Twitter

Facebook

Youtube

Pintrest

RSS

Twitter Facebook
Spacer
Samay Live
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

25 Jun 2010 04:15:00 PM IST
Last Updated : 30 Nov -0001 12:00:00 AM IST

आपातकाल, एक दुखद काल था: नैयर


आपातकाल की 35वीं बरसी

चर्चित पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता कुलदीप नैयर का कहना है कि आपातकाल भारतीय इतिहास का एक दुखद काल था।

नैयर ने कहा कि आपातकाल आज भी अनौपचारिक रूप से देश में अलग-अलग रूपों में मौजूद है, क्योंकि शासक वर्ग नौकरशाही, पुलिस और अन्य वर्गो के पूर्ण सहयोग से अधिनायकवादी और लोकतंत्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त है। हमारी आजादी लगभग छिन-सी गई थी। नैयर ने आपातकाल की घोषणा की 35वीं बरसी पर साथ एक साक्षात्कार में कहा, इंदिरा गांधी के आपातकाल लागू करने से सबसे बड़ा नुकसान यह हुआ था कि राजनीति और अन्य लोकतांत्रिक संस्थानों में नैतिक मूल्यों का क्षरण हो गया था। उस रुझान में आज तक बदलाव नहीं आ पाया है।

नैयर स्वयं आपातकाल के दौरान तीन महीने तक जेल में कैद रहे। उन दिनों नागरिक अधिकारों को निलंबित कर दिया गया था। राजनीतिक विरोधियों को जेल में ठूंस दिया गया था और प्रेस पर प्रतिबंध लागू कर दिया गया था।
नैयर ने कहा, अधिनायकवादी शासकों द्वारा कई राज्यों और संस्थानों में अनौपचारिक आपातकाल आज भी लागू है। कई राज्यों में जिस तरीके से आपातकाल लागू है, वहां के मुख्यमंत्री नौकरशाही और पुलिस की मदद से अलोकतांत्रिक गतिविधियों में लिप्त हैं। नैयर ने कहा, आपातकाल के सात वर्षों बाद हमने भोपाल में एक पुलिस अधीक्षक को देखा, जिसने गैस त्रासदी के एक मुख्य आरोपी (वारेन एंडरसन) को गिरफ्तार किया था। लेकिन फिर उसी ने उसे रिहा कर दिया और एक वीआईपी विमान में उसे बैठा कर रवाना कर दिया। ऐसा ऊपर से आए किसी निर्देश पर ही हो सकता है।

ज्ञात हो कि नैयर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायुक्त के रूप में भी काम कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि आपातकाल के पूर्व भ्रष्टाचार निरोधी आंदोलन के दौरान जनता की आवाज तेज सुनाई दी थी।

नैयर ने कहा, इस कारण प्रशासन ने आपातकाल के दौरान राजनीतिक और गैरराजनीतिक, दोनों तरह के लाखों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया। हालांकि लोकतंत्र की भावना फिर भी नहीं मर पाई। 25 जून, 1975 को याद करते हुए नैयर कहते हैं, वह एक कालरात्रि थी, जब मुश्किल से हासिल की गई हमारी आजादी लगभग छिन गई थी। इंदिरा गांधी कानून के ऊपर हो गई थीं। प्रेस का गला घोट दिया गया था। राजनीतिक नेताओं से लेकर सामान्य जनता तक, एक लाख लोगों को बिना किसी आरोप के हिरासत में ले लिया गया था। श्रीमती गांधी और उनके बेटे संजय गांधी के उस कदम से अधिनायकवादी और संविधानेतर शासन के एक अध्याय की शुरुआत हो गई।

