Twitter

Facebook

Youtube

RSS

Twitter Facebook
Spacer
समय यूपी/उत्तराखंड एमपी/छत्तीसगढ़ बिहार/झारखंड राजस्थान आलमी समय

25 Jun 2010 04:15:00 PM IST
Last Updated : 30 Nov -0001 12:00:00 AM IST

आपातकाल, एक दुखद काल था: नैयर


आपातकाल की 35वीं बरसी

चर्चित पत्रकार और मानवाधिकार कार्यकर्ता कुलदीप नैयर का कहना है कि आपातकाल भारतीय इतिहास का एक दुखद काल था।

नैयर ने कहा कि आपातकाल आज भी अनौपचारिक रूप से देश में अलग-अलग रूपों में मौजूद है, क्योंकि शासक वर्ग नौकरशाही, पुलिस और अन्य वर्गो के पूर्ण सहयोग से अधिनायकवादी और लोकतंत्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त है। हमारी आजादी लगभग छिन-सी गई थी। नैयर ने आपातकाल की घोषणा की 35वीं बरसी पर साथ एक साक्षात्कार में कहा, इंदिरा गांधी के आपातकाल लागू करने से सबसे बड़ा नुकसान यह हुआ था कि राजनीति और अन्य लोकतांत्रिक संस्थानों में नैतिक मूल्यों का क्षरण हो गया था। उस रुझान में आज तक बदलाव नहीं आ पाया है।

नैयर स्वयं आपातकाल के दौरान तीन महीने तक जेल में कैद रहे। उन दिनों नागरिक अधिकारों को निलंबित कर दिया गया था। राजनीतिक विरोधियों को जेल में ठूंस दिया गया था और प्रेस पर प्रतिबंध लागू कर दिया गया था।
नैयर ने कहा, अधिनायकवादी शासकों द्वारा कई राज्यों और संस्थानों में अनौपचारिक आपातकाल आज भी लागू है। कई राज्यों में जिस तरीके से आपातकाल लागू है, वहां के मुख्यमंत्री नौकरशाही और पुलिस की मदद से अलोकतांत्रिक गतिविधियों में लिप्त हैं। नैयर ने कहा, आपातकाल के सात वर्षों बाद हमने भोपाल में एक पुलिस अधीक्षक को देखा, जिसने गैस त्रासदी के एक मुख्य आरोपी (वारेन एंडरसन) को गिरफ्तार किया था। लेकिन फिर उसी ने उसे रिहा कर दिया और एक वीआईपी विमान में उसे बैठा कर रवाना कर दिया। ऐसा ऊपर से आए किसी निर्देश पर ही हो सकता है।

ज्ञात हो कि नैयर ब्रिटेन में भारतीय उच्चायुक्त के रूप में भी काम कर चुके हैं। उन्होंने कहा कि आपातकाल के पूर्व भ्रष्टाचार निरोधी आंदोलन के दौरान जनता की आवाज तेज सुनाई दी थी।

नैयर ने कहा, इस कारण प्रशासन ने आपातकाल के दौरान राजनीतिक और गैरराजनीतिक, दोनों तरह के लाखों कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया। हालांकि लोकतंत्र की भावना फिर भी नहीं मर पाई। 25 जून, 1975 को याद करते हुए नैयर कहते हैं, वह एक कालरात्रि थी, जब मुश्किल से हासिल की गई हमारी आजादी लगभग छिन गई थी। इंदिरा गांधी कानून के ऊपर हो गई थीं। प्रेस का गला घोट दिया गया था। राजनीतिक नेताओं से लेकर सामान्य जनता तक, एक लाख लोगों को बिना किसी आरोप के हिरासत में ले लिया गया था। श्रीमती गांधी और उनके बेटे संजय गांधी के उस कदम से अधिनायकवादी और संविधानेतर शासन के एक अध्याय की शुरुआत हो गई।

लोकतंत्र के प्रमुख स्तंभों का निर्माण करने वाले राजनेता, नौकरशाह, मीडियाकर्मी और यहां तक कि न्यायाधीश भी तत्कालीन सरकार के अधिनायकवादी और अनधिकृत कदमों पर सवाल खड़ा नहीं करते थे। नैयर ने कहा, यह चकित करने वाला था। आपातकाल की घोषणा ने भय का माहौल पैदा कर दिया था, जिसने लोगों को और संस्थानों को अपनी गिरफ्त में ले लिया था। नैयर याद करते हुए कहते हैं कि ज्यादातर नौकरशाह आंखें मूंद कर श्रीमती गांधी और उनके बेटे के अलोकतांत्रिक आदेशों का पालन करते थे। नैयर ने कहा, इन अधिकारियों से कुछ नैतिक आधार और पारंपरिक मूल्यों की उम्मीद थी। लेकिन वे सभी नतमस्तक हो गए थे। दंडाधिकारी फटाफट ब्लैक वारंट जारी कर रहे थे। पुलिस, प्रशासन के आदेश का पालन करने को तत्पर थी और उसने नागरिकों के मौलिक अधिकारों को दरकिनार कर दिया था।

