Twitter

Facebook

Youtube

Pintrest

RSS

Twitter Facebook
Spacer
Samay Live
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

24 Mar 2014 04:47:47 AM IST
Last Updated : 24 Mar 2014 04:54:53 AM IST

इस चुनाव में सोशल मीडिया का दमखम

डॉ. विशेष गुप्ता
लेखक
इस चुनाव में सोशल मीडिया का दमखम
चुनावों में सोशल मीडिया का दमखम

सोशल नेटवर्किग साइट्स की राजनीति के क्षेत्र में बढ़ती सक्रियता अब किसी से छिपी नहीं है. गौरतलब है कि आजकल राजनेता युवा मतदाताओं को लुभाने में सोशल मीडिया का जमकर इस्तेमाल कर रहे हैं.

सोशल मीडिया साइट्स की इसी ताकत को भांपते हुए चुनाव आयोग ने कड़े दिशा-निर्देश जारी किए हैं. इन निर्देशों के मुताबिक अब राजनीतिक दलों और उनके प्रत्याशियों द्वारा सोशल मीडिया में विज्ञापनों पर किया जाने वाले खर्च भी उनके चुनाव व्यय में जोड़ा जाएगा. साथ ही चुनाव प्रक्रिया के दौरान सोशल साइट्स पर यदि गैर कानूनी और दुर्भावनापूर्ण अथवा आचार संहिता का उल्लघंन करने वाली सामग्री पेश की जाती है तो राजनीतिक दलों और उनके प्रत्याशियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी. इसी के साथ चुनाव आयोग ने पेड न्यूज की समस्या से निबटने की भी सख्त हिदायत दी है. निर्वाचन आयोग के इस सख्त रवैये से राजनीतिज्ञों के सामने एक बार फिर बड़ी भारी चुनौती खड़ी हो गई है.

पिछले दिनों सभी राजनेताओं के सामने एक और बड़ी चुनौती आइरिश नॉलेज फाउंडेशन और इंटरनेट मोबाइल एसोसियेशन ऑफ इंडिया ने सोशल मीड़िया और लोकसभा चुनाव विषय पर एक अध्ययन करके खड़ी कर दी थी. उस अध्ययन में साफ संकेत दिए गए थे कि सोशल मीड़िया आगामी लोकसभा चुनाव में 543 सीटों में से 160 सीटों पर अपना प्रभावी असर डालेगा. गौरतलब है कि इन संस्थाओं के अध्ययन में सभी लोकसभा सीटों पर फेसबुक यूजर्स की संख्या का आकलन करते हुए पिछले चुनाव में इन सीटों पर जीत के अंतर की स्टडी करते हुए निष्कर्ष निकाले गए थे. उसमें यह भी पाया गया कि पिछले चुनाव में 160 सीटों पर जो अंतर था आज वहां उससे अधिक फेसबुक यूजर्स हैं.

खास बात यह भी है कि फेसबुक इस्तेमाल करने वालों की यह संख्या इन सीटों के कुल मतदाताओं की दस फीसद या उससे अधिक हैं. इसलिए आज इन सीटों को फेसबुक से अधिक प्रभावित होने वाली सीटें कहा जा रहा है. अपनी स्टडी में इन संस्थाओं ने 67 सीटों को मध्यम श्रेणी में रखा है जहां फेसबुक यूजर्स की संख्या कुल मतदाताओं के पांच फीसद के बराबर है. साथ ही 60 सीटों को न्यूनतम प्रभाव वाली श्रेणी में रखा गया है. बाकी बची 256 सीटों को सोशल मीड़िया के प्रभाव से मुक्त बताया गया है. स्टडी बताती है कि सोशल मीडिया से प्रभावित होने वाली सबसे अधिक सीटें 21 महाराष्ट्र में, 17 सीटें गुजरात में, 14 सीटें उत्तर प्रदेश में, कर्नाटक व तमिलनाडु में 12-12 सीटें हैं. साथ में आंध्र प्रदेश में 11, केरल में 10, मध्य प्रदेश में नौ तथा दिल्ली की सभी सात सीटों के सोशल मीडिया से प्रभावित होने की पूरी संभावना है.  