लोकतंत्र के प्रमुख स्तंभों का निर्माण करने वाले राजनेता, नौकरशाह, मीडियाकर्मी और यहां तक कि न्यायाधीश भी तत्कालीन सरकार के अधिनायकवादी और अनधिकृत कदमों पर सवाल खड़ा नहीं करते थे। नैयर ने कहा, यह चकित करने वाला था। आपातकाल की घोषणा ने भय का माहौल पैदा कर दिया था, जिसने लोगों को और संस्थानों को अपनी गिरफ्त में ले लिया था। नैयर याद करते हुए कहते हैं कि ज्यादातर नौकरशाह आंखें मूंद कर श्रीमती गांधी और उनके बेटे के अलोकतांत्रिक आदेशों का पालन करते थे। नैयर ने कहा, इन अधिकारियों से कुछ नैतिक आधार और पारंपरिक मूल्यों की उम्मीद थी। लेकिन वे सभी नतमस्तक हो गए थे। दंडाधिकारी फटाफट ब्लैक वारंट जारी कर रहे थे। पुलिस, प्रशासन के आदेश का पालन करने को तत्पर थी और उसने नागरिकों के मौलिक अधिकारों को दरकिनार कर दिया था।

नैयर ने आगे कहा, यहां तक कि न्यायपालिका ने भी उम्मीदों पर पानी फेर दिया था। बंदी प्रत्यक्षीकरण अधिकार से संबंधित चर्चित मामले में, तत्कालीन महान्यायवादी नीरेन दा ने कहा था कि यदि किसी को गोली मार दी गई या वह गायब हो गया तो उसके आश्रितों को सवाल करने का अधिकार नहीं होगा।

फैसले में केवल एक मात्र न्यायाधीश-न्यायमूर्ति एच.आर.खन्ना ने नागरिक अधिकारों का समर्थन किया था। बाकी पांच अन्य न्यायाधीशों ने, जिनमें कि भारतीय न्यायपालिका के शीर्ष नाम शामिल थे, नागरिक अधिकारों से संबंधित याचिकाओं का समर्थन नहीं किया। नैयर ने कहा कि मीडियाकर्मी आपातकाल के आगे अपने रुख पर कायम नहीं रह सके। नई दिल्ली के प्रेस क्लब में प्रेस पर प्रतिबंध की निंदा करने के लिए 28 जून को बुलाई गई बैठक में 103 पत्रकारों ने हिस्सा लिया था। नैयर याद करते हुए कहते हैं, कुछ दिनों बाद मुझे गिरफ्तार कर लिया गया, क्योंकि मैंने राष्ट्रपति और अन्य अधिकारियों को मीडिया की भावना से अवगत कराते हुए पत्र लिखा था। लेकिन जब मैं तीन महीने बाद तिहाड़ जेल से घर लौटा तो मैंने पाया कि मीडिया का पूरा रुख बदल चुका था।



 

ताज़ा ख़बरें


 
लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां (0 भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
जानिए 26 जून से 2 जुलाई का साप्ताहिक राशिफल, क्या करें क्या ना करें

जानिए 26 जून से 2 जुलाई का साप्ताहिक राशिफल, क्या करें क्या ना करें

Photos: सिल्वर स्क्रीन पर धूम नही मचा रहे हैं सलमान

Photos: सिल्वर स्क्रीन पर धूम नही मचा रहे हैं सलमान

Photos: वीरे दी वेडिंग में मेरा किरदार रोचक: करीना कपूर

Photos: वीरे दी वेडिंग में मेरा किरदार रोचक: करीना कपूर

कामाख्या मंदिर : यहां देवी होती हैं रजस्वला, लगता है अंबुबाची मेला

कामाख्या मंदिर : यहां देवी होती हैं रजस्वला, लगता है अंबुबाची मेला

Photos: संतोषी मां में अपने नए किरदार से खुश हैं रतन राजपूत

Photos: संतोषी मां में अपने नए किरदार से खुश हैं रतन राजपूत

PICS : अपनाएं इन घरेलू उपायों को और दूर करें अपनी एडियों का कालापन

PICS : अपनाएं इन घरेलू उपायों को और दूर करें अपनी एडियों का कालापन

Photos: नो इंट्री के सीक्वल में काम नही करेंगे सलमान खान!

Photos: नो इंट्री के सीक्वल में काम नही करेंगे सलमान खान!

PICS: ‘सुल्तान’ सलमान बोले- मैं शादी करने के लिए बेताब हूं, लेकिन...

PICS: ‘सुल्तान’ सलमान बोले- मैं शादी करने के लिए बेताब हूं, लेकिन...