नैयर ने आगे कहा, यहां तक कि न्यायपालिका ने भी उम्मीदों पर पानी फेर दिया था। बंदी प्रत्यक्षीकरण अधिकार से संबंधित चर्चित मामले में, तत्कालीन महान्यायवादी नीरेन दा ने कहा था कि यदि किसी को गोली मार दी गई या वह गायब हो गया तो उसके आश्रितों को सवाल करने का अधिकार नहीं होगा।

फैसले में केवल एक मात्र न्यायाधीश-न्यायमूर्ति एच.आर.खन्ना ने नागरिक अधिकारों का समर्थन किया था। बाकी पांच अन्य न्यायाधीशों ने, जिनमें कि भारतीय न्यायपालिका के शीर्ष नाम शामिल थे, नागरिक अधिकारों से संबंधित याचिकाओं का समर्थन नहीं किया। नैयर ने कहा कि मीडियाकर्मी आपातकाल के आगे अपने रुख पर कायम नहीं रह सके। नई दिल्ली के प्रेस क्लब में प्रेस पर प्रतिबंध की निंदा करने के लिए 28 जून को बुलाई गई बैठक में 103 पत्रकारों ने हिस्सा लिया था। नैयर याद करते हुए कहते हैं, कुछ दिनों बाद मुझे गिरफ्तार कर लिया गया, क्योंकि मैंने राष्ट्रपति और अन्य अधिकारियों को मीडिया की भावना से अवगत कराते हुए पत्र लिखा था। लेकिन जब मैं तीन महीने बाद तिहाड़ जेल से घर लौटा तो मैंने पाया कि मीडिया का पूरा रुख बदल चुका था।



 
 

ताज़ा ख़बरें


लगातार अपडेट पाने के लिए हमारा पेज ज्वाइन करें
एवं ट्विटर पर फॉलो करें |
 

Tools: Print Print Email Email

टिप्पणियां ( भेज दिया):
टिप्पणी भेजें टिप्पणी भेजें
आपका नाम :
आपका ईमेल पता :
वेबसाइट का नाम :
अपनी टिप्पणियां जोड़ें :
निम्नलिखित कोड को इन्टर करें:
चित्र Code
कोड :



फ़ोटो गैलरी
पटाखा बैन के बाद भी दिल्ली का प्रदूषण खतरनाक स्तर पर, देखें..

पटाखा बैन के बाद भी दिल्ली का प्रदूषण खतरनाक स्तर पर, देखें..

PICS: दीपोत्सव का पांच दिवसीय उत्सव शुरू, सजे बाजार, धनतेरस आज

PICS: दीपोत्सव का पांच दिवसीय उत्सव शुरू, सजे बाजार, धनतेरस आज

जन्मदिन विशेष: बॉलीवुड की

जन्मदिन विशेष: बॉलीवुड की 'ड्रीम गर्ल' हेमा मालिनी के डॉयलॉग जो हिट रहेंगे

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना है शुभ, धन में होगी 13 गुना वृद्धि