विश्व में आज सोशल ब्लॉग्स, सोशल नेटवर्क्‍स, इंटरनेट फोरम, माइक्रो ब्लागिंग, विकीस, फेसबुक, ट्विटर, लिंक्डइन व वीडियो के रूप में यू-ट्यूब्स, सोणल बुकमार्किंग तथा गूगल इत्यादि वैश्विक समाज के नए अवतार हैं. इसका प्रयोग करने वालों की अपनी एक नेटीजन सोसाइटी है जिसके माध्यम से देश-विदेश के लोगों, समुदायों और संस्थाओं के बीच आसानी से पारस्परिक संवाद स्थापित किया जा सकता है. दरअसल, वर्तमान वैश्विक दौर में सोशल मीडिया  इंसानी अभिव्यक्ति के नए क्षितिज बना रहा है. यह मीडिया के अन्य प्रकारों से इसलिए अलग है क्योंकि यह समरुचि के समुदायों एवं विषयों से दोतरफा सीधा संवाद स्थापित करता है. सोशल मीडिया में संवाद करने वाली संस्थाएं अथवा समुदाय भले ही आमने-सामने न हों, परंतु इसमें वास्तविक जगत का अहसास (वर्चुअल सोसाइटी) कराने की पूर्ण संभावनाएं हैं. यही कारण है कि आज सोशल मीडिया सामाजिक, शैक्षिक, आर्थिक व राजनीतिक जगत का एक बहुत बड़ा शक्ति केंद्र बनता जा रहा है. परिणामत: बच्चे, किशोर, महिलाएं, पेशेवर युवा, चिंतक, विचारक व राजनेता इससे जुड़ने को उतावले हैं. यहां गौरतलब है कि सबसे लोकप्रिय सोशल नेटवर्किग साइट फेसबुक पर नरेंद्र मोदी राजनीति के अन्य बहुचर्चित नामों को पछाड़ते हुए पहले स्थान पर पहुंच गए. आज संपूर्ण वि में एक अरब से भी अधिक लोग सोशल मीडिया से जुड़े हैं. कहना न होगा कि दुनिया का हर छठा व्यक्ति सोशल मीडिया का उपयोग कर रहा है. 

जहां तक भारत का सवाल है तो यहां आज इंटरनेट यूजर्स की संख्या 12 करोड़ के करीब है. यहां सोशल मीडिया से जुड़े यूजर्स  की संख्या भी 11 करोड़ को पार कर गई है. देश में फेसबुक का प्रयोग करने वाले 14 से 45 वर्ष तक के युवाओं की संख्या नौ करोड़ से अधिक है. इनमें एक तिहाई यूजर्स मध्यम शहरों तथा 11 फीसद यूजर्स छोटे शहरों से आते हैं. सोशल मीडिया से जुड़े इन यूजर्स का मकसद उस पर केवल निजी बातचीत या मनोरंजन करना ही नहीं है, बल्कि 45 फीसद से भी अधिक यूजर्स इस पर सघन राजनीतिक विमर्श भी खुलकर करते हैं. इसी तरह तथ्य यह भी बताते हैं कि सोशल मीडिया में फेसबुक, आर्कुट तथा लिंक्डइन जैसी सोशल साइट्स का प्रयोग विश्व के अन्य देशों के मुकाबले भारत में सर्वाधिक किया जाता है. यहां ध्यान देने की बात यह है कि सोशल मीडिया ने देश में एक ऐसे ऑनलाइन नेटीजन समाज का ढांचा विकसित कर दिया है जो है तो वचरुअल, परंतु उसका प्रभाव आमने-सामने वाले समाज से भी अधिक प्रभावी है.

वर्तमान में सोशल मीडिया संवाद और विचार-विमर्श का एक ऐसा सशक्त माध्यम बनकर उभर रहा है जो लोगों की सामाजिक सोच को सीधे रूप में प्रभावित करने की ताकत रखता है. यही वजह है कि पिछले दिनों मिस्र, लीबिया, सीरिया तथा बहरीन जैसे देशों में सोशल मीडिया के माध्यम से ही वहां की जनता आंदोलन के लिए उठ खड़ी हुई. अमेरिका जैसे ताकतवार देश में होने वाले ‘आक्यूपाई वॉलस्ट्रीट’ जैसे बड़े आंदोलन को भी सोशल मीडिया ने ही मुकाम तक पहुंचाया. दिल्ली के बहुचर्चित गैंगरेप मामले में युवा आंदोलन को आक्रामक आवाज देने में सोशल मीडिया ने ही अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी.