PICS: अमित शाह ने किया शिवगिरि मठ का दौरा

PICS: अमित शाह ने किया शिवगिरि मठ का दौरा

PICS: टीम इंडिया के नए कोच अनिल कुंबले के नाम दर्ज हैं ये रिकार्ड

PICS: टीम इंडिया के नए कोच अनिल कुंबले के नाम दर्ज हैं ये रिकार्ड

शुक्रवार, 24 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

शुक्रवार, 24 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

PICS + VIDEO: \

PICS + VIDEO: \'मोहनजोदड़ो\' के ट्रेलर को मिल रहा अच्छा रेस्पॉन्स, खुश हैं ऋतिक

PICS: जानें कैसे कैंसर के इलाज के लिए वरदान है मोती

PICS: जानें कैसे कैंसर के इलाज के लिए वरदान है मोती

PiCS: धोनी ने सर्वाधिक मैचों में कप्तानी के पोंटिंग के रिकार्ड की बराबरी की

PiCS: धोनी ने सर्वाधिक मैचों में कप्तानी के पोंटिंग के रिकार्ड की बराबरी की

PICS: अब बारिश ने ढाया कहर, यूपी-बिहार में अब तक 70 की मौत

PICS: अब बारिश ने ढाया कहर, यूपी-बिहार में अब तक 70 की मौत

बृहस्पतिवार, 23 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

बृहस्पतिवार, 23 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

Photos: खलनायकी को नयी पहचान दी अमरीश पुरी ने

Photos: खलनायकी को नयी पहचान दी अमरीश पुरी ने

Photos: टीवी पर काम नही करना चाहती है करीना कपूर

Photos: टीवी पर काम नही करना चाहती है करीना कपूर

Photos: अजय देवगन के साथ फिर काम करेंगे इमरान हाशमी

Photos: अजय देवगन के साथ फिर काम करेंगे इमरान हाशमी

PICS: ‘कमीने’ के बाद राह भटक गया था : शाहिद कपूर

PICS: ‘कमीने’ के बाद राह भटक गया था : शाहिद कपूर

PICS: ऑफ शोल्डर टॉप्स से बढाएँ अपने वार्डरोब की शान

PICS: ऑफ शोल्डर टॉप्स से बढाएँ अपने वार्डरोब की शान

बड़ी जल्द स्टार किड्स मारेगें बालीवुड में इंट्री

बड़ी जल्द स्टार किड्स मारेगें बालीवुड में इंट्री

PICS: झीलों की नगरी भोपाल में भी मानसून का आगाज

PICS: झीलों की नगरी भोपाल में भी मानसून का आगाज

PICS: खान त्रिमूर्ति के साथ काम करना जबरदस्त अनुभव :अनुष्का शर्मा

PICS: खान त्रिमूर्ति के साथ काम करना जबरदस्त अनुभव :अनुष्का शर्मा

‘मदारी’ मेरे लिए बहुत खास, देश के हर कोने में पहुंचाना चाहता हूं: इरफान खान

‘मदारी’ मेरे लिए बहुत खास, देश के हर कोने में पहुंचाना चाहता हूं: इरफान खान

बुधवार, 22 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

बुधवार, 22 जून का राशिफल, क्या करें क्या ना करें

Photos: दंगल और सुल्तान अलग तरह की फिल्में: आमिर खान

Photos: दंगल और सुल्तान अलग तरह की फिल्में: आमिर खान

Photos: शोहरत खोने का डर सभी को होता है: सलमान खान

Photos: शोहरत खोने का डर सभी को होता है: सलमान खान

PICS: ब्लैक हैड्स को कहें बाय-बाय, करें ये घरेलू उपाय

PICS: ब्लैक हैड्स को कहें बाय-बाय, करें ये घरेलू उपाय

Photos: बासु भगनानी बनायेंगे बड़े मियां छोटे मियां का रीमेक

Photos: बासु भगनानी बनायेंगे बड़े मियां छोटे मियां का रीमेक

Photos: सलमान से कोई मुकाबला नहीं: आमिर खान

Photos: सलमान से कोई मुकाबला नहीं: आमिर खान

योग को जीवन का अभिन्‍न अंग बनाएं: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी

योग को जीवन का अभिन्‍न अंग बनाएं: राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी


 

10.10.70.17