धनतेरस पर इन चीजों को खरीदना है शुभ, धन में होगी 13 गुना वृद्धि

त्यौहारों पर निखारें बाल,हाथ,नाखून,अपनाएं शहनाज हुसैन के टिप्स

त्यौहारों पर निखारें बाल,हाथ,नाखून,अपनाएं शहनाज हुसैन के टिप्स

पापा शाहिद के बेटी मीशा के साथ प्यार भरे पल, देखें तस्वीरें

पापा शाहिद के बेटी मीशा के साथ प्यार भरे पल, देखें तस्वीरें

अशोक कुमार, किशोर कुमार दोनों भाईयों को हमेशा से जोड़ गयी 13 अक्टूबर

अशोक कुमार, किशोर कुमार दोनों भाईयों को हमेशा से जोड़ गयी 13 अक्टूबर

अजीब खबर, 5 साल की छोटी उम्र में जवानी पार कर आने लगा बुढ़ापा

अजीब खबर, 5 साल की छोटी उम्र में जवानी पार कर आने लगा बुढ़ापा

PICS: दिल्ली का सेंट्रल विस्टा 16 मिलियन रंगों से जगमगाया, 365 दिन रहेगा रोशन

PICS: दिल्ली का सेंट्रल विस्टा 16 मिलियन रंगों से जगमगाया, 365 दिन रहेगा रोशन

ताजनगरी के एक गांव में उगाई जाती है लोगों की जिंदगियां दांव पर लगाने वाली फसल

ताजनगरी के एक गांव में उगाई जाती है लोगों की जिंदगियां दांव पर लगाने वाली फसल

मिनी चंडीगढ़: ऐसा गांव जिसे देख शहर भी शरमा जाए

मिनी चंडीगढ़: ऐसा गांव जिसे देख शहर भी शरमा जाए

जन्मदिन मुबारक रेखा: जानिए रेखा के विवादास्पद लव अफेयर्स की कहानियां

जन्मदिन मुबारक रेखा: जानिए रेखा के विवादास्पद लव अफेयर्स की कहानियां

बिग बॉस 11: सलमान के खिलाफ FIR

बिग बॉस 11: सलमान के खिलाफ FIR

जानिए 8 से 14 अक्टूबर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 8 से 14 अक्टूबर का साप्ताहिक राशिफल

PICS: पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं सुहागिन करवा चौथ व्रत

PICS: पति की दीर्घायु के लिए रखती हैं सुहागिन करवा चौथ व्रत

फिल्में जिन्होंने करवा चौथ का बढ़ा दिया क्रेज

फिल्में जिन्होंने करवा चौथ का बढ़ा दिया क्रेज

PICS: अंडर-17 फीफा विश्व कप: भारतीय फुटबाल के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो जाएगा आज का दिन

PICS: अंडर-17 फीफा विश्व कप: भारतीय फुटबाल के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज हो जाएगा आज का दिन

PICS: ‘मातानुवन’ है ‘पर्यावरण’ बचाने का महाअभियान

PICS: ‘मातानुवन’ है ‘पर्यावरण’ बचाने का महाअभियान

शाहरूख ने क्यों किया अभिनेत्रियों को धन्यवाद

शाहरूख ने क्यों किया अभिनेत्रियों को धन्यवाद

रोहित का शतक, भारत फिर बना नंबर वन

रोहित का शतक, भारत फिर बना नंबर वन

जानिए 1 से 7 अक्टूबर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 1 से 7 अक्टूबर का साप्ताहिक राशिफल

PICS: मां दुर्गा की विदाई में

PICS: मां दुर्गा की विदाई में 'सिंदूर खेला' की धूम

महिला खिलाड़ियों से मिले विराट कोहली

महिला खिलाड़ियों से मिले विराट कोहली

PICS: महाअष्टमी पर माता को लगाया गया मदिरा का भोग

PICS: महाअष्टमी पर माता को लगाया गया मदिरा का भोग

PICS: अच्छा, तो हम चलते हैं .. , कहने की तैयारी में रावण का साम्राज्य

PICS: अच्छा, तो हम चलते हैं .. , कहने की तैयारी में रावण का साम्राज्य

मां मुंडेश्वरी मन्दिर: अद्भुत मन्दिर जहां दी जाती है रक्तहीन बलि

मां मुंडेश्वरी मन्दिर: अद्भुत मन्दिर जहां दी जाती है रक्तहीन बलि

PICS:  सचिन ने किया बांद्रा की सड़को को साफ और दिया ये संदेश...

PICS: सचिन ने किया बांद्रा की सड़को को साफ और दिया ये संदेश...

PICS: यहां 75 दिन तक मनाते हैं दशहरा लेकिन नहीं होता रावण वध

PICS: यहां 75 दिन तक मनाते हैं दशहरा लेकिन नहीं होता रावण वध

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 25 सितम्बर 2017 का राशिफल

जानिए कैसा रहेगा, सोमवार, 25 सितम्बर 2017 का राशिफल

जानिए 24 से 30 सितम्बर का साप्ताहिक राशिफल

जानिए 24 से 30 सितम्बर का साप्ताहिक राशिफल

गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल है मदरसा, यहां भगवा ड्रेस में गाया जाता है वंदेमातरम और राष्ट्रगान

गंगा-जमुनी तहजीब की मिसाल है मदरसा, यहां भगवा ड्रेस में गाया जाता है वंदेमातरम और राष्ट्रगान

PICS: वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे भारतीय कुलदीप की हैट्रिक ऐसे बनी...

PICS: वनडे में हैट्रिक लेने वाले तीसरे भारतीय कुलदीप की हैट्रिक ऐसे बनी...


 

172.31.20.145