आज स्थिति यह है कि राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खुद लोकतांत्रिक सरकारें तक अवाम में जनमत विकसित करने के लिए सोशल मीडिया का जमकर प्रयोग कर रही है. मसला चाहे समुदायों पर ऑनलाइन दबाव का हो अथवा किसी विचार को आवाज देने का अथवा किसी उत्पाद की गुणवत्ता को जांचने व परखने का अथवा चाहे वह मुद्दा विभिन्न पेशेवर कंपनियों द्वारा अपने कर्मचारियों के सामाजिक चरित्र को जानने से ही क्यों न जुड़ा हो; इन सभी मुद्दों पर सोशल मीडिया की भारी ताकत उभरकर सामने आ रही है. हालांकि  पिछले दिनों असम तथा म्यांमार में धार्मिक टकराव के होने और तत्पश्चात भारत के अनेक शहरों में विरोध प्रदान के लिए भी सोशल मीडिया को ही दोषी करार दिया गया था.

आज पूरे देश की निगाहें युवाओं पर हैं. कहा जा रहा है कि सोशल मीडिया की वजह से चार-पांच फीसद युवा मतदाता आने वाले चुनाव में 24 राज्यों के लोगों का मन बदल सकते हैं. यही वजह है कि आज हरेक राजनीतिक पार्टी  इन सोशल साइट्स से जुड़ने को लालायित है और सोशल मीडिया के प्रबंधन में जुटी हैं. इसमें कोई संदेह नहीं कि आज जनमत का निर्माण करने में सोशल मीडिया की अहम भूमिका है. परंतु चुनाव आयोग ने जिस तरह सोशल मीडिया की निगरानी का एक तंत्र बनाया है उसके आधार पर अब राजनीतिक पार्टियों और प्रत्याशियों को भी इसके प्रयोग में चौकसी बरतनी बहुत जरूरी है.


 
loading...

ताज़ा ख़बरें


 
लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां (0 भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
PICS: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव तीसरा चरण : कई दिग्गजो ने डाले वोट

PICS: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव तीसरा चरण : कई दिग्गजो ने डाले वोट

लोकप्रियता को मातृत्व पर हावी नहीं होने देतीं काजोल

लोकप्रियता को मातृत्व पर हावी नहीं होने देतीं काजोल

संवेदनशीलता महिलाओं की ताकत: ईशा गुप्ता

संवेदनशीलता महिलाओं की ताकत: ईशा गुप्ता

प्रियंका ने किया पिता को याद, बोलीं उनकी कमी कभी पूरी नहीं हो सकती

प्रियंका ने किया पिता को याद, बोलीं उनकी कमी कभी पूरी नहीं हो सकती

पूनम पांडे ने फिर लगाई हुस्न से आग, देखें Super Hot Pics

पूनम पांडे ने फिर लगाई हुस्न से आग, देखें Super Hot Pics

साप्ताहिक राशिफल : जानिए इस सप्ताह का राशिफल

साप्ताहिक राशिफल : जानिए इस सप्ताह का राशिफल

PICS: कंगना रनौत क्यों हुईं नाराज, सुगंधा को मारना चाहती हैं थप्पड़!

PICS: कंगना रनौत क्यों हुईं नाराज, सुगंधा को मारना चाहती हैं थप्पड़!

PICS:

