं पीवी सिंधु -बयां करने के लिए शब्द नहीं हैं, इस पल का इंतजार था

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: BJP के ‘थिंक टैंक’ थे अरुण जेटली

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: बचपन से ही एक्ट्रेस बनना चाहती थी डिंपल गर्ल

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: सौन्दर्य की दुनिया, एशिया के सबसे खूबसूरत द्वीप बाली

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: आजादी का जश्न मना रहे बच्चों के बीच पहुंचे मोदी

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: राखी की रौनक से गुलजार हुआ बाजार, डिजाइनर राखियों की मांग

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: सुषमा स्वराज : एक प्रखर वक्ता, आम आदमी को विदेश मंत्रालय से जोड़ने वाली हस्ती

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: काजोल को पति अजय देवगन ने इस खास अंदाज में किया बर्थडे विश, फोटो शेयर कर कही ये बात

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: हरियाली तीज के मौके पर हेमा मालिनी ने वृंदावन के मंदिर में अपने नृत्य से बांधा समां

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

PICS: देश के कई हिस्सों में भारी बारिश, वड़ोदरा में हालात सामान्य

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

लारा दत्ता ने शेयर की मातृत्व से जुडी महत्वपूर्ण बातें

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया

PICS: लेनोवो ने भारत में लॉन्च किया 'योगा एस940' लैपटॉप, कीमत 23,990 रुपये

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

सुपर 30 में काम करने के लिये लोगो ने किया था मना: ऋतिक

B

B'day special: फिल्में छोड़ तिब्बतन योगा क्लासेस चलाती हैं मंदाकिनी

60 साल के हुए संजय दत्त

60 साल के हुए संजय दत्त

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

Man Vs Wild: एडवेंचर करते नजर आएंगे प्रधानमंत्री मोदी, देखें टीजर

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

PICS बॉलीवुड में अब नारी शक्ति की बारी, 2019 के अगले भाग में रिलीज़ होंगी महिला केंद्रित फिल्में

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

अर्जुन ने दूसरी बार कराया टैटू

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

राजनीति में नहीं जाना चाहती हैं सोनाक्षी सिन्हा

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: श्रीलंका ने बांग्लादेश को 91रनों हराया, मलिंगा को दी विजयी विदाई

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: मोदी ने साझा कीं युद्ध के दौरान करगिल दौरे की तस्वीरें

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ट्रेनिंग के लिए पैराशूट रेजिमेंट के साथ जुड़े धोनी, कश्मीर में होंगे तैनात

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: ICW 2019 में अलग अंदाज में नजर आईं कियारा

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर

PICS: बहन इनाया के साथ पार्क में खेलते नजर आए तैमूर

'वॉर' के लिए ऋतिक और टाइगर ने फिनलैंड में बर्फ पर किया जोखिम भरा स्टंट


 

172.31.21.212