PICS: 'तम्मा तम्मा' के लिए तनिष्क ने बप्पी से मांगी थी अनुमति

उत्तर प्रदेश चुनाव: नए चेहरों से चित हुए थे ये धुरंधर

उत्तर प्रदेश चुनाव: नए चेहरों से चित हुए थे ये धुरंधर

क्या हुआ, जब एक छत के नीचे आए सलमान, यूलिया और कैटरीना

क्या हुआ, जब एक छत के नीचे आए सलमान, यूलिया और कैटरीना

इन घरेलू उपायों से दूर करें कोहनी और घुटनों का कालापन

इन घरेलू उपायों से दूर करें कोहनी और घुटनों का कालापन

जम्मू-कश्मीर में फिर बारिश और बर्फबारी के आसार

जम्मू-कश्मीर में फिर बारिश और बर्फबारी के आसार

PICS: नील नितिन मुकेश और रूक्मिणी सहाय के रिसेप्शन में पहुंचे बॉलीवुड सितारे

PICS: नील नितिन मुकेश और रूक्मिणी सहाय के रिसेप्शन में पहुंचे बॉलीवुड सितारे

सोश्ल मीडिया पर एमी जैक्शन टॉपलेस फोटो हुई वायरल

सोश्ल मीडिया पर एमी जैक्शन टॉपलेस फोटो हुई वायरल

कैसा रहेगा 18 फरवरी, दिन शनिवार का राशिफल

कैसा रहेगा 18 फरवरी, दिन शनिवार का राशिफल

महिला क्रिकेट में बांग्लादेश को हरा भारत ने विश्व कप के लिए किया क्वालीफाई

महिला क्रिकेट में बांग्लादेश को हरा भारत ने विश्व कप के लिए किया क्वालीफाई

कंगना को मिला कोई खास, डेट नहीं शादी की तैयारी

कंगना को मिला कोई खास, डेट नहीं शादी की तैयारी

PICS: पाकिस्तानी अभिनेत्री ने एक शो के दौरान

PICS: पाकिस्तानी अभिनेत्री ने एक शो के दौरान 'सलमान' को कहा छिछोरा!

शिल्पा ने करीना से जताई हमदर्दी

शिल्पा ने करीना से जताई हमदर्दी

PICS: फिल्म

PICS: फिल्म 'भूमि' से बॉलीवुड में एंट्री करेंगे टीवी अभिनेता सिद्धांत

PICS: इस बार भी वोट नहीं डाल पाएंगे ‘वोटर नं. 141’ अटल बिहारी वाजपेयी

PICS: इस बार भी वोट नहीं डाल पाएंगे ‘वोटर नं. 141’ अटल बिहारी वाजपेयी

PICS: अखिलेश के लिए अग्निपरीक्षा से कम नहीं ये चुनाव

PICS: अखिलेश के लिए अग्निपरीक्षा से कम नहीं ये चुनाव

Movie Review : रोमांटिक कॉमेडी से भरी है तापसी पन्नू की

Movie Review : रोमांटिक कॉमेडी से भरी है तापसी पन्नू की 'रनिंग शादी'..

PICS: भारत में प्रदूषण से 10 लाख शिशुओं का समयपूर्व जन्म- रिसर्च

PICS: भारत में प्रदूषण से 10 लाख शिशुओं का समयपूर्व जन्म- रिसर्च

PICS: बाबा महाकाल बने दूल्हा, शिव नवरात्रि उत्सव शुरू

PICS: बाबा महाकाल बने दूल्हा, शिव नवरात्रि उत्सव शुरू

Movie Review : नसीरूद्दीन शाह-अरशद वारसी की फिल्म

Movie Review : नसीरूद्दीन शाह-अरशद वारसी की फिल्म 'इरादा' जबरदस्त कहानी से भरपूर

OMG! मात्र सात साल की बच्ची ने गूगल CEO पिचाई से मांगी नौकरी, ऐसे मिला जवाब...

OMG! मात्र सात साल की बच्ची ने गूगल CEO पिचाई से मांगी नौकरी, ऐसे मिला जवाब...

Movie Review : भारतीय नौसेना पर आधारित है ‘द गाजी अटैक’

Movie Review : भारतीय नौसेना पर आधारित है ‘द गाजी अटैक’

कैसा रहेगा 17 फरवरी, दिन शुक्रवार का राशिफल

कैसा रहेगा 17 फरवरी, दिन शुक्रवार का राशिफल

PICS: कुछ ऐसा था रेखा के इस खत में, कि पढ़कर रो पड़े आमिर!

PICS: कुछ ऐसा था रेखा के इस खत में, कि पढ़कर रो पड़े आमिर!

PICS: टाइगर-निधी का सांग

PICS: टाइगर-निधी का सांग 'डिंग-डिंग' पिता जैकी को समर्पित

PICS: तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने पलानीसामी

PICS: तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बने पलानीसामी


 

10.10.70.18